हिंदी साहित्य: पेन ड्राइव कोर्स
ध्यान दें:

डेली न्यूज़

  • 09 Sep, 2022
  • 50 min read
इन्फोग्राफिक्स

'मूल संरचना’ का सिद्धांत

Doctrine-of-Basic-Structure

और पढ़ें...


जैव विविधता और पर्यावरण

रेड इयर्ड स्लाइडर टर्टल्स

प्रिलिम्स के लिये:

रेड इयर्ड स्लाइडर टर्टल्स और भारत में इसकी उपस्थिति।

मेन्स के लिये:

रेड- इयर्ड स्लाइडर टर्टल्स की विशेषताएँ, पर्यावरण पर आक्रामक प्रजातियों का प्रभाव।

चर्चा में क्यों?

हाल ही में विशेषज्ञों ने चिंता व्यक्त की है कि आक्रामक और विदेशी साउथ रेड-ईयर स्लाइडर टर्टल्स (Red-Eared Slider Turtles) की उपस्थिति देशी प्रजातियों के कछुओं के विलुप्त होने का कारण बन जाएगा।

  • भारत विश्व स्तर पर मान्यता प्राप्त 356 कछुओं की प्रजातियों में से 29 मीठे जल के कछुओं की प्रजातियों का घर है और जिनमें से लगभग 80% संकटग्रस्त हैं।

रेड इयर्ड स्लाइडर टर्टल्स:

Turtles

  • रेड इयर्ड स्लाइडर टर्टल्स मुख्य रूप से जलीय जीव होते हैं जो चट्टानों और लकड़ियों के सहारे जलीय क्षेत्र से बाहर आते हैं।
    • धुप सेंकते समय रेड इयर्ड स्लाइडर प्रायः पर एक-दूसरे के ऊपर इकट्ठे हो जाते हैं और खतरे एवं शिकार शिकारी की आशंका होने पर बेसिंग स्पॉट (धूप सेंकने वाली जगह) से तेज़ी के साथ स्लाइड (फिसल) कर जल में चले जातें है, इसलिये इनके नाम में "स्लाइडर" शब्द जुड़ा है।
  • रेड इयर्ड स्लाइडर टर्टल्स को विक्टोरियन कैचमेंट एंड लैंड प्रोटेक्शन एक्ट, 1994 के तहत नियंत्रित परोपजीवी (Pest) के रूप में वर्गीकृत किया गया है।
  • वैज्ञानिक नाम: ट्रेकेमीस स्क्रिप्टा एलिगेंस (Trachemys Sscripta Elegans)
  • पर्यावास: ये विस्तृत शृंखला में निवास करते हैं और कभी-कभी खारे जल के साथ मुहाने तथा तटीय आर्द्रभूमि में पाए जाते हैं।
    • वे जल की गुणवत्ता की एक उच्च सीमा को भी सह सकते हैं और उच्च स्तर के कार्बनिक प्रदूषकों जैसे कि अपशिष्ट और अकार्बनिक प्रदूषण वाले जल में भी जीवित रह सकते हैं।
  • अवस्थिति: रेड इयर्ड स्लाइडर टर्टल्स दक्षिण-पूर्वी संयुक्त राज्य अमेरिका और मैक्सिको का मूल प्रजाति है।
  • सुरक्षा की स्थिति:
  • विशेषताएँ:
    • इनकी आँख के पीछे एक चौड़ी लाल या नारंगी पट्टी होती है, जिसमें संकीर्ण पीली धारियाँ होती हैं, जो शेष काले शरीर, गर्दन, पैरों और पूँछ को चिह्नित करती हैं।
    • उनके सामने और पिछले पैरों पर विशिष्ट लंबे पंजे प्रमुख होते हैं जो मादा की तुलना में नर में अधिक लंबे होते हैं।
    • खतरे की आशंका में अपना सिर अपने खोल में सीधी रेखा में वापस खींच लेते हैं, जबकि देशी कछुए अपनी गर्दन को खोल के नीचे की तरफ एक ओर खींचते हैं।

