प्रयागराज शाखा पर IAS GS फाउंडेशन का नया बैच 10 जून से शुरू :   संपर्क करें
ध्यान दें:

स्टेट पी.सी.एस.

  • 04 Dec 2021
  • 1 min read
  • Switch Date:  
छत्तीसगढ़ Switch to English

छत्तीसगढ़ को मिले तीन राष्ट्रीय पुरस्कार

चर्चा में क्यों?

3 दिसंबर, 2021 को अंतर्राष्ट्रीय दिव्यांग दिवस के अवसर पर राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने नई दिल्ली के विज्ञान भवन में आयोजित एक कार्यक्रम में दिव्यांगजनों के कल्याण के उत्कृष्ट कार्यों के लिये छत्तीसगढ़ को तीन राष्ट्रीय पुरस्कारों से सम्मानित किया। 

प्रमुख बिंदु 

  • छत्तीसगढ़ की महिला एवं बाल विकास मंत्री अनिला भेड़िया ने राष्ट्रपति के हाथों ये पुरस्कार ग्रहण किये। 
  • दृष्टिबाधित दिव्यांगजनों को ब्रेल लिपि में पाठ्य पुस्तक, साहित्य एवं ज्ञानवर्धक पुस्तकों के साथ ही सुगम्य पुस्तकालय के अंतर्गत ई-पुस्तकालय में ऑनलाइन शिक्षण में उल्लेखनीय कार्य के लिये ब्रेल प्रेस बिलासपुर को नेशनल अवार्ड मिला है। 
  • बिलासपुर स्थित ब्रेल प्रेस ने दृष्टिबाधितों के लिये पाठ्य सामग्री, साहित्य तैयार करने के साथ निर्वाचन हेतु मतपत्र तैयार किया है। इसके साथ ही ब्रेल प्रेस की दृष्टिहीनों के लिये ऑनलाइन पुस्तकालय की सुविधा से विद्यार्थियों को कोरोना काल में बहुत मदद मिली है। 
  • इसके अलावा नवा रायपुर अटल नगर में दिव्यांगजनों के लिये सड़क, भवन, सार्वजनिक स्थल तथा अन्य स्थानों पर बाधारहित वातावरण निर्माण करने, दिव्यांगजनों के लिये शौचालय निर्माण आदि कार्यों के लिये नवा रायपुर अटल नगर विकास प्राधिकरण को राष्ट्रीय पुरस्कार दिया गया है। 
  • साथ ही समता कॉलोनी रायपुर में नुक्कड़ टी कैफे वेंचर्स, एल.एल.पी. द्वारा श्रवण बाधित दिव्यांग व्यक्तियों को स्वरोज़गार से जोड़ने के लिये नुक्कड़ टी कैफे का संचालन कुशलतापूर्वक किया जा रहा है। इसमें श्रवण बाधित व्यक्तियों द्वारा जनसामान्य को अपनी सेवाएँ दी जा रही हैं। समाज में दिव्यांग व्यक्तियों के प्रति सकारात्मक वातावरण की दिशा में उल्लेखनीय कार्य के लिये उन्हें भी राष्ट्रीय पुरस्कार प्रदान किया गया।

छत्तीसगढ़ Switch to English

इंडियन एसोसिएशन ऑफ पैथोलॉजिस्ट एंड माइक्रोबायोलॉजिस्ट का 69वाँ वार्षिक राष्ट्रीय सम्मेलन

चर्चा में क्यों?

3 दिसंबर, 2021 को छत्तीसगढ़ की राज्यपाल अनुसुईया उइके इंडियन एसोसिएशन ऑफ पैथोलॉजिस्ट एंड माइक्रोबायोलॉजिस्ट के 69वें वार्षिक राष्ट्रीय सम्मेलन में वर्चुअल रूप से सम्मिलित हुईं।

