मुखर्जी नगर शाखा पर IAS जीएस फाउंडेशन का नया बैच 12 दिसंबर से शुरूCall Us
ध्यान दें:

स्टेट पी.सी.एस.

  • 13 Mar 2023
  • 1 min read
  • Switch Date:  
उत्तर प्रदेश Switch to English

भारतीय चरागाह एवं चारा अनुसंधान संस्थान में बीज प्रसंस्करण व भंडारण सुविधा का शुभारंभ

चर्चा में क्यों?

11 मार्च, 2023 को केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (आईसीएआर) के भारतीय चरागाह एवं चरागाह अनुसंधान संस्थान, झाँसी में बीज प्रसंस्करण व भंडारण सुविधा का उद्घाटन किया। इस अवसर पर महिला कृषक सम्मेलन भी हुआ।

प्रमुख बिंदु  

  • गौरतलब है कि इस प्रकार के बीज प्रसंस्करण की 3 इकाइयाँ धारवाड़ और श्रीनगर स्थित क्षेत्रीय अनुसंधान केंद्रों में स्थापित की गई हैं, जिन्हें कृषि मंत्रालय द्वारा 7 करोड़ रुपए की वित्तीय सहायता से वित्तपोषित किया गया है।
  • महिला कृषक सम्मेलन के दौरान संस्थान/केंद्रों द्वारा संचालित अनुसूचित जाति उप-परियोजना के अंतर्गत लाभार्थी महिला कृषकों को 50 लाख रुपए मूल्य के कृषि यंत्रों का वितरण किया गया।
  • चरागाह एवं चारे की उन्नत प्रजातियों के विकास और उनके प्रबंधन एवं अनुरक्षण हेतु भारत सरकार ने वीरांगना महारानी लक्ष्मीबाई की ऐतिहासिक नगरी झाँसी में भारतीय चरागाह एवं चारा अनुसंधान संस्थान (Indian Grassland and Fodder Research Institute) की स्थापना सन् 1962 में की थी।
  • झाँसी में लगभग सभी प्रमुख घासें पाई जाती हैं, इसी दृष्टि से यहाँ संस्थान की स्थापना की गई, बाद में वर्ष 1966 में इसका प्रशासनिक नियंत्रण भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद, नई दिल्ली को सौंप दिया गया।  
  • जलवायु तथा कृषि की क्षेत्रीय आवश्यकताओं को ध्यान में रखकर भारत के अन्य भागों में इस संस्थान के तीन क्षेत्रीय अनुसंधान केंद्र स्थापित किये गए हैं, जो अंबिका नगर (राजस्थान), धारवाड़ (कर्नाटक) एवं पालमपुर (हिमाचल प्रदेश) में स्थित हैं।

उत्तर प्रदेश Switch to English

उत्तर प्रदेश में खुलेंगे चार नए निजी विश्वविद्यालय

चर्चा में क्यों?

10 मार्च, 2023 को उत्तर प्रदेश सरकार ने राज्य में चार नए निजी विश्वविद्यालय खोलने की इज़ाजत दी। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में हुई मंत्रिमंडल की बैठक में चार नए निजी विश्वविद्यालयों को आशय-पत्र जारी करने का निर्णय लिया गया है।

प्रमुख बिंदु 

  • उच्च शिक्षा विभाग जल्द इन्हें आशय-पत्र जारी करेगा और फिर इनका निर्माण शुरू होगा।
  • इन विश्वविद्यालयों में वरुण अर्जुन विश्वविद्यालय शाहजहाँपुर, टी.एस. मिश्रा विश्वविद्यालय लखनऊ, फारुख हुसैन विश्वविद्यालय आगरा और विवेक राष्ट्रीय विश्वविद्यालय बिजनौर शामिल हैं।
  • इस संबंध में जारी किये गए एक बयान में कहा गया है कि नए प्राइवेट विश्वविद्यालयों को आशय-पत्र जारी करने का उद्देश्य शिक्षा के स्तर को सुधारना और गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्रदान करना है।
  • आशय-पत्र जारी होने के बाद दो साल के अंदर इन विश्वविद्यालयों को सभी औपचारिकताएँ पूरी करनी होंगी। औपचारिकताएँ पूरी नहीं करने पर आशय-पत्र निरस्त हो जाएगा।

बिहार Switch to English

विश्वस्तरीय बनेगा बिहार का मुज़फ्फरपुर रेलवे जंक्शन

चर्चा में क्यों?

