हिंदी साहित्य: पेन ड्राइव कोर्स
ध्यान दें:
झारखण्ड संयुक्त असैनिक सेवा मुख्य प्रतियोगिता परीक्षा 2016 -परीक्षाफलछत्तीसगढ़ पीसीएस प्रश्नपत्र 2019छत्तीसगढ़ पी.सी.एस. (प्रारंभिक) परीक्षा, 2019 (महत्त्वपूर्ण अध्ययन सामग्री).छत्तीसगढ़ पी.सी.एस. प्रारंभिक परीक्षा – 2019 सामान्य अध्ययन – I (मॉडल पेपर )
हिंदी साहित्य: पेन ड्राइव कोर्स (Hindi Literature: Pendrive Course)
मध्य प्रदेश पी.सी.एस. (प्रारंभिक) परीक्षा , 2019 (महत्वपूर्ण अध्ययन सामग्री)मध्य प्रदेश पी.सी.एस. परीक्षा मॉडल पेपर.Download : उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग (प्रवर) प्रारंभिक परीक्षा 2019 - प्रश्नपत्र & उत्तर कुंजीअब आप हमसे Telegram पर भी जुड़ सकते हैं !यू.पी.पी.सी.एस. परीक्षा 2017 चयनित उम्मीदवार.UPSC CSE 2020 : प्रारंभिक परीक्षा टेस्ट सीरीज़

मेन्स प्रैक्टिस प्रश्न

  • “भक्तिकाल से रीतिकाल की ओर प्रस्थान की जो झलक तत्कालीन साहित्य में मिलती है, वह वास्तव में सिद्धांत और व्यवहार में सामाजिक विचारों को दर्शाती है, जो जनता की आशा-आकांक्षाओं और चित्तवृत्ति का प्रत्यक्ष प्रतिबिम्ब है।” व्याख्या कीजिये।

    01 Apr, 2018 सामान्य अध्ययन पेपर 1 संस्कृति

    उत्तर :

    उत्तर की रूपरेखा:

    • भक्तिकाल एवं रीतिकाल की विशेषताओं को रेखांकित करें।
    • इस काल में भारतीय समाज में क्या परिवर्तन आए तथा इनका प्रभाव हिन्दी साहित्य पर किस प्रकार पड़ा?

    हिन्दी साहित्य का इतिहास लगभग 1000 वर्ष पुराना है। विचारों की प्रधानता के आधार पर इसे चार काल-खंडों में विभाजित किया गया है, यथा- आदिकाल, भक्तिकाल, रीतिकाल एवं आधुनिक काल। साहित्य समाज का दर्पण होता है तथा अपने समकालीन रीतियों और मूल्यों को प्रतिबिंबित करता है। 

    भक्तिकाल से रीतिकाल की ओर प्रस्थान का समयकाल न केवल साहित्य का संक्रमण काल था बल्कि समाज का भी संक्रमण काल था। नीतियों, मूल्यों, अपेक्षाओं में परिवर्तन का दौर जारी था जो कि इस काल के साहित्य में भी परिलक्षित होता है। 

    भक्तिकालीन साहित्य के मूल तत्त्वः

    • साहित्य में एकेश्वरवाद को प्रोत्साहन।
    • सामाजिक बुराइयों, यथा- अस्पृश्यता, जातिवाद, कर्मकांड इत्यादि पर प्रहार।
    • ईश्वर प्रेम और व्यक्तिगत सात्विक जीवन पर विशेष बल (चरित्र निर्माण)।
    • भाषायी विविधता।साहित्य के केंद्रीय विषयवस्तु के रूप में सामान्य जन।

    रीतिकालीन साहित्य के मूल तत्त्वः

    • शृंगार रस की प्रधानता।
    • राजाश्रय का प्रभाव - चमत्कारपूर्ण व्यंजना।
    • साहित्य का जन-विमुख होना।
    • नर-नारी प्रेम और नारी के मांसल सौंदर्य की मार्मिक व्यंजना।
    • मुख्यतः वज्रभाषा का प्रयोग।
    • ऐहलौकिकता एवं भोगवाद की झलक।

    18वीं शताब्दी में केंद्रीय सत्ता के पतन के कारण क्षेत्रीय शासकों की संख्या में वृद्धि हुई तथा राजाश्रय प्राप्त कवियों की संख्या में भी वृद्धि हुई, ये कवि केवल महलों के भोग-विलास की काव्य रचना कर सकते थे। यह दौर आर्थिक और नैतिक पतन का भी था, समाज में सात्विकता और कर्मवाद का स्थान भोगवाद एवं भाग्यवाद ने ले लिया था। भक्तियुग का आदर्शवाद जब चरम पर पहुँच गया था तो उसका पतन होना अवश्यंभावी था। स्त्री की स्थिति और भी दयनीय होती जा रही थी तथा उसे केवल भोग की वस्तु समझा जा रहा था। ऐसी दशा में साहित्य का स्तर गिरना कोई आश्चर्य की बात नहीं थी।

    निष्कर्षतः कहा जा सकता है कि उक्त काल में हो रहे परिवर्तन तत्कालीन सामाजिक चित्तवृत्तियों की ही झलक प्रस्तुत कर रहे थे।

एसएमएस अलर्ट
 

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

प्रोग्रेस सूची देखने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

आर्टिकल्स को बुकमार्क करने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close