भारत में रेड इयर्ड स्लाइडर टर्टल्स की उपस्थिति:

  • अनुकूल पालतू जानवर: भारत में वन्यजीव संरक्षण अधिनियम के तहत देशी कछुओं को पालतू जानवर के रूप में पालना प्रतिबंधित है।
    • लेकिन विदेशी नस्लें प्रतिबंधित नहीं हैं और पूरे भारत में कई परिवारों में पालतू जानवरों के रूप में इन्हें पाला जाता है।
    • ये छोटी और आसानी से पालतू बनाई जाने वाली प्रजातियाँ हैं और इसलिये पालतू कछुओं के रूप में ये लोकप्रिय हैं।
    • अन्य स्थानीय कछुओं की किस्मों की तुलना में यह प्रजाति तेज़ी से प्रजनन करती है। जैसे-जैसे इनकी संख्या बढ़ती है, कम क्षेत्रफल वाले टैंक या तालाब इनके लिये छोटे पड़ जाते हैं।
      • इन कछुओं को पालने वाले कई बार इन्हें जंगल या आस-पास के जलाशयों में छोड़ देते हैं, जिसके बाद वे स्थानीय जीवों के लिये खतरा बन जाते हैं।
  • भारत में उपस्थिति: भारत में, ये कछुए मुख्य रूप से शहरी आर्द्रभूमि जैसे चंडीगढ़ में सुखना झील, गुवाहाटी के मंदिर तालाब, बंगलुरु की झीलें, मुंबई में संजय गांधी राष्ट्रीय उद्यान, दिल्ली में यमुना नदी आदि में पाए जाते हैं।
  • देशी प्रजातियों पर प्रभाव:
    • जैसे-जैसे ये परिपक्व होते हैं, अधिक संतानोपत्ति करते हैं और बहुत आक्रामक होते जाते हैं, ये भोजन, घोंसले के शिकार और बेसिंंग साइटों के लिये देशी कछुओं को प्रभावित कर सकते हैं।
    • ये पौधों और जानवरों को खाते हैं जो मछलियों एवं दुर्लभ मेंढकों सहित जलीय प्रजातियों की विस्तृत शृंखला को समाप्त कर सकते हैं।
    • ये बीमारियों और परजीवियों को देशी सरीसृप प्रजातियों में भी स्थानांतरित कर सकते हैं।
    • इस प्रजाति को दुनिया की 100 सबसे खराब आक्रामक विदेशी प्रजातियों में से एक माना जाता है।

आक्रमण को नियंत्रित करने हेतु उपाय:

  • प्रजातियों को भारतीय पर्यावरण में प्रवेश करने और इसे नकारात्मक रूप से प्रभावित करने से रोकने के लिये और अधिक नियम होने चाहिये।
  • शहरी आर्द्रभूमि से इन कछुओं की खरीद और पुनर्वास के लिए मानवकृत हस्तक्षेप की आवश्यकता है।
    • इन कछुओं को रोकने हेतु अभियान चलाया जाना चाहिये।
  • इन कछुओं को रोका जाए, बंदी बनाया जाए और स्थानीय चिड़ियाघरों में भेजा जाए

आक्रामक प्रजातियों पर अंतर्राष्ट्रीय कार्यक्रम

जैव सुरक्षा पर कार्टाजेना प्रोटोकॉल, 2000:

  • इस प्रोटोकॉल का उद्देश्य आधुनिक जैव प्रौद्योगिकी के परिणामस्वरूप संशोधित जीवों द्वारा उत्पन्न संभावित जोखिमों से जैव विविधता की रक्षा करना है।

जैविक विविधता पर सम्मेलन:

  • यह रियो डी जनेरियो में वर्ष 1992 के पृथ्वी शिखर सम्मेलन (Earth Summit) में अपनाए गए प्रमुख समझौतों में से एक था।
  • इस सम्मेलन का अनुच्छेद 8 (h) उन विदेशी प्रजातियों का नियंत्रण या उन्मूलन करता है जो प्रजातियों के पारिस्थितिकी तंत्र, निवास स्थान आदि के लिये खतरनाक हैं।

