दृष्टि ज्यूडिशियरी का पहला फाउंडेशन बैच 11 मार्च से शुरू अभी रजिस्टर करें
ध्यान दें:

मेन्स प्रैक्टिस प्रश्न

  • प्रश्न :

    वर्ष 1857 का विद्रोह किस प्रकार से भारत में शासन परिवर्तन का निर्णायक मोड़ था? इस विद्रोह के महत्त्व पर प्रकाश डालिये। (150 शब्द)

    25 Sep, 2023 सामान्य अध्ययन पेपर 1 इतिहास

    उत्तर :

    दृष्टिकोण :

    • भूमिका में 1857 के विद्रोह के संक्षिप्त विवरण से कीजिये।
    • 1857 का विद्रोह सत्ता परिवर्तन था,चर्चा कीजिये।
    • विद्रोह के महत्त्व पर भी चर्चा कीजिये।
    • तदनुसार निष्कर्ष दीजिये।

    भूमिका:

    1857 का भारतीय विद्रोह, जिसे अक्सर सैनिक विद्रोह या प्रथम स्वतंत्रता संग्राम के रूप में भी जाना जाता है, वास्तव में भारत के इतिहास में एक महत्त्वपूर्ण घटना थी और इसे गहरे परिणामों के साथ एक शासन परिवर्तन के रूप में देखा जा सकता है।

    विद्रोह के महत्त्व पर प्रकाश डालने वाले कुछ प्रमुख पहलू :

    मुख्य भाग :

    1857 का विद्रोह भारत के लिये एक सत्ता परिवर्तन था:

    • ईस्ट इंडिया कंपनी शासन का अंत: विद्रोह ने ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी की शोषणकारी और दमनकारी नीतियों को उजागर कर दिया, जिससे उसके शासन का अंत हो गया।
    • ब्रिटिश क्राउन का प्रत्यक्ष नियंत्रण: वर्ष 1858 की रानी विक्टोरिया की उद्घोषणा ने ब्रिटिश राज की शुरुआत को चिह्नित करते हुए शासन को ईस्ट इंडिया कंपनी से ब्रिटिश क्राउन में स्थानांतरित कर दिया।
    • राष्ट्रवाद का उदय : विद्रोह ने विभिन्न क्षेत्रों और समुदायों के लोगों को ब्रिटिश शासन के खिलाफ एकजुट किया, जिससे भारतीय राष्ट्रवाद की भावना की नींव पड़ी।
    • भारतीय नेतृत्व पर प्रभाव: विद्रोह ने बहादुर शाह द्वितीय, रानी लक्ष्मी बाई और कुँवर सिंह जैसे नेताओं का उद्भव हुआ, जो प्रतिरोध के प्रतीक बन गए और बाद में स्वतंत्रता आंदोलन में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाई।
    • सामाजिक-आर्थिक परिवर्तन: विद्रोह ने आर्थिक सुधारों पर चर्चा को प्रेरित किया, जिससे रेलवे के निर्माण और आधुनिक डाक प्रणाली की शुरूआत जैसे आधुनिकीकरण के प्रयास शुरू हुए।
    • सांस्कृतिक और धार्मिक प्रभाव: विद्रोहियों ने खुद को ब्रिटिश सांस्कृतिक घुसपैठ के खिलाफ अपनी सांस्कृतिक और धार्मिक परंपराओं के रक्षक के रूप में देखा, जिससे पारंपरिक मूल्यों का पुनरुत्थान हुआ।

    विद्रोह का महत्त्व:

    • राष्ट्रवाद का उद्भव: विद्रोह ने सभी क्षेत्रों और समुदायों में भारतीयों को एकजुट किया, एक सामूहिक पहचान का पोषण किया और भविष्य के स्वतंत्रता आंदोलनों के लिये आधार तैयार किया।
    • शासन व्यवस्था में परिवर्तन: इसने शासन और प्रशासनिक सुधारों की आवश्यकता पर प्रकाश डाला। भारत सरकार अधिनियम, 1858 ने ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी से ब्रिटिश क्राउन को अधिकार हस्तांतरित कर दिये, जिससे प्रशासनिक और नीतिगत परिवर्तन हुए।
    • सामाजिक और धार्मिक सुधार: विद्रोह के बाद, राजा राम मोहन राय और ईश्वर चंद्र विद्यासागर जैसे नेताओं ने महिलाओं के अधिकारों सहित सामाजिक सुधारों का समर्थन किया। विद्रोह की विफलता ने शैक्षिक और सामाजिक परिवर्तनों की आवश्यकता को रेखांकित किया।
    • भारतीय सेना पर प्रभाव: विद्रोह ने भविष्य में होने वाले विद्रोहों को रोकने के लिये भारतीय सेना के पुनर्गठन को प्रेरित किया। भर्ती और अनुशासन में सुधार पेश किये गए। ब्रिटिश शासन के खिलाफ सांप्रदायिक एकता को रोकने के लिये "फूट डालो और राज करो" की नीति अपनाई गई।
    • अंतरराष्ट्रीय जागरूकता: विद्रोह ने विश्व स्तर पर ध्यान आकर्षित किया, जिससे स्वतंत्रता के लिये भारतीय संघर्ष वैश्विक चेतना में आ गया। इससे दुनिया भर में भारत के प्रति सहानुभूति और समर्थन प्राप्त हुआ।

    निष्कर्ष :

    1857 का भारतीय विद्रोह भारतीय इतिहास में विशेष महत्त्व था, जिससे ईस्ट इंडिया कंपनी के शासन का अंत हुआ, ब्रिटिश राज की स्थापना हुई और एक एकजुट भारतीय चेतना का उदय हुआ जिसने अंततः स्वतंत्रता की दिशा में राष्ट्र के निर्माण का मार्ग प्रशस्त किया।

    To get PDF version, Please click on "Print PDF" button.

    Print
close
एसएमएस अलर्ट
Share Page
images-2
images-2