प्रमुख बिंदु

  • यह सम्मेलन ‘ए मीटिंग ऑफ माइंड्स टू रिवाईस, एडवांस्ड प्रेक्टिसेस एंड प्रोग्रेस इन पैथोलॉजी’विषय पर आधारित था। 
  • इस सम्मेलन के लिये 1500 से अधिक प्रतिभागियों ने पंजीयन कराया है और 600 से 700 वैज्ञानिकों द्वारा पोस्टर एवं पेपर्स प्रस्तुत किये जा रहे हैं। 
  • इस सम्मेलन में अंतर्राष्ट्रीय एवं राष्ट्रीय स्तर के विशेषज्ञों के द्वारा पैथोलॉजी विषय की विभिन्न उपशाखाओं, जैसे- हिस्टोपैथोलॉजी, सायटोलॉजी, क्लिनिकल पैथोलॉजी, मॉलिक्यूलर पैथोलॉजी पर व्याख्यान दिये गए।
  • राज्यपाल ने सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि चिकित्सा विज्ञान में पैथोलॉजी और माइक्रोबायोलॉजी का महत्त्वपूर्ण योगदान है। कोरोना जैसी भयानक महामारी की पहचान भी हम पैथोलॉजी विज्ञान के माध्यम से कर पाए हैं और इसका हम बचाव भी कर रहे हैं। 
  • पैथोलॉजी साइंस मेडिकल साइंस की महत्त्वपूर्ण शाखा है, जिसमें विषय विशेषज्ञ रोग के कारण, रोग द्वारा उत्पन्न संरचनात्मक असमानताओं एवं परिवर्तनों का अध्ययन करते हैं। 
  • रोगों के निदान में पैथोलॉजिस्ट की महत्त्वपूर्ण भूमिका होती है। विभिन्न प्रायोगिक जाँच के द्वारा सटीक रूप से बीमारी का पता लगाकर ही सही उपचार किया जा सकता है और जाँच से उपचार की वास्तविक प्रगति को भी देखा जा सकता है। 
  • वर्षों पहले जब चिकित्सा विज्ञान पूर्ण विकसित नहीं था, तब सिर्फ लक्षणों के आधार पर इलाज हुआ करता था, लेकिन पैथोलॉजी साइंस के विकास के साथ हम विभिन्न परीक्षण कर आसानी से यह पता कर सकते हैं कि मरीज़ को कौन-सा रोग है और उसके आधार पर हम उसका सटीक इलाज कर सकते हैं।

उत्तर प्रदेश Switch to English

इंटरनेशनल आर्बिटेशन सेंटर

चर्चा में क्यों?

हाल ही में लखनऊ विश्वविद्यालय में इंटरनेशनल आर्बिटेशन सेंटर खोलने का निर्णय लिया गया है।

प्रमुख बिंदु 

  • यह इंटरनेशनल आर्बिटेशन सेंटर उत्तर भारत में किसी संस्थान में खुलने वाला पहला सेंटर होगा।
  • इस सेंटर से क्राइम को छोड़ देश-विदेश के अन्य सभी मामलों का निस्तारण मध्यस्थता के ज़रिये किया जाएगा।
  • इस सेंटर में मामलों की सुनवाई के लिये उच्च न्यायालय के 6 सेवानिवृत्त न्यायाधीश, मैनेजमेंट के डीन एवं संबंधित क्षेत्र के एक्सपर्ट शामिल होंगे। विश्वविद्यालय के कुलपति इसके संरक्षक होंगे।
  • यह सेंटर सभी निवेशकों को अपने विवाद कोर्ट के बाहर जल्दी निपटाने में सहायता करेगा।

उत्तर प्रदेश Switch to English

डॉ. राजेंद्र प्रसाद के नाम पर होगा राष्ट्रीय विधि विश्वविद्यालय

चर्चा में क्यों?

3 दिसंबर, 2021 को प्रथम राष्ट्रपति डॉ. राजेंद्र प्रसाद की जयंती पर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा प्रयागराज में स्थापित किये जा रहे राष्ट्रीय विधि विश्वविद्यालय का नामकरण डॉ. राजेंद्र प्रसाद के नाम पर करने की घोषणा की गई।