प्रवासी प्रजातियों के संरक्षण पर अभिसमय (CMS) या बॉन अभिसमय , 1979:

  • यह एक अंतर-सरकारी संधि है जिसका उद्देश्य स्थलीय, समुद्री और एवियन प्रवासी प्रजातियों को संरक्षित करना है।
  • इसका उद्देश्य पहले से मौजूद आक्रामक विदेशी प्रजातियों को नियंत्रित करना या खत्म करना भी है।

वन्यजीव और वनस्पति की लुप्तप्राय प्रजातियों के अंतर्राष्ट्रीय व्यापार पर अभिसमय  (CITES):

  • यह वर्ष 1975 में अपनाया गया एक अंतर्राष्ट्रीय समझौता है जिसका उद्देश्य वन्यजीवों और पौधों के प्रतिरूप को किसी भी प्रकार के खतरे से बचाना है तथा इनके अंतर्राष्ट्रीय व्यापार को रोकना है।
  • यह आक्रामक प्रजातियों से संबंधित उन समस्याओं पर भी विचार करता है जो जानवरों या पौधों के अस्तित्व के लिये खतरा उत्पन्न करती हैं।

रामसर अभिसमय , 1971:

  • यह अभिसमय अंतर्राष्ट्रीय महत्त्व के आर्द्रभूमि के संरक्षण और स्थायी उपयोग के लिये एक अंतर्राष्ट्रीय संधि है।
  • यह अपने अधिकार क्षेत्र के भीतर आर्द्रभूमि पर आक्रामक प्रजातियों के पर्यावरणीय, आर्थिक और सामाजिक प्रभाव को भी संबोधित करता है तथा उनसे निपटने के लिये नियंत्रण और समाधान के तरीकों को भी खोजता है।

UPSC सिविल सेवा परीक्षा, पिछले वर्ष के प्रश्न (PYQ)

प्र. निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिये: (2019)

  1. समुद्री कच्छपों की कुछ जातियाँ शाकभक्षी होती हैं।
  2. मछली की कुछ जातियाँ शाकभक्षी होती हैं।
  3. समुद्री स्तनपायियों की कुछ जातियाँ शाकभक्षी होती हैं।
  4. साँपों की कुछ जातियाँ सजीव प्रजक होती हैं।

उपर्युक्त में से कौन-से कथन सही हैं?

(a) केवल 1 और 3
(b) केवल 2, 3 और 4
(c) केवल 2 और 4
(d) 1, 2, 3 और 4

उत्तर: (d)

व्याख्या:

  • ग्रीन सी टर्टल ज़्यादातर समुद्री घास और शैवाल के शाकाहारी भोजन के लिये अनुकूलित होते हैं। वयस्कों के रूप में ये मुख्य रूप से शाकाहारी समुद्री कछुए हैं, हालाँकि ये अंडे सेने से लेकर किशोर अवस्था तक माँसाहारी होते हैं। अतः कथन 1 सही है।
  • सर्जनफिश और पैरटफिश मछली की दो प्रजातियाँ हैं जिन्हें अक्सर भित्ति शैवाल पर भोजन करते देखा जाता है। अत: कथन 2 सही है।
  • मानेटेस, जिसे कभी-कभी समुद्री गाय कहा जाता है, बड़े स्तनधारी होते हैं जो गर्म समुद्र के जल में रहते हैं। वे उथले तटीय क्षेत्रों में रहते हैं और समुद्री वनस्पति का भोजन करते हैं। अत: कथन 3 सही है।
  • साँप जो विविपेरस होते हैं, वे प्लेसेंटा और जर्दी की थैली के माध्यम से अपने बच्चों का पोषण करतें हैं। बोआ कंस्ट्रिक्टर और ग्रीन एनाकोंडा विविपेरस साँपों के दो उदाहरण हैं। अतः कथन 4 सही है।

अतः विकल्प (d) सही है।

स्रोत: डाउन टू अर्थ


भारतीय इतिहास

चोल राजवंश

प्रिलिम्स के लिये:

चोल युग में कला और शिल्प कौशल, चोल मूर्तिकला।

मेन्स के लिये:

चोल राजवंश।

चर्चा में क्यों?

