हिंदी साहित्य: पेन ड्राइव कोर्स
ध्यान दें:
झारखण्ड संयुक्त असैनिक सेवा मुख्य प्रतियोगिता परीक्षा 2016 -परीक्षाफलछत्तीसगढ़ पीसीएस प्रश्नपत्र 2019छत्तीसगढ़ पी.सी.एस. (प्रारंभिक) परीक्षा, 2019 (महत्त्वपूर्ण अध्ययन सामग्री).छत्तीसगढ़ पी.सी.एस. प्रारंभिक परीक्षा – 2019 सामान्य अध्ययन – I (मॉडल पेपर )
हिंदी साहित्य: पेन ड्राइव कोर्स (Hindi Literature: Pendrive Course)
मध्य प्रदेश पी.सी.एस. (प्रारंभिक) परीक्षा , 2019 (महत्वपूर्ण अध्ययन सामग्री)मध्य प्रदेश पी.सी.एस. परीक्षा मॉडल पेपर.Download : उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग (प्रवर) प्रारंभिक परीक्षा 2019 - प्रश्नपत्र & उत्तर कुंजीअब आप हमसे Telegram पर भी जुड़ सकते हैं !यू.पी.पी.सी.एस. परीक्षा 2017 चयनित उम्मीदवार.UPSC CSE 2020 : प्रारंभिक परीक्षा टेस्ट सीरीज़

मेन्स प्रैक्टिस प्रश्न

  • कृषि में प्रत्येक स्तर पर महिलाओं की बहुआयामी भूमिका को नकारा नहीं जा सकता। वर्तमान में कृषि क्षेत्र में महिलाओं के समक्ष आने वाली चुनौतियों की चर्चा करें तथा बताएँ कि कृषि क्षेत्र में महिलाओं की भूमिका में सुधार हेतु सरकार द्वारा कौन-कौन से प्रयास किये जा रहे हैं।

    14 May, 2020 सामान्य अध्ययन पेपर 2 सामाजिक न्याय

    उत्तर :

    हल करने का दृष्टिकोण:

    • भूमिका

    • कृषि क्षेत्र में महिलाओं के समक्ष चुनौतियाँ

    • सरकार के प्रयास

    • निष्कर्ष

    खाद्य तथा कृषि संगठनों के अनुसार भारतीय कृषि में महिलाओं का योगदान लगभग 32% है, जबकि कुछ राज्यों की कृषि और ग्रामीण अर्थव्यवस्था में महिलाओं का योगदान पुरुषों की तुलना में अधिक है। 2011 की जनगणना के अनुसार, कुल पुरुष महिला श्रमिकों में से 55% कृषि मज़दूर और 24% कृषक थी। FAO का यह भी मानना है कि यदि महिलाओं को पुरुषों के समान उत्पादक संसाधनों तक समान पहुँच सुनिश्चित हो जाती है तो वे अपने खेतों में 20-30% तक की उपज में वृद्धि कर सकते है।

    कृषि क्षेत्र में महिलाओं के समक्ष आने वाली चुनौतियाँ

    • संस्थागत ऋण का अभाव।
    • सम्पत्ति के अधिकारों का अभाव।
    • महिला किसानों को आधुनिक अनुबंध-कृषि से अलग रखा जाना।
    • जब विशिष्ट शारीरिक श्रम को स्वचालित बनाने हेतु एक नई तकनीक प्रारंभ की जाती है तो महिलायँ अपनी नौकरियाँ खो देती है।
    • बेहतर प्रशिक्षण का अभाव।
    • लैगिंक भेदभाव।
    • निम्न प्रतिनिधित्व।
    • कृषि को अधिक उत्पादक बनाने के लिये संसाधनों और आधुनिक आगतों (बीज, उर्वरक, कीटनाशक) तक पुरुषों की तुलन-11 में महिलाओं को सामान्यत: कम पहुंच प्राप्त होती है।

    सरकारी प्रयास

    • अभी तक चल रही सभी योजनाओं तथा कार्यक्रमों में महिला लाभार्थियों के लिये बजट आवंटन में वृद्धि।
    • जैविक कृषि, स्वरोजगार योजना, प्रधान मंत्री कौशल विकास योजना आदि के तहत महिलाओं को प्राथमिकता।
    • सहकारी समितियों में भागीदारी बढ़ाने के लिये सहकारी शिक्षा कार्यक्रमों का आयोजन।
    • महिलाओं के लिये किसान क्रेडिट कार्ड तथा कृषि प्रसंस्करण के माध्यम से आजीविका के अवसर सृजित करना।
    • महिला स्वयं सहायता समूहो को सूक्ष्म ऋणों से जोड़ना।

    उपरोक्त के अतिरिक्त 2022 तक किसानों की आय दोगुना करने के लक्ष्य को प्राप्त करने में महिलाओं की भूमिका को विशेष महल दिया जा रहा है।

एसएमएस अलर्ट
 

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

प्रोग्रेस सूची देखने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

आर्टिकल्स को बुकमार्क करने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close