दृष्टि ज्यूडिशियरी का पहला फाउंडेशन बैच 11 मार्च से शुरू अभी रजिस्टर करें
ध्यान दें:

मेन्स प्रैक्टिस प्रश्न

  • प्रश्न :

    आप एक ऐसे ज़िले के पुलिस अधीक्षक हैं जहाँ महिलाओं के खिलाफ अपराध (जैसे बलात्कार, दहेज उत्पीड़न, घरेलू हिंसा आदि) की घटनाएँ अधिक होती हैं। आप पुलिसकर्मियों को संवेदनशील बनाने के साथ लोगों में जागरूकता पैदा करने, कानूनी तथा चिकित्सा सहायता प्रणालियों को मजबूत करने आदि के माध्यम से इस स्थिति में सुधार करने की कोशिश कर रहे हैं। हालाँकि आपको अपने प्रयासों में कई चुनौतियों और बाधाओं का सामना करना पड़ता है जिसमें पर्याप्त कर्मचारियों और बुनियादी ढाँचे की कमी, राजनीतिक हस्तक्षेप और दबाव, सामाजिक कलंक और पूर्वाग्रह, मीडिया द्वारा मामले को सनसनीखेज बनाना एवं जन-दबाव आदि शामिल हैं। एक दिन आपको एक महिला का फोन आता है जो दावा करती है कि उसके साथ चार पुरुषों ने सामूहिक बलात्कार किया है जो समाज में काफी प्रभावशाली स्थिति में हैं। वह कहती है कि वह अपनी सुरक्षा और प्रतिष्ठा के डर से पुलिस स्टेशन या अस्पताल जाने से डर रही है। वह आपसे मदद करने का अनुरोध करती है।

    • इस मामले में शामिल नैतिक दुविधाएँ क्या हैं?
    • इस स्थिति से निपटने के लिये आपके पास कौन से संभावित विकल्प उपलब्ध हैं?
    • इस संदर्भ में आपकी कार्रवाई क्या होगी और क्यों?
    26 May, 2023 सामान्य अध्ययन पेपर 4 केस स्टडीज़

    उत्तर :

    हल करने का दृष्टिकोण:

    • इस समस्या का संक्षिप्त परिचय देते हुए अपना उत्तर प्रारंभ कीजिये।
    • इस मामले में शामिल विभिन्न हितधारकों के बारे में चर्चा कीजिये।
    • इस मामले में शामिल नैतिक दुविधाओं पर चर्चा कीजिये।
    • इस संदर्भ में उपलब्ध विकल्पों तथा की जाने वाली कार्रवाई के क्रम पर चर्चा कीजिये।
    • तदनुसार निष्कर्ष दीजिये।

    परिचय:

    इस मामले में एक महिला (जिसके साथ चार प्रभावशाली लोगों ने सामूहिक बलात्कार किया है), पुलिस अधीक्षक से मदद मांगती है। वह अपनी सुरक्षा और प्रतिष्ठा के डर से पुलिस स्टेशन या अस्पताल जाने से डरती है। पुलिस अधीक्षक के रूप में कई चुनौतियों और बाधाओं के आलोक में मुझे ज़िले में महिलाओं के खिलाफ होने वाली आपराधिक घटनाओं से निपटने के साथ पीड़ितों के लिये न्याय और सुरक्षा सुनिश्चित कराना आवश्यक है।

    शामिल हितधारक:

    • पीड़िता व उसके परिजन
    • एसपी के रूप में स्वयं मैं
    • पुलिसकर्मी
    • मेडिकल पेशेवर
    • दोषी व्यक्ति और उनके संबंधी
    • आमजन और मीडिया

    इसमें शामिल नैतिक दुविधाएँ:

    • सुरक्षा का कर्त्तव्य: एक पुलिस अधीक्षक के रूप में पीड़ित सहित जिले में सभी व्यक्तियों की सुरक्षा और कल्याण करना मेरा कर्त्तव्य है।
    • न्याय और निष्पक्षता: इस मामले में अपराधी काफी प्रभावशाली स्थिति में हैं। इससे संभावित राजनीतिक हस्तक्षेप और दबाव के बारे में चिंताएँ पैदा होती हैं जो निष्पक्ष जाँच प्रक्रिया में बाधा बन सकती हैं।
    • गोपनीयता और विश्वास: पीड़िता ने डर व्यक्त किया है कि अगर उसका मामला सबके सामने आता है तो उसकी प्रतिष्ठा से समझौता होगा। इसीलिये पीड़िता की गोपनीयता का सम्मान करना आवश्यक है।

    उपलब्ध विकल्प:

    1. समस्या को तत्काल रिपोर्ट करना: समस्या को तत्काल रिपोर्ट कर इस संदर्भ में कार्रवाई करना।