प्रमुख बिंदु

  • उल्लेखनीय है कि इस विश्वविद्यालय की स्थापना के लिये वर्ष 2020 में उत्तर प्रदेश विधानमंडल द्वारा ‘उत्तर प्रदेश राष्ट्रीय विधि विश्वविद्यालय प्रयागराज अधिनियम, 2020’ पारित किया गया था।
  • डॉ. राजेंद्र प्रसाद के भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में योगदान एवं संविधान निर्माण में उनकी भूमिका तथा प्रथम राष्ट्रपति के रूप में उनके उल्लेखनीय योगदानों को देखते हुए मुख्यमंत्री ने यह फैसला लिया है।
  • विदित हो कि डॉ. राजेंद्र प्रसाद की ही अध्यक्षता में भारतीय संविधान का निर्माण किया गया था। डॉ. राजेंद्र प्रसाद भारतीय गणतंत्र के प्रथम राष्ट्रपति भी रहें हैं।
  • ध्यातव्य है कि डॉ. राजेंद्र प्रसाद का जन्म 3 दिसंबर, 1884 को वर्तमान बिहार के सिवान ज़िले में हुआ था तथा 28 फरवरी, 1963 को उनका देहावसान हो गया था।
  • डॉ. राजेंद्र प्रसाद को वर्ष 1962 में भारत रत्न प्रदान किया गया था।

उत्तर प्रदेश Switch to English

गोरखपुर में दूरदर्शन भू-उपग्रह केंद्र का लोकार्पण

चर्चा में क्यों?

3 दिसंबर, 2021 को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ तथा केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री अनुराग सिंह ठाकुर ने जनपद गोरखपुर में दूरदर्शन भू-उपग्रह केंद्र तथा जनपद इटावा, गदानिया जनपद लखीमपुर खीरी एवं नानपारा जनपद बहराइच में 10 किलोवॉट एफ.एम रिले केंद्र का लोकार्पण किया।

प्रमुख बिंदु

  • इस भू-उपग्रह केंद्र के माध्यम से न केवल पूर्वी उत्तर प्रदेश, बल्कि बिहार का एक बड़ा भाग और नेपाल की एक बड़ी आबादी लाभान्वित होगी।
  • साथ ही, सीमावर्ती क्षेत्रों में, जहाँ थोड़ी-बहुत राष्ट्रविरोधी हलचलें होती हैं और देशविरोधी गतिविधियों में संलिप्त लोगों द्वारा दुष्प्रचार किया जाता है, उसे रोकने में यह दूरदर्शन केंद्र एक बड़ी भूमिका का निर्वहन करेगा।
  • गोरखपुर दूरदर्शन भू-उपग्रह केंद्र पर भोजपुरी भाषा में प्रसारण होगा जिससे भोजपुरी रंगकर्मियों को एक मंच मिलेगा।
  • जनपद इटावा के ट्रांसमीटर से 50 लाख लोगों को लाभ मिलेगा।
  • जनपद लखीमपुर खीरी के गदानिया, जनपद बहराइच के नानपारा ट्रांसमीटर से क्रमश: 35 लाख और 25 लाख लोगों को एफ.एम. की सुविधा मिलेगी। आने वाले समय में 3 और ट्रांसमीटर जनपद सुलतानपुर, जनपद रामपुर और जनपद महराजगंज में अगले 8 महीने के अंदर स्थापित किए जाएंगे।

उत्तर प्रदेश Switch to English

राज्य स्तरीय पुरस्कार

चर्चा में क्यों?

3 दिसंबर, 2021 को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने विश्व दिव्यांग दिवस के अवसर पर डॉ. शकुंतला मिश्रा राष्ट्रीय पुनर्वास विश्वविद्यालय में आयोजित कार्यक्रम में विभिन्न श्रेणी के सर्वश्रेष्ठ दिव्यांग व्यक्तियों तथा दिव्यांगजन के हितार्थ कार्य कर रही सर्वश्रेष्ठ संस्थाओं को राज्य स्तरीय पुरस्कार प्रदान किये।

  • इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने दिव्यांगजन सशक्तीकरण विभाग द्वारा संचालित विशेष विद्यालयों के शैक्षणिक सत्र 2020-21 में हाईस्कूल एवं इंटरमीडिएट की परीक्षा में उत्कृष्ट अंकों के साथ उत्तीर्ण छात्र-छात्राओं को सम्मानित किया।
  • इसके पूर्व, उन्होंने विश्वविद्यालय परिसर में आयोजित प्रदर्शनी का उद्घाटन कर अवलोकन किया तथा दिव्यांगजन को सहायक उपकरण भी वितरित किये। यह कार्यक्रम दिव्यांगजन सशक्तीकरण विभाग द्वारा आयोजित किया गया था।
  • मुख्यमंत्री द्वारा कार्यक्रम में सर्वश्रेष्ठ दिव्यांग कर्मचारी का पुरस्कार अजय कुमार (श्रवणबाधित), नागेंद्र कुमार (अस्थिबाधित), नीतू द्विवेदी (दृष्टिबाधित) को प्रदान किया गया।
  • वहीं दिव्यांगजन हेतु सर्वश्रेष्ठ नियोक्ता तथा सर्वश्रेष्ठ प्लेसमेंट अधिकारी या एजेंसी का पुरस्कार केपेबिल्टिी फाउंडेशन वाराणसी को प्रदान किया गया।
  • दिव्यांगजन के निमित्त कार्यरत सर्वश्रेष्ठ व्यक्ति का पुरस्कार डॉ. सी. तुलसीदास (व्यावसायिक), इरफाना तारिक (गैर व्यावसायिक), दिव्यांगजन के निमित्त कार्यरत प्रेम धाम चैरिटेबल सोसाइटी, बिजनौर (समावेशी शिक्षा के निमित्त), भागीरथ सेवा संस्थान, गाजियाबाद (समग्र पुनर्वास सेवा) को प्रदान किया गया।
  • प्रेरणास्रोत का पुरस्कार प्रो. मंगला कपूर (अस्थिबाधित), धीरज श्रीवास्तव (श्रवणबाधित), कु. जीया राय (मानसिक मंदित), सौरभ तिवारी (दृष्टिबाधित) को प्रदान किया गया
  • सर्वश्रेष्ठ सृजनशील वयस्क दिव्यांग व्यक्ति का पुरस्कार नव कुमार अवस्थी, सर्वश्रेष्ठ दिव्यांग खिलाड़ी का पुरस्कार रति मिश्रा (महिला), लव वर्मा (पुरुष), दिव्यांगजन के सशक्तीकरण हेतु कार्यरत कर्मचारी का पुरस्कार शगुन सिंह को प्रदान किया गया।

बिहार Switch to English

बिहार विनियोग (संख्या-4) विधेयक, 2021 पारित

चर्चा में क्यों?

हाल ही में बिहार विधान मंडल में बिहार विनियोग (संख्या-4) विधेयक, 2021 पारित किया गया है।

प्रमुख बिंदु 

  • बिहार विनियोग (संख्या-4) विधेयक, 2021 के अंतर्गत अनुपूरक बजट के ज़रिये कुल 20,531 करोड़ 82 लाख 72 हज़ार रुपए की राशि समेकित निधि से विनियोजित की जाएगी।
  • इस विधेयक में समग्र शिक्षा अभियान, राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन, मध्याह्न भोजन योजना, प्रधानमंत्री आवास योजना आदि में 5348 करोड़ रुपए का अनुपूरक उपबंध किया गया है।
  • राज्य सरकार की अन्य महत्त्वपूर्ण योजनाओं, जैसे- पेयजल हेतु गंगाजल उद्वह योजना, पटना मेट्रो रेल परियोजना, मुख्यमंत्री बालिका प्रोत्साहन योजना, सात निश्चय योजना, मुख्यमंत्री ग्राम संपर्क योजना, बाढ़ नियंत्रण, सिंचाई सृजन परियोजना आदि के लिये 6773 करोड़ रुपए का अनुपूरक उपबंध किया गया है।
  • 15वें वित्त आयोग की अनुशंसा के आलोक में, स्थानीय स्तर पर आम आदमी को बेहतर सुविधाएँ उपलब्ध कराने हेतु राज्य की पंचायती राज संस्थाओं एवं नगर निकायों को स्वास्थ्य प्रक्षेत्र के लिये कुल 1117 करोड़ रुपए का अनुपूरक प्रावधान किया गया है।
  • छठे राज्य वित्त आयोग की अनुशंसा के आलोक में पंचायतों को 2130 करोड़ रुपए तथा नगर निकायों को 1445 करोड़ रुपए का अनुपूरक प्रावधान किया गया है।

राजस्थान Switch to English

दिव्यांगजन दिवस पर पोस्टर का विमोचन

चर्चा में क्यों?

