दृष्टि ज्यूडिशियरी का पहला फाउंडेशन बैच 11 मार्च से शुरू अभी रजिस्टर करें
ध्यान दें:

मेन्स प्रैक्टिस प्रश्न

  • प्रश्न :

    भारत में अपशिष्ट जल प्रबंधन से संबंधित विभिन्न चुनौतियों पर चर्चा कीजिये। अपशिष्ट जल प्रबंधन के समाधान हेतु, हाल ही में सरकार द्वारा किये गये प्रयासों पर प्रकाश डालिये। (250 शब्द)

    23 Nov, 2022 सामान्य अध्ययन पेपर 3 पर्यावरण

    उत्तर :

    हल करने का दृष्टिकोण:

    • भारत में अपशिष्ट जल प्रबंधन की वर्तमान स्थिति को संक्षेप में बताते हुए अपना उत्तर प्रारंभ कीजिये
    • अपशिष्ट जल प्रबंधन से संबंधित विभिन्न चुनौतियों पर चर्चा कीजिये।
    • अपशिष्ट जल प्रबंधन से निपटने के लिये सरकारी पहलों पर चर्चा कीजिये।
    • आगे की राह बताते हुए निष्कर्ष लिखिये।

    परिचय:

    2021 में केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) के अनुसार, भारत की वर्तमान जल उपचार क्षमता 27.3% है और सीवेज उपचार क्षमता 18.6% है।

    मुख्य भाग:

    • अपशिष्ट-जल प्रबंधन से संबंधित चुनौतियाँ:
      • उचित शासन की कमी: भारतीय संविधान की अनुसूची 7 जल को राज्य सूची का विषय मानती है, लेकिन यह स्पष्ट रूप से संघ सूची में उल्लिखित प्रावधानों के अधीन है।
        • यह संसद को व्यापक सार्वजनिक हित में अंतर-राज्यीय जल को विनियमित करने और इससे संबंधित कानून बनाने में सक्षम बनाता है, जबकि राज्य को जल आपूर्ति, सिंचाई, जल निकासी और तटबंधों, जल भंडारण आदि जैसे मामलों पर राज्य के भीतर जल के उपयोग के बारे में कानून बनाने की स्वायत्तता बरकरार है
        • अपशिष्ट जल और इसके दुष्परिणामों के प्रति यह उदासीन दृष्टिकोण राज्यों के भीतर भी देखा जा सकता है। 73 वें और 74 वें संवैधानिक संशोधन अधिनियमों के अनुसार, जल संसाधनों का शासन स्थानीय स्तर, ग्रामीण और शहरी स्तर पर और अधिक विभाजित है।
        • इन संवैधानिक तंत्रों के परिणामस्वरूप केंद्र और राज्यों के बीच शक्ति असंतुलन पैदा हुआ है, जिससे संघीय क्षेत्राधिकार में अस्पष्टता पैदा हुई है।
        • विशेष रूप से, अपशिष्ट जल प्रबंधन के मामले में, एक राज्य की निष्क्रियता एक या अधिक अन्य राज्यों के हितों को प्रभावित करती है और विवादों का कारण बनती है।
      • महंगा अपशिष्ट जल उपचार: कम लागत, टिकाऊ, जल प्रबंधन समाधानों की कमी के कारण, भारत में 70% से अधिक सीवेज, प्रदूषणकारी नदियों, तटीय क्षेत्रों और कुओं को अनुपचारित छोड़ दिया जाता है जो देश के तीन-चौथाई जल निकायों को प्रभावित करते हैं।
      • कृषि में अनुपचारित अपशिष्ट जल: हाल के एक अध्ययन के अनुसार विश्व स्तर पर दुनिया भर में शहरी केंद्रों (35.9 मिलियन हेक्टेयर) के 40 किमी डाउनस्ट्रीम के भीतर सभी सिंचित क्षेत्रों का 65% अनुपचारित अपशिष्ट जल से प्रभावित है। यह 885 मिलियन वैश्विक उपभोक्ताओं, खाद्य विक्रेताओं और किसानों को गंभीर स्वास्थ्य जोखिम में डालता है। इन सिंचित कृषिभूमि का 86% पाँच देशों: चीन, भारत, पाकिस्तान, मैक्सिको और ईरान में स्थित था।

    अपशिष्ट-जल प्रबंधन से निपटने के लिये सरकार की पहलें:

    • भारत सरकार ने स्वच्छ भारत मिशन 2.0 (SBM 2.0) के तहत अपना ध्यान ठोस अपशिष्ट, कीचड़ और ग्रेवाटर प्रबंधन पर केंद्रित किया।
      • खुले में शौच से मुक्त (ODF) स्थिति प्राप्त करने पर निरंतर ध्यान देने के बाद आवास और शहरी मामलों के मंत्रालय (MoHUA) ने शहरों के लिये ODF+, ODF++ एवं जल+ स्थिति प्राप्त करने के लिये विस्तृत मानदंड विकसित किये।
    • कायाकल्प और शहरी परिवर्तन मिशन (AMRUT) के लिये अटल मिशन के तहत MoHUA द्वारा सीवरेज एवं सेप्टेज प्रबंधन परियोजनाएँ शुरू की गईं।

    निष्कर्ष:

    • हालाँकि अपशिष्ट जल के मुद्दों के बेहतर मूल्यांकन और निवारण के लिये एक विकेंद्रीकृत दृष्टिकोण की आवश्यकता है, लेकिन नीतियों के कुशल संचालन एवं जल निकायों के समग्र विकास के लिये जल प्रशासन को सभी स्तरों पर मान्यता देने की आवश्यकता है।
    • इस संबंध में अपशिष्ट जल को न केवल पर्यावरण प्रदूषण के मुद्दे के रूप में देखा जाना चाहिये बल्कि जल क्षेत्र के मामले के रूप में सभी केंद्रीय, राज्य और स्थानीय सरकारों द्वारा सुसंगत रूप से संबोधित किया जाना चाहिये।
    • सस्ते वैकल्पिक समाधानों के साथ केंद्रीकृत उपचार संयंत्रों का पूरक होना अत्यावश्यक है जैसे:
      • विकेंद्रीकृत अपशिष्ट जल उपचार संयंत्र छोटे कस्बों, शहरी और ग्रामीण समूहों, गेटेड कॉलोनियों, कारखानों एवं औद्योगिक पार्कों में स्थापित किये जा सकते हैं। उन्हें सीधे साइट पर स्थापित किया जा सकता है, इस प्रकार अपशिष्ट जल को सीधे उसके स्रोत पर उपचारित किया जा सकता है।
      • प्रदूषकों और खतरनाक अपशिष्टों को अपघटित करने के लिये बायोरेमेडिएशन कवक और बैक्टीरिया जैसे रोगाणुओं का उपयोग करता है।
      • फाइटोरेमेडिएशन का तात्पर्य संदूषकों की सांद्रता या विषाक्त प्रभावों को कम करने के लिये पौधों और संबंधित मृदा के रोगाणुओं के उपयोग से है, साथ ही यह पूरे देश में झीलों एवं तालाबों की सफाई में काफी प्रभावी साबित हुआ है।

    To get PDF version, Please click on "Print PDF" button.

    Print
close
एसएमएस अलर्ट
Share Page
images-2
images-2