हिंदी साहित्य: पेन ड्राइव कोर्स
ध्यान दें:
झारखण्ड संयुक्त असैनिक सेवा मुख्य प्रतियोगिता परीक्षा 2016 -परीक्षाफलछत्तीसगढ़ पीसीएस प्रश्नपत्र 2019छत्तीसगढ़ पी.सी.एस. (प्रारंभिक) परीक्षा, 2019 (महत्त्वपूर्ण अध्ययन सामग्री).छत्तीसगढ़ पी.सी.एस. प्रारंभिक परीक्षा – 2019 सामान्य अध्ययन – I (मॉडल पेपर )
हिंदी साहित्य: पेन ड्राइव कोर्स (Hindi Literature: Pendrive Course)
मध्य प्रदेश पी.सी.एस. (प्रारंभिक) परीक्षा , 2019 (महत्वपूर्ण अध्ययन सामग्री)मध्य प्रदेश पी.सी.एस. परीक्षा मॉडल पेपर.Download : उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग (प्रवर) प्रारंभिक परीक्षा 2019 - प्रश्नपत्र & उत्तर कुंजीअब आप हमसे Telegram पर भी जुड़ सकते हैं !यू.पी.पी.सी.एस. परीक्षा 2017 चयनित उम्मीदवार.UPSC CSE 2020 : प्रारंभिक परीक्षा टेस्ट सीरीज़

मेन्स प्रैक्टिस प्रश्न

  • युराशियों के वर्गीकरण को स्पष्ट करते हुए वाताग्र-जनन (Frontogenesis) में उनकी भूमिका का उल्लेख करें।

    13 Nov, 2017 सामान्य अध्ययन पेपर 1 भूगोल

    उत्तर :

    किसी समांगी क्षेत्र (महासागरीय सतह या मैदानी भाग) पर वायु पर्याप्त रूप से लंबे समय तक रहती है तो वायु उस क्षेत्र के गुणों को धारण कर लेती है। तापमान और आर्द्रता के विशिष्ट गुणों से युक्त इस वायु को ‘वायुराशि’ कहते हैं।

    वायुराशि को उनके उद्गम क्षेत्रों के आधार पर वर्गीकृत किया जाता है। इनके पाँच प्रमुख उद्गम क्षेत्र हैं-

    • उष्ण एवं उपोष्ण कटिबंधीय महासागर
    • उपोष्ण कटिबंधीय उष्ण मरुस्थल
    • उच्च अक्षांशीय अपेक्षाकृत ठंडे महासागर
    • उच्च अक्षांशीय अति शीत बर्फ आच्छादित महाद्वीपीय क्षेत्र
    • स्थायी रूप से बर्फ आच्छादित महाद्वीप अटांर्कटिक तथा आर्कटिक 

    उपर्युक्त उद्गम क्षेत्रों के आधार पर वायुराशियों को निम्नलिखित पाँच वर्गों में बाँटा गया है-

    • उष्णकटिबंधीय महासागरीय (mT)
    • उष्णकटिबंधीय महाद्वीपीय (cT)
    • ध्रुवीय महासागरीय (mP)
    • ध्रुवीय महाद्वीपीय (cP)
    • महाद्वीपीय आर्कटिक (cA)

    जब दो विभिन्न प्रकार की वायुराशियाँ मिलती हैं तो दोनों के मध्य सीमा क्षेत्र को वाताग्र कहा जाता है। इस प्रक्रिया को वाताग्र-जनन कहा जाता है। वाताग्र-जनन की प्रक्रिया मध्य अक्षांशों में घटित होती हैं। तीव्र वायुदाब एवं तापमान प्रणवता इनकी विशेशताएँ हैं। इसके परिणामस्वरूप तापमान में अचानक बदलाव होते हैं और वायुराशि आक्रामक होकर ऊपर उठती है जिससे वाताग्र का निर्माण होता है। वाताग्र चार प्रकार के हाते हैं-
    (i) शीत वाताग्र
    (ii) उष्ण वाताग्र
    (iii) अचर वाताग्र
    (iv) अधिविष्ट वाताग्र

    • जब शीतल व भारी वायु आक्रामक होकर उष्ण वायुराशियों को ऊपर की ओर धकेलती है तो इसे उष्ण वाताग्र कहते हैं।
    • यदि गर्म वायु आक्रामक होकर ठंडी वायु के ऊपर चढ़ती है तो यह संपाई क्षेत्र उष्ण वाताग्र कहलाता है।
    • जब वाताग्र स्थिर हो जाए तों इसे अचर वायु कहते हैं। उल्लेखनीय है कि इस वाताग्र में कोई भी वायु ऊपर नहीं उठती है।
    • यदि एक वायुराशि पूर्णरूप से धरातल के ऊपर उठ जाए तो यह अधिविष्ट वाताग्र कहलाता है।

एसएमएस अलर्ट
 

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

प्रोग्रेस सूची देखने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

आर्टिकल्स को बुकमार्क करने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close