इंदौर शाखा: IAS और MPPSC फाउंडेशन बैच-शुरुआत क्रमशः 6 मई और 13 मई   अभी कॉल करें
ध्यान दें:

मेन्स प्रैक्टिस प्रश्न

  • प्रश्न :

    पर्यावरणीय नैतिकता में जैव केंद्रवाद (Biocentrism) की अवधारणा एवं पारिस्थितिकी संरक्षण के लिये इसके निहितार्थ पर चर्चा कीजिये। (150 शब्द)

    15 Feb, 2024 सामान्य अध्ययन पेपर 4 सैद्धांतिक प्रश्न

    उत्तर :

    हल करने का दृष्टिकोण:

    • पर्यावरणीय नैतिकता में जैव केंद्रवाद का संक्षिप्त परिचय लिखिये।
    • पारिस्थितिक संरक्षण पर जैव केंद्रवाद के निहितार्थ का उल्लेख कीजिये।
    • तद्नुसार निष्कर्ष लिखिये।

    परिचय:

    जैव केंद्रवाद (Biocentrism) एक नैतिक परिप्रेक्ष्य है जो मानता है, कि सभी जीवित प्राणियों में अंतर्निहित मूल्य हैं और वे नैतिक विचार के पात्र हैं। जैव केंद्रवाद (Biocentrism) पारंपरिक मानवकेंद्रित दृष्टिकोण को यह चुनौती देता है कि केवल मनुष्य ही नैतिक रूप से मायने रखते हैं और नैतिक परिस्थिति का दायरा जानवरों, पौधों एवं यहाँ तक ​​कि पारिस्थितिक प्रणालियों तक विसरित होते हैं। जैव केंद्रवाद (Biocentrism) की जड़ें विभिन्न धार्मिक और दार्शनिक परंपराओं, जैसे- बौद्ध धर्म, जैन धर्म आदि में स्थित हैं। 20वीं सदी के अंत में जैव केंद्रवाद (Biocentrism) एक प्रमुख पर्यावरणीय नैतिकता के रूप में उभरा, जो पशु कल्याण, जैवविविधता, जलवायु परिवर्तन और संरक्षण जैसे मुद्दों को संबोधित करता है।

    मुख्य भाग:

    जैव केंद्रवाद (Biocentrism), नैतिक परिप्रेक्ष्य जो सभी जीवित प्राणियों पर आंतरिक मूल्य रखता है, पारिस्थितिक संरक्षण पर गहरा प्रभाव डालता है। पारिस्थितिक तंत्र और उसके भीतर के जीवों के हित को प्राथमिकता देकर, जैव केंद्रवाद (Biocentrism) पर्यावरण संरक्षण के लिये एक समग्र दृष्टिकोण प्रदान करता है।

    • पारिस्थितिकी तंत्र की अखंडता और लचीलापन:
      • जैव केंद्रवाद (Biocentrism) पारिस्थितिक तंत्र को अन्योन्याश्रित जीव रूपों के जटिल जाल के रूप में पहचानता है।
      • पारिस्थितिक संतुलन और लचीलापन बनाए रखने के लिये पारिस्थितिकी तंत्र की अखंडता को संरक्षित करने के महत्त्व पर ज़ोर दिया गया है।
      • संरक्षण रणनीतियों का समर्थन करता है, जो व्यक्तिगत प्रजातियों के बजाय संपूर्ण पारिस्थितिक तंत्र की सुरक्षा को प्राथमिकता देते हैं।
    • जैवविविधता संरक्षण:
      • मनुष्यों के लिये इसकी उपयोगिता की परवाह किये बिना, प्रत्येक प्रजाति के आंतरिक मूल्य को स्वीकार करता है।
      • पारिस्थितिकी तंत्र के स्वास्थ्य और कामकाज के लिये जैवविविधता के संरक्षण को आवश्यक बताया गया है।
      • आवासों की सुरक्षा और लुप्तप्राय प्रजातियों को विलुप्त होने से बचाने के उद्देश्य से संरक्षण प्रयासों का समर्थन करता है।
    • गैर-मानव पशुओं के साथ नैतिक व्यवहार:
      • जैव केंद्रवाद (Biocentrism) गैर-मानवीय जीवों पर नैतिक विचार व्यक्त करता है, यह पीड़ा, खुशी और आंतरिक मूल्य का अनुभव करने की उनकी क्षमता को पहचानता है।
      • संरक्षण प्रथाओं में जानवरों के साथ नैतिक व्यवहार का समर्थन करता है, जैसे कि आवास विनाश को कम करना और अनावश्यक क्षति से बचना।
    • सतत् संसाधन प्रबंधन:
      • भावी पीढ़ियों के लिये उनकी उपलब्धता सुनिश्चित करने हेतु प्राकृतिक संसाधनों के सतत् उपयोग को बढ़ावा देता है।
      • उन प्रथाओं को प्रोत्साहित करता है, जो पर्यावरणीय क्षय और पारिस्थितिक तंत्र की कमी को कम करती हैं।
      • जलवायु परिवर्तन को कम करने के लिये नवीकरणीय ऊर्जा स्रोतों को बढ़ावा देने और कार्बन उत्सर्जन को कम करने के उद्देश्य से पहल का समर्थन करता है।
    • परस्पर जुड़ाव और अन्योन्याश्रयिता:
      • जैव केंद्रवाद (Biocentrism), पारिस्थितिक तंत्र के भीतर सभी जीव रूपों के अंतर्संबंध और अन्योन्याश्रयिता पर प्रकाश डालता है।
      • इसमें राजनीतिक और भौगोलिक सीमाओं से परे सहयोगात्मक संरक्षण प्रयासों की आवश्यकता पर ज़ोर दिया गया है।
      • वैश्विक पर्यावरणीय चुनौतियों से निपटने के लिये सरकारों, समुदायों और संरक्षण संगठनों सहित विभिन्न हितधारकों के बीच साझेदारी को प्रोत्साहित करता है।
    • सांस्कृतिक एवं आध्यात्मिक आयाम:
      • विविध मानव समाजों में प्रकृति के सांस्कृतिक और आध्यात्मिक महत्त्व को पहचानता है।
      • संरक्षण संबंधी निर्णय लेने में पारंपरिक पारिस्थितिक ज्ञान और स्वदेशी ज्ञान को महत्त्व प्रदान करता है।
      • व्यक्तियों और समुदायों के बीच प्रकृति के साथ गहरे संबंध और पृथ्वी के प्रति समर्पण की भावना को बढ़ावा देता है।

    निष्कर्ष:

    जैव केंद्रवाद (Biocentrism) हमारे पारिस्थितिकी संरक्षण को समझने और उसके दृष्टिकोण में एक आदर्श बदलाव प्रदान करता है। सभी जीवित प्राणियों और पारिस्थितिकी तंत्रों के आंतरिक मूल्य को पहचानकर, जैव केंद्रवाद (Biocentrism) स्थायी पर्यावरणीय प्रबंधन के लिये एक नैतिक आधार प्रदान करता है। जैव केंद्रित सिद्धांतों को अपनाने से अधिक समग्र और प्रभावी संरक्षण रणनीतियाँ बन सकती हैं, जो अंततः मनुष्यों तथा प्राकृतिक दुनिया के बीच सामंजस्यपूर्ण संबंध को बढ़ावा दे सकती हैं।

    To get PDF version, Please click on "Print PDF" button.

    Print
close
एसएमएस अलर्ट
Share Page
images-2
images-2
× Snow