हिंदी साहित्य: पेन ड्राइव कोर्स
ध्यान दें:
झारखण्ड संयुक्त असैनिक सेवा मुख्य प्रतियोगिता परीक्षा 2016 -परीक्षाफलछत्तीसगढ़ पीसीएस प्रश्नपत्र 2019छत्तीसगढ़ पी.सी.एस. (प्रारंभिक) परीक्षा, 2019 (महत्त्वपूर्ण अध्ययन सामग्री).छत्तीसगढ़ पी.सी.एस. प्रारंभिक परीक्षा – 2019 सामान्य अध्ययन – I (मॉडल पेपर )
हिंदी साहित्य: पेन ड्राइव कोर्स (Hindi Literature: Pendrive Course)
मध्य प्रदेश पी.सी.एस. (प्रारंभिक) परीक्षा , 2019 (महत्वपूर्ण अध्ययन सामग्री)मध्य प्रदेश पी.सी.एस. परीक्षा मॉडल पेपर.Download : उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग (प्रवर) प्रारंभिक परीक्षा 2019 - प्रश्नपत्र & उत्तर कुंजीअब आप हमसे Telegram पर भी जुड़ सकते हैं !यू.पी.पी.सी.एस. परीक्षा 2017 चयनित उम्मीदवार.UPSC CSE 2020 : प्रारंभिक परीक्षा टेस्ट सीरीज़

प्रिलिम्स फैक्ट्स

  • 07 Aug, 2020
  • 21 min read
प्रारंभिक परीक्षा

प्रीलिम्स फैक्ट्स: 07 अगस्त, 2020

परिवार पहचान पत्र

Parivar Pehchan Patra

हाल ही में हरियाणा के मुख्यमंत्री ने एक विशिष्ट पहचान पत्र लॉन्च किया जिसे ‘परिवार पहचान पत्र’ (Parivar Pehchan Patra-PPP) कहा जाता है।   

प्रमुख बिंदु:

  • इस पहचान पत्र का उद्देश्य हरियाणा में रहने वाले लगभग 54 लाख परिवारों में से प्रत्येक की निगरानी करना है। 
  • इसके तहत प्रत्येक परिवार को एक एकल इकाई माना जाएगा और 8 अंकों की विशिष्ट पहचान संख्या आवंटित की जाएगी।
  • हरियाणा सरकार की सामाजिक सुरक्षा योजनाओं का लाभ उठाने के लिये प्रत्येक परिवार को ‘परिवार पहचान पत्र पोर्टल’ पर अपना पंजीकरण कराना अनिवार्य है।

परिवार पहचान पत्र, आधार कार्ड से अलग कैसे है?

  • आधार एक इकाई के रूप में सिर्फ एक व्यक्ति का प्रतिनिधित्त्व करता है जबकि PPP एक इकाई के रूप में एक परिवार का प्रतिनिधित्त्व करता है।

क्या हरियाणा के प्रत्येक परिवार के लिये PPP लेना अनिवार्य होगा?

  • हरियाणा के प्रत्येक परिवार के लिये PPP प्राप्त करना अनिवार्य नहीं होगा किंतु सरकारी योजनाओं के तहत लाभ पाने वाले परिवारों के लिये PPP अनिवार्य है।
  • इसके अलावा, जब भी कोई परिवार किसी भी सरकारी योजना का लाभ उठाना चाहता है तो उसे पात्र होने के लिये पहले PPP प्राप्त करना होगा।

PPP शुरू करने के पीछे हरियाणा सरकार का तर्क क्या है?

