हिंदी साहित्य: पेन ड्राइव कोर्स
ध्यान दें:

मेन्स प्रैक्टिस प्रश्न

  • प्रश्न :

    गांधार मूर्तिकला का संक्षिप्त परिचय देते हुए इसकी विशेषताओं का वर्णन कीजिये।

    14 Jun, 2018 सामान्य अध्ययन पेपर 1 संस्कृति

    उत्तर :

    प्रश्न-विच्छेद

    • गांधार मूर्तिकला का संक्षिप्त परिचय देना है तथा इसकी विशेषताओं का वर्णन करना है।

    हल करने का दृष्टिकोण

    • प्रभावी भूमिका लिखते हुए गांधार मूर्तिकला का परिचय दें।
    • तार्किक तथा संतुलित विषय-वस्तु में इसकी विशेषताओं का वर्णन करें।
    • प्रश्नानुसार संक्षिप्त एवं सारगर्भित निष्कर्ष लिखें।

    यूनानी कला के प्रभाव से देश के पश्चिमोत्तर प्रदेशों में कला की जिस नवीन शैली का उदय हुआ उसे गांधार शैली कहा जाता है। यह विशुद्ध रूप से बौद्ध धर्म से संबंधित धार्मिक प्रस्तर मूर्तिकला शैली है, जिसका उदय कनिष्क प्रथम के समय हुआ। तक्षशिला, कपिशा, पुष्कलावती, बामियान आदि इसके प्रमुख केंद्र रहे। इसमें स्वात घाटी के भूरे रंग के पत्थर या काले स्लेटी पत्थरों का इस्तेमाल होता था। इस कला का चरम विकास कुषाण काल में हुआ।

    गांधार कला को दो खंडों में वर्गीकृत किया जाता है— प्रारंभिक गांधार कला तथा परवर्ती गांधार कला। प्रारंभिक गांधार कला के अंतर्गत मूर्तियों का निर्माण मिट्टी, चूना, भित्ति स्तंभ तथा प्लास्टर का उपयोग करके किया जाता था। परवर्ती गांधार कला शैली में पाषाण का उपयोग प्रचुर मात्र में प्रारंभ हुआ। इस कला शैली पर विदेशी प्रभाव स्पष्ट दृष्टिगोचर होता है। इस दौर में गांधार कला की निम्नलिखित विशेषताएँ देखी गई हैं-

    • मानव शरीर की सुंदर रचना तथा माँसपेशियों का सूक्ष्म अंकन।
    • शरीर पर पारदर्शक वस्त्रें का सिलवटों के साथ प्रयोग।
    • अनुपम नक्काशी।

    गांधार कला में बुद्ध की मूर्तियों को इतना सुंदर बनाने का प्रयास किया गया है कि ये यूनानियों के सौंदर्य देवता अपोलो की अनुकृति लगती हैं। इसमें बुद्ध को प्रायः घुंघराले बाल व मूँछ, ललाट पर अर्णा (भौंरी), सिर के पीछे प्रभामंडल, वस्त्र सलवट युक्त और चप्पल पहने हुए दर्शाया गया है। इस कला में प्रयुक्त चिडि़यों की पूँछ जैसी परतें रोम में हैड्रियन काल की हेलेनिस्टिक शैली का अनुकूलित रूप मानी जाती है।

    इस शैली की मूर्तिकला में जो भव्यता है यद्यपि उससे भारतीय कला पर यूनानी और हेलेनिस्टक प्रभाव पड़ने की बात स्पष्ट होती है तथापि अपने इसी स्वरूप के कारण यह भारतीय कला की मुख्य धारा से पृथक् रही तथा इसका क्षेत्र पश्चिमोत्तर प्रदेश तक ही सीमित रहा।

    बौद्ध मूर्तियों के अतिरिक्त गांधार शैली की कुछ देवी मूर्तियाँ भी मिलती हैं। इनमें देवी रोमा की मूर्ति विशिष्ट है। हिंदू देवी-देवताओं की मूर्तियों में पांचिक, हारिति, कुबेर, इंद्र, ब्रह्मा, सूर्य आदि का भी चित्रण इस कला में मिलता है।

    To get PDF version, Please click on "Print PDF" button.

    Print PDF
एसएमएस अलर्ट
 

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

प्रोग्रेस सूची देखने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

आर्टिकल्स को बुकमार्क करने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close