इंदौर शाखा: IAS और MPPSC फाउंडेशन बैच-शुरुआत क्रमशः 6 मई और 13 मई   अभी कॉल करें
ध्यान दें:

मेन्स प्रैक्टिस प्रश्न

  • प्रश्न :

    जलवायु परिवर्तन के कृषि पर पड़ने वाले प्रभावों का आलोचनात्मक परीक्षण

    23 Jan, 2018 सामान्य अध्ययन पेपर 3 पर्यावरण

    उत्तर :

    उत्तर की रूपरेखा:

    • प्रस्तावना
    • जलवायु परिवर्तन से कृषि पर पड़ने वाले प्रभाव
    • निष्कर्ष

    जलवायु परिवर्तन ने मानव जीवन के प्रत्येक पहलू को प्रभावित किया है और कृषि भी इससे अछूता नहीं है। इस संबंध में हुए शोध दर्शाते हैं कि फसलीय अवधि में मौसमी पैरामीटर, अन्य पैरामीटरों (यथा- मृदा, पोषक तत्त्व आदि) की तुलना में कृषि उपज को सर्वाधिक प्रभावित करते हैं। जलवायु परिवर्तन का कृषि पर पड़ने वाले प्रभावों को हम निम्नलिखित रूपों में देख सकते हैं-

    1. जलवायु परिवर्तन बाढ़ एवं सूखे के जोखिमों को अत्यधिक बढ़ाता है। भारतीय कृषि को इन समस्याओं का विशेष रूप से सामना करना पड़ रहा है। भारत में लगभग 54 प्रतिशत कृषि क्षेत्र मानसूनी वर्षा पर निर्भर है। अतः एल-नीनो के कारण मानसून में उतार-चढ़ाव इन क्षेत्रों की कृषि को गहरे स्तर पर दुष्प्रभावित करता है।
    2. अत्यधिक वर्षा मृदा अपरदन को बढ़ाती है, जिससे मृदा की उत्पादकता प्रभावित होती है।
    3. कम वर्षा के कारण भूमिगत जल का अतिशय प्रयोग होता है जो भूमिगत जल के स्तर को कम करता है।
    4. जलवायु परिवर्तन के कारण समुद्री जल-स्तर में वृद्धि होती है। परिणामस्वरूप तटीय इलाकों की भूमि जलमग्न होती है और जलस्रोतों का खारापन भी बढ़ता है।
    5. तापमान में वृद्धि फसल पैटर्न में परिवर्तन लाती है। इससे उत्पादकता दुष्प्रभावित होती है।
    6. बाढ़ के कारण कृष्यभूमि की लवणता में वृद्धि होती है।
    7. अम्ल वर्षा के कारण केंचुआ सहित कई किसान मित्र जीवों का स्वास्थ्य दुष्प्रभावित होता है जो अंततः भूमि की उत्पादकता को बुरी तरह प्रभावित करता है।
    8. जलवायु परिवर्तन मवेशियों के स्वास्थ्य को भी प्रभावित करता है। इससे पशुधन पर दबाव बढ़ता है जो दुग्ध उत्पादन सहित अन्य पशु उत्पादों में भी कमी लाता है।
    9. जलवायु परिवर्तन के कारण चक्रवाती तीव्रता में भी वृद्धि होती है जो तटीय क्षेत्रों में कृषि और कृषकों के हितों को दुष्प्रभावित करता है।

    उपरोक्त चर्चा के आधार पर स्पष्टतः यह कहा जा सकता है कि जलवायु परिवर्तन कृषि व खाद्य सुरक्षा के लिये एक कठिन चुनौती उत्पन्न कर रहा है। यह भारत के लिये और बड़ी चुनौती है क्योंकि देश की लगभग दो तिहाई जनसंख्या कृषि पर प्रत्यक्ष-परोक्ष रूप से आश्रित है। अतः भारत में कृषि को लाभकारी बनाए बिना देश का समावेशी विकास संभव नहीं है।

    जलवायु परिवर्तन की समस्या से लड़ने हेतु कृषि को सक्षम बनाने के लिये सरकार द्वारा भी कई महत्त्वपूर्ण कदम उठाए गए हैं, जैसे- राष्ट्रीय सतत् कृषि मिशन, राष्ट्रीय जल मिशन, प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना आदि। तथापि इस दिशा में और भी कई महत्त्वपूर्ण कदम उठाए जाने की आवश्यकता है जिनमें क्लीन डेवलपमेंट मैकेनिज्म और क्लीन टेक्नोलॉजी को अपनाना महत्त्वपूर्ण है।

    To get PDF version, Please click on "Print PDF" button.

    Print
close
एसएमएस अलर्ट
Share Page
images-2
images-2
× Snow