इंदौर शाखा: IAS और MPPSC फाउंडेशन बैच-शुरुआत क्रमशः 6 मई और 13 मई   अभी कॉल करें
ध्यान दें:

स्टेट पी.सी.एस.

  • 04 Oct 2023
  • 1 min read
  • Switch Date:  
उत्तर प्रदेश Switch to English

गोरखपुर से विशेष संचारी रोग नियंत्रण अभियान का शुभारंभ

चर्चा में क्यों?

  • 3 अक्तूबर, 2023 को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जनपद गोरखपुर के बी.आर.डी. मेडिकल कॉलेज में विशेष संचारी रोग नियंत्रण अभियान का शुभारंभ किया। यह विशेष संचारी रोग नियंत्रण अभियान प्रदेश में 31 अक्तूबर, 2023 तक चलाया जाएगा।

प्रमुख बिंदु

  • इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने जनजागरूकता के लिये प्रचार वाहनों को झंडी दिखाकर रवाना किया। 02 आशा व 02 आंगनबाड़ी कार्यकर्त्ताओं को उनके उत्कृष्ट कार्य हेतु सम्मानित किया तथा आयुष्मान भारत योजना के 04 लाभार्थियों को आयुष्मान कार्ड भी प्रदान किये।
  • विदित है कि 6 वर्ष पूर्व वर्ष 2017 में डेंगू, मलेरिया, इंसेफेलाइटिस, कालाजार, चिकनगुनिया जैसे संचारी रोगों के नियंत्रण के लिये विशेष अभियान का शुभारंभ किया गया था।
  • इन परिणामों को देखकर ही प्रदेश सरकार प्रतिवर्ष 03 बार अंतर्विभागीय समन्वय के माधयम से संचारी रोग नियंत्रण के लिये विशेष अभियान चलाती है।
  • विशेष अभियान में पहले 15 दिन का कार्यक्रम जनजागरण व अंतर्विभागीय समन्वय के साथ अपनी ज़िम्मेदारी का निर्वहन करने के लिये है।
  • 16 से 31अक्तूबर, 2023 तक दस्तक अभियान के अंतर्गत आशा कार्यकर्त्ताओं द्वारा घर-घर जाकर बुखार, खांसी एव अन्य शिकायतों के मरीज़ों को चिह्नित कर उनकी काउंसलिंग, हॉस्पिटल तक पहुँचाने और उनके समुचित उपचार की व्यवस्था हेतु एक विशेष कार्यक्रम चलेगा।

 


बिहार Switch to English

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बिहार कारा उद्योग के ब्रांड ‘मुक्ति’ का किया अनावरण

चर्चा में क्यों?

  • 3 अक्तूबर, 2023 को पटना के सरदार पटेल भवन स्थित संग्रहालय में आयोजित कार्यक्रम में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कारा उद्योग के ब्रांड ‘मुक्ति’ का अनावरण किया।

प्रमुख बिंदु

  • संग्रहालय में जेल में कैदियों द्वारा निर्मित सामग्री की प्रदर्शनी भी लगाई गई। बिहार की जेलों में बंद कैदी 100 से अधिक सामग्री का निर्माण कर रहे हैं।
  • इसमें मसाला, सत्तू, ब्रेड, हर्बल चाय, सूती वस्त्र, खादी वस्त्र, काष्ठ उद्योग, हस्तशिल्पमुद्रण सामग्री, चप्पल उद्योग, होम केयर, खाद्य, लौह, कागज़ आदि सामग्री का उत्पादन किया जाता है।
  • इस समय बिहार की 8 केंद्रीय व 2 मंडल काराओं (कुल 10 जेलों) में कारा उद्योग संचालित हैं। इसके द्वारा करीब 1000 सश्रम सज़ावार बंदियों को रोज़गार प्राप्त हो रहा है। इसके लिये बंदियों को विशेष प्रशिक्षण दिया गया है।
  • बिहार की जेलों में ‘एक जेल-एक उत्पाद’ की योजना पर काम हो रहा है। इस योजना में 33 मंडल कारा और 17 उप काराओं को शामिल करने की योजना है। यहाँ कारा उद्योग स्थापित किया जाएगा।
  • कारा महानिरीक्षक ने बताया कि कारा उद्योग द्वारा निर्मित उत्पादों की बिक्री से प्राप्त राजस्व को बंदियों के अपराध से पीड़ित परिवार के कल्याणार्थ खर्च किया जाता है, साथ ही इसका कुछ हिस्सा बंदी कल्याण कोष में जाता है।
  • प्रदर्शनी में आदर्श केंद्रीय कारा, बेऊर, पटना, केंद्रीय कारा, बक्सर, केंद्रीय कारा, मोतिहारी, शहीद खुदीराम बोस केंद्रीय कारा, मुज़फ्फरपुर, शहीद जुब्बा सहनी केंद्रीय कारा, भागलपुर, विशेष केंद्रीय कारा, भागलपुर, केंद्रीय कारा, गया, शिविर मंडल कारा, फुलवारीशरीफ एवं मंडल कारा, छपरा से बंदियों द्वारा निर्मित विभिन्न सामग्रियों को प्रदर्शित किया गया है।

