18 जून को लखनऊ शाखा पर डॉ. विकास दिव्यकीर्ति के ओपन सेमिनार का आयोजन।
अधिक जानकारी के लिये संपर्क करें:

  संपर्क करें
ध्यान दें:

मध्य प्रदेश स्टेट पी.सी.एस.

  • 23 May 2024
  • 0 min read
  • Switch Date:  
मध्य प्रदेश Switch to English

न्यायमूर्ति शील नागू: नए कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश

चर्चा में क्यों?

हाल ही में केंद्र सरकार ने मध्य प्रदेश उच्च न्यायालय के कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश के रूप में न्यायमूर्ति शील नागू की नियुक्ति को अधिसूचित किया है।

मुख्य बिंदु:

  • वह मौजूदा मुख्य न्यायाधीश रवि मलिमथ के कर्त्तव्यों का पालन करेंगे जो 24 मई 2024 को पद छोड़ देंगे।
  • 27 मई 2011 को उन्हें मध्य प्रदेश उच्च न्यायालय के अतिरिक्त न्यायाधीश के रूप में नियुक्त किया गया और 23 मई 2013 को वे स्थायी न्यायाधीश बन गए।

कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश की नियुक्ति

  • भारत के संविधान का अनुच्छेद-223 कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश की नियुक्ति से संबंधित है। 
  • इसके अनुसार, जब उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश का पद रिक्त हो या जब ऐसा कोई मुख्य न्यायाधीश, अनुपस्थिति के कारण या अन्यथा, अपने कार्यालय के कर्त्तव्यों का पालन करने में असमर्थ हो तो कार्यालय के कर्त्तव्यों का पालन ऐसे व्यक्ति द्वारा किया जाएगा। न्यायालय के अन्य न्यायाधीशों की, जिन्हें राष्ट्रपति इस प्रयोजन के लिये नियुक्त कर सकता है। 




मध्य प्रदेश Switch to English

GAIL का पेट्रोकेमिकल यूनिट में निवेश

चर्चा में क्यों?

सूत्रों के मुताबिक, राज्य संचालित गैस आपूर्तिकर्त्ता GAIL (इंडिया) ने मध्य प्रदेश के सीहोर में 1.5 मिलियन टन प्रतिवर्ष (MTPA) ईथेन क्रैकिंग यूनिट स्थापित करने के लिये 50,000 करोड़ रुपए तक निवेश करने की योजना बनाई है।

मुख्य बिंदु:

  • नई सुविधा का लक्ष्य पेट्रोकेमिकल्स की भारी घरेलू मांग को पूरा करना है, जिसके वर्ष 2040 तक लगभग तीन गुना बढ़कर 1 ट्रिलियन अमेरिकी डॉलर होने का अनुमान है।
    • ईथेन एक प्राकृतिक गैस घटक है जिसे एथिलीन में विभाजित किया जाता है, जो प्लास्टिक, चिपकने वाले पदार्थ, सिंथेटिक रबर और अन्य पेट्रोकेमिकल के उत्पादन हेतु एक महत्त्वपूर्ण निविष्‍टि है।
  • वर्तमान में, रिलायंस इंडस्ट्रीज़ दहेज़, हज़ीरा (गुजरात) और नागोथेन (महाराष्ट्र) में अपने पटाखों के लिये 1.5 MTPA ईथेन का आयात करने वाली एकमात्र भारतीय इकाई है।
  • गेल का नया ईथेन क्रैकर उत्तर प्रदेश के कानपुर के पास पतारा में उसकी मौजूदा 810 हज़ार टन प्रतिवर्ष (KTA) पेट्रोकेमिकल सुविधा को लगभग दोगुना कर देगा।
    • ग्लोबल इंजीनियरिंग कंसल्टेंट इंजीनियर्स इंडिया लिमिटेड इस परियोजना के लिये विस्तृत व्यवहार्यता रिपोर्ट तैयार कर रही है, जिसके अगले 5-6 वर्षों में चालू होने की उम्मीद है।
  • प्रारंभ में, GAIL ने महाराष्ट्र के औरंगाबाद या दाभोल में अपने 5 MTPA तरलीकृत प्राकृतिक गैस संयंत्र के पास नई सुविधा स्थापित करने पर विचार किया, लेकिन बाद में मध्य प्रदेश पर निर्णय लिया।

GAIL (इंडिया) लिमिटेड

  • यह भारतीय स्वामित्व वाली एक ऊर्जा निगम है जिसका प्राथमिक हित प्राकृतिक गैस के व्यापार, पारेषण और उत्पादन वितरण में है
  • इसकी स्थापना HVJ गैस पाइपलाइन के निर्माण, संचालन और रखरखाव के लिये पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्रालय के तहत अगस्त 1984 में गैस अथॉरिटी ऑफ इंडिया लिमिटेड के रूप में की गई थी
  • 1 फरवरी 2013 को, भारत सरकार ने 11 अन्य सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों (PSU) के साथ GAIL को महारत्न का दर्जा प्रदान किया।


 Switch to English
close
एसएमएस अलर्ट
Share Page
images-2
images-2
× Snow