प्रयागराज शाखा पर IAS GS फाउंडेशन का नया बैच 10 जून से शुरू :   संपर्क करें
ध्यान दें:

मेन्स प्रैक्टिस प्रश्न

  • प्रश्न :

    भारत के स्वतंत्रता संग्राम में सुभाष चंद्र बोस की भूमिका पर चर्चा कीजिये। (150 शब्द)

    05 Dec, 2022 सामान्य अध्ययन पेपर 1 इतिहास

    उत्तर :

    दृष्टिकोण:

    • नेताजी सुभाष चंद्र बोस के बारे में संक्षेप में वर्णन करते हुए अपना उत्तर प्रारंभ कीजिये।
    • भारत के स्वतंत्रता संग्राम में उनकी महत्वपूर्ण भूमिका की विवेचना कीजिये।
    • उपयुक्त निष्कर्ष दीजिये।

    परिचय:

    सुभाष चंद्र बोस, जिन्हें नेताजी के नाम से जाना जाता है, सबसे महत्वपूर्ण स्वतंत्रता सेनानियों में से एक थे। वह उत्कृष्ट नेतृत्व क्षमता के साथ उत्कृष्ट वक्ता भी थे। उन्हें भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन में सक्रिय भागीदारी के लिये जाना जाता है। उनके नेतृत्व ने बहुत से लोगों को भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में भाग लेने के लिये प्रेरित किया।

    मुख्य भाग:

    • स्वतंत्रता संग्राम में योगदान:
      • सी.आर. दास के साथ संबंध: वह सी.आर. दास के साथ राजनीतिक गतिविधियों में संलग्न थे और उनके साथ जेल भी गए। जब सीआर. दास को कलकत्ता को-ऑपरेशन का मेयर चुना गया तो उन्होंने बोस को मुख्य कार्यकारी नामित किया था। उन्हें वर्ष 1924 में उनकी राजनीतिक गतिविधियों के लिये गिरफ्तार किया गया था।
      • ट्रेड यूनियन आंदोलन: उन्होंने युवाओं को संगठित किया और ट्रेड यूनियन आंदोलन को बढ़ावा दिया। वर्ष 1930 में उन्हें कलकत्ता का मेयर चुना गया, उसी वर्ष उन्हें अखिल भारतीय ट्रेड यूनियन कॉन्ग्रेस का अध्यक्ष भी चुना गया।
      • कॉन्ग्रेस के साथ संबंध: उन्होंने बिना शर्त स्वराज अर्थात् स्वतंत्रता का समर्थन किया और मोतीलाल नेहरू रिपोर्ट का विरोध किया जिसमें भारत के लिये डोमिनियन के दर्जे की बात कही गई थी।
        • उन्होंने वर्ष 1930 के नमक सत्याग्रह में सक्रिय रूप से भाग लिया और वर्ष 1931 में सविनय अवज्ञा आंदोलन के निलंबन तथा गांधी-इरविन समझौते पर हस्ताक्षर करने का विरोध किया।
        • वर्ष 1930 के दशक में वह जवाहरलाल नेहरू और एम.एन. रॉय के साथ कॉन्ग्रेस की वामपंथी राजनीति में संलग्न रहे।
        • वामपंथी समूह के प्रयासों के कारण कॉन्ग्रेस ने वर्ष 1931 में कराची में दूरगामी प्रस्ताव पारित किये, जिसमें कॉन्ग्रेस के प्रमुख लक्ष्य के रुप में मौलिक अधिकारों की गारंटी देने के अलावा उत्पादन के साधनों के समाजीकरण पर बल दिया गया।
      • कॉन्ग्रेस की अध्यक्षता: बोस ने वर्ष 1938 में हरिपुरा में कॉन्ग्रेस की अध्यक्षता की।
        • अगले ही वर्ष उन्होंने त्रिपुरी में गांधी जी के उम्मीदवार पट्टाभि सीतारमैय्या के खिलाफ फिर से अध्यक्ष पद का चुनाव जीता।
        • लेकिन गांधी जी के साथ वैचारिक मतभेद के कारण बोस ने कॉन्ग्रेस के अध्यक्ष पद से त्यागपत्र दे दिया और 'फॉरवर्ड ब्लॉक' नामक नए दल की स्थापना की।
        • इसका उद्देश्य उनके गृह राज्य बंगाल में वामपंथी राजनीति के प्रमुख समर्थन आधार को समेकित करना था।
      • सविनय अवज्ञा आंदोलन: जब द्वितीय विश्व युद्ध शुरू हुआ तो उन्हें फिर से सविनय अवज्ञा में भाग लेने के कारण कैद कर लिया गया और कोलकाता में नज़रबंद कर दिया गया।
      • भारतीय सेना: बोस ने बर्लिन में फ्री इंडिया सेंटर की स्थापना की और युद्ध के लिये भारतीय कैदियों को मिलाकर भारतीय सेना का गठन किया, जिन्होंने धुरी शक्तियों (जर्मनी, इटली और जापान) द्वारा बंदी बनाए जाने से पहले उत्तरी अफ्रीका में अंग्रेज़ों के लिये युद्ध लड़ा था।
        • यूरोप में बोस ने भारत की आज़ादी के लिये हिटलर और मुसोलिनी से मदद मांगी।
      • आज़ाद हिंद रेडियो का आरंभ नेताजी सुभाष चन्द्र बोस के नेतृत्त्व में जर्मनी में किया गया था। इस रेडियो का उद्देश्य भारतीयों को अंग्रेज़ों से स्वतंत्रता प्राप्त करने हेतु संघर्ष करने के लिये प्रेरित करना था।
        • इस रेडियो पर बोस ने 6 जुलाई, 1944 को महात्मा गांधी को 'राष्ट्रपिता' के रूप में संबोधित किया।
      • भारतीय राष्ट्रीय सेना: वह जुलाई 1943 में जर्मनी से जापान-नियंत्रित सिंगापुर पहुँचे वहाँ से उन्होंने अपना प्रसिद्ध नारा ‘दिल्ली चलो’ दिया और 21 अक्तूबर, 1943 को आज़ाद हिंद सरकार तथा भारतीय राष्ट्रीय सेना के गठन की घोषणा की।
        • INA का गठन पहली बार मोहन सिंह और जापानी मेजर इविची फुजिवारा के नेतृत्त्व में किया गया था तथा इसमें मलायन (वर्तमान मलेशिया) अभियान में सिंगापुर में ब्रिटिश-भारतीय सेना की तरफ से युद्ध में शामिल, जापान द्वारा बंदी बनाए गए भारतीय कैदियों को शामिल किया गया था।

    निष्कर्ष:

    बोस का स्वतंत्रता संग्राम न केवल भारत के लिये बल्कि तीसरे विश्व के सभी देशों के लिये प्रेरणा का स्रोत सिद्ध हुआ। बोस के नेतृत्व वाले भारतीय स्वतंत्रता संग्राम का इन सभी देशों पर व्यापक प्रभाव पड़ा। नेताजी का योगदान उन्हें विश्व स्तर पर "स्वतंत्रता के नायक" के रूप में स्थापित करता है।

    To get PDF version, Please click on "Print PDF" button.

    Print
close
एसएमएस अलर्ट
Share Page
images-2
images-2