हिंदी साहित्य: पेन ड्राइव कोर्स
ध्यान दें:
झारखण्ड संयुक्त असैनिक सेवा मुख्य प्रतियोगिता परीक्षा 2016 -परीक्षाफलछत्तीसगढ़ पीसीएस प्रश्नपत्र 2019छत्तीसगढ़ पी.सी.एस. (प्रारंभिक) परीक्षा, 2019 (महत्त्वपूर्ण अध्ययन सामग्री).छत्तीसगढ़ पी.सी.एस. प्रारंभिक परीक्षा – 2019 सामान्य अध्ययन – I (मॉडल पेपर )
हिंदी साहित्य: पेन ड्राइव कोर्स (Hindi Literature: Pendrive Course)
मध्य प्रदेश पी.सी.एस. (प्रारंभिक) परीक्षा , 2019 (महत्वपूर्ण अध्ययन सामग्री)मध्य प्रदेश पी.सी.एस. परीक्षा मॉडल पेपर.Download : उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग (प्रवर) प्रारंभिक परीक्षा 2019 - प्रश्नपत्र & उत्तर कुंजीअब आप हमसे Telegram पर भी जुड़ सकते हैं !यू.पी.पी.सी.एस. परीक्षा 2017 चयनित उम्मीदवार.UPSC CSE 2020 : प्रारंभिक परीक्षा टेस्ट सीरीज़

मेन्स प्रैक्टिस प्रश्न

  • रेटजेल द्वारा प्रतिपादित विचारधाराओं का संक्षेप में वर्णन कीजिये।

    28 Aug, 2018 सामान्य अध्ययन पेपर 1 भूगोल

    उत्तर :

    उत्तर की रूपरेखा

    • प्रभावी भूमिका में रेटजेल के विषय में लिखें।
    • तार्किक एवं संतुलित विषय-वस्तु में विचारधाराओं का संक्षेप में वर्णन करें।
    • प्रश्नानुसार संक्षिप्त और सारगर्भित निष्कर्ष लिखें।

    रेटजेल विश्व के प्रथम पूर्ण मानव भूगोलवेत्ता थे। उन्होंने मानव भूगोल को एक विज्ञान के रूप में संस्थापित किया और अपने नवीन विचारों से उसे पोषित किया। इस दिशा में उन्होंने निम्नलिखित विचारधाराओं का प्रतिपादन किया -

    नियतिवाद या पर्यावरण नियतिवाद 

    रेटजेल ने मानव और पर्यावरण के पारस्परिक संबंधों में पर्यावरण के प्रभावों को अधिक महत्त्वपूर्ण बताया था। उन्होंने अपने मानव भूगोल के प्रथम खंड में डार्विन के विकासवाद की पुष्टि की थी और यह मत व्यक्त किया था कि भौगोलिक पर्यावरण के अनुसार ही मानव समाजों का निर्माण होता है। इसीलिये रेटजेल को नियतिवाद का प्रतिपादक माना जाता है।

    पार्थिव एकता का सिद्धांत 

    पार्थिव एकता या अंतर्संबंधों के सिद्धांत में रेटजेल की पूर्ण आस्था थी। उन्होंने मानव भूगोल के विवेचन में पार्थिव एकता के सिद्धांत को ही प्रमुखता प्रदान की थी। वे संपूर्ण विश्व को उसके व्यक्तिगत तत्त्वों के रूप में नहीं, बल्कि सभी तत्त्वों की समष्टि के रूप में देखते थे। वे पार्थिव एकता के सिद्धांत को मानव भूगोल की आधारशिला मानते थे। इस सिद्धांत के अनुसार, प्रकृति के सभी तत्त्व परस्पर संबंधित होते हैं और कोई भी भूदृश्य इन तत्त्वों के मिले-जुले स्वरूप को प्रकट करता है। 

    राज्य का जैविक सिद्धांत 

    रेटजेल ने अपने राजनीतिक भूगोल नामक ग्रंथ में राज्य के जैविक सिद्धांत का समर्थन किया है। उन्होंने राज्य को एक जैविक इकाई माना है। उनके मतानुसार, अन्य जैविक इकाइयों की भाँति राज्य के लिये भी आवश्यक है कि वह सतत् प्रगतिशील बना रहे। क्योंकि ठहराव प्रकृति के नियमों के विपरीत और मृत्यु का पर्याय है। अन्य जैविक इकाइयों की भाँति स्वायत्त राजनीतिक इकाइयाँ भी आत्मरक्षा के लिये निरंतर संघर्षरत रहती हैं। 

    सांस्कृतिक भूदृश्य की संकल्पना 

    रेटजेल प्रथम भूगोलवेत्ता थे जिन्होंने सांस्कृतिक भूदृश्य की संकल्पना को स्पष्ट वैचारिक आधार प्रदान किया। वे सांस्कृतिक भूदृश्य को ऐतिहासिक भूदृश्य कहते थे। उनके अनुसार, यदि सूक्ष्म दृष्टि से देखा जाए तो सांस्कृतिक भूदृश्य, क्षेत्र विशेष में मानव बसाव की ऐतिहासिक विकास प्रक्रिया का प्रतिफल है।

    मानव भूगोल के विकास में रेटजेल का योगदान अविस्मरणीय है। सबसे पहले उन्होंने ही मानवीय पक्ष के भौगोलिक अध्ययन के लिये एंथ्रोपोज्योग्राफी शब्द का प्रयोग किया था। उन्होंने भूगोल के प्रादेशिक अध्ययन पर कम ध्यान दिया और क्रमबद्ध अध्ययन को रोचक बनाने में अपना पूर्ण योगदान प्रदान किया था।

एसएमएस अलर्ट
 

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

प्रोग्रेस सूची देखने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

आर्टिकल्स को बुकमार्क करने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close