प्रयागराज शाखा पर IAS GS फाउंडेशन का नया बैच 10 जून से शुरू :   संपर्क करें
ध्यान दें:

मेन्स प्रैक्टिस प्रश्न

  • प्रश्न :

    माइटोकॉन्ड्रियल रिप्लेसमेंट थेरेपी (MRT) की अवधारणा को बताते हुए मानव स्वास्थ्य तथा प्रजनन पर इसके संभावित प्रभावों की चर्चा कीजिये। (250 शब्द)

    24 May, 2023 सामान्य अध्ययन पेपर 3 विज्ञान-प्रौद्योगिकी

    उत्तर :

    हल करने का दृष्टिकोण:

    • माइटोकॉन्ड्रियल रिप्लेसमेंट थेरेपी को परिभाषित करते हुए अपना उत्तर शुरू कीजिये।
    • मुख्य भाग में इसके संभावित प्रभावों का उल्लेख कीजिये।
    • तदनुसार निष्कर्ष दीजिये।

    परिचय:

    माइटोकॉन्ड्रियल रिप्लेसमेंट थेरेपी (MRT) एक ऐसी चिकित्सा तकनीक है जिसका उद्देश्य माँ से उसकी संतान में होने वाले माइटोकॉन्ड्रियल रोगों के संचरण को रोकना है। माइटोकॉन्ड्रियल रोग, माइटोकॉन्ड्रिया के डीएनए में उत्परिवर्तन के कारण होने वाले आनुवंशिक विकार हैं। ये उत्परिवर्तन शरीर में विभिन्न अंगों और प्रणालियों को प्रभावित करने वाली गंभीर स्वास्थ्य स्थितियों को जन्म दे सकते हैं।

    मुख्य भाग:

    मानव स्वास्थ्य और प्रजनन के लिये इस प्रक्रिया के कुछ संभावित निहितार्थ हैं जैसे:

    • माइटोकॉन्ड्रियल रोगों के संचरण को रोकना: mtDNA में होने वाले उत्परिवर्तन (जो गंभीर माइटोकॉन्ड्रियल बीमारियों का कारण बनता है) के संचरण को रोकने के लिये MRT द्वारा दोषपूर्ण माइटोकॉन्ड्रिया को स्थानांतरित किया जाता है ।
    • सुरक्षा और प्रभावशीलता: इसमें सुरक्षा और प्रभावशीलता से संबंधित चुनौतियाँ हो सकती हैं क्योंकि MRT के दीर्घकालिक प्रभाव अज्ञात होने के साथ इससे संबंधित तकनीकें अभी भी प्रायोगिक स्तर पर हैं।
    • अनपेक्षित परिणाम: आलोचकों का तर्क है कि इस प्रक्रिया के अनपेक्षित परिणाम हो सकते हैं और इससे डिज़ाइनर शिशुओं या आनुवंशिक स्तर पर परिवर्तन की प्रवृत्ति को प्रेरणा मिल सकती है।
    • विरासत और आनुवंशिक पहचान: MRT प्रक्रिया में दाता से आनुवंशिक सामग्री को लिया जाता है, जिससे किसी अन्य (तीसरे) व्यक्ति के माइटोकॉन्ड्रियल डीएनए के तत्त्व ग्राही जीव में समावेशित होते हैं। इससे किसी जीव की आनुवंशिक पहचान और उसके पारिवारिक संबंधों के बारे में प्रश्नचिन्ह लगता है। व्यक्तियों की पारिवारिक गतिशीलता और मनोवैज्ञानिक कल्याण को ध्यान में रखने के साथ MRT प्रक्रिया से जुड़े व्यक्तियों पर पड़ने वाले दीर्घकालिक प्रभावों पर विचार किया जाना चाहिये।
    • सामाजिक और सांस्कृतिक प्रभाव: MRT के व्यापक सामाजिक और सांस्कृतिक प्रभाव हो सकते हैं। इससे प्रजनन, वंशानुक्रम और पारिवारिक संबंधों से जुड़ी पारंपरिक अवधारणाओं को चुनौती मिल सकती है।

    निष्कर्ष:

    माइटोकॉन्ड्रियल रिप्लेसमेंट थेरेपी में गंभीर माइटोकॉन्ड्रियल बीमारियों के संचरण को रोकने की क्षमता है लेकिन इससे नैतिकता, सुरक्षा और नियामक प्रणाली के संदर्भ में प्रश्न उठते हैं। इस तकनीक के विकास के साथ ही इससे जुड़े संभावित जोखिमों को कम करते हुए लाभों को अधिकतम करने के क्रम में अनुसंधान, मजबूत विनियमन और इसके सावधानीपूर्वक मूल्यांकन की आवश्यकता है।

    To get PDF version, Please click on "Print PDF" button.

    Print
close
एसएमएस अलर्ट
Share Page
images-2
images-2