हिंदी साहित्य: पेन ड्राइव कोर्स
ध्यान दें:

स्टेट पी.सी.एस.

  • 07 Dec 2021
  • 1 min read
  • Switch Date:  
राजस्थान Switch to English

राजस्थान आईटी क्रिकेट लीग का शुभारंभ

चर्चा में क्यों?

6 दिसंबर, 2021 को प्रमुख शासन सचिव सूचना प्रौद्योगिकी एवं संचार विभाग आलोक गुप्ता एवं आयुक्त संदेश नायक ने सूचना प्रौद्योगिकी एवं संचार विभाग के अधिकारियों और कार्मिकों के लिये द्वितीय राजस्थान आईटी क्रिकेट लीग 2021 का शुभारंभ किया।

प्रमुख बिंदु 

  • सचिव आलोक गुप्ता एवं आयुक्त संदेश नायक ने टॉस उछालकर खेल का शुभारंभ किया। 
  • मुख्य आयोजनकर्त्ता ऋतेश कुमार शर्मा ने बताया कि इस क्रिकेट लीग में राज्य के विभिन्न ज़िलों से 16 टीमें और 240 खिलाड़ी भाग ले रहे हैं।
  • पहला मैच 2 k 18 Royals और आईटी स्टाईकर्स फोर्स टीमों के मध्य और दूसरा मैच सीएडी जैगुआर और 2 आईटीसी नाइट्स के मध्य खेला गया।

राजस्थान Switch to English

नागरिक सुरक्षा का 59वाँ स्थापना दिवस मनाया गया

चर्चा में क्यों?

6 दिसंबर, 2021 को राजस्थान के नागरिक सुरक्षा विभाग द्वारा निदेशालय नागरिक सुरक्षा भवन में नागरिक सुरक्षा का 59वाँ स्थापना दिवस मनाया गया। समारोह के मुख्य अतिथि आनंद कुमार, प्रमुख शासन सचिव, आपदा प्रबंधन, सहायता एवं नागरिक सुरक्षा विभाग द्वारा झंडारोहण किया गया।  

प्रमुख बिंदु

  • समारोह के दौरान मुख्य अतिथि द्वारा नागरिक सुरक्षा विभाग के उप नियंत्रक इंद्रमल को राष्ट्रपति का विशिष्ठ सेवा पदक, डिवीजनल वार्डन भवानी शंकर शर्मा को राष्ट्रपति का सराहनीय सेवा पदक एवं उप नियंत्रक, रामदीनाराम जाट, श्यामसुंदर राठी, शिवराज वैष्णव, जयपाल शर्मा, महेंद्र सिंह करणावत, रामेश्वर दयाल यादव व महानिदेशक अग्निशमन अंजना गहलोत को नागरिक सुरक्षा एवं गृह रक्षा, गृह मंत्रालय भारत सरकार के डीजीसीडी डिस्क व प्रमाण पत्र देकर सम्मानित किया गया।
  • इसके साथ ही विभाग के 25 अधिकारियों/कार्मिकों/स्वयंसेवकों को सराहनीय कार्यों के लिये आयुक्त नागरिक सुरक्षा विभाग के प्रशंसा-पत्र प्रदान किये गए।
  • समारोह में आपदा प्रबंधन का जीवंत प्रदर्शन किया गया, जिसमें बम विस्फोट या अन्य किसी आपदा/विपदा के दौरान क्षतिग्रस्त भवनों के भूतल, स्मॉक रूम, इत्यादि से हताहतों को नागरिक सुरक्षा बचाव दलों की मदद से अलग-अलग बचाव विधियों से निकालना दर्शाया गया। साथ ही आग लगने पर अग्निशमन दलों द्वारा प्रयोग में लिये जाने वाले अलग-अलग नॉजलों के उपयोग कर भीषण आग पर नियंत्रण करना बताया गया।

