18 जून को लखनऊ शाखा पर डॉ. विकास दिव्यकीर्ति के ओपन सेमिनार का आयोजन।
अधिक जानकारी के लिये संपर्क करें:

  संपर्क करें
ध्यान दें:

हरियाणा स्टेट पी.सी.एस.

  • 29 May 2023
  • 0 min read
  • Switch Date:  
हरियाणा Switch to English

सलेमपुर में 5 करोड़ की लागत से वीटा चिलिंग प्लांट प्रथम फेज का शिलान्यास

चर्चा में क्यों?

28 मई, 2023 को हरियाणा के कृषि मंत्री जे.पी. दलाल ने प्रदेश के भिवानी ज़िले के सलेमपुर गाँव में करीब पाँच करोड़ रुपए की लागत से बनने वाले वीटा चिलिंग प्लांट के प्रथम फेज का शिलान्यास किया।

प्रमुख बिंदु 

  • इस चिलिंग प्लांट से लोहारू के अलावा तोशाम, बाढड़ा व सतनाली के पशुपालकों को सीधा लाभ होगा। चिलिंग प्लांट बनने से न केवल किसानों की आय बढ़ेगी, बल्कि युवाओं के लिये रोज़गार के अवसर भी बढ़ेंगे। 
  • कृषि मंत्री ने कहा कि वीटा अपने आप में एक नाम है और यहाँ बनने वाले वीटा प्रोडेक्ट्स को गुजरात की तर्ज पर विकसित किया जाएगा।
  • प्रथम फेज में इसकी क्षमता 20 हजार लीटर प्रतिदिन की होगी, जबकि दूसरे और तीसरे साल में इसकी क्षमता को 40 हजार लीटर तक बढ़ाया जाएगा। 
  • विदित है कि हरियाणा देश का एकमात्र ऐसा राज्य है, जहाँ सर्वाधिक पशुधन क्रेडिट कार्ड बनाए गए हैं। प्रदेश में एक हजार करोड़ रुपए की राशि के पशु क्रेडिट कार्ड बनाए जा चुके हैं। इस क्रेडिट कार्ड पर चार प्रतिशत ब्याज दर पर किसानों को ऋण सहायता मुहैया करवाई जा रही है। 
  • कृषि मंत्री ने किसानों से आह्वान किया कि वे अच्छी नस्ल के पशु के लिये कृत्रिम गर्भाधान करवाएँ। नस्ल सुधार से दूध का उत्पादन बढ़ेगा। 
  • हरियाणा प्रदेश पूरे देश में दूध उत्पादन में दूसरे नंबर पर आ गया है। प्रदेश सरकार का प्रयास है कि दूध उत्पादन में प्रदेश का देशभर में पहला स्थान हो। इसलिये राज्य सरकार नई योजनाओं का क्रियान्वयन कर पशुपालन को बढ़ावा दे रही है।


हरियाणा Switch to English

हरियाणा स्टेट काउंसिल फॉर फिजियोथेरेपी के ‘ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन पोर्टल’ का शुभारंभ

चर्चा में क्यों?

25 मई, 2023 को हरियाणा के चिकित्सा शिक्षा एवं अनुसंधान मंत्री अनिल विज ने हरियाणा स्टेट काउंसिल फॉर फिजियोथेरेपी के ‘ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन पोर्टल’ का शुभारंभ किया।

प्रमुख बिंदु  

  • राज्य में फिजियोथेरेपिस्टो को काम करने  के लिये रजिस्ट्रेशन करवाना जरूरी है। यह पोर्टल पारदर्शिता लाने की तरफ एक और महत्त्वपूर्ण कदम है और फिजियोथेरेपिस्टों को इससे बहुत बड़ी राहत मिलेगी। 
  • चिकित्सा शिक्षा एवं अनुसंधान मंत्री ने कहा कि इस पोर्टल पर ऑनलाइन पंजीकरण करने से समय के साथ-साथ रुपए की बचत, डिजिटल ऑटोमेशन, एनहांस एफीसिएंसी, केंद्रीकृत डेटाबेस, त्रुटिमुक्त कार्यक्षमता, संचार में सुधार करने, पेपर वर्क कम करने और पारदर्शिता लाने में लाभ मिलेगा।  
  • विदित है कि अगर कोई फिजियोथेरेपिस्ट दूसरे राज्य की काउंसिल में पंजीकृत है और प्रदेश में काम करने के इच्छुक है, तो उसे हरियाणा में रजिस्ट्रेशन करवाने के लिये उस काउंसिल की एनओसी जमा करवानी होगी। यदि उस राज्य में काउंसिल नहीं है तो उसकी डिग्री की वेरिफीकेशन करवाई जाएगी।  
  • इस पोर्टल से नए रजिस्ट्रेशन करने की पूरी प्रक्रिया रजिस्ट्रेशन से लेकर जाँच सूची, राशि भुगतान, रसीद व पंजीकरण प्रमाण-पत्र जारी करने तक ऑनलाइन रहेगी। 
  • गौरतलब है कि राज्य स्टेट काउंसिल फॉर फिजियोथेरेपी में अब तक 1936 रजिस्ट्रेशन मैन्युअल है।  
  • काउंसिल पर फिजियोथेरेपिस्ट का रजिस्ट्रेशन होने पर जब उसे प्रमाण-पत्र जारी किया जाएगा तो उसकी पूरी सूची काउंसिल की वेबसाइट पर कोई भी व्यक्ति देख सकता है।


 Switch to English
close
एसएमएस अलर्ट
Share Page
images-2
images-2
× Snow