12 मार्च, 2023 को रेल भूमि विकास प्राधिकरण के संयुक्त महाप्रबंधक पी.आर. सिंह ने बताया कि राज्य की राजधानी पटना के बाद प्रमुख शहर मुज़फ्फरपुर स्थित रेलवे जंक्शन को विश्वस्तरीय बनाया जाएगा।

प्रमुख बिंदु 

  • रेल भूमि विकास प्राधिकरण के संयुक्त महाप्रबंधक पी.आर. सिंह ने बताया कि मुज़फ्फरपुर रेलवे जंक्शन को विश्वस्तरीय बनाने का यह काम दो फेज में किया जाएगा। प्रथम फेज का काम 2024 में पूरा कर लिया जाएगा।
  • उन्होंने बताया कि स्मार्ट सिटी मुज़फ्फरपुर के रेलवे जंक्शन पर यात्रियों की सुविधा के लिये सभी प्रकार की आधुनिक सेवाएँ बहाल की जाएंगी। यात्री सुरक्षा का खास ख्याल रखा जाएगा। रेलवे जंक्शन पर एयरपोर्ट जैसी सुविधाएँ होंगी। मुज़फ्फरपुर जंक्शन उत्तर बिहार का सबसे बेहतरीन जंक्शन बनेगा।
  • जानकारी के मुताबिक इसमें मल्टी स्टोरी पार्क़िग, एयर कॉनकोर्स, कंबाइंड टर्मिनल के अलावा प्रवेश व निकास वाले यात्रियों के लिये अलग-अलग भवन बनकर तैयार हो जाएंगे।
  • वहीं द्वितीय फेज़ के तहत सितंबर 2025 तक परियोजना पूरी हो जाएगी। इससे मुज़फ्फरपुर जंक्शन नए लुक में नज़र आएगा। 
  • संयुक्त महाप्रबंधक ने बताया कि स्टेशन के विकास पर कुल 446 करोड़ रुपए खर्च किये जाएंगे। एयरपोर्ट की तरह जंक्शन पर यात्री सुविधाओं को विकसित किया जाएगा। इसके लिये एलिवेटेड सड़क, एस्कलेटर, लिफ्ट, टिकट व इंजीनियरिंग टर्मिनल और मार्केट कॉम्प्लेक्स का निर्माण होगा। 


राजस्थान Switch to English

जयपुर में स्थापित होगी बिहेवियरल लैब

चर्चा में क्यों?

12 मार्च, 2023 को राजस्थान के जनसंपर्क, सूचना एवं भाषा विभाग द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार जयपुर ज़िले में स्थित हरिश्चंद्र माथुर राजस्थान राज्य लोक प्रशासन संस्थान में बिहेवियरल लैब की स्थापना की जाएगी। इसके लिये मुख्यमंत्री ने 22 करोड़ रुपए के वित्तीय प्रस्ताव को मंज़ूरी दी है।

