हिंदी साहित्य: पेन ड्राइव कोर्स
ध्यान दें:

मेन्स प्रैक्टिस प्रश्न

  • लोकतंत्र को एक अनोखा समताकारी उपकरण माना जाता है जो न सिर्फ घरेलू राजनीति बल्कि अंतर्राष्ट्रीय संबंधों के संदर्भ में भी संकटों को उसी प्रकार दूर करता है जिस तरह से वे उत्पन्न होते हैं। इस कथन के आलोक में बताएँ कि मालदीव के नए राष्ट्रपति की सत्ता में वापसी भारत के साथ नए संबंधों को कौन-सी दिशा प्रदान करेगा? विवेचना करें।

    03 Jan, 2019 सामान्य अध्ययन पेपर 2 अंतर्राष्ट्रीय संबंध

    उत्तर :

    भूमिका:


    मालदीव के पूर्व राष्ट्रपति यामीन के समय मालदीव की राजनैतिक एवं सामाजिक स्थिति पर चर्चा करते हुए उत्तर प्रारंभ करें-

    मालदीव के पूर्व राष्ट्रपति यामीन के समय इस्लामवादी कट्टरपंथ के साथ छेड़छाड़ की गई एवं राष्ट्र के लोकतांत्रिक आधार पर हमला भी हुआ लेकिन हिंद महासागर के इस छोटे द्वीप के लोगों ने हालिया चुनाव में परिवर्तन के लिये वोट देते हुए इब्राहिम मोहम्मद सोलेह का नए राष्ट्रपति के रूप मे चयन किया।

    विषय-वस्तु


    विषय-वस्तु के मुख्य भाग में मालदीव के नए राष्ट्रपति इब्राहिम सोलेह द्वारा भारत के साथ तय किये जा रहे नए संबंधों पर विस्तार से बात करेंगे-

    राष्ट्रपति पद संभालने के बाद सोलेह द्वारा भारत की पहली यात्रा की गई। हिंद महासागर क्षेत्र में स्थिरता बनाए रखने हेतु दोनों देशों के बीच सहयोग आवश्यक है और इस कारण भारत तथा मालदीव अपने द्विपक्षीय संबंधों में मज़बूती लाना चाहते हैं। दोनों पक्ष हिंद महासागर में सुरक्षा सहयोग को और मज़बूत करने पर भी सहमत हुए। भारत ने मालदीव को 1.4 बिलियन डॉलर की आर्थिक सहायता देने की घोषणा भी की।

    गौरतलब है कि मालदीव रणनीतिक रूप से भारत के नज़दीक और हिंद महासागर में महत्त्वपूर्ण समुद्री मार्ग पर स्थित है। मालदीव में चीन जैसी किसी प्रतिस्पर्द्धी शक्ति की मौजूदगी भारत के सुरक्षा हितों के संदर्भ में उचित नहीं है। चीन वैश्विक व्यापार और इंप्रास्ट्रक्चर प्लान के माध्यम से मालदीव जैसे देशों में तेज़ी से अपना वर्चस्व बढ़ा रहा है। मालदीव के पूर्व राष्ट्रपति यामीन भी ‘इंडिया फर्स्ट’ की नीति अपनाने का दावा करते रहे थे परंतु भारत द्वारा उनके निरंकुश शासन का समर्थन नहीं करने पर उन्होंने चीन और पाकिस्तान की तरफ रुख कर लिया। इस संदर्भ में तीन वज़हों से भारत की चिंता उभरकर सामने आई थीं। पहली, मालदीव में चीन की आर्थिक और रणनीतिक उपस्थिति में वृद्धि; दूसरी, भारतीय परियोजनाओं और विकास गतिविधियों में व्यवधान, जिसकी वज़ह से भारत के तकनीकी कर्मचारियों को मालदीव द्वारा वीज़ा देने से इनकार किया जाना और तीसरा, इस्लामी कट्टरपंथियों का बढ़ता डर।

    भारत को लेकर मालदीव की नई सरकार की सोच काफी सकारात्मक है क्योंकि राष्ट्रपति पद संभालने के बाद पहली विदेश यात्रा हेतु उन्होंने भारत को चुना। उन्होंने भारत को अपना सबसे करीबी दोस्त भी बताया। भारतीय नौसैनिक रणनीति में मालदीव जैसे देश को शामिल करना भारत के लिये महत्त्वपूर्ण है।

    निष्कर्ष


    अंत में संतुलित, संक्षिप्त एवं सारगर्भित निष्कर्ष लिखें-

    मालदीव में सोलेह की सत्ता में वापसी लोकतांत्रिक मूल्यों एवं विधि के नियम की प्रतिबद्धता को दर्शाता है। मालदीव के लोगों ने अपने देश के भविष्य के निर्धारण हेतु लोकतांत्रिक आवाज़ उठाई। शुरुआती रुझानों में मालदीव में सत्ता परिवर्तन भारत के लिये सकारात्मक प्रतीत होता है परंतु मालदीव में चीन के बढ़ते वर्चस्व पर लगाम लगाने के लिये भारत को इस अवसर का फायदा उठाना होगा। भारत को अपनी चिंताओं को ध्यान में रखते हुए तथा नई सत्ता के साथ समझदारी से काम लेते हुए मालदीव का साथ देना होगा।

एसएमएस अलर्ट
 

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

प्रोग्रेस सूची देखने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

आर्टिकल्स को बुकमार्क करने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close