हिंदी साहित्य: पेन ड्राइव कोर्स
ध्यान दें:
झारखण्ड संयुक्त असैनिक सेवा मुख्य प्रतियोगिता परीक्षा 2016 -परीक्षाफलछत्तीसगढ़ पीसीएस प्रश्नपत्र 2019छत्तीसगढ़ पी.सी.एस. (प्रारंभिक) परीक्षा, 2019 (महत्त्वपूर्ण अध्ययन सामग्री).छत्तीसगढ़ पी.सी.एस. प्रारंभिक परीक्षा – 2019 सामान्य अध्ययन – I (मॉडल पेपर )
हिंदी साहित्य: पेन ड्राइव कोर्स (Hindi Literature: Pendrive Course)
मध्य प्रदेश पी.सी.एस. (प्रारंभिक) परीक्षा , 2019 (महत्वपूर्ण अध्ययन सामग्री)मध्य प्रदेश पी.सी.एस. परीक्षा मॉडल पेपर.Download : उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग (प्रवर) प्रारंभिक परीक्षा 2019 - प्रश्नपत्र & उत्तर कुंजीअब आप हमसे Telegram पर भी जुड़ सकते हैं !यू.पी.पी.सी.एस. परीक्षा 2017 चयनित उम्मीदवार.UPSC CSE 2020 : प्रारंभिक परीक्षा टेस्ट सीरीज़

मेन्स प्रैक्टिस प्रश्न

  • कृषि क्षेत्र भारतीय अर्थव्यवस्था की निर्धारक शक्ति रही है। भारतीय बजट में कृषि में सुधार हेतु किये गए प्रावधान कृषि संबंधित समस्याओं के समाधान में कितने सहायक है? चर्चा करें।

    06 Feb, 2018 सामान्य अध्ययन पेपर 3 अर्थव्यवस्था

    उत्तर :

    उत्तर की रूपरेखा:

    • भारतीय अर्थव्यवस्था के लिये कृषि क्षेत्र के महत्त्व को दर्शाएँ।
    • कृषि संबंधी समस्याओं पर प्रकाश डालते हुए बताएँ कि बजट में किये गए प्रावधान इन समस्याओं के समाधान के लिये कितने सहायक हैं।

    कृषि क्षेत्र भारतीय अर्थव्यवस्था का आधारभूत स्तंभ है। यह क्षेत्र न केवल  भारत की जीडीपी में लगभग 15% का योगदान करता है बल्कि भारत की लगभग आधी जनसंख्या रोजगार के लिये कृषि क्षेत्र पर ही निर्भर है। यह क्षेत्र द्वितीयक उधोगों  के लिये प्राथमिक उत्पाद भी उपलब्ध करवाता है।

    किंतु वर्तमान समय में भारतीय कृषि क्षेत्र कई समस्याओं से जूझ रहा है। सिंचाई संबंधी सुविधाओं के अभाव के कारण मानसून पर निर्भरता, कृषि तथा किसानों की आय में कमी, छोटे एवं सीमांत जोत की समस्या, बाजार एवं अवसंरचना की  अनुपलब्धता, प्रौद्योगिकी तथा तकनीक का अभाव, व्यवसायिक भावना का  अभाव, जलवायु परिवर्तन तथा रासायनिक खादों के प्रयोग के कारण धारणीय कृषि से संबंधित समस्या भारतीय कृषि क्षेत्र में देखी जा सकती है। भारतीय अर्थव्यवस्था में कृषि के महत्त्व को देखते हुए 2017-18 के बजट में इन समस्याओं के समाधान हेतु कई प्रयास किए गए हैं। इसे निम्नलिखित रूपों में देखा जा सकता है-

    • कृषि क्षेत्र में  सिंचाई संबंधी समस्याओं के निवारण के लिये प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना में हर खेत को पानी  की संकल्पना के तहत सिंचाई से वंचित 96 जिलों में सिंचाई सुविधाओं के विस्तार की बात की गई है। इसके अलावा  नाबार्ड द्वारा सिंचाई हेतु समर्पित  सिंचाई कोष बनाने की बात की गई है। कृषि क्षेत्र में कृषकों की लाभप्रदता को बढ़ाने के लिये आगामी खरीफ से सभी अधिसूचित फसलों का न्यूनतम समर्थन मूल्य उत्पादन लागत के कम से कम डेढ़ गुना करने का फैसला लिया गया है। इससे किसानों की आय बढ़ेगी और लोग खेती करने के लिये प्रोत्साहित होंगे।
    • कृषि से संबंधित बाजार की समस्या के समाधान के लिये  585 मंडियों को  ई-नैम योजना के तहत एकीकृत  करने की बात की गई है इसके अलावा 22,000 ग्रामीण मंडियों को ग्रामीण कृषि बाजारों के रूप में विकसित करने का प्रयास किया जा रहा है। क्षेत्र में अवसंरचना विकास हेतु दो करोड़ की निधि के साथ एक कृषि बाजार अवसंरचना कोष की स्थापना की जाएगी। इसके अलावा  प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना चरण-3 के द्वारा गाँवों को सभी मौसम में प्रयोग लाई  जाने वाली सड़कों से जोड़ने पर भी बल दिया जा रहा है।
    • कृषि क्षेत्र में उद्यमिता को बढ़ाने के लिये भी महत्त्वपूर्ण प्रयास किए गए हैं। मेगा फूड पार्कों के अलावा कृषि उत्पादों के लिये प्रसिद्ध जिलों को क्लस्टर के रूप में विकसित किए जाने की योजना है। इसके अलावा किसान उत्पादक संगठन और कृषि संभार तंत्र तथा प्रसंस्करण सुविधा तथा व्यावसायिक प्रबंधन को अपनाने के लिये ‘ऑपरेशन फ्लड के तर्ज पर ‘ऑपरेशन ग्रीन्स’ को शुरू करने का निर्णय लिया गया है।
    • कृषि क्षेत्र में  छिपी बेरोजगारी की समस्या के समाधान के लिये कृषि संबंधित लघु एवं कुटीर उद्योग के विकास पर बल दिया गया है। इसके तहत मत्स्यिकी एवं पशुपालन से जुड़े किसानों को क्रेडिट कार्ड की सुविधा प्रदान करने की बात की गई है। इसके अलावा  मत्स्यिकी तथा पशुपालन क्षेत्र में आधारभूत सुविधाओं के विकास हेतु ‘मत्स्य क्रांति अवसंरचना विकास कोष’ तथा ‘पशुपालन हेतु आधारभूत सुविधा विकास कोष’ का निर्माण किया गया है। पुष्पों की खेती के साथ-साथ इत्र उत्पादन जैसे लघु उद्योगों पर भी बल दिया गया है।
    • वहीं धारणीय कृषि को बढ़ावा देने के लिये जैविक कृषि पर बल दिया जा रहा है। इसके तहत महिला स्वयं सहायता समूहों को ग्रामीण आजीविका कार्यक्रम के तहत समूह में जैविक कृषि करने के लिये प्रोत्साहित किया जाएगा।

    स्पष्ट है कि  बजट 2017-18 में किए गए प्रावधान कृषि संबंधी अधिकांश समस्याओं को हल करने में सहायक हैं। जरूरत इनके  कुशल क्रियान्वयन की है। इसके लिये एक एकीकृत नीति बनाए जाने की आवश्यकता है।

एसएमएस अलर्ट
 

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

प्रोग्रेस सूची देखने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

आर्टिकल्स को बुकमार्क करने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close