3 दिसंबर, 2021 को राजस्थान के चिकित्सा मंत्री परसादी लाल मीणा ने अंतर्राष्ट्रीय दिव्यांगजन दिवस के मौके पर पोस्टर का विमोचन किया। इस दौरान उन्होंने अक्षिता और अनीषा से मुलाकात की, जिन्हें हाल ही में एसएमएस अस्पताल में कोकलियर इंप्लांट हुआ था।

प्रमुख बिंदु 

  • स्वास्थ्य मंत्री ने पोस्टर विमोचन के साथ ही मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि उनके प्रयासों से ही कोकलियर इंप्लांट नि:शुल्क प्रोग्राम राजस्थान में प्रारंभ हुआ, जिससे प्रदेश में कई बच्चे लाभान्वित हुए हैं।
  • स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कि अब तक एसएमएस अस्पताल में 660 कोकलियर इंप्लांट हो चुके हैं और राजस्थान का मॉडल प्रोग्राम पूरे देश के लिये एक उत्कृष्ट उदाहरण है। 
  • एसएमएस मेडिकल कॉलेज के अलावा जोधपुर, बीकानेर, उदयपुर, अजमेर, कोटा व जयपुरिया अस्पताल में भी यह सुविधा अब चालू कर दी गई है।

राजस्थान Switch to English

उत्तर क्षेत्रीय परिषद की स्थायी समिति की शिमला में बैठक आयोजित

चर्चा में क्यों?

3 दिसंबर, 2021 को आयोजना विभाग तथा खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति विभाग के शासन सचिव नवीन जैन ने उत्तर भारतीय राज्यों एवं केंद्रशासित प्रदेशों तथा भारत सरकार के मध्य आपसी मुद्दों के समाधान के लिये उत्तर क्षेत्रीय परिषद की स्थायी समिति की शिमला में आयोजित बैठक में राजस्थान के 5 सदस्यीय प्रतिनिधि मंडल के साथ भाग लिया। 

प्रमुख बिंदु

  • इस बैठक में शासन सचिव नवीन जैन ने कहा कि राज्यों के मध्य विवादों का समाधान आपसी समन्वय, बातचीत एवं सामयिक कार्यवाही द्वारा प्रभावी तरीके से किया जा सकता है। 
  • इस बैठक में राज्यों के मध्य जल विवाद, टिड्डी दल आक्रमण, पराली जलाने से होने वाले वायु प्रदूषण, रेलवे प्रोजेक्ट्स, साइबर क्राईम, नए परिवहन मार्गों जैसे 47 मुद्दों पर विस्तार से चर्चा की गई। 
  • राजस्थान के विभिन्न राज्यों से लंबे समय से लंबित कई मुद्दों की प्रतिनिधित्व मंडल द्वारा प्रभावी तरीके से पैरवी कर समाधान किया गया। बैठक में राज्य से संबंधित लगभग 28 मुद्दों पर विस्तार से चर्चा की गई। परिषद की अगली बैठक भारत सरकार के गृह मंत्री के साथ की जाएगी। 
  • इस बैठक में 4 उत्तर भारतीय राज्यों व 4 केंद्रशासित प्रदेशों के मुख्य सचिव एवं प्रतिनिधियों ने भाग लिया। प्रति वर्ष आयोजित होने वाली इस बैठक की मेज़बानी हिमाचल प्रदेश सरकार ने की।

मध्य प्रदेश Switch to English

दुबई एक्सपो-2020

चर्चा में क्यों?

