इंदौर शाखा: IAS और MPPSC फाउंडेशन बैच-शुरुआत क्रमशः 6 मई और 13 मई   अभी कॉल करें
ध्यान दें:

मेन्स प्रैक्टिस प्रश्न

  • प्रश्न :

    वैश्विक ऊर्जा सुरक्षा और अंतर्राष्ट्रीय व्यापार के संदर्भ में होर्मुज जलडमरूमध्य (Strait of Hormuz) के सामरिक महत्त्व पर चर्चा कीजिये। (150 शब्द)

    03 Jan, 2023 सामान्य अध्ययन पेपर 2 अंतर्राष्ट्रीय संबंध

    उत्तर :

    हल करने का दृष्टिकोण

    • होर्मुज जलडमरूमध्य का संक्षिप्त परिचय देकर अपने उत्तर की शुरुआत
    • इसके रणनीतिक और वैश्विक ऊर्जा सुरक्षा महत्त्व पर चर्चाकीजिये। कीजिये।
    • भारतीय परिप्रेक्ष्य में होर्मुज जलडमरूमध्य के महत्त्व की चर्चा कीजिये।
    • तदनुसार निष्कर्ष लिखिये।

    परिचय

    • होर्मुज जलडमरूमध्य दुनिया का सबसे महत्त्वपूर्ण तेल मार्ग है, जो अरब की खाड़ी और ओमान की खाड़ी के बीच एक चोकपॉइंट बनाता है।
    • यह ओमान और ईरान के बीच स्थित है, जो खाड़ी देशों (इराक, कुवैत, सऊदी अरब, बहरीन, कतर और संयुक्त अरब अमीरात) से अरब सागर और उससे आगे के समुद्री मार्ग को जोड़ता है।

