हिंदी साहित्य: पेन ड्राइव कोर्स
ध्यान दें:
झारखण्ड संयुक्त असैनिक सेवा मुख्य प्रतियोगिता परीक्षा 2016 -परीक्षाफलछत्तीसगढ़ पीसीएस प्रश्नपत्र 2019छत्तीसगढ़ पी.सी.एस. (प्रारंभिक) परीक्षा, 2019 (महत्त्वपूर्ण अध्ययन सामग्री).छत्तीसगढ़ पी.सी.एस. प्रारंभिक परीक्षा – 2019 सामान्य अध्ययन – I (मॉडल पेपर )
हिंदी साहित्य: पेन ड्राइव कोर्स (Hindi Literature: Pendrive Course)
मध्य प्रदेश पी.सी.एस. (प्रारंभिक) परीक्षा , 2019 (महत्वपूर्ण अध्ययन सामग्री)मध्य प्रदेश पी.सी.एस. परीक्षा मॉडल पेपर.Download : उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग (प्रवर) प्रारंभिक परीक्षा 2019 - प्रश्नपत्र & उत्तर कुंजीअब आप हमसे Telegram पर भी जुड़ सकते हैं !यू.पी.पी.सी.एस. परीक्षा 2017 चयनित उम्मीदवार.UPSC CSE 2020 : प्रारंभिक परीक्षा टेस्ट सीरीज़

मेन्स प्रैक्टिस प्रश्न

  • मानसून उत्पत्ति की तापीय संकल्पना का संक्षेप में वर्णन कीजिये।

    12 Jul, 2018 सामान्य अध्ययन पेपर 1 भूगोल

    उत्तर :

    उत्तर की रूपरेखा

    • प्रभावी भूमिका में मानसून उत्पत्ति की तापीय संकल्पना का परिचय लिखें।
    • तार्किक एवं संतुलित विषय-वस्तु में संकल्पना को विश्लेषित करें।
    • प्रश्नानुसार संक्षिप्त एवं सारगर्भित निष्कर्ष लिखें।

    मानसून की उत्पत्ति की तापीय संकल्पना का सर्वप्रथम प्रतिपादन हैले ने 1686 ई. में किया था। मानसून की उत्पत्ति से संबंधित तापीय संकल्पना के अनुसार, मानसून की उत्पत्ति पृथ्वी पर स्थल तथा जल के असमान वितरण और उनके गर्म एवं ठंडा होने के विरोधी स्वभाव के कारण होती है।

    यदि सूक्ष्म दृष्टि से देखा जाए तो मानसूनी हवाएँ स्थल तथा जल समीर का ही विस्तृत रूप होती हैं। गर्मियों में अधिक सूर्यातप के कारण स्थलीय भाग सागरों की अपेक्षा अधिक गर्म हो जाने के कारण वहाँ न्यून दाब के क्षेत्र विकसित हो जाते हैं तथा सागरीय भागों से स्थल की ओर हवाएँ चलने लगती हैं। इसके विपरीत सर्दियों में स्थल भाग उच्च दाब के केंद्र बन जाते हैं तथा सागरीय भाग न्यून दाब के क्षेत्र। तापीय संकल्पना के आधार पर मानसून को दो भागों में विभाजित किया जाता है।

    ग्रीष्मकालीन मानसूनः 21 मार्च के बाद सूर्य उत्तरायण होने लगता है। 21 जून को कर्क रेखा पर सूर्य के सीधा चमकने से उत्तरी गोलार्द्ध में सर्वाधिक सौर्यिक ऊर्जा प्राप्त होती है। अत्यधिक तापमान के कारण एशिया पर न्यून वायुदाब बन जाता है। इसके विपरीत दक्षिणी गोलार्द्ध में शीतकाल के कारण दक्षिण हिंद महासागर तथा उत्तर-पश्चिमी ऑस्ट्रेलिया के पास उच्च दाब विकसित हो जाता है। परिणामस्वरूप उच्च दाब वाले क्षेत्रों से अर्थात् महासागरीय भागों से निम्न दाब वाले स्थलीय भागों की ओर हवाएँ चलने लगती हैं। सागरों के ऊपर से आने के कारण नमी से लदी ये हवाएँ पर्याप्त वृष्टि प्रदान करती हैं। जब निम्न दाब का क्षेत्र अधिक सक्रिय हो जाता है तो दक्षिण-पूर्वी व्यापारिक हवा भी भूमध्य रेखा को पार करके मानसूनी हवाओं से मिल जाती है। इसे दक्षिण-पश्चिमी मानसून अथवा भारतीय मानसून भी कहा जाता है। इस प्रकार एशिया में मानसून की दो शाखाएँ हो जाती हैं-

    • चीन तथा जापान की मानसून शाखा
    • दक्षिण एशिया की मानसून शाखा

    भारत में भी दक्षिण-पश्चिम मानसून की दो शाखाएँ हो जाती हैं-

    • बंगाल की खाड़ी तथा
    • अरब सागर की शाखा।

    शीतकालीन मानसूनः शीतकाल में 22 दिसंबर को सूर्य मकर रेखा पर सीधा चमकता है जिस कारण उत्तरी गोलार्द्ध में शीतकाल तथा दक्षिणी गोलार्द्ध में ग्रीष्मकाल होता है। साथ ही एशिया महाद्वीप पर बैकाल झील तथा पेशावर के पास उच्च दाब स्थापित हो जाता है। जबकि दक्षिणी गोलार्द्ध में ग्रीष्मकाल के कारण ऑस्ट्रेलिया के उत्तर में निम्न दाब बन जाता है जिस कारण स्थलीय भाग से सागरों की ओर हवाएँ चलने लगती हैं। इसे उत्तर-पूर्वी मानसून कहते हैं। स्थल की ओर से आने के कारण ये हवाएँ शुष्क होती हैं। अतः वर्षा प्रदान करने में असमर्थ होती हैं।

    इस तरह से तापीय संकल्पना के अनुसार, दोनों प्रकार के मानसून की उत्पत्ति तापीय अंतर तथा उससे जनित वायुदाब में अंतर के कारण होती है।

एसएमएस अलर्ट
 

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

प्रोग्रेस सूची देखने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

आर्टिकल्स को बुकमार्क करने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close