  • हरियाणा के अधिकारियों ने कहा कि आधार कार्ड केंद्र सरकार से संबंधित है इसमें व्यक्तिगत विवरण शामिल किया जाता है किंतु यह एक इकाई के रूप में पूरे परिवार का प्रतिनिधित्त्व नहीं करता है।
  • कुछ परिस्थितियों में, राज्य सरकार के लिये राज्य में रहने वाले सभी परिवारों पर नज़र रखना संभव नहीं हो सकता है। हालाँकि वर्तमान में राशन कार्ड प्रणाली मौजूद है किंतु यह अद्यतन नहीं है और इसमें पर्याप्त पारिवारिक रिकॉर्ड शामिल नहीं हैं।
  • PPP के साथ राज्य सरकार के लिये सभी राज्य निवासियों का एक पूरा डेटाबेस बनाए रखना आसान होगा।
  • शुरुआती तौर पर हरियाणा सरकार ने पहले ही PPP को तीन सामाजिक सुरक्षा योजनाओं- वृद्धावस्था सम्मान भत्ता, दिव्यांग पेंशन और विधवा एवं निराश्रित महिला पेंशन योजना से जोड़ा है।

उल्लेखनीय है कि तेलंगाना, कर्नाटक और आंध्र प्रदेश भी एक समान PPP परियोजना को लागू करने की संभावना तलाश रहे हैं।


एसएफटीएस वायरस 

SFTS Virus

हाल ही में टिक-जनित वायरस (Tick-Borne Virus) के कारण ‘थ्रोम्बोसाइटोपेनिया सिंड्रोम के साथ गंभीर बुखार’ (Severe Fever with Thrombocytopenia Syndrome- SFTS) नामक बीमारी से चीन में लगभग 7 लोगों की मौत हुई है।

प्रमुख बिंदु:

  • हालाँकि यह बीमारी मकड़ी जैसे दिखने वाले जीव टिक (Tick) के काटने से मनुष्यों में स्थानांतरित होती है किंतु चीनी वायरोलॉजिस्टों ने चेतावनी दी है कि इस वायरस (SFTS Virus) के मानव-से-मानव में संचरण को खारिज़ नहीं किया जा सकता है। 
  • COVID-19 के विपरीत यह पहली बार नहीं है जब SFTS वायरस ने लोगों को संक्रमित किया है। इससे पहले वर्ष 2020 के शुरुआती महीनों में चीन के जिआंगसू प्रांत में SFTS वायरस से संक्रमित लोगों का निदान किया गया था।

SFTS वायरस क्या है?

  • ‘थ्रोम्बोसाइटोपेनिया सिंड्रोम के साथ गंभीर बुखार’ (Severe Fever with Thrombocytopenia Syndrome- SFTS) वायरस, बुन्यावायरस (Bunyavirus) परिवार से संबंधित है और टिक के काटने से मनुष्यों में प्रेषित होता है।
  • इस वायरस की पहचान सबसे पहले चीन में शोधकर्त्ताओं की एक टीम ने एक दशक पहले की थी। वर्ष 2009 में चीन के हुबेई और हैनान प्रांतों के ग्रामीण क्षेत्रों में कुछ मामले सामने आए थे।
  • जिस दर से यह वायरस फैलता है और इसकी उच्च मृत्यु दर के कारण, SFTS वायरस को विश्व स्वास्थ्य संगठन (World Health Organisation- WHO) द्वारा शीर्ष 10 प्राथमिकता वाले रोगों की सूची में सूचीबद्ध किया गया है।
  • वायरोलॉजिस्ट मानते हैं कि एक एशियाई टिक (Asian Tick) जिसे ‘हेमाफिसलिस लॉन्गिकोर्निस’ (Haemaphysalis Longicornis) कहा जाता है, वायरस का प्राथमिक वाहक है।
  • यह बीमारी मार्च और नवंबर के बीच फैलने वाली बीमारी के रूप में जानी जाती है। शोधकर्त्ताओं ने पाया है कि अप्रैल और जुलाई के बीच संक्रमण की कुल संख्या आमतौर पर शीर्ष पर होती है।
  • वैज्ञानिकों ने पाया है कि यह वायरस अक्सर बकरियों, मवेशियों, हिरणों और भेड़ों जैसे जानवरों से मनुष्यों में फैलता है।
  • हालाँकि इस बीमारी का इलाज करने के लिये एक भी टीका अभी तक सफलतापूर्वक विकसित नहीं किया गया है किंतु एंटीवायरल दवा रिबाविरिन (Ribavirin) को इस बीमारी के इलाज में प्रभावी माना जाता है।