राजस्थान Switch to English

बच्चों में हाइजीन व स्वच्छता के प्रति जागरूकता हेतु टाबर सोसायटी के साथ एमओयू

चर्चा में क्यों

6 दिसंबर, 2021 को राजस्थान शिक्षा मंत्री डॉ. बीडी कल्ला की अध्यक्षता में आयोजित बैठक में समग्र शिक्षा के राज्य परियोजना निदेशक डॉ. भँवरलाल व रेकिट बेनकाइजर प्राइवेट लिमिटेड की प्रतिनिधि संस्था अतरू टाबर सोसायटी के प्रतिनिधि रमेश पालीवाल द्वारा स्कूल हाइजीन एजुकेशन प्रोग्राम के तहत एमओयू साइन किया।

प्रमुख बिंदु

  • टाबर व शिक्षा विभाग के संयुक्त तत्वावधान में शुरू होने जा रहा यह एक इंटीग्रेटेड कार्यक्रम है जो पाठ्यक्रम व पाठ्येतर गतिविधियों द्वारा कोविड-19 व अन्य बीमारियों से बच्चों को बचाने व समाज में स्वच्छता के प्रति जागरूकता लाने में मील का पत्थर साबित होगा।
  • शिक्षा मंत्री डॉ. बीडी कल्ला ने टाबर सोसाइटी और शिक्षा विभाग के बीच हुए एमओयू के बारे में जानकारी देते हुए कहा कि डेटॉल स्कूल हाइजीन एजुकेशन प्रोग्राम के तहत प्रथम चरण में यह कार्यक्रम टाबर सोसाइटी द्वारा 5 करोड़ 50 लाख की लागत से 2400 राजकीय विद्यालयों में चलाया जाएगा जहाँ बच्चों को खेल व अन्य रोचक गतिविधियों के माध्यम से सफाई का महत्त्व समझाया जाएगा साथ ही शिक्षकों को भी प्रशिक्षित किया जाएगा। 
  • शैक्षणिक व सहशैक्षणिक गतिविधियों द्वारा बच्चों को स्वच्छता का अभ्यास करवाया जाएगा तथा स्वच्छता की कमी से होने वाले रोगों के प्रति बच्चों में जागरूकता लाई जाएगी। 
  • स्वच्छ माहौल से बच्चों की रोग प्रतिरोधक क्षमता में वृद्धि होगी तथा स्वच्छता की कमी से विभिन्न बीमारियों से ग्रस्त होकर ड्रॉपआउट होने वाले बच्चों की संख्या में भी इस कार्यक्रम से कमी आएगी।

मध्य प्रदेश Switch to English

75वाँ होमगार्डस् स्थापना दिवस समारोह

चर्चा में क्यों?

6 दिसंबर, 2021 को मध्य प्रदेश में होमगार्डस् नागरिक सुरक्षा एवं आपदा, आपातकालीन मोचन बल का 75वाँ स्थापना दिवस समारोह मनाया गया। इस अवसर पर आयोजित समारोह में होमगार्ड्स के जवानों ने गृह मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा को मार्च पास्ट कर सलामी दी तथा एसडीईआरएफ के जवानों ने आपदा बचाव कार्यों का अद्भुत प्रदर्शन किया। 

