दृष्टि ज्यूडिशियरी का पहला फाउंडेशन बैच 11 मार्च से शुरू अभी रजिस्टर करें
ध्यान दें:

मेन्स प्रैक्टिस प्रश्न

  • प्रश्न :

    आप एक सरकारी कार्यालय में कार्य करते हैं तथा आपकी विशेषज्ञता और भरोसे के कारण, आपको चुनाव ड्यूटी के लिये चुना गया है। आपकी भूमिका में मतदान केंद्र के संचालन की देखरेख, मतदान मशीनों का रखरखाव और चुनाव अधिकारियों के आचरण की निगरानी करते हुए निष्पक्ष और पारदर्शी चुनावी प्रक्रिया सुनिश्चित कराना शामिल है।

    चुनाव के दौरान आपको पता चलता है कि आपका साथी चुनाव अधिकारी (जो आपका अच्छा दोस्त है) कदाचार में लिप्त है। यह अधिकारी किसी विशेष राजनीतिक दल का पक्ष लेकर मतदान प्रक्रिया में हेरफेर करने के साथ अनाधिकृत व्यक्तियों को कई बार मतदान करने की अनुमति दे रहा है और कुछ लोगों के मतदान को रोकने की कोशिश कर रहा है। आप जानते हैं कि इस अधिकारी के कार्य से न केवल चुनाव की सत्यनिष्ठा के साथ समझौता होता है बल्कि निष्पक्षता और पारदर्शिता से संबंधित चुनावी सिद्धांतों का उल्लंघन होता है।

    इस संदर्भ में आप संभावित व्यक्तिगत परिणामों तथा चुनाव प्रक्रिया के प्रति अपने कर्त्तव्यों के बीच किस प्रकार संतुलन स्थापित करेंगे?

    19 May, 2023 सामान्य अध्ययन पेपर 4 केस स्टडीज़

    उत्तर :

    हल करने का दृष्टिकोण:

    • इस मामले का संक्षिप्त परिचय देते हुए अपना उत्तर प्रारंभ कीजिये।
    • इस मामले में शामिल विभिन्न हितधारकों के बारे में चर्चा कीजिये।
    • इस मामले में शामिल नैतिक दुविधाओं पर चर्चा कीजिये।
    • इस संबंध में उपलब्ध विकल्पों तथा आवश्यक कार्रवाई के क्रम पर चर्चा कीजिये।
    • तदनुसार निष्कर्ष दीजिये।

    परिचय:

    एक चुनाव अधिकारी के रूप में मुझे चुनाव ड्यूटी की महत्त्वपूर्ण जिम्मेदारी सौंपी गई है। मेरी विशेषज्ञता और भरोसे के कारण इस भूमिका के लिये मेरा चयन हुआ है तथा निष्पक्ष और पारदर्शी चुनावी प्रक्रिया सुनिश्चित कराने में मेरी भूमिका महत्त्वपूर्ण है। मेरे कर्तव्यों में मतदान केंद्र की निगरानी करना, मतदान मशीनों का रखरखाव करना और साथी चुनाव अधिकारियों के आचरण की निगरानी करने के साथ स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव कराना शामिल है।

    मुख्य भाग:

    शामिल हितधारक:

    • मैं और मेरा दोस्त
    • निर्वाचन आयोग
    • मतदाता
    • राजनीतिक दल
    • चुनाव अधिकारी
    • समाज

    इस मामले में शामिल नैतिक मुद्दे:

    • निष्पक्षता
    • सत्यनिष्ठा
    • जवाबदेहिता
    • सार्वजनिक हित
    • साहस

    मेरे समक्ष उपलब्ध विकल्प:

