हिंदी साहित्य: पेन ड्राइव कोर्स
ध्यान दें:

प्रिलिम्स फैक्ट्स

  • 24 Nov, 2020
  • 22 min read
प्रारंभिक परीक्षा

प्रिलिम्स फैक्ट्स: 24 नवंबर, 2020

उमंग का अंतर्राष्ट्रीय संस्करण 

UMANG’s International Version

23 नवंबर, 2020 को उमंग (UMANG) के 3 वर्ष पूरे होने और दो हज़ार से अधिक सेवाएँँ उपलब्ध कराने को लेकर केंद्रीय इलेक्ट्रॉनिक एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री की अध्यक्षता में एक ऑनलाइन सम्मेलन का आयोजन किया गया। 

Umang

प्रमुख बिंदु:

  • उमंग (UMANG) का पूर्ण रूप ‘नए युग के शासन के लिये एकीकृत मोबाइल एप्लिकेशन’ (Unified Mobile Application for New-age Governance) है जो कि भारत सरकार की एक पहल है। 
  • यह एकीकृत, सुरक्षित, बहुस्तरीय, बहुभाषी और विभिन्न सेवाओं का मोबाइल एप्लीकेशन है। 
  • यह केंद्र और राज्य सरकारों के विभिन्न विभागों की महत्त्वपूर्ण सेवाएँ उपलब्ध कराता है।   

उमंग का अंतर्राष्ट्रीय संस्करण:

  • इस अवसर पर विदेश मंत्रालय के साथ समन्वय से केंद्रीय इलेक्ट्रॉनिक एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री ने उमंग (UMANG) का अंतर्राष्ट्रीय संस्करण लॉन्च किया, जो कुछ चुने हुए देशों अमेरिका, इंग्लैंड, कनाडा, ऑस्ट्रेलिया, यूएई, नीदरलैंड, सिंगापुर, ऑस्ट्रेलिया एवं न्यूज़ीलैंड में अपनी सेवाएँ उपलब्ध कराएगा।
  • यह भारतीय अंतर्राष्ट्रीय छात्रों, अप्रवासी भारतीयों और भारत से विदेश जाने वाले पर्यटकों की मदद करेगा अर्थात् विशेष रूप से भारत सरकार की सेवाएँ किसी भी समय उपलब्ध रहेंगी।
  • लाभ: इसके अलावा यह अंतर्राष्ट्रीय संस्करण उमंग पर मौजूद भारतीय संस्कृति संबंधी सेवाओं की मदद से विदेशी पर्यटकों को भी आकर्षित करने में अहम भूमिका निभाएगा। 

उमंग की सेवाओं से संबंधित ई-बुक:

  • उमंग पर उपलब्ध 2000 से अधिक सेवाओं के महत्त्व और इसके 3 वर्ष पूरे होने पर केंद्रीय इलेक्ट्रॉनिक एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री ने एक ई-बुक का भी अनावरण किया, जो उमंग पर उपलब्ध विभिन्न श्रेणियों की प्रमुख सेवाओं पर आधारित है।

उमंग पुरस्कार (UMANG Award):

  • हाल ही में उमंग के साझेदार के तौर पर केंद्र एवं राज्य सरकारों के विभागों के लिये उमंग पर उपलब्ध सेवाओं के इस्तेमाल के आधार पर उमंग पुरस्कारों (UMANG Awards) का भी शुभारंभ किया गया। 
  • राज्य सरकार की सेवाओं की श्रेणी में औसत मासिक इस्तेमाल के आधार पर तीन राज्य विजेता घोषित किये गए, जिसमें गुजरात, राजस्थान और मध्य प्रदेश शामिल हैं।

सेंटिनल-6 उपग्रह  

Sentinel-6 Satellite

महासागरों की निगरानी करने के लिये तैयार किये गए काॅपरनिकस सेंटिनल-6 माइकल फ्रेइलिच उपग्रह (Copernicus Sentinel-6 Michael Freilich Satellite) को 21 नवंबर, 2020 को स्पेसएक्स फाल्कन 9 रॉकेट (SpaceX Falcon 9 Rocket) के माध्यम से कैलिफोर्निया के वांडेनबर्ग वायुसेना अड्डे (Vandenberg Air Force) से लॉन्च किया गया। 

