18 जून को लखनऊ शाखा पर डॉ. विकास दिव्यकीर्ति के ओपन सेमिनार का आयोजन।
अधिक जानकारी के लिये संपर्क करें:

  संपर्क करें
ध्यान दें:

स्टेट पी.सी.एस.

  • 20 Jun 2022
  • 0 min read
  • Switch Date:  
उत्तर प्रदेश Switch to English

उत्तर प्रदेश में जल्द ही ई-रूपी से मिलेगी छात्रवृत्ति

चर्चा में क्यों?

19 जून, 2022 को उत्तर प्रदेश के समाज कल्याण राज्यमंत्री असीम वरुण ने राज्य में ई-रूपी से छात्रवृति मिलने की जानकारी दी है।

प्रमुख बिंदु

  • राज्यमंत्री ने बताया कि ई-रूपी एक तरह का ई-बैंक ड्राफ्ट या वाउचर है, जिससे सामान्य वर्ग के छात्रों को पहले पता चल सकेगा कि उन्हें छात्रवृत्ति मिलेगी या नहीं ।
  • ई-रूपी से सरकार की ओर से भेजे गए धन को छात्र अपने खाते से न तो निकाल पाएगा और न ही इसका उपयोग किसी अन्य काम में हो सकेगा, सिवाय स्कूल-कॉलेज की फीस का भुगतान करने के।
  • पायलट प्रोजेक्ट के रूप में शुरू किये जा रहे ई-रूपी के प्रयोग से भ्रष्टाचार पर लगाम लगेगी और हर बच्चे को छात्रवृत्ति मिलेगी।

बिहार Switch to English

बिहार में 50 साल से अधिक उम्र वाले वृक्षों का DM करेंगे संरक्षण

चर्चा में क्यों?

हाल ही में बिहार राज्य के मुख्य सचिव आमिर सुबहानी ने सभी ज़िलाधिकारियों को पत्र लिखकर बिहार के विरासत (हेरिटेज) वृक्षों को संरक्षित करने का निर्देश दिया है।

प्रमुख बिंदु

  • बिहार के विरासत में सभी प्रकार के 50 वर्ष से अधिक उम्र वाले पुराने वृक्षों को शामिल किया गया है।
  • मुख्य सचिव ने ज़िलाधिकारियों से अनुरोध किया है कि बिहार हेरिटेज ट्री एप के माध्यम से राज्य के विरासत वृक्षों से संबंधित सूचनाएँ एकत्रित करने के लिये व्यापक प्रचार-प्रसार कराया जाए। साथ ही, उन वृक्षों के संरक्षण के लिये आवश्यक कार्रवाई की जाए।
  • विरासत वृक्षों के संरक्षण के लिये बिहार हेरिटेज ट्री एप के माध्यम से बिहार राज्य जैवविविधता परिषद द्वारा एक डाटा बेस तैयार किया जा रहा है।
  • इसमें जनप्रतिनिधि, छात्र, शिक्षक, किसान, पदाधिकारी, कर्मचारी, जैवविविधता प्रबंधन समिति के सदस्य सहित सभी लोग भाग ले सकते हैं। इन सभी को जैव विविधता के लिये प्रेरित किया जाए।
  • साथ ही बिहार हेरिटेज ट्री एप के माध्यम से 50 वर्षों से अधिक पुराने वृक्षों की सूचनाएँ बिहार राज्य जैव विविधता परिषद के पोर्टल पर अपलोड की जा सकती है।

राजस्थान Switch to English

देवनारायण पशुपालक आवासीय योजना

चर्चा में क्यों?

19 जून, 2022 को राजस्थान के स्वायत्त शासन मंत्री शांति धारीवाल ने देशभर में अनूठी एवं आधुनिक सुविधाओं से सुसज्जित पशुपालकों के लिये पहली बार तैयार की गई देवनारायण एकीकृत आवासीय योजना में कब्जा सौंपकर आवंटियों को गृह प्रवेश कराया।

प्रमुख बिंदु

  • मुख्यमंत्री अशोक गहलोत द्वारा 300 करोड़ रुपए की लागत से कोटा शहर के पशुपालकों के सुव्यवस्थित शैक्षणिक, आर्थिक और सामाजिक विकास हेतु देवनारायण एकीकृत आवास योजना विकसित करने की घोषणा की गई थी।
  • परियोजना की आधारशिला मुख्यमंत्री द्वारा 17 अगस्त, 2020 को रखी गई थी, जिसमें नगर विकास न्यास कोटा द्वारा प्रथम चरण में 738 आवासों का निर्माण पूर्ण कर 501 आवासों का आवंटन किया गया है।
  • योजना में पशुपालकों के लिये 1227 बड़े आवासीय भूखंडों का प्रावधान किया गया है। इनमें से 738 आवासों का निर्माण पूर्णकर 501 पशुपालकों को आवंटन कर दिया गया है। इन भूखंडों के पिछले भाग में लगभग 40 वर्ग मीटर क्षेत्र में दो कमरे, रसोईघर, शौचालय, स्नानघर, बरामदा, चारा भंडारण की सुविधा है। भूखंड के अग्रभाग में पशुओं के लिए शेड का निर्माण किया गया है।
  • पशुपालकों की सुविधा के लिये योजना में विद्यालय भवन, पशु चिकित्सालय, सोसाइटी कार्यालय, पुलिस चौकी, विद्युत सब स्टेशन, पेयजल के लिए उच्च जलाशय, सीवर लाइन, पार्क, नाली, सड़कें, एसटीपी, पशुमेला मैदान एवं दुग्ध मंडी का भी निर्माण किया गया है। इसके अतिरित्त भविष्य की आवश्यकता के अनुसार प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र, सामुदायिक भवन, रंगमंच का निर्माण किया गया है।
  • योजना में लगभग 15 हजार पशुओं से प्राप्त गोबर के निस्तारण के लिए नगर विकास न्यास द्वारा बायोगैस संयंत्र की स्थापना की जा रही है जिससे गोबर के निस्तारण के साथ-साथ जैविक खाद का भी उत्पादन होगा।