  


राजस्थान Switch to English

राजस्थान संस्कृत अकादमी द्वारा तैयार श्रव्य-दृश्य रिकॉर्डिंग का हुआ लोकार्पण

चर्चा में क्यों?

  • 3 अक्तूबर, 2023 को राजस्थान के कला, साहित्य एवं संस्कृति मंत्री डॉ. बी.डी. कल्ला ने अपने राजकीय आवास पर राजस्थान संस्कृत अकादमी के तत्वावधान में वेद संरक्षण योजनांतर्गत अकादमी द्वारा अथर्ववेद एवं सामवेद की संपूर्ण संहिता की श्रव्य-दृश्य प्रस्तुति (रिकॉर्डिंग) का लोकार्पण किया।

प्रमुख बिंदु

  • इस रिकॉर्डिंग को जनसामान्य के लिये सोशल मीडिया वेबसाइट पर प्रसारित किया जाएगा। इसका उद्देश्य वेदों में निहित जन-कल्याण की भावना को जन-जन तक पहुँचाना है एवं वेद पाठ की लुप्त होती स्वर पाठ परंपरा को संरक्षित रखना है।
  • इस मौके पर डॉ. सरोज कोचर, अध्यक्ष संस्कृत अकादमी ने वेदों की गुरु परंपरा के संरक्षण हेतु अकादमी द्वारा इस वर्ष बजट घोषणा-23 के अंतर्गत 10 नवीन ज़िलों में वेदाश्रम खोले जाने की जानकारी दी तथा यह भी बताया कि वर्तमान में राज्य के 45 वेदाश्रम अकादमी द्वारा संचालित किये जा रहे हैं।
  • अकादमी निदेशक डॉ. राजकुमार जोशी ने बताया कि अकादमी द्वारा निम्बाहेड़ा में चारों वेदों की 11 शाखाओं के अध्ययन को अकादमी स्तर पर प्रारंभ कराए जाने का प्रयास किया जा रहा है।


राजस्थान Switch to English

जयपुर, बीकानेर, अजमेर एवं जैसलमेर में पैनोरमा के लिये 18 करोड़ रुपए मंज़ूर

चर्चा में क्यों?

  • 3 अक्तूबर, 2023 को राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने 4 ज़िलों- जयपुर, बीकानेर, अजमेर एवं जैसलमेर में पैनोरमा निर्माण के लिये 18 करोड़ रुपए की मंज़ूरी दी है।

प्रमुख बिंदु

  • विदित है कि राज्य सरकार प्रदेश की ऐतिहासिक और सांस्कृतिक विरासत के संरक्षण एवं महापुरुषों के जीवन आदर्शों से नई पीढ़ी को अवगत कराने के लिये पैनोरमा तैयार करा रही है।
  • मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की स्वीकृति से जयपुर में स्वामी आत्मारामजी लक्ष्य पैनोरमा तथा बीकानेर में राव बीकाजी पैनोरमा बनेगा। इनमें 4-4 करोड़ रुपए की लागत आएगी।
  • साथ ही, अजमेर में पृथ्वीराज चौहान पैनोरमा तथा जैसलमेर के पोकरण में इंदिरा महाशक्ति भारत पैनोरमा का निर्माण होगा। इनमें 5-5 करोड़ रुपए व्यय होंगे। सभी कार्य पर्यटन विभाग द्वारा पर्यटन विकास कोष से करवाए जाएंगे।
  • इन पैनोरमा में स्वामी आत्माराम जी, पृथ्वीराज चौहान तथा राव बीकाजी के व्यक्तित्व एवं भारत के स्वर्णिम इतिहास के बारे में नई पीढ़ी को जानकारी मिलेगी। इससे वे महापुरुषों के जीवन से प्रेरणा लेने के साथ ही गौरवशाली इतिहास एवं संस्कृति से परिचित हो सकेंगे।
  • उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री ने इस संबंध में बजट 2023-24 में घोषणा की थी।