Sentinel-6

प्रमुख बिंदु:

  • यह वैश्विक समुद्र तल में परिवर्तनों को मापने के लिये समर्पित अगले मिशन का एक हिस्सा है।
  • वैश्विक स्तर पर महासागरों में परिवर्तन पर नज़र रखने के लिये वर्ष 1992 से लॉन्च किये गए अन्य उपग्रहों में टोपेक्स (TOPEX)/पोसाइडन (Poseidon), जैसन-1 (Jason-1) और ओएसटीएन (OSTN)/ जैसन-2 (Jason-2) शामिल हैं। 
  • ‘सेंटिनल-6 माइकल फ्रेइलिच उपग्रह’ का नाम डॉ. माइकल फ्रेइलिच के नाम पर रखा गया है, जो वर्ष 2006-2019 से नासा के पृथ्वी विज्ञान प्रभाग (Earth Science Division) के निदेशक थे और इस वर्ष अगस्त 2020 में उनका निधन हो गया।
  • इसी तरह के एक अन्य उपग्रह जिसे ‘सेंटिनल-6 बी’ (Sentinel-6B) कहा जाता है, वर्ष 2025 में लॉन्च किया जाएगा।
  • इसे फ्राँस के ‘नेशनल सेंटर फॉर स्पेस स्टडीज़’ (CNES) के योगदान के साथ संयुक्त रूप से यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी (ESA), नासा (NASA), मौसम संबंधी उपग्रहों के पूर्वेक्षण के लिये यूरोपीय संगठन (European Organisation for the Exploitation of Meteorological Satellites- Eumetsat), संयुक्त राज्य अमेरिका के राष्ट्रीय महासागरीय एवं वायुमंडलीय प्रशासन (National Oceanic and Atmospheric Administration- NOAA) और यूरोपीय संघ (EU) द्वारा विकसित किया गया है।

जेसन- सीएस मिशन

[Jason Continuity of Service (Jason-CS) Mission]:

  • इस उपग्रह को जेसन-सीएस मिशन के तहत लॉन्च किया गया है।   
  • जेसन-सीएस मिशन (Jason-CS Mission) को समुद्र के बढ़ते स्तर को मापने के लिये डिज़ाइन किया गया है, जो यह समझने में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाता है कि पृथ्वी की जलवायु कैसे बदल रही है।

‘सेंटिनल-6 माइकल फ्रेइलिच उपग्रह’ का कार्य: 

  • नासा (NASA) के अनुसार, यह उपग्रह चौथे दशक में समुद्र-स्तर के पर्यवेक्षण की निरंतरता सुनिश्चित करेगा और वैश्विक समुद्र-स्तर में हो रही वृद्धि की माप प्रदान करेगा।

मशरूम की नई प्रजाति

New Specie of Mushroom

हाल ही में भारत एवं चीन के शोधकर्त्ताओं की एक टीम ने असम में मशरूम (Mushroom) की नई प्रजाति की खोज की है।

New-Specie-of-Mushroom

प्रमुख बिंदु:

  • इन प्रजातियों में सबसे आकर्षक प्रजाति जिसे स्थानीय लोग ‘इलेक्ट्रिक मशरूम’ (Electric Mushrooms) के रूप में वर्णित करते हैं केवल निर्जीव बाँस पर उगता है। 
    • इस प्रजाति को रोरीडोमायज़ फाइलोस्टैचायडिस (Roridomyces Phyllostachydis) नाम से नामांकित किया गया है जिसमें जैव-संदीप्ति (Bioluminescent) जैसा विशेष गुण पाया जाता है अर्थात् यह अपना स्वयं का प्रकाश उत्पन्न करती है।
      • रोरीडोमायज़ (Roridomyces) जीनस से संबंधित प्रजातियाँ बहुत संवेदनशील होती हैं और वे आर्द्र एवं नम परिस्थितियों के अनुकूल होते हैं।

जैव-संदीप्ति (Bioluminescence):