राष्ट्रीय हथकरघा दिवस

National Handloom Day

प्रत्येक वर्ष 7 अगस्त को राष्ट्रीय हथकरघा दिवस (National Handloom Day) मनाया जाता है क्योंकि इसी दिन वर्ष 1905 में स्वदेशी आंदोलन की शुरुआत हुई थी।

National-Handloom

उद्देश्य:

  • इसका उद्देश्य हथकरघा उद्योग के बारे में लोगों के बीच बड़े पैमाने पर जागरूकता पैदा करना और सामाजिक-आर्थिक विकास में इसके योगदान को रेखांकित करना है।

प्रमुख बिंदु:

  • हथकरघा क्षेत्र देश की सांस्कृतिक विरासत का प्रतीक है और देश में आजीविका का एक महत्त्वपूर्ण स्रोत है। यह क्षेत्र महिला सशक्तीकरण के लिये महत्त्वपूर्ण है क्योंकि 70% हथकरघा बुनकर और संबद्ध श्रमिक महिलाएँ हैं।
  • इस छठे राष्ट्रीय हथकरघा दिवस के अवसर पर केंद्रीय वस्त्र मंत्रालय 07 अगस्त, 2020 को वर्चुअल प्लेटफॉर्म के माध्यम से एक समारोह का आयोजन कर रहा है।
  • इस समारोह में ज़िला प्रशासन, कुल्लू (हिमाचल प्रदेश) के सहयोग से स्थापित किये जा रहे क्रॉफ्ट हैंडलूम विलेज़, कुल्लू (Craft Handloom Village, Kullu) का प्रदर्शन शामिल है।
  • उल्लेखनीय है कि भारतीय प्रधानमंत्री ने 7 अगस्त, 2015 को चेन्नई (तमिलनाडु) में पहले राष्ट्रीय हथकरघा दिवस की शुरुआत की थी।

स्वदेशी आंदोलन: 

  • ब्रिटिश सरकार (लाॅर्ड कर्जन) ने 20 जुलाई, 1905 को बंगाल के विभाजन की घोषणा कर दी। जिसके परिणामस्वरूप 7 अगस्त, 1905 को कलकत्ता (अब कोलकाता) के टाउनहाल में स्वदेशी आंदोलन की घोषणा की गई।    
  • इसी बैठक में ऐतिहासिक ‘बहिष्कार प्रस्ताव’ पारित हुआ जिसमें ब्रिटिश वस्तुओं के बहिष्कार को राष्ट्रीय नीति के रूप में अपनाया गया।
  • पहली बार इस आंदोलन में स्त्रियों ने घर से बाहर निकल कर विरोध प्रदर्शनों में भाग लिया, धरने पर बैठीं किंतु यह आंदोलन बंगाल के किसानों को प्रभावित न कर सका, केवल बारिसाल ही इसका अपवाद रहा जहाँ किसानों ने इस आंदोलन में भाग लिया था।      

 


अबनींद्रनाथ टैगोर की 150वीं जयंती

150th Birth Anniversary of Abanindranath Tagore

7 अगस्त, 2020 को अबनींद्रनाथ टैगोर की 150वीं जयंती के अवसर पर ‘नेशनल गैलरी ऑफ मॉडर्न आर्ट’ (National Galary of Modern Art-NGMA), नई दिल्ली एक वर्चुअल टूर का आयोजन करेगा जिसका शीर्षक ‘द ग्रेट मेस्ट्रो: अबनींद्रनाथ टैगोर’ (The Great Maestro: Abanindranath Tagore) है।

Abanindranath Tagore

प्रमुख बिंदु:

  • यह वर्चुअल टूर NGMA के आरक्षित संग्रह से अबनींद्रनाथ टैगोर की प्रमुख कलाकृतियों में से 77 कलात्मक कार्यों को प्रस्तुत करेगा जो निम्नलिखित चार अलग-अलग विषयों की एक श्रृंखला में समूहीकृत होंगे।
    1. चित्र और वर्ण (Portraits and Characters) 
    2. संवेदनशीलता के साथ परंपरा (Tradition with Sensibility)
    3. व्यक्तिगत शैली (Individual Style)
    4. आंतरिकता का परिदृश्य (Landscape of Interiority)  
  • अबनींद्रनाथ टैगोर को आधुनिक भारतीय कला के क्षेत्र में एक विलक्षण व्यक्ति माना जाता है। 
  • अबनींद्रनाथ ने कई विषयों को चित्रित किया किंतु ऐतिहासिक या साहित्यिक छंदों के साथ चित्र बनाने की ओर उनका झुकाव अधिक था।
  • उन्होंने 'अरेबियन नाइट्स' (Arabian Nights) या 'कृष्ण लीला' (Krishna Leela) जैसे विषयों का भी चित्रण किया।

अबनींद्रनाथ टैगोर:

  • अबनींद्रनाथ टैगोर का जन्म 07 अगस्त, 1871 को ब्रिटिश भारत के कलकत्ता के जोरासांको (Jorasanko) में हुआ था।
  • वर्ष 1890 में, अबनींद्रनाथ टैगोर ने ‘कलकत्ता स्कूल ऑफ आर्ट’ में भाग लिया जहाँ उन्होंने ओ. घिलार्डी (O. Ghilardi) से ‘पेस्टल’ और सी. पामर (C. Palmer) जैसे यूरोपीय चित्रकारों से ‘तेल चित्रकला’ का उपयोग करना सीखा।
  • वर्ष 1905 में बंगाल विभाजन की घोषणा के बाद राष्ट्रीय आंदोलन के बढ़ते प्रभाव के वातावरण में अबनींद्रनाथ टैगोर ने वर्ष 1907 में अपने बड़े भाई गगनेंद्रनाथ के साथ मिलकर ‘इंडियन सोसाइटी ऑफ ओरिएंटल आर्ट’ (Indian Society of Oriental Art) की स्थापना की, जिसके द्वारा प्राच्य कला-मूल्यों का पुनर्जीवन एवं आधुनिक भारतीय कला में नई चेतना जागृत हुई।
  • वह भारतीय कला में स्वदेशी मूल्यों के पहले प्रमुख प्रतिपादक भी थे। इन्ही स्वदेशी मूल्यों के आधार पर बंगाल में ‘स्कूल ऑफ आर्ट’ की स्थापना हुई थी जिससे ‘आधुनिक भारतीय चित्रकला का विकास’ हुआ।
  • अबनींद्रनाथ टैगोर ने कला के पश्चिमी मॉडल के प्रभाव का मुकाबला करने के लिये मुगल और राजपूत चित्रकला शैलियों के आधुनिकीकरण की मांग की।
  • अबनींद्रनाथ टैगोर का मानना ​​था कि पश्चिमी चित्रकला का चरित्र ‘भौतिकवादी’ है अतः आध्यात्मिक मूल्यों को पुनर्प्राप्त करने के लिये भारत को अपनी परंपराओं पर वापस लौटने की आवश्यकता है।
    • अपने बाद के कार्यों में अबनींद्रनाथ टैगोर ने चीनी और जापानी सुलेख परंपराओं को अपनी चित्रकला शैली में एकीकृत करना शुरू किया था।
  • अबनींद्रनाथ टैगोर विशेष रूप से बच्चों के लिये एक प्रसिद्ध लेखक के रूप में जाने जाते थे। उनकी पुस्तकों राजकाहिनी (Rajkahini), बूडो अंगला (Budo Angla), नलक (Nalak), और क्षीरेर पुतुल (Ksheerer Putul) का बच्चों के बंगाली भाषा साहित्य में प्रमुख स्थान है।
  • 5 दिसंबर, 1951 को कलकत्ता में अबनींद्रनाथ टैगोर की मृत्यु हो गई।