    • अपने मित्र से उसके भ्रष्ट आचरण के संबंध में बात करना: मैं अपने मित्र से व्यक्तिगत रूप से बात करने की कोशिश करूँगा और उसे उसके भ्रष्ट आचरण को रोकने के लिये सहमत करूँगा। मैं चुनाव प्रक्रिया, मतदाताओं और स्वयं के प्रति उसके कार्यों के परिणामों की नकारात्मकता के बारे में चर्चा करूँगा। मैं उससे कर्त्तव्य, नैतिकता और मित्रता की भावना का पालन करने की अपील करूँगा। इसके साथ ही मैं यह चेतावनी दूँगा कि अगर भ्रष्ट आचरण जारी रखा तो मैं इसकी रिपोर्ट भी करूँगा।
      • गुण:
        • दोस्ती पर प्रभाव न पड़ना: व्यक्तिगत रूप से बात करने से हमारी दोस्ती कायम रहने के साथ इस समस्या का हल हो सकता है।
        • आंतरिक स्तर पर समस्या का समाधान होना: आंतरिक स्तर पर समस्या का समाधान होने से मित्र की प्रतिष्ठा एवं करियर के साथ चुनाव प्रक्रिया से संबंधित नकारात्मक परिणामों को रोका जा सकता है।
      • दोष:
        • सीमित प्रभाव होना: व्यक्तिगत बातचीत एक हद तक प्रभावशाली हो सकती है लेकिन इस बात की कोई गारंटी नहीं है कि मेरा मित्र मेरे अनुसार अपने व्यवहार को बदल देगा।
        • सत्यनिष्ठा से समझौताः कदाचार की जानकारी होने पर इसकी तुरंत सूचना न देने से एक चुनाव अधिकारी के रूप में मेरी सत्यनिष्ठा के साथ समझौता होगा।
        • संभावित व्यक्तिगत और पेशेवर दुष्परिणाम: इस मुद्दे को निजी तौर पर हल करने और इसकी तुरंत रिपोर्ट न करने से मुझे इस कार्य में सहभागी के रूप में देखा जा सकता है।
    • अधिकारियों को इस समस्या से अवगत कराना: मैं इस मुद्दे की रिपोर्ट उच्च अधिकारियों या चुनाव आयोग को करूँगा। मैं उसके गलत कार्य का सबूत देते हुए तत्काल जाँच का अनुरोध करूँगा।
      • गुण:
        • चुनाव की सत्यनिष्ठा सुनिश्चित होना: कदाचार की सूचना अधिकारियों को देने से चुनाव प्रक्रिया की सत्यनिष्ठा बनाए रखने में मदद मिलेगी।
        • निष्पक्षता और पारदर्शिता को बनाए रखना: इस मुद्दे की रिपोर्ट करके मैं निष्पक्षता और पारदर्शिता के सिद्धांतों को बनाए रखूँगा जो एक लोकतांत्रिक चुनाव प्रक्रिया के लिये आवश्यक हैं। इससे चुनाव के प्रति नैतिक आचरण और लोकतांत्रिक मूल्यों की सुरक्षा के प्रति मेरी प्रतिबद्धता प्रदर्शित होगी।
        • कानूनी और संस्थागत समर्थन प्राप्त होना: इससे उपयुक्त अधिकारियों को जाँच करने और स्थापित कानूनी तथा संस्थागत प्रक्रियाओं के आधार पर आवश्यक कार्रवाई करने में सहायता मिलेगी।
        • ऐसी घटनाओं की रोकथाम होना: इससे भविष्य में कदाचार की घटनाओं को रोकने में मदद मिलने के साथ चुनावी प्रक्रिया में जनता के विश्वास को बनाए रखने में मदद मिलेगी।
      • दोष:
        • संबंधों में तनाव की संभावना: मित्र या सहकर्मी के भ्रष्ट आचरण की रिपोर्ट करने से उससे मेरे व्यक्तिगत या व्यावसायिक संबंधों में तनाव आ सकता है। इससे संघर्ष हो सकता है (खासकर अगर आरोपों में शामिल व्यक्ति पर अनुशासनात्मक कार्रवाई होने के साथ नकारात्मक कानूनी परिणाम होते हैं)।
        • प्रतिशोध या प्रतिक्रिया: इस समस्या की रिपोर्ट करने से मुझे संभावित प्रतिशोध या प्रतिक्रिया का सामना करना पड़ सकता है।
        • संभावित कार्रवाई न होना: इस समस्या की रिपोर्ट करना महत्त्वपूर्ण है लेकिन इस बात की संभावना है कि संबंधित अधिकारी कदाचार को दूर करने के लिये तत्काल या प्रभावी कार्रवाई न करें।
        • साक्ष्यों की आवश्यकता: कदाचार की रिपोर्ट हेतु पर्याप्त साक्ष्य प्रदान करना महत्त्वपूर्ण है। अगर ठोस सबूत की कमी है तो आरोपों को साबित करना चुनौतीपूर्ण हो सकता है।