मध्य प्रदेश Switch to English

वन विहार की वेबसाइट नये स्वरूप में हुई लॉन्च

चर्चा में क्यों?

18 जून, 2022 को वन विहार राष्ट्रीय उद्यान और चिड़ियाघर की नई पुन: डिजाइन और पुनर्विकसित वेबसाइट: www.vanviharnationalpark.org लॉन्च की गई है। इस नई वेबसाइट को वन विहार में नवीनतम घटनाओं, समाचारों और जनता को अद्यतन/अपडेटेड रखने के लिये डिजाइन किया गया है।

प्रमुख बिंदु

  • आधुनिक समय के साथ तालमेल बिठाते हुए वेबसाइट में एक आधुनिक रेस्पॉन्सिव कोडिंग और डिजाइन है। वेबसाइट को, जिस भी डिवाइस पर ओपन किया जाएगा, यह वेबसाइट उस डिवाइस की स्क्रीन के आकार में स्वयं को स्वतः समायोजित कर लेगी।
  • वन विहार के सभी सोशल मीडिया पेजों को भी नई वेबसाइट से जोड़ा गया है। आमजन वन विहार के फेसबुक, इंस्टाग्राम और ट्वीटर प्रोफाइल को वेबसाइट से ही देख सकते हैं।
  • वेबसाइट लगभग दैनिक आधार पर अपडेट की जाएगी और जनता अपलोड के कुछ ही मिनटों में इसे देख सकेगी। नवीनतम जानकारी को अद्यतन करने के लिये लगभग शून्य मिनट प्रतीक्षा अवधि रहेगी।
  • वन विहार से संबंधित नवीनतम समाचारों को होम पेज पर एक समूह के रूप में संकलित और प्रदर्शित किया जाएगा और साथ ही प्रत्येक समाचार के लिये अलग-अलग विस्तृत पेज भी होगा।
  • नवीनतम और महत्त्वपूर्ण दस्तावेज जैसे ब्रोशर आदि जनता के लिये डाउनलोड के लिये उपलब्ध होंगे। गैलरी अनुभाग को नवीनतम तस्वीरों के साथ नियमित रूप से अपडेट किया जाएगा।

मध्य प्रदेश Switch to English

सिकल सेल रोग

चर्चा में क्यों?

19 जून, 2022 को विश्व सिकल सेल एनीमिया जागरूकता दिवस के अवसर पर मध्य प्रदेश के राज्यपाल मंगुभाई पटेल, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान तथा केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया जबलपुर में इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी डिजाइनिंग एंड मेन्यूफेक्चिरिंग (ट्रिपल आईटीडीएम) में सिकल सेल रोग के समग्र प्रबंधन पर आयोजित कार्यशाला में शामिल हुए।

प्रमुख बिंदु

  • इस कार्यशाला का आयोजन आईसीएमआर, राष्ट्रीय जनजातीय स्वास्थ्य अनुसंधान संस्थान और लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग द्वारा किया गया है।
  • गौरतलब है कि मध्य प्रदेश के जनजातीय बहुल 14 ज़िलों में सिकल सेल एनीमिया की रोकथाम और बचाव के लिये अभियान चलाया जा रहा है, जिसमें बीमार व्यक्तियों के स्वास्थ्य, विवाह और पुनर्वास सहायता आदि पर भी ध्यान दिया जा रहा है।
  • सिकल सेल रोग (एससीडी) रक्त संबंधी आनुवंशिक विकार है, जो भारत के झारखंड, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, पश्चिमी ओडिशा, पूर्वी गुजरात और उत्तरी तमिलनाडु तथा केरल आदि राज्यों/क्षेत्रों में वितरित कई जनजातीय समूहों में बहुतायत में पाई जाती है।
  • उल्लेखनीय है कि केंद्र सरकार द्वारा सिकल सेल एनीमिया की स्क्रीनिंग और समय पर प्रबंधन को मज़बूत करने के लिये उन्मुक्त परियोजना का क्रियान्वयन किया जा रहा है।

हरियाणा Switch to English

कुओर्ताने गेम्स में जेवेलियन थ्रोअर नीरज चोपड़ा ने जीता स्वर्ण पदक

चर्चा में क्यों?