विविध

Rapid Fire (करेंट अफेयर्स): 07 अगस्त, 2020

प्रदीप कुमार जोशी

शिक्षाविद् प्रोफेसर प्रदीप कुमार जोशी को संघ लोक सेवा आयोग (Union Public Service Commission-UPSC) के अध्यक्ष के रूप में नियुक्त किया गया है। गौरतलब है कि प्रदीप कुमार जोशी वर्तमान में संघ लोक सेवा आयोग (UPSC) के सदस्य के तौर पर कार्य कर रहे हैं, उनकी इस नियुक्ति से आयोग के सदस्य का एक पद रिक्त हो गया है। वर्तमान में भीम सेन बस्सी, एयर मार्शल ए. एस. भोंसले (सेवानिवृत्त), सुजाता मेहता, मनोज सोनी, स्मिता नागराज, एम. साथियावती भारत भूषण व्यास, टी. सी. ए. अनंत और राजीव नयन चौबे UPSC के सदस्य के तौर पर नियुक्त हैं। संघ लोक सेवा आयोग (UPSC) के अध्यक्ष के तौर पर प्रदीप कुमार जोशी, अरविंद सक्सेना का स्थान लेंगे। इससे पूर्व प्रदीप कुमार जोशी छत्तीसगढ़ और मध्य प्रदेश लोक सेवा आयोग में बतौर अध्यक्ष कार्य कर चुके हैं और उन्हें मई 2015 में संघ लोक सेवा आयोग (UPSC) में सदस्य के रूप में शामिल किया गया था। आयोग के अध्यक्ष के तौर पर उनका कार्यकाल 12 मई, 2021 को समाप्त होगा। संघ लोक सेवा आयोग (UPSC) भारत के नौकरशाहों और राजनयिकों का चयन करने के लिये सिविल सेवा परीक्षा आयोजित करता है।

गिरीश चंद्र मुर्मू 

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने जम्मू-कश्मीर के पूर्व राज्यपाल गिरीश चंद्र मुर्मू को भारत का नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (Comptroller Auditor General-CAG) नियुक्त किया है। गिरीश चंद्र मुर्मू, राजीव महर्षि का स्थान लेंगे, जो कि 7 अगस्त, 2020 को सेवानिवृत्त हो रहे हैं। गिरीश चंद्र मुर्मू भारत के 14वें नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (CAG) होंगे। गौरतलब है कि इससे पूर्व गिरीश चंद्र मुर्मू ने जम्मू-कश्मीर के उप-राज्यपाल के पद से इस्तीफा दे दिया था और राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने पूर्व केंद्रीय मंत्री मनोज सिन्हा को जम्मू-कश्मीर का नया उप-राज्यपाल (Lieutenant Governor) नियुक्त किया था। गिरीश चंद्र मुर्मू का जन्म 21 नवंबर,1959 को ओडिशा के मयूरभंज ज़िले के एक गाँव में हुआ था। वर्ष 1985 बैच के भारतीय प्रशासनिक सेवा (IAS) के पूर्व अधिकारी गिरीश चंद्र मुर्मू को अक्तूबर, 2019 में जम्मू-कश्मीर के विशेष राज्य के दर्जे की समाप्ति के बाद राज्यपाल के तौर पर नियुक्त किया गया था। इससे पूर्व गिरीश चंद्र मुर्मू गुजरात के गृह विभाग में और राज्य में नरेंद्र मोदी के प्रमुख सचिव के रूप में कार्य कर चुके हैं। भारत का नियंत्रक और महालेखापरीक्षक (CAG) भारत के संविधान के तहत एक स्वतंत्र प्राधिकरण है। यह भारतीय लेखा परीक्षा और लेखा विभाग (Indian Audit & Accounts Department) का प्रमुख और सार्वजनिक क्षेत्र का प्रमुख संरक्षक है।