    संभावित व्यक्तिगत परिणामों तथा चुनाव प्रक्रिया के प्रति अपने कर्त्तव्यों के बीच संतुलन के आलोक में मेरी कार्रवाई का क्रम:

    • अपने दोस्त से बात करना: मैं अपने दोस्त से अकेले में बात करके इस स्थिति की गंभीरता को समझाऊँगा। मैं उसे चुनाव प्रक्रिया की सत्यनिष्ठा के प्रति कर्तव्य तथा उसके कार्यों के संभावित नकारात्मक परिणामों के बारे में बताऊँगा। मैं उसे यह भी चेतावनी दूँगा कि अगर अधिकारियों को उसकी गतिविधियों के बारे में पता चला, तो वह गंभीर संकट में पड़ सकता है।
    • विश्वसनीय सहयोगियों या वरिष्ठों के साथ परामर्श करना: गोपनीयता बनाए रखते हुए मैं उन व्यक्तियों से भी सलाह (यदि आवश्यक हो) लूँगा, जिन पर मुझे भरोसा है, जिनके पास ऐसी स्थितियों से निपटने का अनुभव या विशेषज्ञता हो। इससे मूल्यवान अंतर्दृष्टि और मार्गदर्शन प्राप्त हो सकेगा।
    • समस्या की रिपोर्ट करना: यदि मेरा मित्र अपनी गतिविधियों को बंद नहीं करता है तो मैं रिटर्निंग ऑफिसर को इस समस्या की सूचना देने के लिये समान विचारधारा वाले सहयोगियों से मदद लूँगा। इस तरह मैं व्यक्तिगत संबंधों और कर्त्तव्यों के बीच संतुलन बनाए रख सकूँगा।
    • जाँच प्रक्रिया में सहयोग करना: मैं अतिरिक्त जानकारी प्रदान करके या आवश्यकता पड़ने पर गवाही देकर जाँच में पूरा सहयोग करूँगा।
    • गोपनीयता बनाए रखना: जैसे-जैसे इस स्थिति के बारे में सबको पता चलेगा मैं इस मामले पर खुले तौर पर चर्चा करने के बारे में सतर्क रहूँगा ताकि जाँच से समझौता न हो या मतदाताओं के बीच अनुचित घबराहट पैदा न हो।
    • अपनी खुद की सुरक्षा का ध्यान रखना: संभावित प्रतिशोध की आशंका को देखते हुए मैं अपनी व्यक्तिगत सुरक्षा और भलाई सुनिश्चित करने के लिये उचित कदम उठाऊँगा, यदि आवश्यक हो तो संबंधित अधिकारियों से सहायता भी लूँगा।

    निष्कर्ष:

    संभावित व्यक्तिगत परिणामों के साथ चुनाव प्रक्रिया के प्रति अपने कर्त्तव्यों को संतुलित करना एक चुनौतीपूर्ण और नैतिक रूप से जटिल स्थिति हो सकती है। मुझे सौंपे गए कर्त्तव्य का पालन करते हुए मैं अपने मित्र को उसके कार्यों में सुधार का अवसर दूँगा। हालाँकि एक चुनाव कर्मचारी के रूप में व्यक्तिगत संबंधों की तुलना में निष्पक्ष और पारदर्शी चुनावी प्रक्रिया को प्राथमिकता देना आवश्यक है।

    To get PDF version, Please click on "Print PDF" button.

    Print
close
एसएमएस अलर्ट
Share Page
images-2
images-2