हिंदी साहित्य: पेन ड्राइव कोर्स
ध्यान दें:
झारखण्ड संयुक्त असैनिक सेवा मुख्य प्रतियोगिता परीक्षा 2016 -परीक्षाफलछत्तीसगढ़ पीसीएस प्रश्नपत्र 2019छत्तीसगढ़ पी.सी.एस. (प्रारंभिक) परीक्षा, 2019 (महत्त्वपूर्ण अध्ययन सामग्री).छत्तीसगढ़ पी.सी.एस. प्रारंभिक परीक्षा – 2019 सामान्य अध्ययन – I (मॉडल पेपर )
हिंदी साहित्य: पेन ड्राइव कोर्स (Hindi Literature: Pendrive Course)
मध्य प्रदेश पी.सी.एस. (प्रारंभिक) परीक्षा , 2019 (महत्वपूर्ण अध्ययन सामग्री)मध्य प्रदेश पी.सी.एस. परीक्षा मॉडल पेपर.Download : उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग (प्रवर) प्रारंभिक परीक्षा 2019 - प्रश्नपत्र & उत्तर कुंजीअब आप हमसे Telegram पर भी जुड़ सकते हैं !यू.पी.पी.सी.एस. परीक्षा 2017 चयनित उम्मीदवार.UPSC CSE 2020 : प्रारंभिक परीक्षा टेस्ट सीरीज़

प्रिलिम्स फैक्ट्स

  • 18 Jan, 2020
  • 9 min read
प्रारंभिक परीक्षा

प्रीलिम्स फैक्ट्स: 18 जनवरी, 2020

सेलुलर जेल

Cellular Jail

उपराष्‍ट्रपति एम. वेंकैया नायडू ने मानव संसाधन विकास मंत्रालय एवं सभी राज्‍य सरकारों से आग्रह किया कि वे सेलुलर जेल और स्वाधीनता आंदोलन से जुड़े ऐतिहासिक स्थलों में छात्रों के दौरे आयोजित करें।

Cellular-Jail

मुख्य बिंदु:

  • यह जेल अंडमान निकोबार द्वीप की राजधानी पोर्ट ब्लेयर में स्थित है। यह अंग्रेज़ों द्वारा भारतीय स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों को कैद में रखने के लिये बनाई गई थी।
  • वर्ष 1910 में वीर सावरकर को क्रांतिकारी समूह इंडिया हाउस के साथ संबंधों के चलते गिरफ्तार किया गया था।
  • वर्ष 1911 में ब्रिटिश सरकार ने वीर सावरकर को 50 वर्ष के कठोर कारावास की सज़ा सुनाकर उन्हें अंडमान निकोबार द्वीप समूह में स्थित सेलुलर जेल में डाल दिया।
  • अंग्रेज़ों ने वीर सावरकर के अलावा अलीपुर षडयंत्र केस, नासिक षडयंत्र केस (Nasik Conspiracy Case), लाहौर षडयंत्र केस (Lahore Conspiracy Case) और चटगाँव शस्‍त्रागार लूट केस के तहत अन्य स्वतंत्रता सेनानियों को भी सेलुलर जेल में रखा था।
    • वर्ष 1909 में नासिक के ज़िला मजिस्ट्रेट जैक्सन की अभिनव भारत के एक सदस्य अनंत कान्हेर ने हत्या कर दी थी। अनंत कान्हेर को नासिक षडयंत्र केस के तहत सेलुलर जेल में रखा गया था।
    • अलीपुर षडयंत्र केस के तहत वर्ष 1908 में अरविन्द घोष, बारीन्द्र कुमार घोष एवं अन्य पर मुकदमा चलाया गया था, इसे मुरारीपुकुर षडयंत्र (Muraripukur Conspiracy) भी कहा जाता है।

राष्ट्रीय सड़क सुरक्षा सप्ताह

National Road Safety Week

केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय द्वारा 31वाँ सड़क सुरक्षा सप्ताह 11 जनवरी से 17, जनवरी 2020 तक मनाया गया।

इस वर्ष की थीम है: ‘युवाओं के माध्यम से परिवर्तन लाना’ (Bringing Change Through Youth)।

National-Road

उद्देश्य: इसका उद्देश्य सभी हितधारकों को सड़क सुरक्षा के प्रति संयुक्त कार्रवाई में भाग लेने का अवसर देना है।

  • प्रत्येक वर्ष राष्ट्रीय सड़क सुरक्षा सप्ताह पूरे देश में मनाया जाता है ताकि सड़कों को सुरक्षित बनाये जाने पर ज़ोर दिया जा सके।
    • गौरतलब है कि विश्व स्वास्थ्य संगठन की वैश्विक रिपोर्ट में 5 से 29 वर्ष की उम्र के युवाओं की मौत के कारणों में सड़क दुर्घटना को एक प्रमुख कारण माना गया है।
    • भारत ने वर्ष 2015 में ब्रासीलिया सड़क सुरक्षा घोषणा पर हस्ताक्षर किये थे जिसके अंतर्गत वर्ष 2020 तक सड़क दुर्घटना में होने वाली मौतों की संख्या को आधा करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है।

जल्लीकट्टू

Jallikattu

तमिलनाडु राज्य के मदुरै में जल्लीकट्टू (Jallikattu) कार्यक्रम में ज़िला प्रशासन और पुलिस द्वारा सुरक्षा नियमों को लागू करने से दुर्घटनाओं को कम करने में मदद मिली है।

