हिंदी साहित्य: पेन ड्राइव कोर्स
ध्यान दें:
झारखण्ड संयुक्त असैनिक सेवा मुख्य प्रतियोगिता परीक्षा 2016 -परीक्षाफलछत्तीसगढ़ पीसीएस प्रश्नपत्र 2019छत्तीसगढ़ पी.सी.एस. (प्रारंभिक) परीक्षा, 2019 (महत्त्वपूर्ण अध्ययन सामग्री).छत्तीसगढ़ पी.सी.एस. प्रारंभिक परीक्षा – 2019 सामान्य अध्ययन – I (मॉडल पेपर )
हिंदी साहित्य: पेन ड्राइव कोर्स (Hindi Literature: Pendrive Course)
मध्य प्रदेश पी.सी.एस. (प्रारंभिक) परीक्षा , 2019 (महत्वपूर्ण अध्ययन सामग्री)मध्य प्रदेश पी.सी.एस. परीक्षा मॉडल पेपर.Download : उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग (प्रवर) प्रारंभिक परीक्षा 2019 - प्रश्नपत्र & उत्तर कुंजीअब आप हमसे Telegram पर भी जुड़ सकते हैं !यू.पी.पी.सी.एस. परीक्षा 2017 चयनित उम्मीदवार.UPSC CSE 2020 : प्रारंभिक परीक्षा टेस्ट सीरीज़

मेन्स प्रैक्टिस प्रश्न

  • अंतर्वेधी आकृतियों (Intrusive forms) से आप क्या समझते है? विभिन्न अंतर्वेधी आकृतियों का संक्षेप में वर्णन करें।

    02 Dec, 2018 सामान्य अध्ययन पेपर 1 भूगोल

    उत्तर :

    भूमिका में:


    भूमिका में हम ज्वालामुखी उद्गार से बनी आकृतियों के बारे में बताते हुए उत्तर आरंभ करेंगे-

    ज्वालामुखी उद्गार से निकला लावा जब भूपटल के अंदर ही ठंडा हो जाता है तो इस प्रव्रिया में कई आकृतियों का निर्माण होता है जो अंतर्वेधी आकृतियाँ कहलाती हैं।

    विषय-वस्तु में:


    विषय-वस्तु में हम आग्नेय शैलों का निर्माण और उनके वर्गीकरण को स्पष्ट करते हुए अंतर्वेधी आकृतियों के बारे में बताएंगे-

    ज्वालामुखी उद्गार से निकलने वाले लावा के ठंउा होने से आग्नेय शैल का निर्माण होता है। यह लावा या तो धरातल पर पहुँचकर ठंडा और जमा होता है या धरातल तक पहुँचने से पहले भूपटल के नीचे ही ठंडा हो जाता है। लावा के ठंडा होने के स्थान के आधार पर आग्नेय शैलें- ज्वालामुखी शैलों (धरातल के ऊपर) और पाताली शैलों (धरातल के नीचे) में वर्गीकृत की गई हैं। जब यह लावा धरातल के नीचे ठंडा होता है तो कई आकृतियों का निर्माण होता है जिन्हें अंतर्वेधी आकृतियाँ कहते हैं। कुछ अंतर्वेधी शैलें निम्नलिखित हैं-

    • बैथोलिथ- ये ग्रेनाइट के बने पिंड होते हैं जिनका निर्माण मैग्मा भंडारों के जमाव से होता है। यदि मैग्मा का बड़ा भाग भूपर्पटी में अधिक गहराई पर ठंडा हो जाए तो यह एक गुंबद के आकार में विकसित हो जाता है। कालांतर में अनाच्छादन प्रव्रियाओं द्वारा इनके ऊपर के पदार्थों के हटने से धरातल पर ये प्रकट होते हैं।

    उदाहरण- कैलिफोर्निया का सियरा नेवादा

    • लैकोलिथ- ये गुंबद के आकार की विशाल अंतर्वेधी चट्टानें हैं जो गहराई में पाई जाती हैं। इनका तल सपाट और एक नली द्वारा नीचे से जुड़ा होता है।

    उदाहरण- ऊटा (Utah) का हेनरी पर्वत

    • लैपोलिथ, फैकोलिथ व सिल

    ऊपर उठते हुए लावा का कुछ भाग जब क्षैतिज रूप में पाए जाने वाले कमज़ोर धरातल में चला जाता है तो अलग-अलग आकृतियों का निर्माण होता है। यदि यह तश्तरी के आकार में जम जाए तो लैपोलिथ कहलाता है और अगर अंतर्वेधी आग्नेट चट्टानों की मोड़दार अवस्था में लावा का जमाव होता है तो ये फैकोलिथ कहलाती हैं।

    अंतर्वेधी आग्नेय चट्टानों का क्षैतिज तल में एक चादर के रूप में ठंडा होना सिल या शीट कहलाता है। कम मोटाई वाले जमाव ‘शीट’ एवं घने मोटाई वाले जमाव ‘सिल’ कहलाते हैं।

    उदाहरण- उत्तरी इंग्लैंड का विन-सिल

    • डाइक- जब दरारों में धरातल के समकोण पर लावा का प्रवाह होता है और अगर यह इसी स्थिति में ठंडा हो जाए तो दीवार की भाँति एक संरचना का निर्माण होता है। इसे ही डाइक कहा जाता है। उदाहरण के तौर पर हम देखते हैं कि पश्चिम महाराष्ट्र क्षेत्र की अंतर्वेधी आग्नेय चट्टानों में यह आकृति काफी पाई जाती है।

    निष्कर्ष


    अंत में प्रश्नानुसार सारगर्भित, संक्षिप्त एवं संतुलित निष्कर्ष लिखें-

    नोट: आप चाहें तो अपने उत्तर को बेहतर बनाने के लिये प्रत्येक प्रतिरूप के नीचे उसका डायग्राम भी बना सकते हैं।

एसएमएस अलर्ट
 

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

प्रोग्रेस सूची देखने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

आर्टिकल्स को बुकमार्क करने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close