  • जैव-संदीप्ति जैसी घटना शुष्क भूमि की तुलना में समुद्री पारिस्थितिकी तंत्र में सबसे अधिक दिखाई देती है। 
  • इसका उपयोग आम तौर पर शिकार को आकर्षित करने के लिये या किसी पौधे की ओर कीटों को आकर्षित करने के लिये या पौधे के पराग या बीजाणुओं को फैलाने के लिये किया जाता है।
  • वर्णित 120000 कवक प्रजातियों में से लगभग 100 प्रजातियों में जैव-संदीप्ति का गुण पाया जाता है, इनमें से केवल कुछ ही भारत की मूल निवासी हैं। ये कवक आमतौर पर सड़ी हुई लकड़ी या निर्जीव लकड़ी पर उगते हैं।
  • जैव-संदीप्ति के गुणों से युक्त कवक का सबसे बड़ा जीनस मायसेना (Mycena) अर्थात् बोनट मशरूम (Bonnet Mushroom) है और मायसेना के आनुवांशिक अध्ययनों से पता चलता है कि यह विशेषता लगभग 160 मिलियन वर्ष पहले विकसित हुई थी। 
  • फाइलोस्टैचायडिस (Phyllostachydis) जीनस से संबंधित बाँस पर उगी हुई इस प्रजाति को शोधकर्त्ताओं की टीम ने ‘रोरीडोमायज़ फाइलोस्टैचायडिस’ नाम दिया है।
  • सामान्य तौर पर जैव-संदीप्ति (Bioluminescent) मशरूम कुछ विशिष्ट कीड़ों के साथ विकसित होते हैं क्योंकि ये मशरूम कीटों के माध्यम से अपने बीजाणुओं को फैलाते हैं।
  • उल्लेखनीय है कि यह रोरीडोमायज़ (Roridomyces) जीनस की पहली प्रजाति है जिसे भारत में खोजा गया है। वर्तमान में 12 अन्य प्रजातियाँ इस जीनस से संबंधित हैं जिनमें से पाँच जैव-संदीप्ति जैसे विशेष गुणों से युक्त हैं।

हाल ही में ‘रोरीडोमायज़ फाइलोस्टैचायडिस’ से संबंधित शोध को ‘फाइटोटैक्सा’ (Phytotaxa) पत्रिका में प्रकाशित किया गया है।


कम्युनिटी कॉर्ड ब्लड बैंकिंग

Community Cord Blood Banking

वर्ष 2017 में लाइफसेल (LifeCell) द्वारा शुरू की गई स्टेम सेल बैंकिंग पहल ‘कम्युनिटी कॉर्ड ब्लड बैंकिंग’ (Community Cord Blood Banking) ने महाराष्ट्र के नासिक की 7 वर्षीय लड़की की जान बचाने में मदद की, जो अप्लास्टिक एनीमिया (Aplastic Anaemia) नामक एक दुर्लभ एवं गंभीर रक्त विकार से पीड़ित थी।

Cord-Blood-Banking

कॉर्ड ब्लड (Cord Blood):

  • कॉर्ड ब्लड (Cord Blood), नाभि रज्जु (Umbilical Cord) और गर्भनाल (Placenta) की रक्त वाहिकाओं में पाया जाता है और जन्म के बाद बच्चे की नाभि रज्जु काट कर एकत्र किया जाता है।
  • इसमें रक्त बनाने वाली स्टेम कोशिकाएँ होती हैं जो कुछ रक्त और प्रतिरक्षा प्रणाली विकारों के इलाज में उपयोग की जाती हैं।
    • कॉर्ड ब्लड का उपयोग उसी तरह किया जाता है जैसे हेमटोपोइएटिक स्टेम सेल प्रत्यारोपण (Hematopoietic Stem Cell Transplantation) का उपयोग विभिन्न रक्त कैंसर के लिये विकिरण उपचार के बाद अस्थिमज्ज़ा को पुनर्गठित करने के लिये किया जाता है।
  • कॉर्ड ब्लड, रक्त में पाए जाने वाले सभी तत्वों से मिलकर बना होता है जिनमें लाल रक्त कोशिकाएँ, श्वेत रक्त कोशिकाएँ, प्लाज़्मा, प्लेटलेट्स शामिल होते हैं।
  • कॉर्ड ब्लड का उपयोग उन लोगों में प्रत्यारोपण के लिये किया जा सकता है जिन्हें इन रक्त बनाने वाली कोशिकाओं के पुनर्जनन की आवश्यकता होती है।