प्रमुख बिंदु 

  • बिहेवियरल लैब राजस्थान राज्य लोक प्रशासन संस्थान के पटेल भवन में स्थापित की जाएगी। यह देश में अत्याधुनिक तकनीक से बनाई जा रही पहली बिहेवियरल लैब होगी।
  • करीब 2665.04 वर्गफीट एरिया में स्थापित होने वाली लैब का प्रबंधन एवं संचालन आईआईएम उदयपुर द्वारा किया जाएगा।
  • आईआईएम उदयपुर की फैकल्टी प्रायोगिक विधियों पर प्रशिक्षण प्रदान करेगी। यहाँ पी.एच.डी. स्तर के सर्टिफिकेट कोर्स संचालित होंगे। प्रयोगों एवं कार्यशालाओं के संचालन के लिये अंतर्राष्ट्रीय विशेषज्ञों को भी शामिल किया जाएगा।
  • यहाँ अत्याधुनिक सॉफ्टवेयर, हार्डवेयर सहित नवीन तकनीक की मदद से मानव के व्यवहार का अध्ययन किया जाएगा। अत्याधुनिक लैब में फोकस ग्रुप रूम, पीसी लैब, कंट्रोल रूम फॉर मेजरमेंट, वेटिंग एरिया और ऑफिस स्पेस सहित सभी आवश्यक कक्ष बनाए जाएंगे।
  • इस प्रयोगशाला के माध्यम से विभिन्न महाविद्यालयों एवं विश्वविद्यालयों में अनुभवात्मक अध्ययन आयोजित करने, शिक्षकों को प्रशिक्षण देने तथा व्यावहारिक प्रबंधन के क्षेत्र में प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित किये जाएंगे।

राजस्थान Switch to English

सीकर, अलवर, नागौर, भरतपुर एवं अजमेर में खोले जाएंगे पशुपालक प्रशिक्षण केंद्र

चर्चा में क्यों?

12 मार्च, 2023 को राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने पशुपालकों को नवीन तकनीकों का प्रशिक्षण दिलाने के लिये राज्य के अलवर, नागौर, भरतपुर, सीकर एवं अजमेर में पशुपालक प्रशिक्षण केंद्र खोलने और आवश्यक संसाधनों हेतु 18 करोड़ रुपए की मंज़ूरी प्रदान की है।

प्रमुख बिंदु 

  • प्रस्ताव के अनुसार, राज्य के इन प्रत्येक प्रशिक्षण संस्थान पर हर महीने 30-30 पशुपालकों के 3 बैच होंगे। इस प्रकार एक वर्ष में कुल 36 बैच आयोजित कर 1080 पशुपालकों को प्रशिक्षित किया जाएगा। इस तरह सभी पाँचों केंद्रों में प्रतिवर्ष 5400 पशुपालकों को प्रशिक्षण मिलेगा।
  • राज्य सरकार द्वारा पशुपालकों के सर्वांगीण विकास की दिशा में विभिन्न योजनाओं का संचालन किया जा रहा है। प्रशिक्षण केंद्रों से उन्नत एवं समृद्ध पशुपालन की दिशा में बेहतर कार्य होंगे और रोज़गार के अवसर भी बढ़ेंगे।
  • उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत द्वारा बजट वर्ष 2023-24 में पाँच ज़िलों में पशुपालक प्रशिक्षण केंद्र खोलने की घोषणा की गई थी।

राजस्थान Switch to English

इंदिरा महिला शक्ति प्रोत्साहन एवं सम्मान समारोह

चर्चा में क्यों?

11 मार्च, 2023 को राजस्थान में अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस सप्ताह के तहत जयपुर ज़िला परिषद सभागार में ज़िला प्रशासन एवं ज़िला महिला अधिकारिता कार्यालय के तत्वावधान में ज़िलास्तरीय इंदिरा महिला शक्ति प्रोत्साहन एवं सम्मान समारोह आयोजित हुआ।

प्रमुख बिंदु 

  • आयोजित कार्यक्रम में महिला एवं बालिका विकास के क्षेत्र में कार्य करने वाली संस्थाओं एवं शख्सियतों का सम्मान किया गया।
  • समारोह में इनाया फाउंडेशन को प्रथम पुरस्कार से नवाजा गया, वहीं सरिता योगी को द्वितीय एवं एकादशी फाउंडेशन को तृतीय पुरस्कार से सम्मानित किया गया।
  • सम्मानित हुई संस्थाओं और शख्सियतों को नगद पुरस्कार के साथ-साथ स्मृति चिह्न एवं प्रमाण-पत्र भी प्रदान किये गए।
  • इस अवसर पर उपनिदेशक महिला अधिकारिता डॉ. राजेश डोगीवाल ने उड़ान योजना में जनजागरूकता में अहम भूमिका निभाने के लिये गरिमा शर्मा, पारुल एवं डॉ. श्रद्धा का भी सम्मान किया।
  • इसके अलावा महिला एवं बाल विकास विभाग की एक साथिन, एक कार्यकर्त्ता, एक सहयोगिनी, एक सहायिका को भी 11-11 हज़ार रुपए के नगद पुरस्कार, स्मृति चिह्न एवं प्रमाण-पत्र प्रदान कर सम्मानित किया गया।