तमिलनाडु आइडल विंग CID ने वर्ष 1960 के दशक में तमिलनाडु के नरेश्वर सिवन मंदिर से चुराई गई और वर्तमान में संयुक्त राज्य अमेरिका के विभिन्न संग्रहालयों में रखी छह चोल-युग की कांस्य मूर्तियों को पुनः प्राप्त करने के लिये कदम उठाए हैं।

  • इंडो-फ्रेंच इंस्टीट्यूट, पुद्दुचेरी के पास उपलब्ध छवियों की मदद से मूर्तियों को हाल ही में अमेरिका में सफलतापूर्वक खोजा गया था, जिसने वर्ष 1956 में नौ कांस्य मूर्तियों का दस्तावेजीकरण किया था। उनमें से सात मूर्ति पाँच दशक पहले चोरी हो गई थी।
  • संस्थान ने त्रिपुरानथकम, तिरुपुरासुंदरी, नटराज, दक्षिणमूर्ति वीणाधारा और संत सुंदरर की प्राचीन पंचलोहा मूर्तियों की छवियाँ उनकी पत्नी परवई नटचियार के साथ प्रदान की थीं।

मध्यकालीन चोल राजवंश

  • परिचय:
    • चोलों (8-12वीं शताब्दी ईस्वी) को भारत के दक्षिणी क्षेत्रों में सबसे लंबे समय तक शासन करने वाले राजवंशों में से एक के रूप में याद किया जाता है।
    • चोलों का शासन 9वीं शताब्दी में शुरू हुआ जब उन्होंने सत्ता में आने के लिये पल्लवों को हराया। इनका शासन 13वीं शताब्दी तक पाँच से अधिक शताब्दियों तक चलता रहा।
    • मध्यकाल चोलों के लिये पूर्ण शक्ति और विकास का युग था। यह राजा आदित्य प्रथम और परान्तक प्रथम जैसे राजाओं द्वारा संभव हुआ।
    • यहाँ से राजराज चोल और राजेंद्र चोल ने तमिल क्षेत्र में राज्य का विस्तार किया। बाद में कुलोतुंग चोल ने मज़बूत शासन स्थापित करने के लिये कलिंग पर अधिकार कर लिया।
    • यह भव्यता 13वीं शताब्दी की शुरुआत में पांड्यों के आगमन तक चली।