‘कम्युनिटी कॉर्ड ब्लड बैंकिंग

(Community Cord Blood Banking): 

  • ‘कम्युनिटी कॉर्ड ब्लड बैंकिंग’, स्टेम सेल बैंकिंग का एक नया साझाकरण अर्थव्यवस्था मॉडल है जिसे भारत में लाइफसेल (LifeCell) द्वारा संचालित किया जा रहा है।
  • इस सामुदायिक बैंक में माता-पिता अपने बच्चे के ‘कॉर्ड ब्लड’ को संग्रहित करने का विकल्प चुनते हैं, जिससे भविष्य में बच्चे के इलाज के लिये माता-पिता की सामुदायिक बैंक की अन्य सभी कॉर्ड ब्लड इकाइयों तक पहुँच सुनिश्चित हो सकेगी।
  • यह सामुदायिक बैंक एक ‘सार्वजनिक कॉर्ड ब्लड बैंक’ की तरह होता है किंतु इसमें केवल सदस्य परिवार ही लाभान्वित हो सकते हैं।

अप्लास्टिक एनीमिया (Aplastic Anaemia):

  • अप्लास्टिक एनीमिया एक बीमारी है जिसमें शरीर पर्याप्त संख्या में नई रक्त कोशिकाओं का उत्पादन करने में विफल रहता है।
  • अस्थि-मज्जा (Bone Marrow) में रक्त कोशिकाओं का उत्पादन स्टेम कोशिकाओं द्वारा किया जाता है जो वहाँ मौजूद रहते हैं।
  • अप्लास्टिक एनीमिया सभी रक्त कोशिका प्रकारों (लाल रक्त कोशिकाएँ, सफेद रक्त कोशिकाएँ एवं प्लेटलेट्स) की कमी के कारण होता है।

लाइफसेल (LifeCell):

  • वर्ष 2004 में स्थापित लाइफसेल (LifeCell) भारत का पहला एवं सबसे बड़ा स्टेम सेल बैंक है जो भारत के 350000 से अधिक परिवारों को लाभान्वित कर रहा है जिन्होंने अपने बच्चों के गर्भनाल को स्टेम सेल कंपनी में जमा करने का विकल्प अपनाया है।

विविध

Rapid Fire (करेंट अफेयर्स): 24 नवंबर, 2020

सर छोटूराम

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सर छोटूराम  को उनकी जयंती पर श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए कहा कि समाज के उत्थान के लिये उनका योगदान सदैव अविस्मरणीय रहेगा। सर छोटूराम का जन्म 24 नवंबर, 1881 को पंजाब के रोहतक (अब हरियाणा) में हुआ था। छोटूराम का असली नाम राय रिछपाल था। सर छोटू राम दिल्ली के सेंट स्टीफेंस कॉलेज के छात्र रहे और उन्हें वर्ष 1937 में नाइट की उपाधि दी गई। कई आलोचक सर छोटूराम को एक जातिवादी नेता के रूप में देखते हैं, किंतु उन्होंने अपने संपूर्ण जीवन में किसानों के उत्थान की बात की। वर्ष 1912 में वकील के तौर पर कार्य शुरू करने के पश्चात् वे वर्ष 1916 में काॅॅन्ग्रेस में शामिल हुए और वर्ष 1916 से 1920 तक रोहतक ज़िला काॅॅन्ग्रेस कमेटी के अध्यक्ष रहे। सर छोटूराम ने प्रथम विश्व युद्ध और द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान ब्रिटिश सेना में भारतीय युवाओं की भर्ती करने में महत्त्वपूर्ण भूमिका अदा की थी। विभाजन के पूर्व पंजाब विधान परिषद के सदस्य के रूप में, उनकी पहली बड़ी उपलब्धि पंजाब भूमि राजस्व (संशोधन) अधिनियम, 1929 को पारित करना, जिसे अभी भी एक ऐतिहासिक सामाजिक कानून के रूप में देखा जाता है। एक जन प्रतिनिधि के रूप में सर छोटूराम ने न केवल कानूनों के निर्माण में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाई बल्कि उन कानूनों के कार्यान्वयन पर भी ज़ोर दिया। वह किसानों द्वारा खेती पर किये गए खर्च के लिये क्षतिपूर्ति देने की अवधारणा के भी जनक थे, यही अवधारणा आगे चलकर ‘न्यूनतम समर्थन मूल्य’ के रूप में विकसित हुई है। 