3-9 दिसंबर, 2021 तक दुबई एक्सपो-2020 में मध्य प्रदेश ‘राज्य सप्ताह’का आयोजन किया जा रहा है, जिसमें औद्योगिक नीति और निवेश संवर्धन मंत्री राजवर्धन सिंह दत्तीगाँव ने ‘मध्य प्रदेश मंडप’का शुभारंभ किया। 

प्रमुख बिंदु

  • इस ‘राज्य सप्ताह’में विभिन्न उद्योग-विशिष्ट विशेषज्ञ सत्र, गोलमेज चर्चा के साथ सांस्कृतिक प्रदर्शन भी होंगे।
  • दुबई एक्सपो में मध्य प्रदेश सप्ताह में राज्य के लिये व्यावसायिक संभावनाओं पर चर्चा करने और वस्त्र निर्माण, ऑटोमोबाइल, ईवी, खाद्य प्रसंस्करण, फार्मास्यूटिकल्स, आईटी सहित प्रमुख क्षेत्रों में निवेश के अवसरों पर चर्चा करने के लिये विभिन्न बैठकें होंगी।
  • एक्सपो के दौरान मध्य प्रदेश सरकार के औद्योगिक नीति एवं निवेश संवर्धन मंत्री राजवर्धन सिंह दत्तीगाँव की अध्यक्षता में राज्य का 14 सदस्यीय प्रतिनिधि-मंडल, आर्थिक गतिविधियों को बढ़ाने और प्रदान करने के उद्देश्य से नए निवेश, नई प्रौद्योगिकियों, राज्य में लाभकारी रोज़गार प्रदाय करने हेतु नई परियोजनाओं को लाने के लिये उद्योग घरानों और उद्योग संघों के साथ बातचीत करेगा।
  • मध्य प्रदेश का प्रतिनिधि-मंडल संयुक्त अरब अमीरात सरकार की वार्षिक निवेश बैठक (एआईएम) के प्रतिनिधियों के साथ भी बातचीत करेगा, जो प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) के लिये दुनिया का अग्रणी मंच है। 
  • साथ ही मार्च 2022 में एआईएम, दुबई में होने वाली बैठक के लिये हिज़ हाइनेस शेख मोहम्मद बिन राशिद अल मकतूम, संयुक्त अरब अमीरात के उपराष्ट्रपति, प्रधानमंत्री और दुबई के शासक से निमंत्रण प्राप्त किया।
  • प्रतिनिधि-मंडल के सदस्य अबू धाबी चेंबर ऑफ कॉमर्स, शारजाह चेंबर ऑफ कॉमर्स एंड पीपल ऑफ इंडियन ओरिजिन चेंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री (पीआईओसीसीआई) से भी मिलेंगे। इसके अलावा दुबई, शारजाह और अबू धाबी के विभिन्न प्रमुख कॉर्पोरेट्स के साथ बैठकें करेंगे।

मध्य प्रदेश Switch to English

ग्राम पंचायत बरोदियाकलां बनी नगर परिषद

चर्चा में क्यों?

3 दिसंबर, 2021 को मध्य प्रदेश राज्य शासन द्वारा सागर ज़िले की तहसील मालथौन की ग्राम पंचायत बरोदियाकलां को नगर परिषद बनाया गया। इस संबंध में मध्य प्रदेश राजपत्र में सूचना प्रकाशित कर दी गई है।

प्रमुख बिंदु

  • मध्य प्रदेश नगरपालिका अधिनियम, 1961 के तहत 7 ग्राम पंचायतों के 22 ग्रामों को मिलाकर बरोदियाकलां को नगर परिषद बनाया गया है।
  • इसमें ग्राम पंचायत बरोदियाकलां सहित डबडेरा, बीकोरकलां, दरी, रजवांस, बनखिरिया और उमरई ग्राम पंचायत शामिल की गई हैं। 
  • बरोदियाकलां क्षेत्र के नागरिकों ने इस उपलब्धि पर नगरीय विकास एवं आवास मंत्री भूपेन्द्र सिंह को धन्यवाद दिया।

हरियाणा Switch to English

अंतर्राष्ट्रीय दिव्यांगजन दिवस पर राज्य के दिव्यांगजनों के लिये विभिन्न घोषणाएँ

चर्चा में क्यों?