मध्य प्रदेश Switch to English

मुख्यमंत्री ने भोपाल मेट्रो रेल के ट्रायल रन का किया शुभारंभ

चर्चा में क्यों?

  • 3 अक्तूबर, 2023 को मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भोपाल मेट्रो रेल के ट्रायल रन का सुभाष नगर डिपो से हरी झंडी दिखाकर शुभारंभ किया।

प्रमुख बिंदु

  • मुख्यमंत्री ने कहा कि भोपाल में मेट्रो आरंभ होने से परिवहन की नई क्रांति आएगी और विकास पथ पर भोपाल तीव्रगति से दौड़ेगा। भोपाल मेट्रो का विस्तार सीहोर, मंडीदीप के साथ-साथ रायसेन और विदिशा तक भी किया जाएगा।
  • सुभाष नगर से रानी कमलापति स्टेशन तक के पाँच किमी. लंबे मेट्रो के भाग में 5 स्टेशन हैं, जिनकी आधारभूत संरचनाओं का काम प्राकृतिक बाधाओं के बावजूद बहुत तेज़ी से पूरा किया गया।
  • मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि मेट्रो ट्रेन से समय और पैसा दोनों की बचत होगी। भोपालवासियों को सुरक्षित-सुगम-सुविधापूर्ण सस्ता और सुंदर परिवहन का साधन उपलब्ध होगा और शहर का प्रदूषण भी कम होगा।
  • अत्याधुनिक सुविधाओं से संपन्न मेट्रो के कोच में स्मार्ट लाईटिंग, एयर कडिंशन्स, स्मार्ट डिस्प्ले, एआई सी.सी.टी.वी. कैमरे आदि की सुविधा होगी।
  • लगभग 6 हज़ार 941 करोड़ रुपए की भोपाल मेट्रो परियोजना की कुल लंबाई 31 किमी. होगी, करोंद चौराहे से एम्स तक 16.77 किमी., रत्नागिरि तिराहे से भदभदा चौराहे तक 14.18 किमी. पर यह रेल चलेगी।
  • पहले चरण में सुभाष नगर एम्स तक 7 किमी. लंबे रूट पर मेट्रो ट्रेन का संचालन होगा। भोपाल मेट्रो का संपूर्ण संचालन 2024 से प्रारंभ हो जाएगा।
  • मेट्रो रेल के स्टेशन भी विशेष होंगे, जहाँ पर लिफ्ट एवं एस्केलेटर आदि की सुविधा, बुजुर्गों के लिये विशेष व्यवस्था और ऑनलाइन टिकिटिंग की सुविधा होगी।


मध्य प्रदेश Switch to English

दिव्यांग श्री मोहन सिंह को उत्कृष्ट कर्त्तव्यनिष्ठा के लिये दिया गया राज्यस्तरीय स्व. देवी प्रसाद शर्मा पुरस्कार, 2020-21

चर्चा में क्यों?

  • 3 अक्तूबर, 2023 को मध्य प्रदेश के स्कूल शिक्षा (स्वतंत्र प्रभार) एवं सामान्य प्रशासन राज्य मंत्री इंदर सिंह परमार ने मंत्रालय में उत्कृष्ट कर्त्तव्यनिष्ठा के लिये सहकारिता विभाग, मंत्रालय में कार्यरत् चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी श्री मोहन सिंह को ‘स्व. देवी प्रसाद शर्मा पुरस्कार, 2020-21’दिया।