    • गुण:
      • साक्ष्य जुटाना: इससे समय पर DNA नमूने, गवाह के बयान या निगरानी फुटेज जैसे सटीक साक्ष्य एकत्र करने की संभावना बढ़ जाती है।
      • शीघ्र कार्रवाई होना: कानून प्रवर्तन इकाइयों द्वारा तत्काल कार्रवाई शुरू हो सकेगी जैसे कि लुकआउट नोटिस जारी करना, तलाशी लेना या संदिग्धों को पकड़ना। इससे आरोपी को भागने या सबूतों के साथ छेड़छाड़ करने से रोका जा सकता है।
      • पीड़िता को सहायक सेवाएँ मिलना: इससे सुनिश्चित होगा कि पीड़िता को समय पर चिकित्सा सहायता, परामर्श और सहायक सेवाएँ प्राप्त हो सकें। इससे पीड़िता को भावनात्मक और मनोवैज्ञानिक सहायता प्राप्त होगी।
      • कानूनी कार्रवाई होना: अपराध की तत्काल रिपोर्ट करने से दोषी पर कानूनी प्रक्रिया शुरू की जा सकेगी।
    • दोष:
      • प्रतिशोध का डर: पीड़िता को दोषियों या उनके सहयोगियों से बदले की कार्रवाई का डर हो सकता है।
      • भावनात्मक संकट: घटना के तुरंत बाद पीड़िता भावनात्मक रूप से परेशान हो सकती है जिससे उसके लिये अपराध की रिपोर्ट करने के लिये आवश्यक शक्ति या संयम बनाए रखना मुश्किल हो सकता है।
      • सामाजिक कलंक और पूर्वाग्रह: किसी अपराध (विशेष रूप से यौन शोषण) की रिपोर्ट करने से पीड़िता को सामाजिक कलंक या पूर्वाग्रही व्यवहार का सामना करना पड़ सकता है।
      • पीड़िता को अन्य परेशानी होना: अपराध की तुरंत रिपोर्ट करने से पीड़िता को जाँच प्रक्रिया एवं बार-बार पूछताछ के कारण अतिरिक्त परेशानी हो सकती है।

    2. रिपोर्टिंग के वैकल्पिक तरीकों की तलाश करना: इस मामले में पीड़िता डरी हुई है इसीलिये इसमें गैर सरकारी संगठनों, महिला सहायता संगठनों को शामिल करने जैसे वैकल्पिक तरीकों पर विचार किया जा सकता है।

    • गुण:
      • सुरक्षा प्राप्त होना: इससे पीड़िता को अधिक सुरक्षित माहौल मिल सकता है तथा वह दोषियों के तत्काल प्रतिशोध के जोखिम से बच सकती है।
      • पीड़िता के विश्वास में वृद्धि होना: इससे पीड़िता अपनी समस्याओं को साझा करने में अधिक सहज महसूस कर सकती है, जिससे उसके द्वारा इस संदर्भ में महत्त्वपूर्ण जानकारी प्रदान करने की संभावना बढ़ जाती है।
      • कलंक और पूर्वाग्रह में कमी आना: पुलिस थानों जैसी औपचारिक संस्थाओं के तत्काल हस्तक्षेप से बचकर पीड़िता, सामाजिक कलंक या पूर्वाग्रह के प्रति कम जोखिम महसूस कर सकती है।
      • सहायक संगठनों से सहयोग मिलना: वैकल्पिक तरीकों में अक्सर गैर-सरकारी संगठनों और सहायक संगठनों से सहयोग मिलना शामिल होता है। ये संगठन व्यापक समर्थन, परामर्श, कानूनी सलाह और अन्य सेवाएँ प्रदान कर सकते हैं।
    • दोष:
      • सबूतों के संग्रह में देरी होना: वैकल्पिक रिपोर्टिंग विकल्पों को चुनने से महत्त्वपूर्ण साक्ष्य संग्रह करने में देरी हो सकती है जिससे जाँच और अभियोजन के दौरान मामला कमजोर हो सकता है।
      • जाँच क्षमता का सीमित होना: यदि पीड़िता पुलिस को तुरंत रिपोर्ट नहीं करती है तो इससे औपचारिक जाँच करना चुनौतीपूर्ण या सीमित हो सकता है।
      • हस्तक्षेप के साथ पीड़िता पर अनावश्यक दबाव की संभावना: यदि दोषी व्यक्ति प्रभावशाली हैं तो राजनीतिक हस्तक्षेप के साथ पीड़िता पर मामले को दबाने का दबाव डाला जा सकता है।
      • आधिकारिक दस्तावेज़ीकरण का अभाव: इससे आधिकारिक दस्तावेज़ीकरण या साक्ष्यों की कमी के परिणामस्वरूप औपचारिक कानूनी प्रक्रिया के तहत पीड़िता को न्याय प्राप्त करना मुश्किल हो सकता है।
      • संसाधनों की आवश्यकता: इसमें अतिरिक्त संसाधनों के साथ विभिन्न हितधारकों जैसे- गैर सरकारी संगठनों, सहायक संगठनों और कानून प्रवर्तन एजेंसियों के बीच समन्वय की आवश्यकता हो सकती है। जिससे चुनौतियाँ पैदा हो सकती हैं।

