हिंदी साहित्य: पेन ड्राइव कोर्स
ध्यान दें:

डेली अपडेट्स

प्रारंभिक परीक्षा

प्रिलिम्स फैक्ट्स: 29 सितंबर, 2021

  • 29 Sep 2021
  • 12 min read

आपदा मित्र योजना 

Aapada Mitra Programme

देश के 30 ज़िलों में ‘आपदा मित्र’ योजना के प्रायोगिक स्तर पर सफल रहने के बाद सरकार देश भर के 350 ज़िलों में ‘आपदा मित्र’ (आपदा में मित्र) योजना को शुरू करने की योजना बना रही है। इसके साथ ही कॉमन अलर्टिंग प्रोटोकॉल (Common Alerting Protocol- CAP) हेतु भी दस्तावेज़ जारी किये गए हैं।

  • CAP सभी प्रकार के नेटवर्क पर आधारित आपातकालीन अलर्ट और सार्वजनिक चेतावनियों के आदान-प्रदान हेतु एक सरल लेकिन सामान्य प्रारूप है।

प्रमुख बिंदु 

  • योजना के बारे में:
    • यह एक केंद्रीय क्षेत्र की योजना है जिसे मई 2016 में शुरू किया गया था। राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण योजना की कार्यान्वयन एजेंसी है।
    • यह आपदा-प्रवण क्षेत्रों में उपयुक्त व्यक्तियों की पहचान करने की एक योजना है, जिसमें आपदाओं के समय प्रथम आपदा मित्र अर्थात् बचाव कार्यों के लिये प्रशिक्षित किया जा सकता है।
  • लक्ष्य:
    • योजना के तहत समुदाय के स्वयंसेवकों को आपदा के बाद अपने समुदाय की तत्काल ज़रूरतों को ध्यान के रखते हुए आवश्यक कौशल प्रदान करना जिससे वे अचानक बाढ़ और शहरी क्षेत्रों में उत्पन्न बाढ़ जैसी आपातकालीन स्थितियों के दौरान बुनियादी राहत और बचाव कार्य करने में सक्षम हो सकें।
  • विशेषताएँ:
    • राज्य/संघ राज्य क्षेत्र स्तर पर संबंधित राज्यों/संघ राज्य क्षेत्रों द्वारा पैनलबद्ध  (Empanelled) प्रशिक्षण संस्थान।
    • सामुदायिक स्वयंसेवकों को आपदा प्रतिक्रिया (बाढ़ राहत और बचाव), समन्वय, जीवन रक्षक कौशल में प्रशिक्षित करना तथा व्यक्तिगत सुरक्षा उपकरण और आपातकालीन प्रतिक्रिया किट प्रदान करना।
    • ज़िला/ब्लॉक स्तर पर एक सामुदायिक आपातकालीन भंडार/रिज़र्व बनाना जिसमें आवश्यक सामान जैसे- टार्च, बचाव उपकरण, प्राथमिक चिकित्सा किट आदि शामिल हों।
    • योजना के बाद के चरणों में बाढ़ग्रस्त ज़िलों में परियोजना के तहत विकसित प्रशिक्षण और शिक्षा उपकरणों का प्रसार करना।
  • अन्य आपदा संबंधी पहलें:

राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण

  • राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण भारत में आपदा प्रबंधन के लिये शीर्ष वैधानिक निकाय है। इसकी अध्यक्षता भारत के प्रधानमंत्री द्वारा की जाती है।
  • इसका औपचारिक रूप से गठन 27 सितंबर, 2006 को आपदा प्रबंधन अधिनियम, 2005 के तहत किया गया था।
  • इसका प्राथमिक उद्देश्य प्राकृतिक या मानव निर्मित आपदाओं के दौरान प्रतिक्रियाओं हेतु समन्वय कायम करना और आपदा-प्रत्यास्थ (आपदाओं में लचीली रणनीति) व संकटकालीन प्रतिक्रिया हेतु क्षमता निर्माण करना है।
  • यह एक समग्र, अग्रसक्रिय तकनीक संचालित और संवहनीय विकास रणनीति द्वारा एक सुरक्षित और आपदा प्रतिरोधी भारत बनाने की परिकल्पना करता है जिसमें सभी हितधारकों की मौजूदगी हो तथा जो आपदा रोकथाम, तैयारी और शमन की संस्कृति (Culture) का पालन करती हो।

इंस्पायरसैट-1 क्यूबसैट सैटेलाइट

INSPIRESAT-1 Cubesat Satellite

इंटरनेशनल सैटेलाइट प्रोग्राम इन रिसर्च एंड एजुकेशन (International Satellite Program in Research and Education- INSPIRE) के तहत विकसित इंस्पायरसैट-1 क्यूबसैट सैटेलाइट (INSPIRESAT-1 Cubesat Satellite) लॉन्च के लिये तैयार है।

