हिंदी साहित्य: पेन ड्राइव कोर्स
ध्यान दें:
झारखण्ड संयुक्त असैनिक सेवा मुख्य प्रतियोगिता परीक्षा 2016 -परीक्षाफलछत्तीसगढ़ पीसीएस प्रश्नपत्र 2019छत्तीसगढ़ पी.सी.एस. (प्रारंभिक) परीक्षा, 2019 (महत्त्वपूर्ण अध्ययन सामग्री).छत्तीसगढ़ पी.सी.एस. प्रारंभिक परीक्षा – 2019 सामान्य अध्ययन – I (मॉडल पेपर )
हिंदी साहित्य: पेन ड्राइव कोर्स (Hindi Literature: Pendrive Course)
मध्य प्रदेश पी.सी.एस. (प्रारंभिक) परीक्षा , 2019 (महत्वपूर्ण अध्ययन सामग्री)मध्य प्रदेश पी.सी.एस. परीक्षा मॉडल पेपर.Download : उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग (प्रवर) प्रारंभिक परीक्षा 2019 - प्रश्नपत्र & उत्तर कुंजीअब आप हमसे Telegram पर भी जुड़ सकते हैं !यू.पी.पी.सी.एस. परीक्षा 2017 चयनित उम्मीदवार.UPSC CSE 2020 : प्रारंभिक परीक्षा टेस्ट सीरीज़

मेन्स प्रैक्टिस प्रश्न

  • यह बताएँ कि अंतरात्मा (conscience) प्रशासनिक अधिकारियों के लिये किस प्रकार नैतिक मार्गदर्शक के रूप में कार्य करती है?

    08 Aug, 2018 सामान्य अध्ययन पेपर 4 सैद्धांतिक प्रश्न

    उत्तर :

    अंतरात्मा सही और गलत की पहचान करने की आंतरिक या अंतःप्रज्ञात्मक शक्ति है। यह अनिवार्य रूप से तार्किक निष्कर्ष का परिणाम नहीं है बल्कि यह पारिवारिक पृष्ठभूमि, सामाजिक स्थिति,धर्म या संस्कृति से भी प्रभावित हो सकती है। मनोविज्ञान के अनुसार, जब किसी व्यक्ति का कोई कार्य नैतिक मूल्यों के विपरीत परिणाम देता है तो अंतरात्मा उस व्यक्ति में पश्चाताप की भावना को जन्म देती है। किन्तु जब हमारे कार्य, विचार और अभिव्यक्ति नैतिक मूल्यों के अनुरूप परिणाम देते हैं तो इससे खुशी की भावनाएँ उत्पन्न होती हैं।

    अंतरात्मा नैतिक मार्गदर्शक के रूप में-

    • जब प्रशासनिक अधिकारी को किसी आपदा या संकट में विवेकाधीन शक्ति का प्रयोग करना होता है तो ऐसे मामलों में अंतरात्मा ही सर्वोत्तम माध्यम होती है।
    • ऐसे मामलों में जहाँ कोई कानून, नियम या विनियम तो है परंतु उसमें स्पष्टता का अभाव है और तार्किक रूप से उसकी एक से अधिक व्याख्याएँ हो सकती हैं। ऐसे में उसे अंतरात्मा की सहायता से ही किसी एक व्याख्या को चुनना होता है।
    • जिस समस्या के लिये कोई पूर्व उदाहरण न हो और ही कोई निश्चित कानून या विनियम हो तो अंतरात्मा का प्रयोग किया जा सकता है।
    • जब किसी समस्या के संदर्भ में तत्काल निर्णय की आवश्यकता होती है और उस मामले से संबंधित कानून को लेकर अधिकारी अनभिज्ञ हो तो उपयुक्त कानून को खोजने में काफी समय बर्बाद हो सकता है। इस तरह के मुद्दे को सुलझाने के लिये उसे अंतरात्मा से ही निर्णय करना पड़ता है।

    उल्लेखनीय है कि अंतरात्मा कानून, नियम, विनियम आदि के अभाव में निर्णय लेने की आज़ादी प्रदान करता है किंतु प्रत्येक अधिकारी को यह सुनिश्चित करने का प्रयास करना चाहिये कि उसकी अंतरात्मा द्वारा किया गया निर्णय एक तार्किक परिणति पर पहुँचे।

एसएमएस अलर्ट
 

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

प्रोग्रेस सूची देखने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

आर्टिकल्स को बुकमार्क करने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close