दृष्टि ज्यूडिशियरी का पहला फाउंडेशन बैच 11 मार्च से शुरू अभी रजिस्टर करें
ध्यान दें:

हरियाणा स्टेट पी.सी.एस.

  • 24 Sep 2022
  • 0 min read
  • Switch Date:  
हरियाणा Switch to English

ग्रेडिड रिस्पांस एक्शन प्लान (ग्रैप)

चर्चा में क्यों?

22 सितंबर, 2022 को हरियाणा प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के चेयरमैन पी. राघवेंद्र राव ने बताया कि एनसीआर के ज़िलों में एक अक्टूबर से ग्रेडिड रिस्पांस एक्शन प्लान (ग्रैप) लागू की जाएगी।

प्रमुख बिंदु

  • ग्रेडिड रिस्पांस एक्शन प्लान (ग्रैप) के तहत एनसीआर के ज़िलों में 1 अक्टूबर से जनरेटर सेट के संचालन पर प्रतिबंध होगा। केवल आवश्यक सेवाओं, जैसे- अस्पताल, मेडिकल उपकरण चलाने, सेना से संबंधित कार्यों या अन्य इमरजेंसी हालातों में ही डीजी सेट के प्रयोग की अनुमति होगी।
  • साथ ही जहाँ पर पीएनजी की लाइन बिछ चुकी है वहाँ पर कोयला, डीज़ल व जनरेटर पर आधारित उद्योग नहीं चल सकेंगे। जहाँ पीएनजी की लाइन नहीं बिछ पाई है, वहाँ 1 जनवरी 2023 से यह नियम लागू होगा।
  • पी. राघवेंद्र राव ने बताया कि इस बार एनसीआर में संशोधित ग्रैप लागू किया जा रहा है जिसके तहत वायु की गुणवत्ता के आधार पर ग्रैप को अलग-अलग चार स्टेज में विभाजित किया गया है। एक्यूआई अर्थात् एयर क्वालिटी इंडेक्स 200 से ऊपर पहुँचने पर पहली स्टेज खराब की होगी। 300 से ऊपर दूसरी स्टेज ज़्यादा खराब, एक्यूआई 400 से ऊपर जाने पर स्टेज तीन गंभीर और एक्यूआई 450 से ऊपर जाने पर स्टेज चार ‘वेरी सीवियर’(अति गंभीर) की होगी।
  • गौरतलब है कि हरियाणा के 14 ज़िले एनसीआर क्षेत्र में आते हैं। एनसीआर के ज़िलों में प्रदूषण को कम करने के लिये 500 वर्ग मीटर से ज़्यादा एरिया में निर्माण व तोड़फोड़ के लिये डस्ट कंट्रोल एप पर रजिस्ट्रेशन ज़रूरी होगा।
  • उन्होंने बताया कि ग्रैप लागू होने पर उद्योगों में क्लीन फ्यूल के प्रयोग पर बल दिया जाएगा। जिन उद्योगों में पीएनजी गैस की सप्लाई है, वे अपने यहाँ गैस का प्रयोग करेंगे और जिन उद्योगों में गैस की आपूर्ति अभी तक नहीं हो पाई है वे बायोमास का प्रयोग फ्यूल के तौर पर करें।
  • उन्होंने अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि ढाबा, होटल और रेस्टोरेंट आदि में कोयले के प्रयोग पर प्रतिबंध लगाना सुनिश्चित करें। इसके साथ ही सभी ज़िलों में एक ज़िला पर्यावरण योजना (डिस्ट्रिक्ट एनवायरमेंट प्लान) तैयार की जाए।
  • उन्होंने वायु प्रदूषण की रोकथाम में लिये विशेष मॉनिटरिंग टीमों का गठन करने और रात को पेट्रोलिंग करवाने के साथ आकस्मिक तौर पर चेकिंग करवाने की हिदायत भी दी।
  • पी. राघवेंद्र राव ने बताया कि मौसम विभाग की तरह इंडियन इस्टीट्यूट ऑफ ट्रॉपिकल मेटिरियोलॉजी वायु की गुणवत्ता के बारे में तीन दिन पहले ही पूर्व अनुमान बताएगा। पहले वायु को लेकर जानकारी उसी दिन मिलती थी, लेकिन अब लोगों को पहले से ही प्रदूषण स्तर की जानकारी मिल सकेगी। इसका लाभ यी रहेगा कि प्रदूषण से बचने के लिये लोग पहले ही तैयारी कर सकेंगे।

हरियाणा Switch to English

अंबाला से श्रीनगर और लखनऊ की हवाई यात्रा जल्द

चर्चा में क्यों?

22 सितंबर, 2022 को हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज ने नागरिक एवं उडन्न्यन विभाग के अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक के बाद अंबाला से श्रीनगर और लखनऊ के लिये हवाई सेवा जल्द ही शुरू होने की जानकारी दी है।

प्रमुख बिंदु

  • अंबाला में टर्मिनल बनाने के लिये मिलिटरी के जंक्शन के साथ लगती लगभग 20 एकड़ भूमि का चयन कर लिया गया है। सेना ने यह भूमि एयरफोर्स को ट्रांसर्फर भी कर दी है। इस भूमि पर लगभग 40 करोड़ रुपए की लागत से टर्मिनल बनाया जाएगा। इसके लिये केंद्रीय मंत्रालय ने सभी स्वीकृति प्रदान करते हुए धनराशि भी मंज़ूर कर दी है।
  • नागरिक एवं उडन्न्यन विभाग हरियाणा के अधिकारियों ने बताया कि अंबाला में हवाई यात्रा शुरू करने के लिये एयरफोर्स ने भी एनओसी दे दी है। इसके अलावा, जब तक टर्मिनल बनकर तैयार नहीं हो जाता, तब तक अस्थायी टर्मिनल बनाकर हवाई यात्रा शुरू कर दी जाएगी।
  • गृह मंत्री विज ने अधिकारियों को निर्देश दिये कि हवाई यात्रा के लिये सभी आवश्यक औपचारिकताएँ पूरी करें, ताकि जनता को इसका जल्दी लाभ मिल सके।
  • उल्लेखनीय है कि फिलहाल लोगों को हवाई सेवा के लिये चंडीगढ़ या दिल्ली जाना पड़ता है।        

 Switch to English
close
एसएमएस अलर्ट
Share Page
images-2
images-2