मुख्य बिंदु:

  • जल्लीकट्टू का आयोजन प्रत्येक वर्ष जनवरी में पोंगल (फसलों की कटाई के त्योहार) के अवसर पर किया जाता है।
  • जल्लीकट्टू, तमिलनाडु का लगभग 2000 साल पुराना एक प्राचीन पारंपरिक खेल है इस आयोजन में हर साल लोग गंभीर रूप से घायल हो जाते हैं यहाँ तक कि उनकी मौत भी हो जाती है।
  • जल्लीकट्टू तमिल भाषा के दो शब्दों ‘जल्ली’ और ‘कट्टू’ से मिलकर बना है, जिसका अर्थ है साँड़ के सींग पर सोने या चाँदी के बांधे गए सिक्के।
  • इस खेल में साँड़ की सींगों में सिक्के या नोट फँसाए जाते हैं और फिर उन्हें भड़काकर भीड़ में छोड़ दिया जाता है, ताकि लोग साँड़ की सींगों को पकड़कर उन्हें काबू में करें।​

कत्थक और कव्वाली

Kathak and Qawwali

हाल ही में उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में आधिकारिक सांस्कृतिक कार्यक्रम के दौरान कत्थक कलाकार मंजरी चतुर्वेदी को कव्वाली (Qawwali) के साथ कत्थक (Kathak) का प्रदर्शन करने से रोक दिया गया।

  • मंजरी चतुर्वेदी मशहूर सूफी व कत्थक नृत्यांगना हैं। इनका ताल्लुक लखनऊ घराने से है जो देश भर में गंगा-जमुनी तहजीब के लिये जाना जाता है।

कव्वाली:

  • कव्वाली सूफी भक्ति संगीत का एक रूप है अर्थात कव्वाली सूफियों द्वारा भगवान से आध्यात्मिक निकटता प्रदर्शित करने के लिये गाया जाने वाला एक संगीत है।
  • माना जाता है कि कव्वाली की उत्पत्ति 8वीं शताब्दी के आसपास फारस में हुई किंतु कव्वाली मूल रूप से 11वीं शताब्दी में ‘समा’ (जो एक आध्यात्मिक संगीत कार्यक्रम है) की परंपरा से शुरू हुई और यह भारतीय उपमहाद्वीप, तुर्की तथा उज़्बेकिस्तान में विस्तारित हो गई।
  • भारतीय उपमहाद्वीप में कव्वाली एक लोकप्रिय सूफी भक्ति संगीत है और यहाँ कव्वाली गीत ज़्यादातर पंजाबी और उर्दू भाषा में गाए जाते हैं।
    • अमीर खुसरो भारतीय इतिहास के मध्यकालीन युग के प्रसिद्ध सूफी संत, कवि तथा संगीतज्ञ थे। संगीत के क्षेत्र में खुसरो ने गज़ल, कव्वाली तथा तराने का श्री गणेश किया।

कत्थक:

  • कत्थक उत्तर प्रदेश की ब्रजभूमि की रासलीला परंपरा से जुड़ा हुआ है।
  • इसमें पौराणिक कथाओं के साथ ही ईरानी एवं उर्दू कविता से ली गई विषय-वस्तुओं के नाट्य रूप का प्रस्तुतीकरण किया जाता है।

लखनऊ घराना:

  • लखनऊ घराना भारतीय शास्त्रीय नृत्य शैली कत्थक के कलाकारों से जुड़ा प्रसिद्ध घराना है। इसका उदय अवध के नवाब वाजिद अली शाह के दरबार में हुआ था।
  • लखनऊ घराने के नृत्य पर मुगल व ईरानी सभ्यता के प्रभाव के कारण यहाँ के नृत्य में श्रृंगारिकता के साथ-साथ अभिनय पक्ष पर भी विशेष ध्यान दिया गया।
  • वर्तमान में पंडित बिरजू महाराज इस घराने के मुख्य प्रतिनिधि माने जाते हैं।

निवेश और विकास पर मंत्रिमंडलीय समिति

Cabinet Committee on Investment and Growth

हाल ही में प्रधानमंत्री की अध्यक्षता में निवेश और विकास पर कैबिनेट समिति (Cabinet Committee on Investment and Growth) ने गैर-योजना व्यय में 20% की कटौती करने का निर्णय लिया है।

मुख्य बिंदु:

  • समिति ने वित्त मंत्रालय के व्यय विभाग से खर्च कटौती के संबंध में आवश्यक कार्रवाई करने को कहा है तथा सभी मंत्रालयों को घरेलू और अंतर्राष्ट्रीय यात्रा, भोजन, वाहनों की खरीद, प्रदर्शनियों, मेलों, सेमिनारों और सम्मेलनों पर होने वाले फ़िजूल खर्च को 20% तक कम करने का निर्देश दिया है।
  • यह पहली बार नहीं है कि जब सरकार ने खर्च को युक्तिसंगत बनाने का प्रयास किया है। इससे पहले अक्तूबर 2014 में व्यय विभाग ने अन्य विभागों से गैर-योजना व्यय में 10% की कटौती करने के लिये कहा था।

एसएमएस अलर्ट
 

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

प्रोग्रेस सूची देखने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

आर्टिकल्स को बुकमार्क करने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close