Indira-shakti-mission


मध्य प्रदेश Switch to English

प्रदेश की पाँच महिलाओं को मिला ‘अहिल्या सम्मान 2023’

चर्चा में क्यों?

11 मार्च, 2023 को अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के उपलक्ष्य में सेंटर फॉर रिसर्च एंड इंडस्ट्रियल स्टॉफ परफॉरमेंस (क्रिस्प) ने प्रदेश की पाँच महिलाओं को ‘अहिल्या सम्मान-2023’ प्रदान किया।

प्रमुख बिंदु 

  • पुरस्कार प्राप्त करने वालों में क्रिकेटर सौम्या तिवारी, भरतनाट्यम नृत्यांगना और रंगमंचीय कलाकार तनिष्का हतवलने, टीवी एक्ट्रेस शुभांगी अत्रे, गोंडी भित्ति चित्र कलाकार ननकुसिया श्याम और अभिनेत्री एवं गायिका विभा श्रीवास्तव शामिल रहीं। शुभांगी अत्रे कार्यक्रम में उपस्थित नहीं हो सकीं।
  • अहिल्या सम्मान 2023’ से सम्मानित महिलाओं का परिचय
    • भारतीय महिला क्रिकेट टीम की अंडर-19 क्रिकेटर सौम्या तिवारी हाल ही में टी-20 वर्ल्ड कप फाइनल की टॉप स्कोरर रही हैं।
    • भरतनाट्यम नृत्यांगना तनिष्का हतवलने कई अंतर्राष्ट्रीय मंच पर देश का प्रतिनिधित्व कर चुकी हैं।
    • टीवी एक्ट्रेस शुभांगी अत्रे छोटे पर्दे का जाना-माना चेहरा हैं।
    • ‘भाभीजी घर पर हैं’ सीरियल से विख्यात शुभांगी ने संघर्ष करते हुए अभिनय की दुनिया में जगह बनाई।
    • ननकुसिया श्याम ने गोंडी भित्तिचित्र के ज़रिये मध्य प्रदेश के साथ देश का दुनिया में नाम रोशन किया है।
    • अभिनेत्री एवं गायिका विभा श्रीवास्तव 60 से ज़्यादा नाटकों में अभिनय कर चुकी हैं।
  • उल्लेखनीय है कि मध्य प्रदेश के संस्कृति विभाग द्वारा जनजातीय, लोक एवं पारंपरिक कलाओं के क्षेत्र में महिला कलाकार को सम्मानित करने के लिये राष्ट्रीय देवी अहिल्या सम्मान की स्थापना वर्ष 1996 में की गई थी।
  • इस सम्मान से विभूषित कलाकार को एक लाख रुपए की राशि और प्रशस्ति पट्टिका प्रदान की जाती है।
  • देवी अहिल्या सम्मान सृजनात्मक, उत्कृष्टता, दीर्घ साधना और कलाकार की वर्तमान में सृजन सक्रियता के आधार पर दिया जाता है। सम्मान दिये जाने के समय चुने गए कलाकार का सृजन सक्रिय होना अनिवार्य है।

हरियाणा Switch to English

हरियाणा कृषि विकास मेला-2023

चर्चा में क्यों?

