Study Material | Mains Test Series
ध्यान दें:

प्रीलिम्स फैक्ट्स

  • 19 Aug, 2019
  • 7 min read
प्रारंभिक परीक्षा

प्रीलिम्स फैक्ट्स: 19- 08- 2019

‘ओकजोकुल' ग्लेशियर का अस्तित्व समाप्त

जलवायु परिवर्तन के कारण आइसलैंड के ग्लेशियर 'ओकजोकुल' ने अपनी पहचान खो दी है।

Okjokull Glacier

  • यह दुनिया का संभवतः पहला स्मारक हो सकता है जो जलवायु परिवर्तन के कारण समाप्त होने वाला ग्लेशियर बन गया है।
  • हाल में आइसलैंड के प्रधानमंत्री की मौजूदगी में ओकजोकुल से ग्लेशियर का दर्जा वापस ले लिया गया।
  • एक अनुमान के अनुसार, अगले 200 वर्षों में दुनिया के सभी ग्लेशियर खत्म हो जाएंगे।

‘ओकजोकुल' ग्लेशियर (Okjokull Glacier)

ओकजोकुल (Okjokull) जिसे ओके (OK) भी कहा जाता है (आइसलैंड में ‘ग्लेशियर’ को ‘जोकुल’ नाम से जाना जाता है) लांगजोकुल समूह (Langjokull Group) का हिस्सा था, जो आइसलैंड के ग्लेशियरों के आठ क्षेत्रीय समूहों में से एक है।

वतनजोकुल (Vatnajokull) समूह उनमें सबसे बड़ा है।

वतनजोकुल ग्लेशियर (Vatnajokull Glacier)

  • आइसलैंड के वतनजोकुल राष्ट्रीय उद्यान (Vatnajokull National Park) को हाल ही में यूनेस्को की विश्व धरोहर सूची में शामिल किया गया था, यह यूरोप के सबसे बड़े आइस कैप अर्थात् वतनजोकुल ग्लेशियर में स्थित है।
  • वतनजोकुल राष्ट्रीय उद्यान दक्षिण आइसलैंड में स्थित है इसे वर्ष 2008 में जोकुलसार्गलजुफुर (Jokulsargljufur) और स्काफ्टाफेल राष्ट्रीय उद्यान (Skaftafell National Park) को एक साथ जोड़कर आधिकारिक रूप से बनाया गया था।
  • यह यूरोप का सबसे बड़ा राष्ट्रीय उद्यान है तथा लगभग 12,000 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में फैला है।
  • यह पश्चिम मध्य आइसलैंड में ओके ज्वालामुखी (OK volcano) के ऊपर स्थित है।
  • ग्लेशियोलॉजिस्ट (Glaciologists) द्वारा ने वर्ष 2014 में ओकजोकुल ग्लेशियर की स्थिति का दर्जा छीन लिया गया था।
    • ग्लेशियर/हिमानी/हिमनद (Glacier) पृथ्वी की सतह पर विशाल आकार की गतिशील बर्फराशि को कहते हैं जो अपने भार के कारण पर्वतीय ढालों का अनुसरण करते हुए नीचे की ओर प्रवाहित होती है।
    • यह हिमराशि सघन होती है और इसकी उत्पत्ति ऐसे इलाकों में होती है जहाँ हिमपात की मात्रा हिम के क्षय से अधिक होती है और प्रतिवर्ष कुछ मात्रा में हिम अधिशेष के रूप में बच जाता है।

Iceland

  • आइसलैंड विश्वविद्यालय की रिपोर्ट (2017) के अनुसार, वर्ष 1890 में इस ग्लेशियर की माप लगभग 16 वर्ग किलोमीटर (6.2 वर्ग मील) थी जो अब सिर्फ 0.7 वर्ग किलोमीटर रह गई है।
  • इस रिपोर्ट में कार्बन डाईऑक्साइड का स्तर ‘415 PPM’ मापा गया था, जो वातावरण में मापा जाने वाला कार्बन डाइऑक्साइड का रिकॉर्ड स्तर बताता है।
  • इंटरनेशनल यूनियन फॉर कंज़र्वेशन ऑफ नेचर (IUCN) द्वारा प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार, यदि ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन मौजूदा दर से जारी रहती है तो दुनिया की लगभग आधी धरोहरें वर्ष 2100 तक अपने ग्लेशियर खो सकती हैं।

मछली की नई प्रजातियाँ

New species of freshwater fish found

जूलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया (Zoological Survey of India) के वैज्ञानिकों ने देश के उत्तर-पूर्वी और उत्तरी हिस्सों से ताजे पानी (Fresh Water) में पाई जाने वाली मछली की दो नई प्रजातियों की खोज की है।

Glypothorex

ग्लाइपोथोरैक्स गोपी

Garra

गर्रा सिम्बलबैरेन्सिस

  • ये दो प्रजातियाँ हैं: ग्लाइपोथोरैक्स गोपी (Glyptothorax gopii) तथा गर्रा सिम्बलबैरेन्सिस (Garra simbalbaraensis)।
  • ग्लाइपोथोरैक्स गोपी (Glyptothorax gopii) कैटफिश की एक नई प्रजाति मिज़ोरम की कलादान नदी में पाई गई, जबकि गर्रा सिम्बलबैरेन्सिस (Garra simbalbaraensis) हिमाचल प्रदेश की सिम्बलबारा नदी में पाई गई।
    • ग्लाइपोथोरैक्स गोपी की मानक लंबाई 63 मिमी. (दुम के बिना) है, इसकी पृष्ठीय सतह गहरे भूरे रंग की तथा उदर सतह पीले-हल्के भूरे रंग की होती है।
    • गर्रा सिम्बलबैरेन्सिस की मानक लंबाई 69 मिमी. (दुम के बिना 69 मिमी.) है, यह पीले-हल्के भूरे रंग की होती है।
  • दोनों मछलियाँ जिनकी माप सात सेंटीमीटर से भी कम होती हैं, वे पहाड़ी जलधाराओं अथवा तेजी से जल प्रवाह के अनुरूप विशेष रूप से अभ्यस्त हैं।

ऑर्डर ऑफ ज़ायद

Order of Zayed

भारत के प्रधानमंत्री को UAE का सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार ऑर्डर ऑफ ज़ायद प्रदान किया जाएगा।

  • इसकी घोषणा UAE के राष्ट्रपति शेख खलीफा बिन ज़ायेद अल नहयान ने की।
  • यह सम्मान दोनों देशों के बीच रिश्तों और रणनीतिक साझेदारी को मज़बूत करने के लिये दिया जा रहा है।
  • ‘ज़ायद मेडल’ UAE का सर्वोच्च सम्मान है जो बादशाहों, राष्ट्रपति और राष्ट्र प्रमुखों को दिया जाता है।
  • वर्ष 2007 में रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन, वर्ष 2010 में ब्रिटेन की महारानी एलिज़ाबेथ, वर्ष 2016 में सऊदी के शाह सलमान बिन अब्दुल्लाअज़ीज़ अल सऊद और वर्ष 2018 में चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग को इस पुरस्कार से सम्मानित किया जा चुका हैं।
  • प्रधानमंत्री मोदी 24 और 25 अगस्त को बहरीन की राजकीय यात्रा पर रहेंगे जहाँ वे श्रीनाथजी के मंदिर के जीर्णोद्धार का शुभारंभ करेंगे।

एसएमएस अलर्ट
 

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

प्रोग्रेस सूची देखने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

आर्टिकल्स को बुकमार्क करने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close