    Strait-of-Hormuz

    • सामरिक महत्त्व:
      • अस्थिर और विवादित क्षेत्र: यह जलडमरूमध्य एक अस्थिर और विवादित क्षेत्र में स्थित है तथा यह अतीत में कई संघर्षों और तनावों का स्थल रहा है। नतीजतन इसे क्षेत्रीय सुरक्षा और स्थिरता में एक महत्त्वपूर्ण कारक माना जाता है और यह क्षेत्र में अपने सामरिक हितों की रक्षा करने की मांग करने वाले विभिन्न राज्यों के लिये ध्यान का केंद्र रहा है।
        • होर्मुज जलडमरूमध्य में शिपिंग में व्यवधान के संभावित परिणाम महत्त्वपूर्ण हैं क्योंकि वे वैश्विक ऊर्जा व्यापार को बाधित कर सकते हैं और आर्थिक तथा राजनीतिक अस्थिरता पैदा कर सकते हैं।
        • भारी सैन्यीकरण: इन जोखिमों को दूर करने के लिये, विभिन्न अभिनेताओं द्वारा विभिन्न रणनीतियों को अपनाया गया है, जिसमें सैन्य बलों की तैनाती और जलडमरूमध्य में नेविगेशन की स्वतंत्रता सुनिश्चित करने के लिये अंतर्राष्ट्रीय समझौतों की स्थापना शामिल है।
        • इसलिये, मनामा, बहरीन में स्थित यूनाइटेड स्टेट्स फिफ्थ फ्लीट, समुद्री शिपिंग लेन की सुरक्षा के लिये ज़िम्मेदार है।
    • वैश्विक ऊर्जा सुरक्षा और अंतर्राष्ट्रीय व्यापार के लिये होर्मुज जलडमरूमध्य का महत्त्व:
      • महत्त्वपूर्ण नौवहन लेन: वैश्विक तेल उत्पादन के एक-छठे हिस्से और दुनिया की तरलीकृत प्राकृतिक गैस (LNG) के एक-तिहाई हिस्से के परिवहन के लिये 39 किमी का यह जलडमरूमध्य खुले महासागर का एकमात्र मार्ग है।
        • नतीजतन, होर्मुज जलडमरूमध्य वैश्विक ऊर्जा व्यापार के लिये एक महत्त्वपूर्ण प्रवेश द्वार है, क्योंकि दुनिया का लगभग 20% तेल और दुनिया की तरलीकृत प्राकृतिक गैस का 35% हर साल इसके माध्यम से गुजरता है।
        • इसके अलावा, दुनिया का लगभग 1/6 तेल अर्थात् प्रति दिन 17.2 मिलियन बैरल जलडमरूमध्य से होकर गुजरता है।
        • इसमें पेट्रोलियम निर्यातक देशों के संगठन (ओपेक) के सदस्य सऊदी अरब, ईरान, यूएई और कुवैत द्वारा आयातित अधिकांश तेल शामिल है। एलएनजी का दुनिया का सबसे बड़ा निर्यातक कतर, अपने अधिकांश एलएनजी को इस जलडमरूमध्य के माध्यम से भी भेजता है।
      • एनर्जी चोकपॉइंट: द एनर्जी इंफॉर्मेशन असेसमेंट (ईआईए) एक चोकपॉइंट को व्यापक रूप से उपयोग किये जाने वाले वैश्विक समुद्री मार्गों के साथ एक संकीर्ण चैनल के रूप में परिभाषित करता है जो ऊर्जा सुरक्षा के लिये महत्त्वपूर्ण हैं।
        • इसलिये, अस्थायी रूप से होर्मुज जलडमरूमध्य जैसे प्रमुख चोकपॉइंट को पार करने में अक्षमता, आपूर्ति में देरी और उच्च शिपिंग लागत का कारण बन सकती है, जिसके परिणामस्वरूप वैश्विक स्तर पर ऊर्जा की कीमतें बढ़ सकती हैं।
        • अन्य शिपिंग चैनलों का उपयोग करके अधिकांश चोकपॉइंट्स को दरकिनार किया जा सकता है, लेकिन कुछ होर्मुज जलडमरूमध्य का कोई व्यावहारिक विकल्प नहीं है।
    • भारत के लिये महत्त्व:
      • ऊर्जा खरीद: भारत अपनी ऊर्जा ज़रूरतों को पूरा करने के लिये आयातित तेल और गैस पर बहुत अधिक निर्भर है और यह होर्मुज जलडमरूमध्य के माध्यम से लगभग 84% कच्चे तेल का आयात करता है।
        • ये आयात फारस की खाड़ी क्षेत्र के देशों सहित मध्य पूर्व से भी किये जाते हैं।
        • परिणामस्वरूप, होर्मुज जलडमरूमध्य भारत के लिये विशेष महत्त्व रखता है, क्योंकि जलडमरूमध्य में नौवहन में किसी भी तरह की बाधा भारत की ऊर्जा सुरक्षा के लिये नकारात्मक परिणाम उत्पन्न कर सकती है।
        • जलडमरूमध्य में कोई भी बड़ा व्यवधान भारत को सीधे और प्रतिकूल रूप से प्रभावित करेगा। होर्मुज जलडमरूमध्य को बायपास करने के लिये कुछ ही विकल्प और उससे भी कम संभावित विकल्प हैं।
      • सुरक्षा निहितार्थ: यूएस-ईरान के बीच हाल के तनाव और तेल वाहक जलयानों पर हमलों की श्रृंखला ने भारत को अपनी ऊर्जा और व्यापार सुरक्षा के बारे में अलग कर दिया था।
        • इसलिये, भारत ने ओमान की खाड़ी और फारस की खाड़ी में अपने शिपिंग तेल टैंकरों के रूटिंग की सुरक्षा के लिये "संकल्प" नाम से अपना ऑपरेशन शुरू किया।
        • इसके अलावा, भारतीय नौसेना समुद्री सुरक्षा संचालन के माध्यम से हिंद महासागर क्षेत्र में एक शुद्ध सुरक्षा प्रदाता होने का दावा करती है और जलडमरूमध्य के माध्यम से संचालन तथा पारगमन करने वाले भारतीय ध्वज वाले जहाज़ों को फिर से आश्वस्त करने के लिये चेन्नई और सुनयना नाम के जहाज़ों को तैनात करती है।

    निष्कर्ष

    कुल मिलाकर, यह स्पष्ट है कि होर्मुज जलडमरूमध्य अपने भूगोल, इसके माध्यम से गुजरने वाले तेल और गैस की मात्रा तथा इसके भू-राजनीतिक संदर्भ के कारण भारत और वैश्विक ऊर्जा सुरक्षा एवं अंतर्राष्ट्रीय व्यापार के लिये सामरिक महत्त्व का है। परिणामस्वरूप, इस क्षेत्र में अपने रणनीतिक हितों की रक्षा करने की मांग करने वाले विभिन्न देशों के लिये यह संभवतः ध्यान का केंद्र बना रहेगा।

    To get PDF version, Please click on "Print PDF" button.

    Print
close
एसएमएस अलर्ट
Share Page
images-2
images-2
× Snow