हिंदी साहित्य: पेन ड्राइव कोर्स
ध्यान दें:
झारखण्ड संयुक्त असैनिक सेवा मुख्य प्रतियोगिता परीक्षा 2016 -परीक्षाफलछत्तीसगढ़ पीसीएस प्रश्नपत्र 2019छत्तीसगढ़ पी.सी.एस. (प्रारंभिक) परीक्षा, 2019 (महत्त्वपूर्ण अध्ययन सामग्री).छत्तीसगढ़ पी.सी.एस. प्रारंभिक परीक्षा – 2019 सामान्य अध्ययन – I (मॉडल पेपर )
हिंदी साहित्य: पेन ड्राइव कोर्स (Hindi Literature: Pendrive Course)
मध्य प्रदेश पी.सी.एस. (प्रारंभिक) परीक्षा , 2019 (महत्वपूर्ण अध्ययन सामग्री)मध्य प्रदेश पी.सी.एस. परीक्षा मॉडल पेपर.Download : उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग (प्रवर) प्रारंभिक परीक्षा 2019 - प्रश्नपत्र & उत्तर कुंजीअब आप हमसे Telegram पर भी जुड़ सकते हैं !यू.पी.पी.सी.एस. परीक्षा 2017 चयनित उम्मीदवार.UPSC CSE 2020 : प्रारंभिक परीक्षा टेस्ट सीरीज़

मेन्स प्रैक्टिस प्रश्न

  • रोधिका, रोध तथा स्पिट में अंतर स्पष्ट कीजिये। (150 शब्द)

    12 Sep, 2019 वैकल्पिक विषय भूगोल

    उत्तर :

    प्रश्न विच्छेद

    रोधिका, रोध और स्पिट में अंतर बताना है।

    हल करने का दृष्टिकोण

    संक्षिप्त भूमिका लिखें।

    उपर्युक्त तीनों को परिभाषित करते हुए अंतर स्पष्ट करें।

    रोधिका, रोध तथा स्पिट सागरीय निक्षेप द्वारा निर्मित स्थलाकृतियाँ हैं। इनके निर्माण में वेलांचली प्रवाह का महत्त्वपूर्ण योगदान होता है। यद्यपि ये निक्षेपित स्थलरूप देखने में एक जैसे लगते हैं परंतु इनमें सूक्ष्म अंतर होता है।

    रोधिका, समुद्र तट के समानांतर लहरों और धाराओं द्वारा निक्षेपित बजरी और बालू का बांध या कटक है। ये रोधिकाएँ जलमग्न अथवा जल से ऊपर दोनों रूपों में हो सकती हैं। रोधिकाएँ या तो खाड़ी के प्रवेश पर या नदियों के मुहाने के सम्मुख बनती हैं।

    Inspiration and Spite

    रोध, रोधिका का ही एक रूप है किंतु इनमें अंतर यह है कि रोधिका या तो जल के नीचे रहती है या उच्च ज्वार के समय अवश्य डूब जाती है। परंतु रोध ऊँचा होने के कारण जल से ऊपर ही रहता है। रोध के उत्तम उदाहरण संयुक्त राज्य अमेरिका के पूर्वी तट पर मिलते हैं।

    जब मलबा का निक्षेप इस रूप में होता है कि रोधिका का एक छोर जल की ओर निकला हो और दूसरा छोर शीर्ष स्थल (Headlands) से जुड़ा हो तो उसे स्पिट कहते हैं। इनका निर्माण मुख्यत: वेलांचली प्रवाह द्वारा लाए गए अवसादों के निक्षेप से होता है और इनकी दिशा वेलांचली प्रवाह और प्रचलित वायु की दिशा द्वारा निर्धारित होती है। भारत के पूर्वी तथा पश्चिमी तटीय भागों में कई स्पिट का विकास हुआ है।

    निष्कर्षत: रोधिका, रोध और स्पिट तीनों ही निक्षेपात्मक स्थलकृतियाँ हैं लेकिन स्थिति और आकृति में अंतर के कारण इनको अलग-अलग नाम से उल्लिखित किया जाता है।

एसएमएस अलर्ट
 

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

प्रोग्रेस सूची देखने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

आर्टिकल्स को बुकमार्क करने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close