हिंदी साहित्य: पेन ड्राइव कोर्स
ध्यान दें:
झारखण्ड संयुक्त असैनिक सेवा मुख्य प्रतियोगिता परीक्षा 2016 -परीक्षाफलछत्तीसगढ़ पीसीएस प्रश्नपत्र 2019छत्तीसगढ़ पी.सी.एस. (प्रारंभिक) परीक्षा, 2019 (महत्त्वपूर्ण अध्ययन सामग्री).छत्तीसगढ़ पी.सी.एस. प्रारंभिक परीक्षा – 2019 सामान्य अध्ययन – I (मॉडल पेपर )
हिंदी साहित्य: पेन ड्राइव कोर्स (Hindi Literature: Pendrive Course)
मध्य प्रदेश पी.सी.एस. (प्रारंभिक) परीक्षा , 2019 (महत्वपूर्ण अध्ययन सामग्री)मध्य प्रदेश पी.सी.एस. परीक्षा मॉडल पेपर.Download : उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग (प्रवर) प्रारंभिक परीक्षा 2019 - प्रश्नपत्र & उत्तर कुंजीअब आप हमसे Telegram पर भी जुड़ सकते हैं !यू.पी.पी.सी.एस. परीक्षा 2017 चयनित उम्मीदवार.UPSC CSE 2020 : प्रारंभिक परीक्षा टेस्ट सीरीज़

मेन्स प्रैक्टिस प्रश्न

  • निम्नलिखित पर संक्षिप्त टिप्पणी कीजिये। (1) अंतःकरण की आवाज़ (2) विवेक का संकट

    16 Oct, 2018 सामान्य अध्ययन पेपर 4 सैद्धांतिक प्रश्न

    उत्तर :

    अंतःकरण की आवाज़ : अंतःकरण की आवाज़ से तात्पर्य उस आतंरिक प्रेरणा से है जो हमारे किसी व्यवहार के नैतिक या अनैतिक होने को बताता है। अंतःकरण की आवाज़ पवित्र होती है तथा यह अक्सर नैतिक निर्णय लेने के लिये प्रेरित करती है। चूँकि मनुष्य की अंतरात्मा बाह्य दबावों व परिस्थितियों से निर्देशित नहीं होती, इसलिये यह किसी कृत्य के नैतिक या अनैतिक होने का निर्णय अधिक श्रेष्ठता से कर पाती है। गांधी जी तो अंतरात्मा की आवाज़ को ही सर्वोच्च मानते थे तथा उनके कई निर्णयों का नैतिक आधार अंतरात्मा की आवाज़ ही थी। इसी तरह प्रसिद्ध मनोवैज्ञानिक सिग्मंड फ्रायड जिस इड, ईगो, सुपर ईगो की बात करते हैं उसमें सुपर ईगो अर्थात् नैतिक मन अंतरात्मा की आवाज़ ही है। सार रूप में कहें तो भौतिक लाभ-हानि, सांसारिक अर्थों से परे नैतिकता-अनैतिकता की जो आवाज़ मन के अंदर से आती है, वही अंतःकरण की आवाज़ है। उदाहरण के लिये जब कोई चोरी कर रहा होता है तथा उसे कोई देख नहीं रहा होता है तब भी अंतःकरण की आवाज़ उसे बताती है कि वह गलत कर रहा है।

    विवेक का संकट : विवेक का संकट से तात्पर्य एक ऐसी स्थिति से है जब हम यह फैसला नहीं कर पाते हैं कि कौन-सा कृत्य सही है और कौन-सा गलत, अर्थात् सही के रूप में किसी एक पक्ष को चुनना संभव नहीं हो पाता। दूसरे शब्दों में कहें तो विवेक का संकट उस स्थिति को कहते हैं जब अंतरात्मा दो परस्पर विरोधी मूल्यों या विकल्पों में से किसी एक के पक्ष में कोई ठोस निर्णय न दे सके। यह उस नैतिक दुविधा को दर्शाता है जब किसी एक  केपक्ष में निर्णय लेते समय दूसरे पक्ष के अनैतिक हो जाने का डर हो।

एसएमएस अलर्ट
 

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

प्रोग्रेस सूची देखने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

आर्टिकल्स को बुकमार्क करने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close