प्रमुख बिंदु

  • गृह मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने होमगार्ड परेड ग्राउंड में होमगार्ड जवानों द्वारा किये गए उत्कृष्ट कार्यों पर आधारित फोटो-गैलरी का शुभारंभ तथा अवलोकन किया।
  • कार्यक्रम में होमगार्डस् सैनिकों के 10वीं, 12वीं और उच्च शिक्षा में उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले 75 मेधावी छात्र-छात्राओं को पुरस्कृत किया गया।
  • गृह मंत्री ने आपदा के समय उत्कृष्ट कार्य करते हुए लोगों की जान-माल बचाने के लिये अधिकारी/कर्मचारियों को सम्मानित किया। उन्होंने अंतर्राष्ट्रीय एवं राष्ट्रीय स्तर पर सॉफ्ट टेनिस प्रतियोगिता में उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाली कुमारी अंशिका कनौजिया को 10 हज़ार रूपए का चेक और प्रशस्ति-पत्र से पुरस्कृत किया। 
  • इस अवसर पर कोविड-19 महामारी के दौरान वर्ष 2020-21 में होमगार्ड द्वारा किये गए उत्कृष्ट कार्यों के लिये 12 हज़ार 591 सैनिकों और अधिकारियों को कर्मवीर योद्धा पदक से सम्मानित किया गया।
  • गृह मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि जबलपुर में 135 करोड़ रुपए की लागत से राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन संस्थान बनाने की घोषणा की। आपदा प्रबंधन दल को आधुनिक उपकरणों से लैस करने के लिये 45 करोड़ रुपए की राशि स्वीकृत कर दी गई है। 
  • साथ ही गृहमंत्री ने कहा कि जबलपुर के मुंगेली में 165 एकड़ परिसर में 135 करोड़ रुपए की लागत से संस्थान के निर्माण पर विचार किया जा रहा है। शीघ्र ही यह मूर्त रूप लेगा और जबलपुर में होमगार्डस् और एसडीईआरएफ के जवानों को बाढ़, आगजनी, भूकंप, रेल दुघर्टना, सड़क दुर्घटना, रासायनिक/औद्योगिक दुर्घटनाएँ इत्यादि के समय लोगों को त्वरित सहायता उपलब्ध कराने के लिये उच्च स्तरीय प्रशिक्षण संबंधी संरचनाओं का निर्माण कर प्रशिक्षित किया जा सकेगा।
  • गृह मंत्री डॉ. मिश्रा ने कहा कि होमगार्ड के अधिकारियों के कैडर संबंधी विसंगति को शीघ्र ही दूर किया जाएगा। होमगार्ड के 400 जवान आबकारी और 248 जवान खनिज विभाग में कार्य रहे हैं। इसके अतिरिक्त 2 हज़ार 425 जवानों को राज्य आपदा आपातकालीन प्रबंधन बल में (SDERF) में पदस्थ करने की कार्यवाही पर विचार-विमर्श चल रहा है।
  • होमगार्ड के जवानों ने आपदा के समय अद्भुत साहस और शौर्य का प्रदर्शन किया है। होमगार्ड के जवानों का प्रति वर्ष कॉल ऑफ न करते हुए अब से 3 वर्ष में एक बार कॉल ऑफ किया जाएगा।
  • गौरतलब है कि होमगार्ड के जवान आपदा में देश की सीमाओं पर कार्य करने वाले सेना के जवानों की तरह ही कार्य करते हैं। होमगार्ड के जवानों ने इस वर्ष में 550 रेस्क्यू ऑपरेशन करते हुए 9 हज़ार 827 लोगों की जिंदगियाँ बचाई हैं।
  • उल्लेखनीय है कि मध्य प्रदेश में होमगार्ड संगठन की स्थापना वर्ष 1947 में मध्य प्रदेश होमगार्ड अधिनियम 1947 के तहत हुई थी।

हरियाणा Switch to English

मिलिया एयर हार्ट स्कॉलरशिप

चर्चा में क्यों?

हाल ही में हरियाणा के कुरुक्षेत्र ज़िले की यशिका खत्री ने विमान उड़ाने की प्रतियोगिता जीतकर अमेरिका की मिलिया एयर हार्ट स्कॉलरशिप प्राप्त की है।

प्रमुख बिंदु

  • अमेरिका के एरिजोना के एम्ब्रीरिडल ऐयरोनोटिकल विश्वविद्यालय में यशिका खत्री के विमान उड़ाने की प्रतियोगिता में प्रथम आने से उनका नाम यूनाइटेड स्टेट ऑफ अमेरिका (यूएसए) की ओर से विश्व की उन 35 महिलाओं में शामिल हो गया है, जिन्हें मिलिया एयर हार्ट स्कॉलरशिप प्रदान की गई है।
  • इस स्कॉलरशिप के लिये यशिका को 10 हज़ार डॉलर देकर सम्मानित करने के साथ ही एक साल तक एक विमान पर उसका नाम भी अंकित किया जाएगा। इस विमान पर भारत का तिरंगा भी एक साल तक फहराता रहेगा।
  • उल्लेखनीय है कि यशिका खत्री ने एरिजोना के एम्ब्रीरिडल ऐयरोनोटिकल विश्वविद्यालय से स्नातक की है तथा अब वह यूनिवर्सिटी ऑफ कोलेरेडो से एयरोस्पेस में पीएचडी कर रही है।
  • विदित है कि मिलिया एयर हार्ट स्कॉलरशिप एयरोस्पेस इंजीनियरिंग का अवार्ड होता है।

हरियाणा Switch to English

खेलो इंडिया प्रतियोगिता

चर्चा में क्यों?