प्रमुख बिंदु

  • श्री मोहन सिंह को उनकी शारीरिक दिव्यांगता के बावजूद समर्पित भाव के साथ समयबद्ध एवं प्रतिबद्ध कर्त्तव्यनिष्ठा के लिये वर्ष 2020-21 का यह पुरस्कार दिया गया। उन्हें पुरस्कार स्वरूप एक लाख रुपए राशि का चेक एवं प्रमाण-पत्र भी दिया गया।
  • उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा स्वर्गीय देवी प्रसाद शर्मा की स्मृति में की गई पुरस्कार की घोषणा के अनुपालन में राज्य शासन द्वारा प्रदेश के शासकीय चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों को उत्तम कार्यों के लिये ‘स्व. देवी प्रसाद शर्मा’पुरस्कार की स्थापना वर्ष 2017 से की गई है।
  • इस पुरस्कार का उद्देश्य चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों को उत्तम कार्य के लिये प्रोत्साहित करना है।
  • चतुर्थ श्रेणी के कर्मचारियों में कार्य के प्रति लगनशीलता, समय की पाबंदी, आचरण, व्यवहार, आज्ञाकारिता, कार्यालय में उपस्थिति, अतिरिक्त कार्य लेने के प्रति तत्परता, सौंपे गए कार्य को करने की समझ और योग्यता, स्वच्छता एवं साफ-सफाई के लिये किये गए उत्तम कार्यों के लिये यह पुरस्कार प्रदान किया जाता है।
  • यह पुरस्कार दिये जाने वाले वर्ष के ठीक पूर्व के वित्तीय वर्ष में किये गए कार्यों के लिये प्रदान किया जाता है।
  • यह पुरस्कार राज्यस्तरीय है और इसके अंतर्गत एक लाख रुपए की राशि एवं प्रमाण-पत्र प्रदान किया जाता है।


मध्य प्रदेश Switch to English

‘जो आया, वो वापस आया’ TVC ने IATO सम्मेलन में जीता प्रथम पुरस्कार

चर्चा में क्यों?

  • हाल ही में मध्य प्रदेश टूरिज्म बोर्ड द्वारा लॉन्च किये गए नए TVC ‘जो आया, वो वापस आया, ये है एमपी की माया’को महाराष्ट्र के औरंगाबाद में इंडियन एसोसिएशन ऑफ टूर ऑपरेटर्स (IATO) के वार्षिक सम्मेलन में डिजिटल मीडिया एडवरटाइजिंग कैटेगरी में प्रथम पुरस्कार मिला है।

प्रमुख बिंदु

  • प्रमुख सचिव पर्यटन और संस्कृति एवं प्रबंध संचालक टूरिज्म बोर्ड, शिव शेखर शुक्ला ने कहा कि प्रदेश के रमणीय पर्यटन स्थलों को देश-विदेश में प्रचारित करने के उद्देश्य से पर्यटन विभाग द्वारा रचनात्मक प्रयोग किये जाते रहे हैं। नए TVC में गोंड पेंटिंग के माध्यम से पर्यटन स्थलों और पात्रों को दर्शाया गया है।
  • एक संगीतमय कहानी के ज़रिये प्रदेश की समृद्ध जनजातीय कला और पर्यटन स्थलों को प्रमुखता से दर्शाया गया है।
  • सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म और यूट्यूब पर देशभर से 1 करोड़ 30 लाख से अधिक व्यू मिल चुके हैं। यू-ट्यूब पेज पर TVC को 13 लाख 80 हज़ार व्यू, इंस्टाग्राम पर 55 लाख, फेसबुक पर 65 लाख, ट्वीटर पर 6 लाख 79 हज़ार से अधिक व्यू मिल चुके हैं।


हरियाणा Switch to English

हरियाणा में ‘मतदाता बनने का शुरू हुआ त्योहार- आओ भाग लेकर पाएँ आकर्षक उपहार’की पहल

चर्चा में क्यों?

