हिंदी साहित्य: पेन ड्राइव कोर्स
ध्यान दें:

मेन्स प्रैक्टिस प्रश्न

  • प्रश्न :

    प्रश्न. स्वामी विवेकानंद भारतीय दार्शनिक विचारों में क्रांति लेकर आए तथा भारतीयों को जाग्रत किया। उन्हें अनेकता में एकता के दर्शन के महान गुरु के रूप में देखा जा सकता है। चर्चा कीजिये। (250 शब्द)

    31 Oct, 2022 सामान्य अध्ययन पेपर 1 इतिहास

    उत्तर :

    हल करने का दृष्टिकोण:

    • स्वामी विवेकानंद का संक्षिप्त परिचय दीजिये।
    • स्वामी विवेकानंद के दर्शन की विवेचना कीजिये।
    • संक्षेप में चर्चा कीजिये कि कैसे उनका दर्शन विविधता में एकता को बढ़ावा देता है।
    • तदनुसार निष्कर्ष लिखिये।

    परिचय:

    स्वामी विवेकानंद का नाम मूल रूप से नरेंद्र नाथ दत्त था। वह भारतीय और पश्चिमी संस्कृति दोनों से प्रभावित थे। प्रारंभ में हिंदू देवताओं की उपासना तथा उनकी मान्यताओं का ईसाई धर्म के सिद्धांतों से अक्सर विरोध होता था। यह तब तक था जब तक उन्होंने रामकृष्ण को अपने गुरु के रूप में स्वीकार नहीं किया और एक भिक्षु बन गए। संस्कृति के उनके विशाल ज्ञान ने उन्हें अंतर-धार्मिक जागरूकता बढ़ाने का अवसर दिया और उन्हें मान्यता भी दिलाई।

    प्रारूप :

    विवेकानंद का दर्शन वेदांत पर आधारित है, इसके मुख्य सिद्धांत इस प्रकार हैं:

    • यह उपनिषदों और उनकी व्याख्या पर आधारित था।
    • इसका उद्देश्य 'ब्राह्मण' (परम वास्तविकता) के बारे में पूछताछ करना था जो उपनिषदों की केंद्रीय अवधारणा थी।
    • इसने वेद को सूचना के अंतिम स्रोत के रूप में देखा और जिसके अधिकार पर सवाल नहीं उठाया जा सकता था।
    • इसने बलिदान (कर्म) के विपरीत ज्ञान (ज्ञान) के मार्ग पर जोर दिया।
    • ज्ञान का अंतिम उद्देश्य 'मोक्ष' यानि 'संसार' से मुक्ति था।

    स्वामी विवेकानंद के दर्शन के मूल मूल्य:

    • आधुनिक दुनिया में स्वामी विवेकानंद द्वारा की गई धर्म की व्याख्या उनके सबसे महत्वपूर्ण योगदानों में से एक है। धर्म की उनकी व्याख्या उन्होंने पारलौकिक वास्तविकता के एक सार्वभौमिक अनुभव के रूप में की है जो समग्र मानवता के लिये सामान्य है।
    • यह सार्वभौमिक अवधारणा धर्म को अंधविश्वास, हठधर्मिता, आडम्बर और असहिष्णुता की पकड़ से मुक्त करती है।

    विविधता में एकता को बढ़ावा देने में उनके दर्शन का प्रभाव:

    • वह पृथ्वी, स्वर्ग, देवता, नरक , भूत आदि जैसे विभिन्न रूपों के अस्तित्व की बुनियादी एकता में विश्वास करते थे और सभी भेदभावों से परे शाश्वत समानता या समरूपता तथा सभी व्यक्तित्वों की एकता की दृढ़ता से वकालत करते थे।
    • उनका संदेश अनिवार्य रूप से जाति, वर्ग और लिंग के भेद के बिना दूसरों की सेवा करना था। उनका मानना था कि प्रत्येक प्राणी में ईश्वर है और इस प्रकार प्रत्येक प्राणी को विनम्रता और विशेष रूप से गरीबों की सेवा करनी चाहिये। दूसरों की सेवा करने से मानवता की भावना को बढ़ावा मिला जो उन्हें प्रिय थी।
    • उनका राष्ट्रवाद मानवतावाद और सार्वभौमिकता पर आधारित है, जो भारतीय आध्यात्मिक संस्कृति की दो प्रमुख विशेषताएँ हैं।
    • पश्चिमी राष्ट्रवाद के विपरीत, जो प्रकृति में धर्मनिरपेक्ष है, स्वामी विवेकानंद का राष्ट्रवाद धर्म पर आधारित है जो भारतीय लोगों का जीवन रक्त है।

    उनके राष्ट्रवाद के आधार हैं:

    • जनता की स्वतंत्रता और समानता के लिये गहरी चिंता जिसके माध्यम से व्यक्ति स्वयं को व्यक्त करता है तथा सार्वभौमिक भाईचारे के आधार पर दुनिया का आध्यात्मिक एकीकरण।
    • "कर्मयोग" निःस्वार्थ सेवा के माध्यम से राजनीतिक और आध्यात्मिक दोनों तरह की स्वतंत्रता प्राप्त करने के लिये नैतिकता की एक प्रणाली है।

    निष्कर्ष:

    • स्वामी विवेकानंद 19वीं शताब्दी के थे, फिर भी उनका संदेश और उनका जीवन अतीत की तुलना में आज अधिक प्रासंगिक है और शायद भविष्य में भी अधिक प्रासंगिक होगा।
    • स्वामी विवेकानंद जैसे व्यक्तियों का अस्तित्व उनकी शारीरिक मृत्यु के साथ समाप्त नहीं होता है बल्कि उनका प्रभाव और उनके विचार समय के साथ अंततः उस पूर्णता तक पहुँचते हैं जिसकी उन्होंने परिकल्पना की थी।

    To get PDF version, Please click on "Print PDF" button.

    Print
एसएमएस अलर्ट
Share Page