चक्रवाती तूफान ‘निवार’

तमिलनाडु और पुडुचेरी ने चक्रवाती तूफान ‘निवार’ (Nivar) को लेकर हाई अलर्ट जारी किया है। मौसम विभाग ने आगामी कुछ दिनों में भारी बारिश और तेज़ हवाओं को लेकर आशंका जारी की है। चक्रवाती तूफान ‘निवार’ इस वर्ष उत्तर हिंद महासागर क्षेत्र का चौथा चक्रवाती तूफान है, पहले के तीन चक्रवातों में शामिल हैं- चक्रवात 'गति', चक्रवात 'अम्फान' और चक्रवात निसर्ग। चक्रवाती तूफान ‘निवार’ वर्ष 2018 में चक्रवात ‘गाजा’ के बाद दो वर्ष में तमिलनाडु में आने वाला दूसरा चक्रवात होगा। इस चक्रवात के कारण 120 किलोमीटर प्रति घंटे की गति से हवाएँ चलने का अनुमान है। चक्रवाती तूफान ‘निवार’ का नाम ईरान द्वारा सुझाया गया है, जबकि चक्रवात ‘निसर्ग’ का नाम बांग्लादेश द्वारा दिया गया था और चक्रवात 'गति' का नाम भारत द्वारा सुझाया गया था। 

जल निकायों के संरक्षण के लिये NGT के निर्देश

नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (NGT) ने सभी राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों को जल निकायों के संरक्षण और पुनर्स्थापन के लिये एक नोडल एजेंसी नामित करने का निर्देश दिया है। साथ ही नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (NGT) ने राष्ट्रीय स्तर पर अनुपालन की निगरानी के लिये एक केंद्रीय निगरानी समिति (CMC) के गठन का भी निर्देश दिया है, जिसमें जल शक्ति मंत्रालय के सचिव और केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (CPCB) और अन्य महत्त्वपूर्ण निकायों के प्रतिनिधि शामिल होंगे। नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (NGT) द्वारा यह निर्देश गुरुग्राम में जल निकायों की पहचान, संरक्षण और पुनर्स्थापन से संबंधित एक याचिका की सुनवाई के दौरान दिये गए हैं। इससे पूर्व जून माह में NGT ने सभी राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों को अपने जल निकायों की सूची और उनकी स्थिति रिपोर्ट प्रस्तुत करने का निर्देश दिया था। इस प्रक्रिया के दौरान भारत के विभिन्न राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों द्वारा 4,13,911 जल निकायों की पहचान की गई है।

इंडिया इंटरनेशनल चेरी ब्लॉसम महोत्‍सव

मेघालय में प्रतिवर्ष आयोजित होने वाले ‘इंडिया इंटरनेशनल चेरी ब्लॉसम महोत्सव’ को कोरोना वायरस महामारी के कारण रद्द कर दिया गया है। भारत के एकमात्र चेरी ब्लॉसम महोत्सव को मेघालय की राजधानी शिलांग में आयोजित किया जाता है। इस महोत्सव में शामिल होने के लिये प्रतिवर्ष रिकॉर्ड संख्या में पर्यटक शिलांग पहुँचते हैं। सर्दी का मौसम शुरू होते गुलाबी रंग के ‘चेरी ब्लॉसम’ के सुंदर फूलों को पूरे मेघालय में देखा जा सकता है। ये फूल नवंबर माह के अंत तक खिले रहेंगे। मेघालय में आयोजित होने वाला यह त्योहार इस बात का सबसे बड़ा उदाहरण है कि किस तरह प्राकृतिक संसाधनों और सतत् पर्यटन का उपयोग एक प्रभावी तरीके किया जा सकता है।


एसएमएस अलर्ट
 

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

प्रोग्रेस सूची देखने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

आर्टिकल्स को बुकमार्क करने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close