  • 3 अक्तूबर, 2023 को हरियाणा के मुख्य निर्वाचन अधिकारी अनुराग अग्रवाल ने बताया कि प्रदेश के युवाओं एवं महिलाओं को वोट बनवाने पर उपहार देने हेतु ‘मतदाता बनने का शुरू हुआ त्योहार-आओ भाग लेकर पाएँ आकर्षक उपहार’नामक पहल की शुरुआत की गई है।

प्रमुख बिंदु

  • 1 अक्तूबर से 9 दिसंबर तक वोट बनवाने वालों को 5 जनवरी, 2024 को प्रकाशित मतदाता सूची से निकाले ड्रॉ में लैपटॉप, स्मार्टफोन और पेन ड्राइव दिये जाएंगे। इसके अलावा इस अवधि के दौरान नए वोट बनवाने वाले मतदाताओं को टी-शर्ट प्रदान की जाएगी।
  • मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि जिनका जन्म 2 जनवरी, 2004 से एक जनवरी, 2006 के बीच हुआ है और उन्होंने अपना वोट नहीं बनवाया है, वह वोटर हेल्पलाइन पर ऑनलाइन फॉर्म 6 भरकर मतदाता बन सकते हैं। इसके साथ ही आकर्षक ईनाम भी पा सकते हैं।

 


झारखंड Switch to English

राज्यस्तरीय खेलो झारखंड कबड्डी प्रतियोगिता प्रारंभ

चर्चा में क्यों?

  • 3 अक्तूबर, 2023 को स्कूली शिक्षा एवं साक्षरता विभाग के शिक्षा परियोजना परिषद के तत्त्वावधान में राँची के हरिवंश टाना भगत इंडोर स्टेडियम में राज्यस्तरीय खेलो झारखंड कबड्डी प्रतियोगिता का शुभारंभ हुआ।

प्रमुख बिंदु

  • झारखंड राज्य शिक्षा परियोजना परिषद के एसडीईईओ बादल राज और झारखंड ओलंपिक संघ के कोषाध्यक्ष शिवेंद्र दुबे ने इस प्रतियोगिता का उद्घाटन किया।
  • कार्यक्रम पदाधिकारी धीरसेन ए सोरेंग ने बताया कि इस प्रतियोगिता में अंडर-14/17/19 बालक एवं बालिका वर्ग में राज्य के 1728 खिलाड़ी और 288 कोच व मैनेजर भाग ले रहे हैं।
  • प्रतियोगिता के आधार पर चयनित खिलाड़ियों के लिये प्रशिक्षण शिविर आयोजित किया जाएगा। इसके बाद अंडर-14 बालक टीम रांची में और अन्य वर्ग की टीमें आंध्र प्रदेश, तेलंगाना और कर्नाटक में होने वाली राष्ट्रीय स्कूली प्रतियोगिता में भाग लेंगी।


छत्तीसगढ़ Switch to English

प्रधानमंत्री ने जगदलपुर में लगभग 27,000 करोड़ रुपए की कई विकास परियोजनाओं की आधारशिला रखी और राष्ट्र को समर्पित कीं

चर्चा में क्यों?

  • 3 अक्तूबर, 2023 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने छत्तीसगढ़ के बस्तर ज़िले के जगदलपुर में लगभग 27,000 करोड़ रुपए की कई विकास परियोजनाओं का शिलान्यास किया और राष्ट्र को समर्पित किया।

प्रमुख बिंदु

  • इन परियोजनाओं में रेलवे और सड़क क्षेत्र की कई परियोजनाओं के साथ-साथ बस्तर ज़िले के नगरनार में 23,800 करोड़ रुपए से अधिक के एनएमडीसी स्टील लिमिटेड के स्टील प्लांट का लोकार्पण शामिल है।
  • 23,800 करोड़ रुपए से अधिक की लागत से निर्मित स्टील प्लांट एक ग्रीनफील्ड परियोजना है, जो उच्च गुणवत्ता वाले स्टील का उत्पादन करेगी।
  • नगरनार में एनएमडीसी स्टील लिमिटेड का स्टील प्लांट प्लांट के साथ-साथ सहायक और डाउनस्ट्रीम उद्योगों में हज़ारों लोगों को रोजगार के अवसर प्रदान करेगा।
  • यह बस्तर को दुनिया के इस्पात मानचित्र पर स्थापित करेगा और क्षेत्र के सामाजिक-आर्थिक विकास को बढ़ावा देगा।
  • पूरे देश में रेल बुनियादी ढाँचे में सुधार के प्रधानमंत्री के दृष्टिकोण के अनुरूप, कार्यक्रम के दौरान कई रेल परियोजनाओं का शिलान्यास किया गया और राष्ट्र को समर्पित की गईं।
  • प्रधानमंत्री ने अंतागढ़ और तारोकी के बीच एक नई रेल लाइन और जगदलपुर एवं दंतेवाड़ा के बीच एक रेल लाइन दोहरीकरण परियोजना राष्ट्र को समर्पित की।
  • उन्होंने बोरीडांड-सूरजपुर रेल लाइन दोहरीकरण परियोजना और अमृत भारत स्टेशन योजना के तहत जगदलपुर स्टेशन के पुनर्विकास की आधारशिला रखी।
  • प्रधानमंत्री ने तारोकी-रायपुर डेमू ट्रेन सेवा को भी झंडी दिखाई।
  • इन रेल परियोजनाओं से राज्य के आदिवासी क्षेत्रों में कनेक्टिविटी में सुधार होगा। बेहतर रेल बुनियादी ढांचे और नई ट्रेन सेवा से स्थानीय लोगों को लाभ होगा और क्षेत्र के आर्थिक विकास में मदद मिलेगी।
  • प्रधानमंत्री ने राष्ट्रीय राजमार्ग-43 के ‘कुनकुरी से छत्तीसगढ़-झारखंड सीमा खंड’तक एक सड़क उन्नयन परियोजना भी राष्ट्र को समर्पित की। नई सड़क से सड़क कनेक्टिविटी में सुधार होगा, जिससे क्षेत्र के लोगों को लाभ होगा।

