हिंदी साहित्य: पेन ड्राइव कोर्स
ध्यान दें:
झारखण्ड संयुक्त असैनिक सेवा मुख्य प्रतियोगिता परीक्षा 2016 -परीक्षाफलछत्तीसगढ़ पीसीएस प्रश्नपत्र 2019छत्तीसगढ़ पी.सी.एस. (प्रारंभिक) परीक्षा, 2019 (महत्त्वपूर्ण अध्ययन सामग्री).छत्तीसगढ़ पी.सी.एस. प्रारंभिक परीक्षा – 2019 सामान्य अध्ययन – I (मॉडल पेपर )
हिंदी साहित्य: पेन ड्राइव कोर्स (Hindi Literature: Pendrive Course)
मध्य प्रदेश पी.सी.एस. (प्रारंभिक) परीक्षा , 2019 (महत्वपूर्ण अध्ययन सामग्री)मध्य प्रदेश पी.सी.एस. परीक्षा मॉडल पेपर.Download : उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग (प्रवर) प्रारंभिक परीक्षा 2019 - प्रश्नपत्र & उत्तर कुंजीअब आप हमसे Telegram पर भी जुड़ सकते हैं !यू.पी.पी.सी.एस. परीक्षा 2017 चयनित उम्मीदवार.UPSC CSE 2020 : प्रारंभिक परीक्षा टेस्ट सीरीज़

मेन्स प्रैक्टिस प्रश्न

  • वर्तमान अमेरिकी विदेश नीति में पश्चिम एशिया एवं दक्षिण एशिया के बजाय एशिया-प्रशांत प्राथमिक क्षेत्र बन गया है। इस बदलाव के विभिन्न कारणों का उल्लेख करते हुए इस संबंध में अमेरिका के लिये भारत के महत्त्व पर चर्चा करें।

    30 Jul, 2018 सामान्य अध्ययन पेपर 2 अंतर्राष्ट्रीय संबंध

    उत्तर :

    उत्तर की रूपरेखा

    • प्रभावी भूमिका में अमेरिका द्वारा एशिया-प्रशांत को महत्त्व दिये जाने की चर्चा करें।
    • तार्किक एवं संतुलित विषय-वस्तु में अमेरिका की एशिया केंद्रित नीति को स्पष्ट करते हुए इसमें भारत के महत्त्व पर चर्चा करें।
    • प्रश्नानुसार संक्षिप्त एवं सारगर्भित निष्कर्ष लिखें।

    वर्तमान समय में अमेरिका, चीन के उभार को प्रतिसंतुलित करने के लिये पश्चिम एशिया तथा दक्षिण एशिया के बजाय एशिया-प्रशांत क्षेत्र को प्राथमिकता दे रहा है। अमेरिका के लिये एशिया-प्रशांत का महत्त्व इसलिये भी है कि यह वर्तमान में विश्व के आर्थिक केंद्र के रूप में उभर रहा है। अमेरिका की एशिया केंद्रित नीति के मूल स्तंभ हैं-

    • इस क्षेत्र में अमेरिका का सहयोगियों के साथ संबंधों को सुदृढ़ करना। जापान, दक्षिण कोरिया, थाईलैंड, फिलीपींस एवं ऑस्ट्रेलिया जैसे देश इस क्षेत्र में अमेरिका के परंपरागत सहयोगी हैं।
    • इस क्षेत्र में नई उभरती हुई शक्तियों के साथ संबंधों को सुदृढ़ करना। भारत के साथ संबंधों को अमेरिका ने 21वीं शताब्दी का सबसे महत्त्वपूर्ण संबंध कहा तथा अमेरिका ने मलेशिया को वैश्विक भागीदार के रूप में प्रस्तुत किया।
    • चीन के साथ प्रभावी और सकारात्मक संबंधों का निर्माण। अमेरिका के अनुसार, वह उभरते हुए चीन का स्वागत करेगा लेकिन अपने हितों की रक्षा करने में कोई कमी नहीं रखेगा।
    • इस क्षेत्र के क्षेत्रीय संगठनों को शक्तिशाली बनाना। उदाहरण के लिये, आसियान को ज़्यादा प्रभावी बनाने पर बल दिया जा रहा है।
    • अमेरिका के अनुसार, उसकी एशिया केंद्रित नीति केवल सैनिक विस्थापन की नीति नहीं है, बल्कि एशियाई देशों के साथ आर्थिक संबंधों को प्रभावी करने की नीति है और पार-प्रशांत देशों के साथ संबंधों को बेहतर करने की नीति है।

    अमेरिका की एशिया केंद्रित नीति में भारत का महत्त्व-

    दक्षिण-पूर्वी एशिया शीत युद्धोत्तर काल में भारत और दक्षिण-पूर्वी एशियाई देशों के मध्य संबंधों में तीव्र गति से वृद्धि हुई। वर्तमान में एशिया-प्रशांत क्षेत्र में भारत और अमेरिका एक-दूसरे के सहयोगी बनकर उभर रहे हैं। अमेरिका के साथ-साथ जापान, दक्षिण कोरिया, सिंगापुर, ऑस्ट्रेलिया जैसे देश भी भारत के साथ मित्रतापूर्ण संबंध स्थापित कर चुके हैं। अमेरिका ने पूर्वी एशियाई क्षेत्र में भारत की उपस्थिति को बढ़ावा देने की नीति अपनाई है, क्योंकि इस क्षेत्र में चीन का बढ़ता प्रभाव अमेरिकी हितों के प्रतिकूल है। भारत भी पूर्वी एशिया के देशों के साथ अपने संबंधों को मज़बूती प्रदान करने के लिये ‘एक्ट ईस्ट’ नीति पर कार्य कर रहा है। साथ ही भारत के जापान, दक्षिण कोरिया एवं वियतनाम जैसे देशों के साथ सामरिक संबंध भी प्रगाढ़ हो रहे हैं।

    अमेरिका की एशिया केंद्रित नीति में भारत को केंद्रीय महत्त्व प्रदान किया गया है। अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया, जापान और भारत के बीच संबंध अत्यधिक मधुर हो रहे हैं। भारत भी हिंद महासागर में अमेरिका के साथ अपना सहयोग बढ़ा रहा है। 

एसएमएस अलर्ट
 

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

प्रोग्रेस सूची देखने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

आर्टिकल्स को बुकमार्क करने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close