प्रमुख बिंदु 

  • इंस्पायरसैट-1 क्यूबसैट सैटेलाइट के बारे में:
    • यह एक छोटा वैज्ञानिक उपग्रह है जिसे पृथ्वी की निचली कक्षा में स्थापित किया जाएगा,  जो एक कॉम्पैक्ट आयनोस्फियर जांँच के साथ पृथ्वी के आयनमंडल का अध्ययन करने में सक्षम है।
      • आयनमंडल वायुमंडल का वह भाग है जो सौर विकिरण द्वारा आयनित होता है।
      • CIP एक ऑल-इन-वन प्लाज़्मा सेंसर है जो एक समय-साझाकरण तंत्र (Time-Sharing Mechanism) में कई सेंसर कार्यों को करने हेतु एकल उपकरण (Single Instrument) का उपयोग करता है।
    • यह इस बात की भी जानकारी प्रदान करेगा कि सूर्य का कोरोना फोटोस्फीयर की तुलना में अधिक गर्म क्यों है, विभिन्न सौर घटनाओं के दौरान तत्त्वों की बहुतायत में परिवर्तन क्यों होता है और ये घटनाएँ पृथ्वी के आयनमंडल को किस प्रकार प्रभावित करती हैं।
    • इसका वज़न 10 किग्रा से कम है और इसे भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) के आगामी ध्रुवीय उपग्रह प्रक्षेपण यान (Polar Satellite Launch Vehicle- PSLV) से प्रक्षेपित किया जाएगा।
      • PSLV भारत की तीसरी पीढ़ी का प्रक्षेपण यान है। यह लिक्विड स्टेज से युक्त पहला भारतीय लॉन्च व्हीकल है।
      • यह चार चरणों वाला प्रक्षेपण यान है जिसमें पहले और तीसरे चरण में ठोस रॉकेट मोटर्स का उपयोग किया जाता है तथा दूसरे और चौथे चरण में तरल रॉकेट इंजन का उपयोग किया जाता है।
  • विकास में शामिल संस्थाएँ:
    • कोलोराडो बोल्डर विश्वविद्यालय, अमेरिका की वायुमंडलीय और अंतरिक्ष भौतिकी प्रयोगशाला (LASP) 
    • नेशनल सेंट्रल यूनिवर्सिटी, ताइवान
    • नानयांग टेक्नोलॉजिकल यूनिवर्सिटी,सिंगापुर 
    • भारतीय अंतरिक्ष विज्ञान और प्रौद्योगिकी संस्थान (IIST)

इंस्पायर (INSPIRE)

  • इंस्पायर अंतरिक्ष कार्यक्रमों में सक्रिय विश्वविद्यालयों का एक संघ है, जिसे अंतरिक्ष विज्ञान और इंजीनियरिंग को आगे बढ़ाने हेतु निर्मित किया गया है।
  • INSPIRE कार्यक्रम के तहत पृथ्वी और अंतरिक्ष-मौसम अवलोकन उपग्रहों के एक समूह की परिकल्पना की गई है जिसमें इंस्पायरसैट (इंस्पायरसैट-1 से इंस्पायरसैट-7 तक) की एक शृंखला शामिल है।

International-Satellite-Program

क्यूबसैट

  • क्यूब सैटेलाइट (क्यूबसैट) एक मानकीकृत, कम लागत वाला, छोटा उपग्रह है जो आमतौर पर तकनीकी के प्रदर्शन और अनुसंधान हेतु उपयोग किया जाता है।
  • यह एक नैनोसेटेलाइट है, अन्य नैनोसेटेलाइट में पॉकेट क्यूब, ट्यूबसैट, सन क्यूब, थिनसैट आदि शामिल हैं।
    • नैनोसेटेलाइट में 10 किलोग्राम से कम वज़न के उपग्रह शामिल हैं।

एल्डर लाइन: बुजुर्गों के लिये टोल-फ्री नंबर

Elder Line: Toll-Free Number for Elderly

हाल ही में सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय ने वृद्ध व्यक्तियों का अंतर्राष्ट्रीय दिवस (International Day of Older Persons) जो प्रतिवर्ष 1 अक्तूबर को मनाया जाता है, से पहले वरिष्ठ नागरिकों के लिये पहला अखिल भारतीय टोल-फ्री हेल्पलाइन नंबर (14567) एल्डर लाइन लॉन्च किया।

300M-Elderly

प्रमुख बिंदु

वृद्धावस्था

  • उम्र का बढ़ना एक सतत्, अपरिवर्तनीय, सार्वभौमिक प्रक्रिया है, जो गर्भाधान से शुरू होती है और मृत्यु तक जारी रहती है।
  • हालाँकि जिस उम्र में किसी के उत्पादक योगदान में गिरावट आती है और वह आर्थिक रूप से निर्भर हो जाता है, उसे जीवन के वृद्ध चरण की शुरुआत के रूप में माना जा सकता है।
  • राष्ट्रीय बुजुर्ग नीति 60+ आयु वर्ग के लोगों को बुजुर्ग के रूप में परिभाषित करती है।
एसएमएस अलर्ट
Share Page