    कार्रवाई का उचित क्रम:

    • पीड़िता को आश्वस्त करना:
      • पूरी प्रक्रिया के दौरान पीड़िता से व्यक्तिगत रूप से बात कर उसकी गोपनीयता का ध्यान रखने के साथ उसकी सुरक्षा का आश्वासन देना।
      • पीड़िता को उपलब्ध सहायक सेवाओं के साथ चिकित्सा के महत्त्व के बारे में जानकारी प्रदान करना।
    • तत्काल सुरक्षा उपाय प्रदान करना:
      • सुरक्षाकर्मी उपलब्ध कराने के साथ सुरक्षित स्थान प्रदान कर पीड़िता की तत्काल सुरक्षा की व्यवस्था करना।
      • पुलिस स्टेशन या अस्पताल जाने के क्रम में पीड़िता की सुरक्षा सुनिश्चित करना।
    • गोपनीय रिपोर्टिंग:
      • पीड़िता को गोपनीय रिपोर्टिंग का विकल्प प्रदान करना जिसके तहत वह किसी विश्वसनीय अधिकारी से सीधे शिकायत करने के साथ महिलाओं के खिलाफ अपराधों के समाधान हेतु समर्पित हेल्पलाइन का सहारा ले सकती है।
      • पीड़िता को आश्वस्त करना कि जाँच और कानूनी कार्यवाही के दौरान उसकी पहचान गोपनीय रखी जाएगी।
    • पीड़िता और उसके परिवार को सुरक्षा प्रदान करना:
      • पीड़िता की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिये महिला पुलिस अधिकारियों को लगाना।
      • चूँकि आरोपी प्रभावशाली व्यक्ति हैं इसलिये ये पीड़िता पर मामला वापस लेने का दबाव बना सकते हैं।
    • स्वतंत्र जाँच सुनिश्चित करना:
      • जाँच हेतु वरिष्ठ और अनुभवी अधिकारी को नियुक्त करने के साथ यह सुनिश्चित करना कि वह निष्पक्ष होने के साथ राजनीतिक हस्तक्षेप से मुक्त हो।
      • बाहरी प्रभाव या पूर्वाग्रह का पता लगाने तथा रोकने के लिये जाँच प्रगति की निगरानी करना।
    • सहायक सेवाओं की व्यवस्था करना:
      • पूरी प्रक्रिया के दौरान भावनात्मक समर्थन और मार्गदर्शन प्रदान करने के लिये पीड़िता को परामर्शदाताओं, मनोवैज्ञानिकों या सहायक संगठनों द्वारा सहायता प्रदान करना।
      • पीड़िता को सहायता प्रदान करने के लिये गैर सरकारी संगठनों और सहायक संगठनों के साथ सहयोग करना।
    • कानूनी सहयोग प्रदान करना:
      • कार्रवाई के दौरान पीड़िता को सहायक कानूनी सेवाओं को प्रदान करना।
      • अभियोजकों और कानूनी अधिकारियों के साथ सहयोग करना ताकि अपराधियों को कठोर सजा मिलने के साथ पीड़िता के अधिकारों की रक्षा की जा सके।
    • जन जागरूकता और मीडिया प्रबंधन:
      • पीड़िता की गोपनीयता का सम्मान करते हुए इस मामले के बारे में सटीक और संतुलित जानकारी प्रदान करने हेतु मीडिया के साथ समन्वय करना।
      • यह भी सुनिश्चित करना कि मीडिया द्वारा मामले को संवेदनशील न बनाया जाए।
      • महिलाओं के खिलाफ अपराधों, उनके प्रभावों और पीड़ितों को समर्थन देने के महत्त्व के संबंध में लोगों को शिक्षित करने हेतु जागरूकता अभियान चलाना।

    निष्कर्ष:

    एक पुलिस अधीक्षक के रूप में मेरा यह कर्त्तव्य है कि महिलाओं की सुरक्षा के साथ पीड़िता के लिये न्याय सुनिश्चित हो सके। ऐसा करने के लिये पीड़िता की सुरक्षा को प्राथमिकता देते हुए, विद्यमान परिस्थितियों और उपलब्ध संसाधनों के अनुसार अपनी कार्यशैली तैयार करूँगा। इसके साथ पीड़िता को न्याय हेतु आश्वस्त करने, इस संदर्भ में जानकारी एकत्र करने, गोपनीयता बनाए रखने और मामले की बारीकी से निगरानी करने पर बल दूँगा। इसके साथ ही महिलाओं के खिलाफ होने वाले अपराधों को रोकने के क्रम में जागरूकता बढ़ाने, पुलिसकर्मियों को संवेदनशील बनाने एवं इसमें विभिन्न हितधारकों की भागीदारी को सुनिश्चित करूँगा।

    To get PDF version, Please click on "Print PDF" button.

    Print
close
एसएमएस अलर्ट
Share Page
images-2
images-2