प्रयागराज शाखा पर IAS GS फाउंडेशन का नया बैच 10 जून से शुरू :   संपर्क करें
ध्यान दें:

मेन्स प्रैक्टिस प्रश्न

  • प्रश्न :

    भारत में सेमीकंडक्टर और डिस्प्ले विनिर्माण को बढ़ावा देने के महत्त्व एवं चुनौतियों पर चर्चा कीजिये। (150 शब्द)

    24 Jan, 2024 सामान्य अध्ययन पेपर 3 विज्ञान-प्रौद्योगिकी

    उत्तर :

    हल करने का दृष्टिकोण:

    • सेमीकंडक्टर का परिचय लिखिये।
    • सेमीकंडक्टर के विकास के महत्त्व का उल्लेख कीजिये।
    • डिस्प्ले मैन्युफैक्चरिंग इकोसिस्टम से संबंधित चुनौतियाँ लिखिये।
    • आगे की राह भी बताइये।

    परिचय:

    सेमीकंडक्टर एक प्रकार की सामग्री है, जिसमें विद्युत प्रवाह संचालित करने की क्षमता के संदर्भ में कंडक्टर और इंसुलेटर के बीच के गुण होते हैं। सेमीकंडक्टरों की विद्युत चालकता में अशुद्धियाँ डालकर या बाह्य विद्युत क्षेत्र लागू करके हेरफेर किया जा सकता है।

    मुख्य भाग:

    सेमीकंडक्टरों का विकास कई कारणों से तकनीकी परिदृश्य में अत्यधिक महत्त्व रखता है:

    • इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों की नींव: सेमीकंडक्टर इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों के लिये मूलभूत निर्माण खंड के रूप में कार्य करते हैं। वे ट्रांज़िस्टर, डायोड और इलेक्ट्रॉनिक सर्किट निर्माण करने वाले अन्य घटकों के निर्माण में अभिन्न अंग हैं।
    • सूचना प्रौद्योगिकी की प्रगति: यह कंप्यूटर, स्मार्टफोन और अन्य गैजेट जैसे तीव्र शक्तिशाली एवं कॉम्पैक्ट इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों के निर्माण की कुंजी है।
    • आर्थिक प्रभाव: मज़बूत सेमीकंडक्टर क्षेत्र वाले देश प्रायः संबंधित उद्योगों और समग्र आर्थिक विकास में वृद्धि का अनुभव करते हैं।
    • राष्ट्रीय सुरक्षा: राष्ट्रीय सुरक्षा को बढ़ाने के लिये सेमीकंडक्टर आत्मनिर्भरता प्राप्त करना महत्त्वपूर्ण है। जो देश घरेलू स्तर पर उन्नत सेमीकंडक्टर प्रौद्योगिकियों का उत्पादन कर सकते हैं, वे बाह्य स्रोतों पर निर्भरता और संबंधित जोखिमों को कम करते हैं।
    • ऊर्जा दक्षता: सेमीकंडक्टर प्रौद्योगिकी में प्रगति ऊर्जा-कुशल घटकों के विकास, विद्युत् की खपत और पर्यावरणीय प्रभाव को कम करने में योगदान करती है।

    प्रदर्शन विनिर्माण पारिस्थितिकी तंत्र से जुड़ी चुनौतियाँ:

    • तकनीकी जटिलता: उन्नत डिस्प्ले प्रौद्योगिकियों के उत्पादन से जुड़ी अंतर्निहित तकनीकी जटिलता के कारण डिस्प्ले विनिर्माण पारिस्थितिकी तंत्र को विकसित कर चुनौतियाँ उत्पन्न करता है।
    • पूंजी की तीव्रता: एक मज़बूत डिस्प्ले विनिर्माण बुनियादी ढाँचे की स्थापना के लिये अत्याधुनिक उपकरणों और सुविधाओं में पर्याप्त पूंजी निवेश की आवश्यकता होती है।
    • आपूर्ति शृंखला निर्भरता: आपूर्ति शृंखला में कमज़ोरियाँ, जैसे कि भू-राजनीतिक तनाव या व्यवधान, विनिर्माण कार्यों पर प्रतिकूल प्रभाव डाल सकते हैं।
    • वैश्विक प्रतिस्पर्द्धा: लागत, गुणवत्ता और तकनीकी नवाचार पर प्रतिस्पर्द्धा के लिये वैश्विक स्तर पर रणनीतिक योजना एवं निरंतर सुधार प्रयासों की आवश्यकता होती है।

    आगे की राह:

    • अनुसंधान और विकास में निवेश: प्रतिस्पर्द्धी बने रहने और बाज़ार की बढ़ती आवश्यकताओं को पूर्ण करने के लिये नवाचार को अपनाने की आवश्यकता है।
    • सहयोगात्मक साझेदारी: यह संयुक्त प्रयास विशेषज्ञता को साझा करने, जोखिमों को कम करने और प्रौद्योगिकी विकास एवं विनिर्माण में सामूहिक रूप से चुनौतियों का समाधान करने में मदद कर सकती है।
    • आपूर्ति शृंखलाओं का विविधीकरण: अधिक लचीला एवं अनुकूलनीय विनिर्माण पारिस्थितिकी तंत्र सुनिश्चित करते हुए आवश्यक कच्चे माल और घटकों के लिये वैकल्पिक स्रोतों की पहचान करें।
    • लचीली बाज़ार रणनीतियाँ: बाज़ार की गतिशीलता और उपभोक्ता प्राथमिकताओं के क्रम में अपडेट रहें। रुझानों का अनुमान लगाएँ, बाज़ार की जानकारी में निवेश करें तथा बदलती मांगों को पूरा करने के लिये उत्पादन रणनीतियों को तेज़ी से समायोजित करें।
    • बौद्धिक संपदा संरक्षण: मालिकाना प्रौद्योगिकियों की सुरक्षा के लिये मज़बूत पेटेंट रणनीतियों में निवेश करें, ज़िम्मेदार लाइसेंसिंग में संलग्न रहें और उल्लंघन के प्रति सतर्क रहें।

    To get PDF version, Please click on "Print PDF" button.

    Print
close
एसएमएस अलर्ट
Share Page
images-2
images-2