हिंदी साहित्य: पेन ड्राइव कोर्स
ध्यान दें:

मध्य प्रदेश स्टेट पी.सी.एस.

  • 27 Jan 2022
  • 0 min read
  • Switch Date:  
मध्य प्रदेश Switch to English

25 ज़िलों में कृषि विभाग की झाँकियों को मिले पुरस्कार

चर्चा में क्यों?

26 जनवरी, 2022 को गणतंत्र दिवस के अवसर पर आयोजित ज़िलास्तरीय समारोह में किसान कल्याण तथा कृषि विकास की झाँकियाँ 25 ज़िलों में पुरस्कृत हुई। 6 ज़िलों में कृषि विभाग की झाँकियों को प्रथम पुरस्कार, 9-9 ज़िलों में द्वितीय और तृतीय पुरस्कार तथा एक ज़िले में सांत्वना पुरस्कार प्राप्त हुआ।

प्रमुख बिंदु 

  • प्रदेश के किसान कल्याण तथा कृषि विकास मंत्री कमल पटेल ने कहा कि ज़िला प्रशासन द्वारा गणतंत्र दिवस के अवसर पर ज़िलों में निकाली गई झाँकियों में कृषि विभाग होशंगाबाद को ‘आत्मनिर्भर भारत में कृषि का योगदान’, छिंदवाड़ा को ‘आत्मनिर्भर भारत अभियान’, झाबुआ को ‘प्राकृतिक खेती की ओर अग्रसर मध्य प्रदेश’, सीहोर को ‘जन-भागीदारी’ तथा विदिशा और हरदा को ‘प्राकृतिक खेती’ की थीम पर प्रथम पुरस्कार प्राप्त हुआ।
  • प्रदेश के 9 ज़िलों में कृषि विभाग की झाँकियों को ज़िला प्रशासन द्वारा द्वितीय पुरस्कार दिया गया है। मुरैना को ‘उन्नत खेती-खुशहाल किसान’ और खरगौन, राजगढ़, श्योपुर, नीमच, शिवपुरी, धार, देवास तथा उमरिया को ‘प्राकृतिक खेती’ की थीम पर पुरस्कृत किया गया है। 
  • प्रदेश में कृषि विभाग की झाँकियों को 9 ज़िलों में ज़िला प्रशासन द्वारा तृतीय पुरस्कार मिला है। अनूपपुर को ‘प्राकृतिक खेती एवं आत्मनिर्भर मध्य प्रदेश’, सिवनी को ‘जीराशंकर चावल और प्राकृतिक खेती’, टीकमगढ़ को ‘फसल विविधीकरण’, दमोह को ‘मृदा एवं जल संरक्षण’, ग्वालियर को ‘प्राकृतिक खेती-खुशहाल किसान’ और बालाघाट, भिंड, खंडवा तथा रतलाम की झाँकियों को ‘प्राकृतिक खेती’ की थीम पर पुरस्कृत किया गया है।
  • इसके साथ ही मंदसौर ज़िले के कृषि विभाग की झाँकी को सांत्वना पुरस्कार दिया गया है।

 Switch to English
एसएमएस अलर्ट
Share Page