chola-empire

  • प्रमुख सम्राट:
    • विजयालय: चोल साम्राज्य की स्थापना विजयालय ने की थी। उसने 8वीं शताब्दी में तंजौर साम्राज्य पर अधिकार कर लिया और पल्लवों को हराकर शक्तिशाली चोलों के उदय का नेतृत्व किया।
    • आदित्य प्रथम: आदित्य प्रथम विजयालय साम्राज्य का शासक बनने में सफल हुआ। उसने राजा अपराजित को हराया और साम्राज्य ने उसके शासनकाल में भारी शक्ति प्राप्त की। उन्होंने वदुम्बों के साथ पांड्या राजाओं पर विजय प्राप्त की एवं इस क्षेत्र में पल्लवों की शक्ति पर नियंत्रण स्थापित किया।
    • राजेंद्र चोल: यह शक्तिशाली राजराजा चोल का उत्तराधिकारी बना। राजेंद्र प्रथम गंगा तट पर जाने वाले पहले व्यक्ति थे। उन्हें लोकप्रिय रूप से गंगा का विक्टर कहा जाता था। इस काल को चोलों का स्वर्ण युग कहा जाता है। उनके शासन के बाद राज्य में व्यापक पतन देखा गया।
  • प्रशासन और शासन:
    • चोलों के शासन के दौरान पूरे दक्षिणी क्षेत्र को एक ही शासी बल के नियंत्रण में लाया गया था। चोलों ने निरंतर राजशाही में शासन किया।
    • विशाल राज्य को प्रांतों में विभाजित किया गया था जिन्हें मंडलम के रूप में जाना जाता था।
    • प्रत्येक मंडलम के लिये अलग-अलग गवर्नर को प्रभारी रखा गया था।
    • इन्हें आगे नाडु नामक ज़िलों में विभाजित किया गया था जिसमें तहसील शामिल थे।
    • शासन की व्यवस्था ऐसी थी कि चोलों के युग के दौरान प्रत्येक गाँव स्वशासी इकाई के रूप में कार्य करता था। चोल कला, कविता, साहित्य और नाटक के प्रबल संरक्षक थे; प्रशासन को मूर्तियों और चित्रों के साथ कई मंदिरों और परिसरों के निर्माण में देखा जा सकता है।
    • राजा केंद्रीय प्राधिकारी बना रहा जो प्रमुख निर्णय लेता था और शासन करता था।
  • वास्तुकला:
    • चोल वास्तुकला (871-1173 ई.) मंदिर वास्तुकला की द्रविड़ शैली का प्रतीक था।
    • उन्होंने मध्ययुगीन भारत में कुछ सबसे भव्य मंदिरों का निर्माण किया।
    • बृहदेश्वर मंदिर, राजराजेश्वर मंदिर, गंगईकोंड चोलपुरम मंदिर जैसे चोल मंदिरों ने द्रविड़ वास्तुकला को नई ऊँचाइयों पर पहुँचाया। चोलों के बाद भी मंदिर वास्तुकला का विकास जारी रहा।

चोल मूर्तिकला के प्रमुख बिंदु:

  • चोल मूर्तिकला का एक महत्त्वपूर्ण प्रदर्शन तांडव नृत्य मुद्रा में नटराज की मूर्ति है।
    • हालाँकि सबसे पहले ज्ञात नटराज की मूर्ति, जिसे ऐहोल में रावण फड़ी गुफा में खोदा गया है, प्रारंभिक चालुक्य शासन के दौरान बनाई गई थी, चोलों के शासन के दौरान मूर्तिकला अपने चरम पर पहुँच गई थी।
  • 13वीं शताब्दी में चोल कला के बाद के चरण का चित्रण भूदेवी, या पृथ्वी की देवी को विष्णु की छोटी पत्नी के रूप में दर्शाने वाली मूर्ति द्वारा किया गया है। वह अपने दाहिने हाथ में एक लिली पकड़े हुए आधार पर एक सुंदर ढंग से मुड़ी हुई मुद्रा में खड़ी है, जबकि बायाँ हाथ भी उसी तरफ लटका हुआ है।
  • चोल कांस्य प्रतिमाओं को विश्व की सर्वश्रेष्ठ प्रतिमाओं में से एक माना जाता है।

bharatnatyam

Q. भारत के इतिहास में निम्नलिखित घटनाओं पर विचार कीजिये: (2020)

  1. राजा भोज के अधीन प्रतिहारों का उदय
  2. महेन्द्रवर्मन प्रथम के अधीन पल्लव सत्ता की स्थापना
  3. परान्तक प्रथम द्वारा चोल शक्ति की स्थापना
  4. पाल वंश की स्थापना गोपाल ने की थी

प्राचीन काल से आरंभ करके उपरोक्त घटनाओं का सही कालानुक्रमिक क्रम क्या है?

(a) 2 - 1 - 4 - 3
(b) 3 - 1 - 4 - 2
(c) 2 - 4 - 1 - 3
(d) 3 - 4 - 1 - 2

उत्तर: (c)

व्याख्या:

  • पल्लव वंश 275 ईसवी से 897 ईसवी तक अस्तित्व में था, जो दक्षिणी भारत के एक हिस्से पर शासन करता था। महेंद्रवर्मन प्रथम (571-630 ईसवी) के शासनकाल के दौरान पल्लव एक प्रमुख शक्ति बन गए, जिन्होंने वर्तमान आंध्र क्षेत्र के दक्षिणी हिस्से और वर्तमान तमिलनाडु के उत्तरी क्षेत्रों पर शासन किया।
  • पाल वंश ने 8वीं से 12वीं शताब्दी तक बिहार और बंगाल में शासन किया। इसके संस्थापक, गोपाल (750-770 ईसवी), एक स्थानीय सरदार थे जो अराजकता के काल में आठवीं शताब्दी के मध्य में सत्ता में आए थे।
  • आठवीं शताब्दी के मध्य से मध्यदेश पर प्रभुत्व राजस्थान में स्थानिक लोगों के बीच दो विशेष कुलों की महत्त्वाकांक्षा का विषय बन गया, जिन्हें गुर्जर और प्रतिहार के नाम से जाना जाता है। 851 ईसवी के एक समकालीन अरब विवरण के अनुसार, राजा मिहिर भोज (प्रतिहार राजाओं में सबसे महान) (840-851 ईसवी) भारत के उन राजाओं में से थे जिन्होंने अरब आक्रमणकारियों के खिलाफ लड़ाई लड़ी थी ।
  • चोल साम्राज्य की स्थापना विजयालय ने की थी। चोलों का शासन 9वीं शताब्दी में शुरू हुआ जब उन्होंने सत्ता में आने के लिये पल्लवों को हराया। मध्यकाल चोलों के लिए पूर्ण शक्ति और विकास का युग था। परान्तक प्रथम (907-953) ने राज्य की नींव रखी। वह उत्तरी सीमा को नेल्लोर (आंध्र प्रदेश) तक ले गया, जहाँ राष्ट्रकूट राजा कृष्ण III के हाथों हार के कारण उसकी विजय यात्रा रुक गई। परान्तक दक्षिण में अधिक सफल रहा, जहाँ उसने पांड्य और गंगा दोनों को हराया

Q. चोल वास्तुकला मंदिर वास्तुकला के विकास में एक उच्च वॉटरमार्क का प्रतिनिधित्व करती है। विचार-विमर्श करना। (2013)

स्रोत: इंडियन एक्सप्रेस


सामाजिक न्याय

शराब की बोतलों को चूड़ियों में बदलेगा बिहार

प्रिलिम्स के लिये:

ग्रामीण आजीविका संवर्धन कार्यक्रम, जीविका (JEEViKA), बिहार निषेध और उत्पाद शुल्क अधिनियम, 2016

मेन्स के लिये:

बिहार का शराब निषेध और संबंधित मुद्दे।

चर्चा में क्यों?

बिहार अपने ग्रामीण आजीविका संवर्धन कार्यक्रम, जिसे जीविका के नाम से जाना जाता है, के माध्यम से ज़ब्त शराब की बोतलों से काँच की चूड़ियाँ बनाने की तैयारी कर रहा है।

  • ये बोतलें जीविका कार्यकर्त्ताओं को दी जाएँगी, जिन्हें चूड़ी बनाने का प्रशिक्षण दिया गया है। कार्यक्रम इसके लिये एक कारखाना स्थापित करेगा।
  • विश्व बैंक द्वारा वित्त पोषित, जीविका एक ग्रामीण सामाजिक और आर्थिक सशक्तीकरण कार्यक्रम है जो बिहार के ग्रामीण विकास विभाग के अंतर्गत है।

पहल की आर्थिक व्यवहार्यता:

  • कुछ लोग ज़ब्त शराब की बोतलों से काँच की चूड़ियाँ बनाने के सरकार के नए "अभिनव" विचार की आर्थिक व्यवहार्यता के बारे में आशंकित हैं।
  • यह एक अभिनव विचार की तरह लग सकता है लेकिन काँच की चूड़ियों को बनाने में चूना पत्थर और सोडा जैसी अन्य सामग्रियों का भी उपयोग किया जाता है।
  • फैज़ाबाद, मुंबई और हैदराबाद जैसी जगहों पर कई छोटे और बड़े स्थापित कारखाने हैं जो काँच की चूड़ी बनाने वाले उत्पादों का लगभग 80% हिस्सा रखते हैं।
  • ज़ब्त की गई अवैध शराब की बोतलें काँच की चूड़ी बनाने वाली फैक्ट्री की आर्थिक व्यवहार्यता को बनाए रखने के लिये पर्याप्त नहीं होंगी।