18 जून, 2022 को फिनलैंड में आयोजित कुओर्ताने गेम्स में हरियाणा के पानीपत ज़िले के जेवेलियन थ्रोअर नीरज चोपड़ा ने स्वर्ण पदक जीता।

प्रमुख बिंदु

  • नीरज चोपड़ा इस गेम्स में पदक जीतने वाले पहले भारतीय एथलीट हैं। उन्होंने 86.69 मीटर तक जेवेलियन पेंककर यह उपलब्ध हासिल की है।
  • उन्होंने ट्रिनिडाड एंड टोबैगो के केशरन वाल्काट और ग्रेनाडा के वर्ल्ड चैंपियन एंडरसन पीटर्स को पछाड़ते हुए यह उपलब्धि हासिल की है।
  • विदित है कि जून महीने में ही नीरज चोपड़ा ने पावे नूरमी गेम्स में 89.30 मीटर थ्रो फेंक कर नेशनल रिकॉर्ड बनाते हुए रजत पदक जीता है।

झारखंड Switch to English

15वीं झारखंड राज्य बॉक्सिंग चैंपियनशिप

चर्चा में क्यों?

19 जून, 2022 को शानदार प्रदर्शन और दिलचस्प प्रतियोगिताओं के साथ, टाटा स्टील के नोवामुंडी बॉक्सिंग सेंटर (एनबीसी) में 15वीं झारखंड स्टेट बॉक्सिंग चैंपियनशिप का समापन हुआ।

प्रमुख बिंदु

  • तीन दिवसीय हाई-ऑक्टेन बॉक्सिंग चैंपियनशिप में 11 ज़िलों के 132 से अधिक मुक्केबाजों ने भाग लिया।
  • इस प्रतियोगिता को दो श्रेणियों, जूनियर (लड़का और लड़की) और युवा (पुरुष और महिला) में विभाजित किया गया था।
  • इस प्रतियोगिता में पूर्वी सिंहभूम की पलक कुमारी, अन्नू पांडे और राहुल कुमार ने क्रमश: जूनियर (लड़की) और युवा (महिला और पुरुष) श्रेणी में सर्वश्रेष्ठ मुक्केबाज का पुरस्कार जीता, जबकि सूरज राणा, पश्चिमी सिंहभूम ने जूनियर (लड़का) वर्ग में सर्वश्रेष्ठ मुक्केबाज का पुरस्कार जीता।
  • वहीं पूर्वी सिंहभूम ने जूनियर (लड़के और लड़कियों) और युवा (पुरुष और महिला) वर्ग में टीम चैंपियन का पुरस्कार जीता।
  • राँची ने उपविजेता पुरस्कार प्राप्त किया और धनबाद और पश्चिम सिंहभूम ने क्रमश: युवा (पुरुष और महिला) में उपविजेता पुरस्कार प्राप्त किया।

उत्तराखंड Switch to English

उत्तराखंड के नए मुख्य न्यायाधीश की नियुक्ति

चर्चा में क्यों?

19 जनवरी, 2022 को केंद्र सरकार द्वारा दिल्ली उच्च न्यायालय के न्यायाधीश न्यायमूर्ति विपिन सांघी की उत्तराखंड के मुख्य न्यायाधीश के रूप में नियुक्ति संबंधी अधिसूचना जारी की गई।

प्रमुख बिंदु

  • केंद्र सरकार द्वारा नए मुख्य न्यायाधीश की नियुक्ति को मंज़ूरी भारत के मुख्य न्यायाधीश एन.वी. रमन्ना के नेतृत्व वाले सुप्रीम कोर्ट कॉलेजियम की सिफारिश के एक महीने के भीतर ही प्रदान कर दी गई है।
  • गौरतलब है कि संविधान के अनुच्छेद 217 में कहा गया है कि उच्च न्यायालय के न्यायाधीश की नियुक्ति राष्ट्रपति द्वारा भारत के मुख्य न्यायाधीश (सीजेआई) तथा संबंधित राज्य के राज्यपाल के परामर्श से की जाएगी।
  • मुख्य न्यायाधीश के अलावा किसी अन्य न्यायाधीश की नियुक्ति के मामले में, उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश से परामर्श किया जाता है।
  • वर्तमान में उच्च न्यायालय के न्यायाधीशों की नियुक्ति की सिफारिश एक कॉलेजियम द्वारा की जाती है, जिसमें CJI और दो वरिष्ठतम न्यायाधीश शामिल होते हैं। हालाँकि, न्यायाधीशों की नियुक्ति संबंधी प्रस्ताव, संबंधित उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश द्वारा दो वरिष्ठतम सहयोगियों के परामर्श से शुरू किया जाता है।
  • उत्तराखंड हाई कोर्ट में स्थायी न्यायाधीशों की संख्या 9 तथा अतिरिक्त न्यायाधीशों की संख्या 2 है।

 Switch to English
close
एसएमएस अलर्ट
Share Page
images-2
images-2