3 दिसंबर, 2021 को हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने अंतर्राष्ट्रीय दिव्यांगजन दिवस पर दिव्यांगजनों के लिये विभिन्न घोषणाओं के साथ राज्य के हर ज़िले के एक स्टेडियम में दिव्यांग खेल कॉर्नर बनाने की घोषणा की।

प्रमुख बिंदु

  • मुख्यमंत्री ने बताया कि देश में करीब 50 लाख मानसिक अक्षम लोग हैं, हरियाणा सरकार ऐसे लोगों के लिये ज़्यादा-से-ज़्यादा व्यापक स्तर पर सुविधाएँ देने के प्रयास कर रही है।
  • इसी प्रयास में मुख्यमंत्री द्वारा वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से अंबाला के आजीवन दिव्यांग देखभाल गृह का शिलान्यास किया गया।
  • इसके साथ-साथ उन्होंने विशेषत: दिव्यांगजनों के लिये सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग की वेबसाइट और दिव्यांग अवॉर्ड के लिये ऑनलाइन आवेदन करने हेतु पोर्टल भी लॉन्च किया।
  • मुख्यमंत्री ने राजकीय अंध विद्यालय, पानीपत की नई बिल्डिंग बनाने और नेत्रहीन अधिकारियों को ब्रेल प्रिंटर दिये जाने की भी घोषणा की। 
  • उन्होंने बताया कि मानसिक रूप से अक्षम लोगों की देखभाल के लिये अंबाला में 5 एकड़ भूमि पर 31 करोड़ 71 लाख रुपए की लागत से आजीवन दिव्यांग देखभाल गृह का निर्माण किया जाएगा। इसमें 100 दिव्यांगजनों के लिये वस्त्र, भोजन व उनकी उचित देखभाल की पूरी व्यवस्था होगी।
  • अब दिव्यांगजन स्टेट कमिश्नर फॉर डिसेबलिटीज़ पोर्टल पर अपनी शिकायतें दर्ज करवा सकते हैं। पोर्टल पर ही अपनी शिकायत को ट्रैक करने के साथ-साथ अधिनियम सूचना, विभाग की योजनाएँ व मामला सूची विधि व्यवस्था की जानकारी ले सकते हैं।
  • मुख्यमंत्री ने दिव्यांगजनों के लिये अवार्ड पोर्टल की शुरुआत भी की। इस पोर्टल पर दिव्यांगजन सीधे अलग-अलग श्रेणी के अवार्ड हेतु ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं। श्रेणी-1 एवं 2 के नेत्रहीन अधिकारियों को ब्रेल प्रिंटर देने की घोषणा की।

झारखंड Switch to English

झारखंड ने जीती दिव्यांग क्रिकेट सीरीज़

चर्चा में क्यों?

3 दिसंबर, 2021 को विश्व दिव्यांग दिवस के अवसर पर झारखंड दिव्यांग क्रिकेट टीम ने राष्ट्रीय दिव्यांग त्रिकोणीय टी20 क्रिकेट सीरीज़ का खिताब जीता।

प्रमुख बिंदु

  • 3 दिसंबर, 2021 को इस सीरीज़ का फाइनल मुकाबला बिहार और झारखंड के बीच पटना के ऊर्जा स्टेडियम में खेला गया, जिसमें झारखंड की टीम ने बिहार को हराकर खिताब पर कब्ज़ा किया।
  • इस मैच में वागीश त्रिपाठी को ‘मैन ऑफ द मैच’घोषित किया गया तथा ‘मैन ऑफ द सीरीज़’सौराष्ट्र के राजू परमकर को दिया गया। 
  • सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाज़ का पुरस्कार झारखंड के वागीश त्रिपाठी और झारखंड टीम के ही निशांत कुमार उपाध्याय को सर्वश्रेष्ठ गेंदबाज़ का पुरस्कार दिया गया।
  • समापन समारोह में बतौर मुख्य अतिथि दिव्यांग क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड के अध्यक्ष मुकेश कंचन मौजूद थे। 
  • विदित हो कि इस सीरीज़ का आयोजन अंतर्राष्ट्रीय दिव्यांग दिवस के अवसर पर बिहार दिव्यांग क्रिकेट संघ के द्वारा बिहार, झारखंड और सौराष्ट्र की टीम के बीच किया गया था।

 Switch to English
close
एसएमएस अलर्ट
Share Page
images-2
images-2