किसान रेल

भारतीय रेलवे ने एक महत्त्वपूर्ण निर्णय लेते हुए देश की पहली किसान स्‍पेशल पार्सल ट्रेन यानी ‘किसान रेल’ की शुरुआत की है। किसान रेल का प्रयोग फल-सब्जियों, मछली-मांस और दूध जैसी जल्द खराब होने वाली वस्तुओं के परिवहन के लिये किया जाएगा। यह ट्रेन महाराष्ट्र और बिहार के बीच संचालित की जाएगी और फल तथा सब्जियों जैसी खराब होने वाली वस्तुओं को ले जाने वाली अपनी तरह की पहली ट्रेन होगी। इस संबंध में जारी आधिकारिक सूचना के अनुसार, किसान रेल ट्रेन साप्ताहिक आधार पर चलाई जाएगी। रेल मंत्री के अनुसार, किसान रेल का उद्देश्य खेती करने वालों की आमदनी दोगुनी करना है। किसान रेल में वातानुकूलित डिब्बे निर्मित किये गए हैं और इसके माध्यम से देश भर में मछली, मांस और दूध सहित जल्द खराब होने वाली कई खाद्य योग्य वस्तुओं को निर्बाध रूप से एक स्थान से दूसरे स्थान पर पहुँचाया जाएगा। गौरतलब है कि वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने खराब होने वाली वस्‍तुओं की सप्‍लाई चेन उपलब्‍ध कराने के लिये इस वर्ष के बजट में किसान रेल शुरू करने की घोषणा की थी। 

अमेरिका में टिकटॉक पर प्रतिबंध

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने चीनी के लोकप्रिय लघु वीडियो साझाकरण एप टिकटॉक (TiKTok) और वी-चैट (WeChat) पर अमरीका में प्रतिबंध लगाने संबंधी आदेश पर हस्‍ताक्षर कर दिये हैं। अमेरिकी राष्ट्रपति के अनुसार, ये एप्स राष्‍ट्रीय सुरक्षा और अमेरिका की अर्थव्‍यवस्‍था के लिये बड़ा खतरा है। अमेरिकी राष्ट्रपति द्वारा हस्ताक्षरित प्रतिबंध संबंधी उक्त आदेश 45 दिनों के बाद से लागू होंगे। कई विशेषज्ञ मान रहे हैं कि 45 दिनों का यह समय मुख्य तौर पर अमेरिका की दिग्गज टेक्नोलॉजी कंपनी माइक्रोसॉफ्ट (Microsoft) को एक अन्य अवसर प्रदान करने के उद्देश्य से दिया गया है, ध्यातव्य है कि बीते कई दिनों से अमेरिका द्वारा चीन की इंटरनेट कंपनी बाइटडांस (ByteDance), जिसके पास टिकटॉक का मालिकाना हक है, पर अपने व्यवसाय को अमेरिका की प्रौद्योगिकी कंपनी माइक्रोसॉफ्ट (Microsoft) को सौंपने का दबाव बनाया जा रहा है। गौरतलब है कि टिकटॉक एक लघु वीडियो साझा करने की सुविधा प्रदान करने वाला एक प्रसिद्ध प्लेटफॉर्म है, जिसके पास अमेरिका में लगभग 100 मिलियन सक्रिय उपयोगकर्त्ता थे। इस एप के सबसे अधिक उपयोगकर्त्ता भारत में मौजूद थे, किंतु बीते दिनों सरकार ने इस एप पर प्रतिबंध लगा दिया था


एसएमएस अलर्ट
 

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

प्रोग्रेस सूची देखने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

आर्टिकल्स को बुकमार्क करने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close