   


छत्तीसगढ़ Switch to English

मुख्यमंत्री ने ‘स्वामी आत्मानंद कोचिंग योजना’ का किया शुभारंभ

चर्चा में क्यों?

  • 3 अक्तूबर, 2023 को छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने इंजीनियरिंग एवं मेडिकल की प्रतियोगी परीक्षाओं के लिये स्कूल शिक्षा विभाग की नवाचारी ‘स्वामी आत्मानंद कोचिंग योजना’ का अपने निवास कार्यालय से ऑनलाइन शुभारंभ किया।

प्रमुख बिंदु

  • इस योजना के तहत प्रदेश के 146 विकासखंड मुख्यालयों और चार शहरों- रायपुर, दुर्ग, बिलासपुर और कोरबा सहित 150 कोचिंग सेंटर के माध्यम से शासकीय स्कूलों में कक्षा 12वीं के विद्यार्थियों को नि:शुल्क कोचिंग दी जाएगी।
  • मुख्यमंत्री बघेल और स्कूल शिक्षा मंत्री रविंद्र चौबे के समक्ष स्वामी आत्मानंद कोचिंग योजना संचालन के लिये स्कूल शिक्षा विभाग के अंतर्गत समग्र शिक्षा, छत्तीसगढ़ पाठ्य पुस्तक निगम एवं ऐलन करियर कोचिंग इंस्टीट्यूट प्राइवेट लिमिटेड के मध्य एमओयू पर हस्ताक्षर किये गए।
  • मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर स्वामी आत्मानंद कोचिंग योजना के संबंध में स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा तैयार ब्रॉशर का विमोचन किया।
  • मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में ग्रामीण सहित दूरस्थ अंचल तक बच्चों को उत्कृष्ट शिक्षा उपलब्ध कराने के लिये 753 स्वामी आत्मानंद उत्कृष्ट अंग्रेज़ी एवं हिन्दी माध्यम के स्कूल संचालित हो रहे हैं। राज्य में आज शुरू की गई स्वामी आत्मानंद कोचिंग योजना शिक्षा के क्षेत्र में क्रांतिकारी निर्णय और एक अहम कदम साबित होगा।
  • मुख्यमंत्री ने कहा कि इस योजना के तहत कोचिंग के साथ-साथ शिक्षकों की समुचित व्यवस्था की गई है। एक कोचिंग सेंटर में भौतिक, रसायन, जीव विज्ञान एवं गणित विषय के लिये अलग-अलग नोडल शिक्षक चिह्नांकित कर लिये गए हैं।
  • कोचिंग सेंटरों में अध्यापन कार्य का नियमित अवलोकन किया जाएगा और पालकों का फीडबैक भी लिया जाएगा ऑनलाइन कक्षाओं में टू-वे संवाद रहेगा, अर्थात् विद्यार्थी विषय शिक्षकों से प्रश्न पूछ सकेंगे। इस दौरान विद्यार्थियों का लगातार आकलन किया जाएगा।
  • प्रमुख सचिव स्कूल शिक्षा डॉ. आलोक शुक्ला ने स्वामी आत्मानंद कोचिंग योजना के संबंध में बताया कि प्रदेश के 146 विकासखंड और चार शहरों- रायपुर, दुर्ग, बिलासपुर और कोरबा सहित 150 कोचिंग सेंटर को इंटरनेट कनेक्शन और कंप्यूटर से जोड़ दिया गया है।
  • यहाँ कक्षा 12वीं में गणित एवं जीव विज्ञान संकाय में अध्ययनरत् विद्यार्थियों को कोचिंग दी जाएगी। यह नि:शुल्क कोचिंग हिन्दी और अंग्रेज़ी माध्यम के छात्रों के लिये दी जाएगी।
  • इस योजना के तहत अब तक 9 हज़ार 13 बच्चों का पंजीयन हो चुका है। इनमें नीट के लिये 6 हज़ार 553 और जेईई की कोचिंग के लिये 2 हज़ार 460 ने पंजीयन कराया है। 

