हिंदी साहित्य: पेन ड्राइव कोर्स
ध्यान दें:
झारखण्ड संयुक्त असैनिक सेवा मुख्य प्रतियोगिता परीक्षा 2016 -परीक्षाफलछत्तीसगढ़ पीसीएस प्रश्नपत्र 2019छत्तीसगढ़ पी.सी.एस. (प्रारंभिक) परीक्षा, 2019 (महत्त्वपूर्ण अध्ययन सामग्री).छत्तीसगढ़ पी.सी.एस. प्रारंभिक परीक्षा – 2019 सामान्य अध्ययन – I (मॉडल पेपर )
हिंदी साहित्य: पेन ड्राइव कोर्स (Hindi Literature: Pendrive Course)
मध्य प्रदेश पी.सी.एस. (प्रारंभिक) परीक्षा , 2019 (महत्वपूर्ण अध्ययन सामग्री)मध्य प्रदेश पी.सी.एस. परीक्षा मॉडल पेपर.Download : उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग (प्रवर) प्रारंभिक परीक्षा 2019 - प्रश्नपत्र & उत्तर कुंजीअब आप हमसे Telegram पर भी जुड़ सकते हैं !यू.पी.पी.सी.एस. परीक्षा 2017 चयनित उम्मीदवार.UPSC CSE 2020 : प्रारंभिक परीक्षा टेस्ट सीरीज़

मेन्स प्रैक्टिस प्रश्न

  • मानवीय अतिक्रमण तथा विभिन्न प्राकृतिक कारकों के कारण वनों में आग लगने की घटनाओं में वृद्धि देखी गई है। वनों में लगी आग उस क्षेत्र विशेष की परिस्थितिकी के साथ-साथ अर्थव्यवस्था को भी व्यापक स्तर पर क्षति पहुँचाती है। समालोचनात्मक मूल्यांकन करें।

    03 May, 2018 सामान्य अध्ययन पेपर 1 भूगोल

    उत्तर :

    कुछ वर्षों से वनों में आग लगने की घटनाओं में काफी वृद्धि हुई है। शीतोष्ण कटिबंधीय क्षेत्रों में इन घटनाओं की आवृत्ति एवं तीव्रता बढ़ी है। ऐसा नहीं है कि पहले वनों में आग नहीं लगती थी, ऐसी घटनाएँ सदियों पहले भी होती रही हैं परंतु तब उनका कारण अधिकांशतः प्राकृतिक कारक ही थे, यथा- बिजली गिरना, पेड़ की सूखी पत्तियों के मध्य घर्षण, तापमान की अधिकता, पेड़-पौधों में शुष्कता आदि। परंतु, वर्तमान में वनों में अतिशय मानवीय अतिक्रमण/हस्तक्षेप ने वनों में लगने वाली आग की बारम्बारता को बढ़ाया है। विभिन्न प्रकार के मानवीय क्रियाकलायों यथा- पशुचारण, झूम खेती, बिजली की तारों का वनों से होकर गुजरना तथा वनों में लोगों का धुम्रपान करना आदि, से ऐसी घटनाओं में वृद्धि हुई है।

    वनों में आग लगने से पारिस्थितिकी पर पड़ने वाले प्रभावः

    • वनों की जैव विविधता की हानि।
    • वनों के क्षेत्र विशेष एवं आस-पास के क्षेत्र में प्रदूषण की समस्या बढ़ जाना।
    • मृदा की उर्वरता खत्म हो जाना।
    • वैश्विक तापन में सहायक गैसों का अत्यधिक उत्सर्जन होना।
    • खाद्य श्रृंखला का असंतुलित हो जाना।

    वनों में आग लगने से क्षेत्र विशेष की अर्थव्यवस्था पर पड़ने वाले प्रभावः

    • वनों के आस-पास रहने वाले जिन आदिवासियों व लोगों की आजीविका वनोत्पादों पर निर्भर होती है, उनका आजीविकाविहीन हो जाना।
    • वनों पर आधारित उद्योगों एवं रोजगार की हानि।
    • वनों पर आधारित पर्यटन उद्योग को नुकसान।
    • वनों की कीमती लकड़ियों की हानि।
    • वनों में उपस्थित औषधी गुणों से युक्त वनस्पतियों की हानि।

    निश्चित तौर पर वनों में लगी आग से उन क्षेत्र विशेषों का भौगोलिक, आर्थिक एवं सामाजिक परिवेश व्यापक स्तर पर प्रभावित होता है। अतः इन घटनाओं को न्यूनतम किये जाने के गंभीर प्रयास किये जाने चाहियें। आपदा प्रबंधन के समुचित उपायों के साथ-साथ ‘आग के प्रति संवेदनशील वन क्षेत्र एवं मौसम’ में वनों में मानवीय क्रियाकलापों को बंद या न्यूनतम किया जाना चाहिये तथा संवेदनशील क्षेत्रों में आधुनिकतम तकनीकों से युक्त संसाधनों के साथ पर्याप्त आपदा प्रबंधन बल की तैनाती रहनी चाहिये।

एसएमएस अलर्ट
 

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

प्रोग्रेस सूची देखने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

आर्टिकल्स को बुकमार्क करने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close