हाल ही में हरियाणा राज्य के सोनीपत ज़िले में आयोजित खेलो इंडिया नॉर्थ जोन तीरंदाजी प्रतियोगिता में करनाल की रिद्धि फोर ने चार गोल्ड मेडल जीते है।

प्रमुख बिंदु

  • सोनीपत में भारतीय तीरंदाजी संघ की और खेलो इंडिया के तहत नॉर्थ जोन की दूसरी प्रतियोगिता में 17 वर्षीय रिद्धि ने बेहतर प्रदर्शन करते हुए बेटियों की शान बढ़ाई है।
  • रिद्धि फोर ने कुरुक्षेत्र यूनिवर्सिटी की ओर से आयोजित इंटर यूनिवर्सिटी तीरंदाजी प्रतियोगिता में भी एक गोल्ड मेडल जीता है। इस प्रकार इन तीरंदाजी प्रतियोगिताओं में उन्होंने कुल मिलाकर पाँच गोल्ड मेडल जीते हैं।
  • उल्लेखनीय है कि रिद्धि फोर 6 इंटरनेशनल व 51 नेशनल मेडल हासिल करने वाली सीनियनर निशानेबाजी मुकाबलों में भी मेडल जीत चुकी है।

झारखंड Switch to English

मुख्यमंत्री ने चार कपड़ा उद्योगों का उद्घाटन किया

चर्चा में क्यों?

6 दिसंबर, 2021 को झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने ओरमांझी (कुल्ही) स्थित चार कपड़ा उद्योग कंपनी किशोर एक्सपोर्ट्स, द बेस्ट बैंड, श्री गणपति क्रिएशन एवं वैलेंसिया अप्पेरल का उद्घाटन किया। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने चंदवे-कुल्ही पथ का ऑनलाइन शिलान्यास भी किया।

प्रमुख बिंदु 

  • मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार की पॉलिसी है कि झारखंड में कार्यरत विभिन्न औद्योगिक संस्थाओं में 75% मानव बल झारखंड राज्य के हों, यह सुनिश्चित की जाए। 
  • टेक्सटाइल क्षेत्र में काम करने वाले 2,000 से अधिक लोगों में 95% लोग झारखंड के हैं, इसमें 80% महिलाएँ शामिल हैं। इन्हें मुख्यमंत्री ने नियुक्ति पत्र सौंपा। टेक्सटाइल क्षेत्र में महिलाओं की भागीदारी अधिक होने से महिला सशक्तीकरण को बल मिलेगा। 
  • नियुक्ति पत्र पाने वाली महिलाओं में वैसी भी युवतियाँ भी शामिल हैं, जो लॉककडाउन के पहले तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश और केरल जैसे राज्यों में काम कर रही थीं, राज्य सरकार ने उन्हें अपने गाँव-घर अथवा ज़िलों में ही रोज़गार देने का भरोसा दिया था।
  • उद्योग सचिव पूजा सिंघल ने कहा कि बेहतर टेक्सटाइल पॉलिसी के तहत आने वाले 6 महीनों में टेक्सटाइल क्षेत्र में काम करने वाले 10 हज़ार लोगों को रोजगार मिलेगा इसकी पूरी तैयारी कर ली गई है।

झारखंड Switch to English

डालमिया भारत सीमेंट संयंत्र का विस्तारीकरण

चर्चा में क्यों?

