दृष्टि ज्यूडिशियरी का पहला फाउंडेशन बैच 11 मार्च से शुरू अभी रजिस्टर करें
ध्यान दें:

मेन्स प्रैक्टिस प्रश्न

  • प्रश्न :

    आप मुंबई पुलिस के एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी हैं। आपको हाल ही में पता चलता है कि आपके एक अधीनस्थ ने एक वर्चुअल क्रिकेट टीम बनाकर एक फैंटेसी स्पोर्ट्स एप पर 2 करोड़ रुपए जीते हैं। उसने आपसे अनुमति लिये बिना (वर्दी पहनकर) मीडिया में साक्षात्कार भी दिया है और रातोंरात एक सेलिब्रिटी बन गया है। हालाँकि, आप यह भी जानते हैं कि ऐसे गेम खेलना कई लोगों द्वारा अनैतिक एवं सामाजिक रूप से अस्वीकार्य माना जाता है, तथा ऐसे एप की वैधता और नैतिकता के बारे में पहले से ही बहस चल रही है। आपको चिंता है कि उसके कृत्य से पुलिस बल की छवि एवं प्रतिष्ठा खराब हो सकती है, जो अन्य अधिकारियों के साथ-साथ आम लोगों के लिये भी एक बुरा उदाहरण बन सकता है।

    (a) इस मामले से संबंधित नैतिक मुद्दे कौन-से हैं?

    (b) उसके वरिष्ठ अधिकारी के रूप में आप कौन से संभावित कदम उठा सकते हैं?

    (c) प्रत्येक कार्यवाही से जुड़े लाभ और हानि क्या हैं?

    (d) आप कार्रवाई का कौन सा तरीका चुनेंगे और क्यों?

    03 Nov, 2023 सामान्य अध्ययन पेपर 4 केस स्टडीज़

    उत्तर :

    हल करने का दृष्टिकोण:

    • उत्तर की शुरुआत संक्षिप्त परिचय के साथ कीजिये।
    • मामले में शामिल नैतिक मुद्दों पर संभावित कार्रवाइयों के तरीकों, इन कार्रवाइयों के लाभ और हानि तथा आपके द्वारा की जाने वाली कार्रवाई के बारे में चर्चा कीजिये।
    • आगे की राह के साथ उत्तर का समापन कीजिये।

    परिचय:

    मुंबई पुलिस के प्रभारी, वरिष्ठ पुलिस अधिकारी के रूप में मुझे एक संवेदनशील स्थिति के बारे में पता चला है कि एक अधीनस्थ ने - वर्चुअल क्रिकेट टीम बनाकर एक फैंटेसी स्पोर्ट्स एप पर 2 करोड़ रुपए जीते हैं। उसने मेरी अनुमति लिये बिना (वर्दी पहनकर) मीडिया में साक्षात्कार भी दिया है जो कि नैतिक चिंता का कारण है, उसके इस कृत्य से पुलिस बल की छवि और प्रतिष्ठा खराब हो सकती है, यह कृत्य अन्य अधिकारियों के साथ-साथ आम लोगों के लिये भी एक बुरा उदाहरण बन सकता है। हम कार्रवाई का सर्वोत्तम तरीका निर्धारित करने हेतु इसके नैतिक मुद्दों, विकल्पों तथा उनके पक्ष व विपक्ष पर चर्चा करेंगे।

    मुख्य भाग:

    मामले में शामिल नैतिक मुद्दे:

    • वर्दी का दुरुपयोग: बिना अनुमति अधिकारियों (वर्दी में) द्वारा मीडिया में साक्षात्कार देना पुलिस की वर्दी के दुरुपयोग, सार्वजनिक विश्वास में कमी और व्यावसायिकता को नुकसान जैसी संभावनाओं के बारे में चिंता बढ़ा सकता है।
    • हितों का टकराव: एक पुलिस अधिकारी के रूप में फैंटेसी स्पोर्ट्स एप पर पैसा जीतना हितों के टकराव की स्थिति पैदा कर सकता है, जो वित्तीय लाभ के लिये ऑन-ड्यूटी कार्यों को प्रभावित कर सकता है।
    • नैतिक ज़िम्मेदारी: जनता का विश्वास बनाए रखना पुलिस अधिकारियों का नैतिक कर्त्तव्य है; संदिग्ध गतिविधियों में शामिल होने से यह भरोसा समाप्त हो सकता है।
    • दूसरों हेतु रोल मॉडल: अधिकारियों को दूसरों के लिये एक उदाहरण स्थापित करना चाहिये, क्योंकि एक अधिकारी के कार्य उसके साथी अधिकारियों और जनता दोनों पर नकारात्मक प्रभाव डाल सकते हैं।
    • ऐसी गतिविधि जिसकी वैधता और नैतिकता सवालों के घेरे में हो: फैंटेसी स्पोर्ट्स एप जैसी विवादित गतिविधि में उसकी भागीदारी को अधिकारी द्वारा समर्थन के रूप में माना जा सकता है, जो नैतिक दुविधा को बढ़ाता है।
    • सार्वजनिक धारणा: अधिकारी की अचानक प्रसिद्धि और प्राप्त धन इस धारणा को जन्म दे सकता है कि अधिकारी अपने कर्त्तव्यों की अवहेलना कर आसानी से पैसा कमा सकते हैं, जिससे उनकी प्राथमिक ज़िम्मेदारियों के बारे में नैतिक चिंताएँ बढ़ सकती हैं।

    एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी के रूप में मेरे पास कार्रवाई के कई संभावित तरीके हैं:

    • कोई कार्रवाई न करना: इस दृष्टिकोण से अधीनस्थ का व्यवहार जारी रह सकता है, जिससे संभावित रूप से पुलिस बल की छवि और प्रतिष्ठा को और अधिक नुकसान हो सकता है।
    • चेतावनी देना या फटकार लगाना: यह कार्रवाई अधीनस्थों और अन्य अधिकारियों के लिये एक निवारक के रूप में काम कर सकती है, जो फैंटेसी स्पोर्ट्स एप से जुड़ी नैतिक चिंताओं को उजागर करती है।
    • अधीनस्थ को निलंबित या स्थानांतरित करना: गंभीर अनुशासनात्मक कार्रवाई करके आप अधीनस्थ के व्यवहार की अस्वीकार्यता और उसके संभावित परिणामों के बारे में एक मज़बूत संदेश प्रेषित कर सकते हैं।
    • अधीनस्थ से बात करना: यह दृष्टिकोण आपको अधीनस्थ के परिप्रेक्ष्य को समझने और उसे फैंटेसी स्पोर्ट्स एप से जुड़ी नैतिक चिंताओं के बारे में शिक्षित करने में मदद कर सकता है।

    प्रत्येक कार्यवाही के लाभ और हानि:

    • कोई कदम न उठाना:
      • लाभ: यह अधीनस्थ को व्यक्तिगत स्वतंत्रता का प्रयोग करने की अनुमति देता है।
      • हानि: नैतिक चिंताओं और पुलिस बल की छवि को संभावित नुकसान को संबोधित करने में विफल।
    • चेतावनी या फटकार:
      • लाभ: अधीनस्थ के व्यवहार की नैतिक चिंताओं और संभावित परिणामों पर प्रकाश डालता है।
      • हानि: यह कदम पर्याप्त रूप से निवारक नहीं हो सकता है और आपके तथा अधीनस्थ के बीच संबंधों में तनाव पैदा कर सकता है।
    • अधीनस्थ को निलंबित या स्थानांतरित करना:
      • लाभ: यह अधीनस्थ के व्यवहार की अस्वीकार्यता और उसके संभावित परिणामों के बारे में एक मज़बूत संदेश प्रेषित करेगा।
      • हानि: यह कदम अंतर्निहित नैतिक चिंताओं का समाधान नहीं कर सकता।
    • अधीनस्थ से बात करना:
      • लाभ : इससे अधीनस्थों के परिप्रेक्ष्य की बेहतर समझ और उन्हें नैतिक चिंताओं के बारे में शिक्षित करने का अवसर मिलता है।
      • हानि: यह अधीनस्थ के व्यवहार को बदलने में प्रभावी नहीं हो सकता है और समय लेने वाला हो सकता है।

    कार्रवाई का उपयुक्त तरीका:

    पुलिस बल की छवि और प्रतिष्ठा पर संभावित प्रभाव के साथ-साथ फैंटेसी स्पोर्ट्स एप से जुड़ी नैतिक चिंताओं को संबोधित करने की आवश्यकता को ध्यान में रखते हुए कार्रवाई का सबसे उपयुक्त तरीका अधीनस्थ के साथ बात करना होगा। यह दृष्टिकोण अधीनस्थों के परिप्रेक्ष्य को बेहतर ढंग से समझने का अवसर देता है तथा साथ ही उन्हें नैतिक चिंताओं व संभावित परिणामों के बारे में शिक्षित करने का अवसर भी प्रदान करता है।

    निष्कर्ष:

    मैं इस दृष्टिकोण को चुनूँगा क्योंकि यह नैतिक चिंताओं को संबोधित करने की आवश्यकता को संतुलित करता है और अधीनस्थों को उनकी गलतियों से सीखने का अवसर भी प्रदान करता है। हालाँकि यदि इस प्रकार का व्यवहार जारी रहता है, तो पुलिस बल की प्रतिष्ठा की रक्षा तथा नैतिक मानकों का अनुपालन सुनिश्चित करने के लिये निलंबन या स्थानांतरण जैसे अधिक गंभीर उपाय आवश्यक हो सकते हैं। अंततः कार्रवाई का चुनाव अधीनस्थ की प्रतिक्रिया एवं स्थिति की गंभीरता से निर्धारित होगा।

    To get PDF version, Please click on "Print PDF" button.

    Print
close
एसएमएस अलर्ट
Share Page
images-2
images-2