10-12 मार्च, 2023 तक हरियाणा के हिसार ज़िले में स्थित चौधरी चरण सिंह हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय में हरियाणा कृषि विकास मेला-2023 का आयोजन किया गया।

प्रमुख बिंदु 

  • हरियाणा कृषि विकास मेला-2023 के समापन अवसर पर मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने अंडरग्राउंड पाइपलाइन पोर्टल तथा ई-रूपी ऐप लॉन्च किये।
  • इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने बताया कि चौधरी चरण सिंह हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय, महाराणा प्रताप बागवानी विश्वविद्यालय व शोध संस्थाओं के वैज्ञानिक मिलकर शोध कार्यों के लिये सहयोग करें और नई विधाओं को आगे लेकर आएँ। इसके लिये उन्हें प्रोत्साहन दिया जाएगा, जिससे खेती में जहाँ कृषि लागत कम होगी, वहीं अच्छी उपज होने के साथ-साथ किसानों की आमदनी भी बढ़ेगी।
  • उन्होंने बताया कि पानी के समुचित उपयोग के लिये सूक्ष्म सिंचाई को अपनाने हेतु सरकार किसानों को 85 प्रतिशत तक की सब्सिडी दे रही है। इसके अलावा, बरसाती पानी को वापस ज़मीन में डालने के लिये बोरवेल लगाए जा रहे हैं, जिसमें किसान को केवल 25 हज़ार रुपए देने हैं, बाकी खर्च सरकार वहन करेगी। सरकार पहले चरण में 1 हज़ार रिचार्ज़िग बोरवेल लगाएगी।
  • मुख्यमंत्री ने बताया कि प्रदेश में लगभग 80 लाख एकड़ भूमि खेती योग्य है, इस भूमि की एक-एक इंच का विवरण तैयार किया जा रहा है। इसके लिये किसान अपनी फसल का पूरा विवरण ‘मेरी फसल-मेरा ब्योरा’ पोर्टल पर अपलोड करें। राज्य में किसानों की आय में बढ़ोतरी के लिये एफपीओ  गठित किये जा रहे हैं।
  • उन्होंने बताया कि हरियाणा पहला प्रदेश है, जो 11 फसलों को एमएसपी पर खरीदता है। ‘भावांतर भरपाई योजना’ के तहत किसानों को एमएसपी और खरीद मूल्य के अंतर को भी किसानों को दिया जा रहा है।
  • कार्यक्रम में मनोहर लाल खट्टर ने बताया कि पहली बार प्रदेश में हरियाणा सरकार ने राजस्थान की सीमा के साथ लगते 300 टेलों, जहाँ पिछले 25 साल से पानी नहीं पहुँचा था, वहाँ भी पानी पहुँचाया है।
  • इस अवसर पर कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री जे.पी. दलाल ने बताया कि हर बार कृषि विभाग और हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय द्वारा 3 दिन का यह मेला आयोजित किया जाता है। अब यह निर्णय लिया गया है कि भविष्य में इस मेले के स्वरूप को बढ़ाने के क्रम में कृषि विभाग, सीआईआई के साथ-साथ आने वाले वक्त में विदेशी विश्वविद्यालय और विदेशी संस्थाओं की भी मेले में भागीदारी होगी।
  • उन्होंने बताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भारत सरकार ने किसानों का बजट, जो वर्ष 2014 में 20 से 25,000 करोड़ रुपए था, उसको इस वर्ष छह गुना बढ़ाकर 1,25,000 करोड़ रुपए किया है।
  • इस बार के बजट में भी मुख्यमंत्री ने बेसहारा पशुओं की देखभाल के लिये 40 करोड़ रुपए के बजट को 400 करोड़ रुपए बढ़ा दिया है।
  • उन्होंने कहा कि हरियाणा में फसल बीमा योजना के तहत लगभग 6000 करोड़ रुपए किसानों को मिले हैं। इसके अलावा, जो किसान फसल बीमा योजना में कवर नहीं थे, उनकी फसल खराब होने पर भी लगभग 4000 करोड़ रुपए मुआवज़ा दिया गया है।

उत्तराखंड Switch to English

उत्तराखंड में होंगे 38वें राष्ट्रीय खेल

चर्चा में क्यों?