6 दिसंबर, 2021 को झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने बोकारो के बालीडीह में डालमिया भारत सीमेंट संयंत्र की दूसरी इकाई (यूनिट- 2) का शिलान्यास किया।

प्रमुख बिंदु

  • राज्य सरकार ने बोकारो ज़िले के बालीडीह इंडस्ट्रियल एरिया में डालमिया भारत सीमेंट संयंत्र विस्तारीकरण परियोजना के लिये 16 एकड़ ज़मीन उपलब्ध कराई है ।
  • यहाँ पहले से स्थापित डालमिया भारत सीमेंट संयंत्र की उत्पादन क्षमता 3.7 मिलियन टन प्रति वर्ष है। नई इकाई के चालू होने पर वार्षिक उत्पादन क्षमता बढ़कर 6.2 मिलियन टन हो जाएगी। इसके लिये कंपनी 567 करोड़ रुपए का निवेश करेगी।  
  • राज्य सरकार की इस पहल से औद्योगिक विकास को मुकाम मिला है, नए संयंत्र से सैकड़ों लोगों को रोज़गार मिलेगा
  • गौरतलब है कि झारखंड औद्योगिक एवं निवेश प्रोत्साहन नीति- 2021 के तहत इस वर्ष अगस्त में नई दिल्ली में मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन की उपस्थिति में आयोजित इन्वेस्टर्स समिट में डालमिया सीमेंट भारत लिमिटेड और उद्योग विभाग के बीच सीमेंट संयंत्र की स्थापना के लिये एमओयू हुआ था।

छत्तीसगढ़ Switch to English

कृषक सम्मेलन एवं सम्मान समारोह

चर्चा में क्यों

6 दिसंबर, 2021 को छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर के एक निजी होटल में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कृषक सम्मेलन एवं सम्मान समारोह का शुभारंभ किया।  

प्रमुख बिंदु

  • मुख्यमंत्री ने इस मौके पर राज्य के प्रगतिशील कृषकों एवं कृषि उत्पाद व व्यवसाय से जुड़े स्व-सहायता समूहों और संस्थाओं को उनके उत्कृष्ट उपलब्धियों के लिये प्रशस्ति पत्र एवं पुरस्कार राशि का चेक भेंटकर सम्मानित किया।
  • मुख्यमंत्री ने समारोह में मोस्ट इनोवेटिव एप ई-हाट के लिये इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय रायपुर के कुलपति डॉ. एस.एस. सेगर, डॉ. आर.आर. सक्सेना और वैज्ञानिक अभिजीत कौशिक को सम्मानित किया। 
  • बेस्ट फार्मिंग प्रोड्यूस के लिये धमतरी ज़िले के विकासखंड कुरूद के ग्राम धुमा के किसान लीलाराम साहू, बेस्ट ऑर्गेनिक फार्मर के रूप में बेमेतरा ज़िले के विकासखंड बेरला के ग्राम खुड़मुड़ा के किसान खेदु राम बंजारे, बेस्ट एग्रीकल्चर रिसर्च के लिये कृषि विज्ञान केंद्र कोरिया-निदेशक विस्तार सेवाएँ इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय डॉ. आर.के. बाजपेयी, कृषि वैज्ञानिक बेमेतरा डॉ. आर.एस. राजपूत और कृषि वैज्ञानिक कोरिया केशवचंद राजहंस को सम्मानित किया।
  • मुख्यमंत्री द्वारा समारोह में बेस्ट डेयरी फार्मिंग के लिये राजनांदगाँव ज़िले के विकासखंड छुईखदान के ग्राम नर्मदा (चकनार) की वहिदा बेगम को तथा बेस्ट पोल्ट्री फार्मिंग के लिये सुकमा ज़िले के ग्राम गोठान रामापुरम की गायत्री महिला स्व-सहायता समूह को सम्मानित एवं पुरस्कृत किया गया।
  • इसी प्रकार बेस्ट फॉरेस्ट प्रोड्यूस हेतु कोरबा ज़िले की सरोज पटेल हरिबोल स्व-सहायता समूह डोंगानाला को तथा बेस्ट वाटर कंजरवेशन एफर्ट हेतु कोंडागांव ज़िले के विकासखंड बड़ेराजपुर के ग्राम मंडोकी खरगाँव के विजय मंडावी को सम्मानित एवं पुरस्कृत किया गया।
  • बेस्ट मेन्यूर प्रोडक्शन के लिये रायगढ़ ज़िले के बरमकेला की स्व-सहायता समूह हिर्री, बेस्ट मार्केटिंग ऑफ प्रोड्यूस के लिये बस्तर ज़िले के भुमगादी महिला कृषक उत्पादक कंपनी हरिहर, बस्तर बाज़ार, जगदलपुर और उद्यानिकी क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य के लिये रायपुर के कृषक अभिषेक चावड़ा को सम्मानित एवं पुरस्कृत किया गया।
  • इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने कहा कि छत्तीसगढ़ राज्य में एक रुपए किलो की दर से 65 लाख परिवारों को हर महीने 35 किलोग्राम चावल का वितरण किया जा रहा है। 
  • राज्य में तेंदूपत्ता संग्राहकों को 25 सौ रुपए से बढ़ाकर 4 हज़ार रुपए प्रति मानक बोरा के संग्रहण दर का भुगतान किया जा रहा है। राज्य में प्रतिवर्ष 600 करोड़ रुपए तेंदूपत्ता संग्राहकों को भुगतान किया जा रहा है। लघुवनोपज की खरीदी भी 7 से बढ़ाकर 52 कर दी है, साथ ही इसका वैल्यू एडिशन भी किया जा रहा है।
  • मुख्यमंत्री ने कहा कि, किसानों को उनकी उपज का सही मूल्य दिलाने, फसल उत्पादकता बढ़ाने एवं फसल विविधीकरण को प्रोत्साहित करने के लिये ‘राजीव गांधी किसान न्याय योजना’ को शुरू किया गया है। इसके तहत किसानों को आदान सहायता राशि प्रदान की जा रही है।

