हिंदी साहित्य: पेन ड्राइव कोर्स
ध्यान दें:
झारखण्ड संयुक्त असैनिक सेवा मुख्य प्रतियोगिता परीक्षा 2016 -परीक्षाफलछत्तीसगढ़ पीसीएस प्रश्नपत्र 2019छत्तीसगढ़ पी.सी.एस. (प्रारंभिक) परीक्षा, 2019 (महत्त्वपूर्ण अध्ययन सामग्री).छत्तीसगढ़ पी.सी.एस. प्रारंभिक परीक्षा – 2019 सामान्य अध्ययन – I (मॉडल पेपर )
हिंदी साहित्य: पेन ड्राइव कोर्स (Hindi Literature: Pendrive Course)
मध्य प्रदेश पी.सी.एस. (प्रारंभिक) परीक्षा , 2019 (महत्वपूर्ण अध्ययन सामग्री)मध्य प्रदेश पी.सी.एस. परीक्षा मॉडल पेपर.Download : उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग (प्रवर) प्रारंभिक परीक्षा 2019 - प्रश्नपत्र & उत्तर कुंजीअब आप हमसे Telegram पर भी जुड़ सकते हैं !यू.पी.पी.सी.एस. परीक्षा 2017 चयनित उम्मीदवार.UPSC CSE 2020 : प्रारंभिक परीक्षा टेस्ट सीरीज़

मेन्स प्रैक्टिस प्रश्न

  • पूरे विश्व इतिहास में जब भी पुराने और नए विचारों के बीच द्वंद्व की स्थिति आई है, हमेशा नए विचार विजेता के रूप में उभरे हैं।” फ्राँसीसी और अमेरिकी क्रांति के संदर्भ में इस कथन की व्याख्या करें।

    08 Aug, 2018 सामान्य अध्ययन पेपर 1 इतिहास

    उत्तर :

    उत्तर की रूपरेखा

    • प्रभावी भूमिका में प्रश्नगत कथन को स्पष्ट करें।
    • तार्किक एवं संतुलित विषय-वस्तु में फ्राँस की क्रांति के दौरान उत्पन्न समानता, लोकतंत्र, धर्मनिरपेक्षता के नवीन विचारों को स्पष्ट करते हुए अमेरिकी क्रांति से उत्पन्न गणतंत्र व मूल अधिकारों के विचारों का वर्णन करें।
    • प्रश्नानुसार संक्षिप्त और सारगर्भित निष्कर्ष लिखें।

    परिवर्तन प्रकृति प्रदत्त शाश्वत नियम है। विश्व इतिहास के संबंध में भी यह बात पूर्णतया सत्य है। समयानुक्रम में पुराने विश्वास आधारित विचारों का स्थान तर्क प्रधान विचारों व व्यवस्थाओं ने ले लिया। विश्व इतिहास की दो महान घटनाओं- फ्राँस व अमेरिका की क्रांति के परिप्रेक्ष्य में इसे देखा जा सकता हैः

    फ्राँस की क्रांति के परिप्रेक्ष्य में-

    • फ्राँस की क्रांति के फलस्वरूप विशेषाधिकारों की समाप्ति कर एक समान व्यवस्था और सभी को मतदान का अधिकार जैसे समानता के सिद्धांत को स्थापित किया गया। यह सिद्धांत अधिक न्यायोचित व चिरस्थायी है। अपनी न्यायोचितता के कारण ही यह पूर्व के विचार पर विजयी रहा। इसके अतिरिक्त इटली में प्रारंभ में पुनर्जागरणकालीन तर्कप्रधान नवीन विचार प्रगतिशील थे। 
    • फ्राँस की क्रांति के उपरांत लोकतंत्र के विचार को राजतंत्र या दैवी शासन के विचार पर मान्यता प्राप्त हुई। निस्संदेह लोकतंत्र का विचार अधिक सहभागिता से परिपूर्ण उत्तम संकल्पना है। 
    • धर्मसापेक्षता के स्थान पर धर्मनिरपेक्षता के नवीन विचार के उदय ने राष्ट्र को अधिक समृद्ध बनाया। राष्ट्र के धर्मनिरपेक्ष होने की स्थिति में राष्ट्र के लिये प्रत्येक नागरिक समान होता है। 
    • फ्राँस की क्रांति के दौरान सर्वप्रथम मानवाधिकारों की नवीन संकल्पना का विकास हुआ जो वर्तमान में भी एक उत्तम संकल्पना है।

    फ्राँस की क्रांति के अतिरिक्त अमेरिकी क्रांति के दौरान विजयी नवीन विचारों का उल्लेख अग्रलिखित है-

    • अमेरिकी क्रांति के परिणामस्वरूप औपनिवेशिक राज्यों में स्वतंत्रता का नवीन विचार पनपा, जिसने गुलामी व परतंत्रता के पुराने विचारों पर विजय प्राप्त की।
    • अमेरिकी क्रांति के दौरान संघीय व्यवस्था में शक्ति का विभाजन संबंधी नवीन विचार की उत्पत्ति हुई। इस विचार ने केंद्र की अतिशक्ति को सीमित किया। इस प्रकार इस विचार ने पुराने केंद्रीकरण के सिद्धांत पर कुठाराघात किया।
    • अमेरिकी क्रांति के फलस्वरूप अधिकार पत्र (Bill of Rights) को प्रस्तावित किया गया। हालाँकि इस अधिकार पत्र में अधिकारों को समान रूप से सभी नागरिकों में नहीं बाँटा गया फिर भी नागरिक अधिकारों के विकासक्रम में यह एक महत्त्वपूर्ण नवीन संकल्पना थी। इस नवीन विचार की व्यापकता को फ्राँस की क्रांति में भी देखा जा सकता है।

    इस प्रकार फ्राँस व अमेरिकी क्रांति के नवीन विचारों व व्यवस्थाओं ने पुराने विश्वास आधारित मान्यताओं पर कुठाराघात कर तर्क आधारित व्यवस्थाओं की स्थापना की।

एसएमएस अलर्ट
 

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

प्रोग्रेस सूची देखने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

आर्टिकल्स को बुकमार्क करने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close