       

छत्तीसगढ़ Switch to English

मुख्यमंत्री का छत्तीसगढ़ लोक सेवा आयोग के परीक्षार्थियों के हित में बड़ा फैसला

चर्चा में क्यों?

  • 3 अक्तूबर, 2023 को छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने छत्तीसगढ़ लोक सेवा आयोग के अभ्यर्थियों के हित को देखते हुए आयोग की परीक्षाओं के दस्तावेज़ के विनष्टीकरण की व्यवस्था में बदलाव लाने के निर्देश दिये हैं।

प्रमुख बिंदु

  • मुख्यमंत्री के निर्देश के परिपालन में राज्य शासन द्वारा लोक सेवा आयोग को आयोग की परीक्षाओं की आंसर सीट एवं दस्तावेज़ों के विनष्टीकरण की अवधि को दो साल किये जाने का प्रस्ताव भेजा गया है।  
  • गौरतलब है कि पीएससी परीक्षाओं की आंसर सीट एवं दस्तावेज़ के विनष्ट किये जाने के कायदे-कानून छत्तीसगढ़ राज्य में लंबे समय से चले आ रहे हैं। इसमें बदलाव लाने के लिये मुख्यमंत्री ने आवश्यक निर्देश दिये हैं।

उत्तराखंड Switch to English

उत्तराखंड में 28 नवंबर से होगा 6वाँ वैश्विक आपदा प्रबंधन सम्मेलन

चर्चा में क्यों?

  • 3 अक्तूबर, 2023 को उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने पत्रकारवार्ता कर जानकारी दी कि उत्तराखंड की राजधानी देहरादून में आगामी 28 नवंबर से एक दिसंबर तक 6वाँ वैश्विक आपदा प्रबंधन सम्मेलन आयोजित किया जाएगा।

प्रमुख बिंदु

  • मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने बताया कि सम्मेलन में कई देशों और राज्यों के प्रतिनिधि शामिल होंगे। सदी के महानायक अमिताभ बच्चन सम्मेलन के ब्रांड एंबेसडर होंगे।
  • सम्मेलन में आपदा प्रबंधन के क्षेत्र में देश और दुनिया भर के विशेषज्ञों के बीच मंथन होगा। सम्मेलन में जलवायु परिवर्तन के साथ आपदा प्रबंधन के विषयों पर चर्चा होगी।
  • इस सम्मेलन का प्राथमिक उद्देश्य हिमालयी पारिस्थितिकी तंत्र और समुदायों पर ध्यान केंद्रित करते हुए जलवायु परिवर्तन और आपदा प्रतिरोध की चुनौतियों पर चर्चा करना एवं उनका समाधान करना है।
  • सम्मेलन को और अधिक प्रभावी बनाने के उद्देश्य से प्रदेश के विभिन्न विश्वविद्यालयों, महाविद्यालयों, विद्यालयों सहित विभिन्न संस्थानों में आपदा प्रबंधन के विशेष सत्रों का आयोजन किया जाएगा। साथ ही आपदा प्रबंधन के प्रति जागरूकता फैलाने के लिये विभिन्न कार्यशालाओं का आयोजन भी किया जाएगा।
  • 28 नवंबर को उद्घाटन सत्र होगा। वहीं, सम्मेलन में चार सत्र होंगे, जिसमें 50 टेक्निकल सत्र होंगे। सम्मेलन में कई देशों के विशेषज्ञ, वैज्ञानिक शामिल होंगे।
  • आपदा प्रबंधन विभाग इसे लेकर मेगा शो का आयोजन कर रहा है। सम्मेलन में प्रदर्शनी का भी आयोजन होगा।


उत्तराखंड Switch to English

मसूरी में देश के पहले कार्टोग्राफी संग्रहालय का हुआ उद्घाटन

चर्चा में क्यों?