छत्तीसगढ़ Switch to English

छत्तीसगढ़ की तीन योजनाओं को मिली राष्ट्रीय स्तर में पहचान

 चर्चा में क्यों?

हाल ही में भारत सरकार द्वारा जारी डिजिटल ट्रांसफॉर्मेशन स्टोरीज की किताब में छत्तीसगढ़ शासन द्वारा संचालित तीन महत्त्वपूर्ण योजनाओं-ऑफलाइन शिक्षा के लिये ब्लूटूथ आधारित ई-शिक्षा समाधान ‘बुल्टू के बोल’, राज्य के ग्रामीण क्षेत्रों में नगद भुगतान हेतु ‘डिजिपे सखी’और ‘गोधन न्याय योजना’को प्रकाशित किया गया है।

 प्रमुख बिंदु 

  • चिप्स के मुख्य कार्यपालन अधिकारी समीर विश्नोई ने बताया कि देश की स्वतंत्रता की 75वीं वर्षगाँठ पर मनाए जा रहे आज़ादी का अमृत महोत्सव के लिये देश के सभी राज्यों में डिजिटल इंडिया के अंतर्गत किये गए अभिनव नवाचारों को सम्मिलित कर भारत सरकार द्वारा बुकलेट प्रकाशित की गई है, जिसमें राज्य शासन द्वारा संचालित इन तीन योजनाओं को स्थान दिया गया है। 
  • बुकलेट के प्रकाशन मंडल में देश भर के आई.टी. विशेषज्ञों के साथ-साथ चिप्स के संयुत्त मुख्य कार्यपालन अधिकारी एस.ई.एम.टी. के नीलेश सोनी को भी शामिल किया गया है।
  • समीर विश्नोई ने बताया कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की पहल पर पशुधन के माध्यम से पशुपालकों के आय में वृद्धि करने के लिये कृषि विभाग द्वारा संचालित ‘गोधन न्याय योजना’के अंतर्गत गोबर खरीदी, वर्मी कंपोस्ट खाद का निर्माण आदि अनेक आयमूलक गतिविधियाँ संचालित की जा रही हैं। जिसके लिये चिप्स द्वारा मोबाइल एप और वेबसाईट का निर्माण किया गया है।
  • एप के माध्यम से गोबर विक्रेताओं और स्व-सहायता समूह को जोड़ा गया है। साथ ही एप द्वारा गोबर से वर्मी कंपोस्ट बनाने की जानकारी एवं विक्रय की व्यवस्था भी की गई है। योजना के हितग्राहियों को सीधे उनके बैंक एकाउंट में भुगतान किया जा रहा है।
  • इसी प्रकार छत्तीसगढ़ के ग्रामीण क्षेत्र में रहने वालों को उनके घर के समीप ही बैंकिंग सुविधाएँ और नगद भुगतान के लिये सामान्य सेवा केंद्र परियोजना के अंतर्गत प्रत्येक गाँव में नगद संगवारी कार्यक्रम संचालित किया जा रहा है. इसके अंतर्गत समाजिक सुरक्षा योजना, वृद्धावस्था पेंशन आदि अनेक योजनाओं के हितग्राहियों को नगद भुगतान किया जा रहा है. इससे गाँवों में रोज़गार के अवसर भी उपलब्ध हो रहे हैं। ऐसे ही बालोद ज़िले के छोटे से गाँव की निवासी व पेशे से गृहणी सुनीति साहू की सफलता की कहानी इस बुकलेट में बताई गई है।
  • राज्य के विद्यार्थियों तक ऑफलाइन शिक्षा समाग्री की उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिये स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा ब्लूटूथ आधारित ई-शिक्षा समाधान ‘बुल्टू के बोल’प्रारंभ किया गया है। इसमें कक्षा एक से आठवीं तक के विद्यार्थियों को शामिल किया गया है।