12 मार्च, 2023 को उत्तराखंड ओलंपिक संघ के महासचिव डी.के. सिंह ने बताया कि प्रदेश के हल्द्वानी में पी.टी. ऊषा की अध्यक्षता में हुई भारतीय ओलंपिक संघ (आईओए) की बैठक में तय किया गया है कि वर्ष 2024 में 38वें राष्ट्रीय खेल उत्तराखंड में होंगे।

प्रमुख बिंदु 

  • विदित है कि छत्तीसगढ़ ने भी राष्ट्रीय खेलों की मेज़बानी की दावेदारी की थी, लेकिन आईओए ने उत्तराखंड को मेज़बानी दी है।
  • भारतीय ओलंपिक संघ की बैठक में देश में खेलों के विकास के अलावा अन्य प्रमुख बिंदुओं पर भी चर्चा हुई। इस दौरान राष्ट्रीय खेलों पर भी चर्चा हुई, जिसमें तय हुआ कि इस वर्ष सितंबर-अक्तूबर में गोवा में 37वें राष्ट्रीय खेल आयोजित किये जाएंगे।
  • आईओए ने उत्तराखंड में राष्ट्रीय खेलों की तैयारी परखने के लिये आईओए की संयुक्त सचिव अलकनंदा अशोक को तात्कालिक रूप से नामित किया है।
  • ज्ञातव्य है कि 2015 में केरल के बाद गोवा और उत्तराखंड को ये खेल कराने थे, लेकिन इन दोनों ही राज्यों में आधी-अधूरी तैयारी की वजह से ये खेल 2018 से टलते रहे। 36वें राष्ट्रीय खेल गोवा, 37वें छत्तीसगढ़, जबकि 38वें राष्ट्रीय खेल उत्तराखंड को 2014 में ही आवंटित कर दिये गए थे, लेकिन गोवा ने 36वें खेल कराने से अपने हाथ पीछे खींचे और छत्तीसगढ़ और उत्तराखंड में भी तैयारी अधूरी रहने से राष्ट्रीय खेल लगातार खिसकते रहे।
  • विदित है कि राष्ट्रीय खेलों में लगातार हो रही देरी को देखते हुए आईओए के तत्कालीन अध्यक्ष हल्द्वानी निवासी राजीव मेहता ने भारत सरकार और गुजरात सरकार से बात करके बेहद कम समय में गुजरात में राष्ट्रीय खेल सितंबर 2022 में आयोजित करा दिये थे। 

उत्तराखंड Switch to English

उत्तराखंड के वीर नारियाँ और वीरता पुरस्कार पाने वाले सैनिक रोडवेज बसों में कर सकेंगे मुफ्त में सफर

चर्चा में क्यों?

11 मार्च, 2023 को मीडिया से मिली जानकारी के अनुसार उत्तराखंड के सैनिक कल्याण सचिव दीपेंद्र कुमार चौधरी की ओर से जारी आदेश में कहा गया है कि प्रदेश की 1130 वीर नारियाँ और वीरता पुरस्कार पाने वाले 1727 सैनिक एवं पूर्व सैनिक उत्तराखंड परिवहन निगम की बसों में मुफ्त सफर कर सकेंगे।

