हिंदी साहित्य: पेन ड्राइव कोर्स
ध्यान दें:
झारखण्ड संयुक्त असैनिक सेवा मुख्य प्रतियोगिता परीक्षा 2016 -परीक्षाफलछत्तीसगढ़ पीसीएस प्रश्नपत्र 2019छत्तीसगढ़ पी.सी.एस. (प्रारंभिक) परीक्षा, 2019 (महत्त्वपूर्ण अध्ययन सामग्री).छत्तीसगढ़ पी.सी.एस. प्रारंभिक परीक्षा – 2019 सामान्य अध्ययन – I (मॉडल पेपर )
हिंदी साहित्य: पेन ड्राइव कोर्स (Hindi Literature: Pendrive Course)
मध्य प्रदेश पी.सी.एस. (प्रारंभिक) परीक्षा , 2019 (महत्वपूर्ण अध्ययन सामग्री)मध्य प्रदेश पी.सी.एस. परीक्षा मॉडल पेपर.Download : उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग (प्रवर) प्रारंभिक परीक्षा 2019 - प्रश्नपत्र & उत्तर कुंजीअब आप हमसे Telegram पर भी जुड़ सकते हैं !यू.पी.पी.सी.एस. परीक्षा 2017 चयनित उम्मीदवार.UPSC CSE 2020 : प्रारंभिक परीक्षा टेस्ट सीरीज़

मेन्स प्रैक्टिस प्रश्न

  • भ्रंश घाटी (Rift Valley) से आप क्या समझते हैं? पूर्वी अफ्रीका में इनके अत्यधिक विकसित होने के सुसंगत कारकों की व्याख्या कीजिये।

    30 Mar, 2017 सामान्य अध्ययन पेपर 1 भूगोल

    उत्तर :

    भ्रंश घाटी का विकास तब होता है जब दो भ्रंश रेखाओं के बीच की चट्टानी स्तंभ नीचे की ओर धँस जाती है। जब तनावजनित बल के कारण दो भू-खंडों का विपरीत दिशा में खिसकाव होता है, तब इसका निर्माण होता है। भ्रंश घाटियाँ लंबी, संकरी व गहरी होती हैं। इन्हें जर्मन भाषा में ‘ग्राबेन (Graben)’ कहा जाता है।

    भ्रंश घाटियों के निर्माण की प्रक्रिया पूर्वी अफ्रीका में बहुत स्पष्ट तरीके से समझी जा सकती है। पूर्वी अफ्रीकन भ्रंश घाटी  लाल सागर से दक्षिण की ओर तकरीबन 3000 किमी॰ तक विस्तृत है। पूर्वी अफ्रीकन भ्रंश एक क्रियाशील महाद्वीपीय भ्रंश जोन है जो मायोसीन काल (22-25 मिलियन वर्ष पहले) में प्रारम्भ हुआ था।

    पूर्वी अफ्रीकन भ्रंश की दो मुख्य शाखाएँ हैं- पूर्वी भ्रंश घाटी या ग्रेगरी भ्रंश तथा दूसरी मुख्य इथियोपियन भ्रंश। यह इथियोपिया में अफर त्रिकोण (Afar Triangle) से शुरू होकर मोजाम्बिक तक समाप्त होती है। अफर त्रिकोण पूर्वी अफ्रीका में महान भ्रंश घाटी (Great Rift Valley) का ही एक भाग है। यह इथियोपिया, केन्या, यूगांडा, रवांडा, बुरुंडी, जाम्बिया, तन्जानिया, मलावी तथा मोजाम्बिक तक विस्तृत है।

    पूर्वी अफ्रीकन भ्रंश की उत्पत्ति का प्रमुख कारण पर्पटीय घनत्व में भिन्नता तथा विवर्तनिकी गतिविधियाँ हैं। अफ्रीकन प्लेट दो विवर्तनिकी प्लेटों- सोमाली प्लेट और नुबियन प्लेट में विभाजित होने की प्रक्रिया में है। अतः भ्रंश क्षेत्र अभिसरण विवर्तनिकी प्लेट सीमांत विकसित कर रहा है जिसके कारण भ्रंश घाटी का विस्तार हो रहा है। अभिसरण की यह दर 6-7 मिमी. प्रति वर्ष है। अगर यह विस्तार लगातार होता है तो 10 मिलियन साल बाद स्थलमंडलीय दरार (rupture) उत्पन्न होगी, सोमालियन प्लेट टूट जाएगी और एक नई महासागरीय घाटी का निर्माण होगा।

    पूर्वी अफ्रीकन भ्रंश घाटी पर अनेक सक्रिय एवं निष्क्रिय ज्वालामुखी अवस्थित हैं। पृथ्वी पर वर्तमान में यह सर्वाधिक बड़ा सक्रिय भूकंपीय क्षेत्र है। ये सभी विवर्तनिकी एवं भू-भौतिकीय घटनाएँ गर्त उत्पन्न करती हैं जो धीरे-धीरे घाटियों का रूप धारण कर लेती हैं।

एसएमएस अलर्ट
 

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

प्रोग्रेस सूची देखने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

आर्टिकल्स को बुकमार्क करने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close