उत्तराखंड Switch to English

देहरादून में दो दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन

चर्चा में क्यों?

4-5 दिसंबर, 2021 को आज़ादी का अमृत महोत्सव के हिस्से के रूप में वन अनुसंधान संस्थान (FRI), देहरादून में वर्चुअल मोड में कार्बोहाइड्रेट (कार्बो XXXV) के रसायन विज्ञान और जीव विज्ञान में प्रगति पर दो दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन आयोजित किया गया।

 प्रमुख बिंदु 

  • इस सम्मेलन का उद्घाटन भारतीय वानिकी अनुसंधान और शिक्षा परिषद के महानिदेशक एएस रावत ने किया।
  • इस सम्मेलन में एफआरआई, सीएसआईआर, आईआईटी, आईआईएसईआर प्रयोगशालाओं के वैज्ञानिकों सहित भारत, यूएसए, जर्मनी, यूके, नीदरलैंड तथा पुर्तगाल के शैक्षणिक संस्थानों की 250 से अधिक प्रतिभागियों ने भाग लिया।
  • इस अवसर पर बोलते हुए एएस रावत ने भोजन और दवा सहित जीवन के विभिन्न पहलुओं और उनके औद्योगिक महत्व में कार्बोहाइड्रेट की भूमिका पर ज़ोर दिया। 
  • रावत ने खरपतवारों के मूल्य वर्धित उपयोग के लिये नई तकनीकों को विकसित करने पर भी ज़ोर दिया ताकि जंगलों की रक्षा की जा सके और लोगों के लिए आजीविका का स्रोत पैदा किया जा सके।
  • क्षेत्र में पहचानी जा रही विभिन्न चुनौतियों के बारे में बोलते हुए, उन्होंने आगे वैज्ञानिकों और प्रौद्योगिकीविदों से न केवल कार्बोहाइड्रेट की उन्नति के लिये नवीन उपकरण और तकनीक विकसित करने का आह्वान किया, बल्कि पारस्परिक विचारों और लाभ के अनंत अवसरों को बनाने के लिये तथा समाज के कल्याण और राष्ट्र के आर्थिक विकास के लिये नवाचारों के लिये प्रेरणा हेतु क्रॉस-डिसिप्लिनरी वैज्ञानिक बातचीत और सहयोग को भी बढ़ावा दिया।
  • कार्यक्रम के पहले दिन दो तकनीकी सत्र हुए जिसमें भारत, अमेरिका, जर्मनी, नीदरलैंड और पुर्तगाल के वक्ताओं द्वारा 10 आमंत्रित व्याख्यान और चार लघु व्याख्यान दिए गए।

 Switch to English
एसएमएस अलर्ट
Share Page