प्रमुख बिंदु 

  • सैनिक कल्याण सचिव दीपेंद्र कुमार चौधरी की ओर से जारी आदेश में बताया गया है कि वीरता पुरस्कार पाने वाले भारतीय सैनिकों और उनकी वीरांगनाओं के परिवहन निगम की बसों में मुफ्त सफर करने से इस पर जो खर्च आएगा, नियमानुसार उसका भुगतान एवं प्रतिपूर्ति सैनिक कल्याण विभाग की ओर से परिवहन निगम को किया जाएगा।
  • प्रदेश के निदेशक सैनिक कल्याण एवं पुनर्वास विभाग को दिये आदेश में कहा गया है कि सैनिक कल्याण विभाग के आय-व्यय में नई मांग के माध्यम से बजट व्यवस्था कराने के लिये समय से प्रस्ताव तैयार कर इसे शासन को उपलब्ध कराया जाए।
  • गौरतलब है कि प्रदेश में सबसे अधिक 203 वीर नारियाँ (युद्ध विधवा) पिथौरागढ़ ज़िले में हैं। इसमें 185 वीर नारियाँ देश के लिये शहीद हुए सैनिकों, 17 जेसीओ और एक शहीद सैन्य अधिकारी की पत्नी हैं।
  • इसके अलावा अल्मोड़ा में 82, बागेश्वर में 97, चंपावत में 32, चमोली में 115, देहरादून में 143, हरिद्वार में 13, लैंसडाउन में 150, नैनीताल में 69, पौड़ी में 70, रुद्रप्रयाग में 43, टिहरी में 63, ऊधमसिंह नगर में 40, उत्तरकाशी में 10 वीर नारियाँ हैं।
  • प्रदेश में देश की सुरक्षा के लिये अदम्य साहस का प्रदर्शन करने वाले वीर जवानों की कमी नहीं है। राज्य में 1727 सैनिकों और पूर्व सैनिकों को महावीर चक्र, वीर चक्र, कीर्ति चक्र, शौर्य चक्र, सेना मेडल आदि विभिन्न वीरता पुरस्कार मिले हैं।

उत्तराखंड Switch to English

आईआईटी रुड़की ने खोजा अनोखा एंटीबैक्टीरियल मॉलिक्यूल

चर्चा में क्यों?

11 मार्च, 2023 को मीडिया से मिली जानकारी के अनुसार उत्तराखंड के रुड़की स्थित आईआईटी के शोधकर्त्ताओं ने एक ऐसा एंटीबैक्टीरियल मॉलिक्यूल खोज निकाला है, जो दवाओं के साथ इस्तेमाल किये जाने पर न केवल स्टैफिलोकोकस ऑरियस और स्यूडोमोनास एरुगिनोसा बैक्टीरिया से होने वाले संक्रमण को रोकेगा, बल्कि दवाओं के प्रतिरोध को भी खत्म करेगा।

प्रमुख बिंदु 

  • संस्थान ने इस मॉलिक्यूल को आईआईटीआर 00693 नाम दिया है। आईआईटी रुड़की के इस शोध का निष्कर्ष प्रतिष्ठित अमेरिकन केमिकल सोसाइटी जर्नल एसीएस इंफेक्शियश डिजीजेज में प्रकाशित हुआ है।
  • शोध करने वाली टीम में ऋषिकेश एम्स के आशीष कोठारी और बलराम उमर के अलावा चंडीगढ़ के गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल की वर्षा गुप्ता भी शामिल हैं। आईआईटी रुड़की के महक सैनी और अमित गौरव भी टीम का हिस्सा हैं।
  • शोध टीम का नेतृत्व करने वाली आईआईटी रुड़की के बायो साइंसेस और बायो इंजीनियरिंग विभाग की प्रोफेसर रंजना पठानिया ने बताया कि अब अणु को एक व्यवहार चिकित्सीय एजेंट के रूप में विकसित करने के लिये काम कर रहे हैं। जल्द ही इसका क्लीनिकल ट्रायल शुरू किया जा सकता है।
  • आईआईटी के इस नए मॉलिक्यूल का ग्राम-पॉजिटिव और निगेटिव बैक्टीरिया पर भी प्रभावी असर होगा। फेफड़ों, आँतों, जोड़ों और त्वचा के संक्रमण के अलावा जलने की अवस्था में फैलने वाले संक्रमण में भी यह मॉलिक्यूल अन्य एंटीबैक्टीरियल दवाओं के साथ दिये जाने पर बेहतर परिणाम देगा।
  • इस नए मॉलिक्यूल से शरीर के नाजुक अंगों और त्वचा में होने वाले घातक संक्रमण के ईलाज़ के दौरान दवा के प्रतिरोध को जल्द ही खत्म किया जा सकेगा।

 Switch to English
close
एसएमएस अलर्ट
Share Page
images-2
images-2