  • हाल ही में उत्तराखंड के पर्यटन और संस्कृति मंत्री सतपाल महाराज ने उत्तराखंड के सुरम्य शहर मसूरी में देश के पहले कार्टोग्राफी संग्रहालय जॉर्ज एवरेस्ट कार्टोग्राफी संग्रहालय का उद्घाटन किया।

प्रमुख बिंदु

  • 27 सितंबर को विश्व पर्यटन दिवस के अवसर पर पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज ने मसूरी के जॉर्ज एवरेस्ट में 23 करोड़ 52 लाख रुपए की लागत से बने सर जॉर्ज एवरेस्ट संग्रहालय का उद्घाटन और हेलीपैड का उद्घाटन किया।
  • पर्यटन मंत्री ने देश के पहले मानचित्रण संग्रहालय को महान गणितज्ञ राधानाथ सिकदर और पंडित नैन सिंह रावत को समर्पित किया।
  • विदित है कि संग्रहालय पार्क एस्टेट में स्थित है, जो प्रसिद्ध सर्वेक्षक सर जॉर्ज एवरेस्ट का निवास स्थान हुआ करता था, जिनके नाम पर माउंट एवरेस्ट का नाम रखा गया था। यह पहाड़ी शहर के हाथीपाँव क्षेत्र में है। सर एवरेस्ट इस घर में 1832 से 1843 तक रहे थे और यह मसूरी में बने पहले घरों में से एक है।
  • 1832 में बने सर जॉर्ज एवरेस्ट हाउस को एक संग्रहालय के रूप में विकसित किया गया है। एशियाई विकास बैंक (एडीबी) की सहायता से, पर्यटन विभाग ने 23.5 करोड़ रुपए के बजट के साथ इसका नवीनीकरण किया है।
  • संग्रहालय में मानचित्रकला के इतिहास, मानचित्रकला से संबंधित उपकरणों, महान भारतीय सर्वेक्षणकर्त्ताओं और महान त्रिकोणमितीय सर्वेक्षण के बारे में जानकारी दी गई है।
  • इस म्यूजियम में सर जॉर्ज एवरेस्ट के साथ ही सर्वेयर नैन सिंह रावत के पत्रों को भी रखा जाएगा। इसके साथ ही सर्वेयर किशन सिंह नेगी, गणितज्ञ राधानाथ सिकदर की ऑब्जर्वेटरी से भी लोग रूबरू होंगे।
  • कार्टोग्राफिक म्यूजियम में पर्यटक जीपीएस की कार्यप्रणाली भी जान पाएंगे, जिसके लिये ग्लोब तैयार किया गया है। म्यूजियम को आधुनिक तकनीक से तैयार किया गया है, जैसे कि सैटेलाइट कैसे काम करते हैं? उनमें जीपीएस और संचार प्रणाली कैसे ऑपरेट की जाती है? इसकी जानकारी भी प्राप्त की जा सकेगी।
  • इस म्यूजियम में आने वाले पर्यटक जिस उपकरण के सामने खड़े होंगे, उसकी पूरी जानकारी डिस्प्ले हो जाएगी, जिसे विशेष सॉफ्टवेयर के ज़रिये संचालित किया जाएगा तथा क्यूआर कोड स्कैन करते ही सारी जानकारी मोबाइल पर मिल जाएगी।
  • उल्लेखनीय है कि कार्टोग्राफी खोज करने और मानचित्र बनाने के बारे में है। यह वास्तविक या काल्पनिक स्थानों को दिखाने के लिये विज्ञान, कला और तकनीकी कौशल का उपयोग करता है, जिससे यह समझने में मदद मिलती है कि चीज़ें कहाँ स्थित हैं।


 Switch to English
close
एसएमएस अलर्ट
Share Page
images-2
images-2