 बिहार शराब निषेध और संबंधित मुद्दे:

  • परिचय:
    • 5 अप्रैल 2016 को पेश किया गया बिहार मद्य निषेध और उत्पाद अधिनियम, 2016 ने राज्य में शराब पर पूर्ण प्रतिबंध लगा दिया।
    • मार्च 2022 में बिहार विधानसभा ने शराबबंदी अधिनियम में संशोधन करने वाला एक विधेयक पारित किया।
    • बिहार निषेध और उत्पाद शुल्क (संशोधन) विधेयक, 2022 में कहा गया कि शराब का सेवन करने वाले लोगों को अब एक मजिस्ट्रेट के समक्ष जुर्माना भरना होगा और उन्हें जेल नहीं भेजा जाएगा।
      • पटना उच्च न्यायालय द्वारा ज़िलों और उपखंडों में विशेष कार्यकारी मजिस्ट्रेट के रूप में नामित अधिकारियों में न्यायिक शक्ति निहित होने के बारे में अपनी आपत्ति व्यक्त करने के बाद संशोधन अभी भी लागू होने की प्रतीक्षा कर रहा है।
  • मुद्दे:
    • नतीजतन, गिरफ्तारी की पुरानी व्यवस्था जारी है, आबकारी विभाग के आँकड़ों से पता चलता है कि सिर्फ अगस्त 2022 में शराब कानूनों का उल्लंघन करने के लिये 30,000 लोगों को गिरफ्तार किया गया था।
    • शराब निषेध नीति कई विवादों का विषय रही है, उनमें से प्रमुख यह आरोप है कि इन कानून ने राज्य की न्यायिक प्रक्रियाओं को रोक दिया है।
    • बिहार में शराब कानून के उल्लंघन के कारण जेलों में कैदियों की संख्या बढ़ गई है, उल्लंघन के कारण बिहार की जेलों में लगभग 1.5 लाख लोग हैं।
      • उनमें से ज़्यादातर समाज के निचले और दलित वर्गों से संबंधित हैं जो जेल से बाहर निकलने के लिये जुर्माना नहीं दे सकते।

स्रोत: द हिंदू


अंतर्राष्ट्रीय संबंध

भारत-चीन के मध्य सीमा विवाद पर शांति बहाली

प्रिलिम्स के लिये:

भारत-चीन गतिरोध, पैंगोंग त्सो झील, वास्तविक नियंत्रण रेखा, हॉट स्प्रिंग्स और गोगरा पोस्ट, शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ), भारत-चीन सैन्य वार्ता, अक्साई चिन।

मेन्स के लिये :

भारत-चीन गतिरोध और शांति समाधान।

चर्चा में क्यों?

हाल ही में भारतीय और चीनी सैनिकों ने पूर्वी लद्दाख के गोगरा-हॉटस्प्रिंग क्षेत्र में पेट्रोलिंग पिलर-15 (PP-15) से हटना शुरू कर दिया है।

Karakoram

वर्तमान शांति समाधान की मुख्य विशेषताएँ:

  • मई 2020 से चल रहे गतिरोध को समाप्त करने के लिये एक कदम आगे बढ़ते हुए, भारतीय और चीनी सेनाओं ने पूर्वी लद्दाख के गोगरा-हॉटस्प्रिंग्स क्षेत्र में पेट्रोलिंग पॉइंट -15 से हटना शुरू कर दिया है।
  • यह शांति समाधान समन्वित और नियोजित तरीके से शुरू हुआ है, जो सीमावर्ती क्षेत्रों में शांति और स्थिरता के लिये अत्यंत आवश्यक है।
  • शांति समाधान पर पहले से हुई वार्त्ता के अनुसार दोनों पक्षों द्वारा सैनिकों को वापस लेने के बाद संघर्ष बिंदुओं पर एक बफर ज़ोन बनाया जाना है और पूरी तरह से शांति समाधान के बाद नए पेट्रोलिंग मानदंडों पर कार्य किया जाएगा।
  • भारत चीन कोर कमांडर स्तर की बैठक के 16वें दौर में शांति समाधान के बारे में सहमति बनी।
    • 16वें दौर की वार्त्ता 17 जुलाई, 2022 को भारत की ओर चुशुल सीमा कर्मियों के बैठक स्थल पर संपन्न हुई।
    • मई 2020 में गतिरोध शुरू होने के बाद से दोनों पक्षों ने अब तक पैंगोंग त्सो के दोनों पक्षों की ओर से किये गए शांति समाधान के साथ 16 दौर की वार्त्ता की है।
  • PP -15 से सैनिकों के पीछे हटने के साथ ही दोनों देशों की सेनाएँ क्षेत्र में टकराव वाले सभी बिंदुओं से पीछे हट गई हैं जिनमें पैंगोंग त्सो, PP-14, PP-15 और PP-17A के उत्तर और दक्षिण तट शामिल हैं।
  • वे डेमचोक और डेपसांग हैं, जिन्हें चीन ने लगातार यह कहते हुए स्वीकार करने से इनकार कर दिया है कि वे मौजूदा गतिरोध का हिस्सा नहीं हैं।

हॉट स्प्रिंग्स और गोगरा पोस्ट

  • अवस्थिति:
    • हॉट स्प्रिंग्स चांग चेन्मो नदी के उत्तर में है और गोगरा पोस्ट उस बिंदु के पूर्व में है जहाँ नदी गलवान घाटी से दक्षिण-पूर्व में आने और दक्षिण-पश्चिम की ओर मुड़ते हुए हेयरपिन मोड़ लेती है।
    • यह क्षेत्र पहाड़ों की काराकोरम रेंज के उत्तर में है, जो पैंगोंग त्सो झील के उत्तर में और गलवान घाटी के दक्षिण पूर्व में स्थित है।
  • महत्त्व:
    • यह क्षेत्र कोंगका दर्रे के करीब स्थित है, जो मुख्य दर्रों में से एक है, चीन के अनुसार, यह दर्रा भारत और चीन के बीच की सीमा को चिह्नित करता है।
    • अंतर्राष्ट्रीय सीमा पर भारत का दावा काफी हद तक पूर्व में है, क्योंकि इसमें पूरा अक्साई चिन क्षेत्र भी शामिल है।
    • हॉट स्प्रिंग्स और गोगरा पोस्ट, चीन के ऐतिहासिक रूप से दो सबसे अशांत प्रांतों (शिनजियांग और तिब्बत) के बीच की सीमा के करीब हैं।

आगे की राह

  • भारत को टकराव वाले सभी क्षेत्रों से तनाव कम करने के लये दबाव जारी रखना चाहिये।
  • साथ ही कोर कमांडर स्तर की वार्त्ता जारी रखनी चाहिये क्योंकि जब तक गतिरोध की स्थिति बनी रहती है तब तक संबंध सामान्य नहीं हो सकते।
  • भारत को यथास्थिति की बहाली और LAC के साथ बहाली पर अपना रुख अडिग रखना चाहिये।

पूरी तरह से सौर ऊर्जा चालित चीन का सेमी-सैटेलाइट ड्रोन:

  • परिचय:
    • चीन के पहले पूरी तरह से सौर ऊर्जा से चलने वाले मानवरहित हवाई वाहन (UAV) ने अपनी पहली परीक्षण उड़ान सफलतापूर्वक पूरी कर ली है, जिसमें सभी ऑनबोर्ड सिस्टम बेहतर तरीके से काम कर रहे हैं।
    • ड्रोन एक बड़ी मशीन है जो पूरी तरह से सौर पैनलों द्वारा संचालित होती है जिसमें 164-फीट के पंख लगे हैं।
    • Qimingxing-50, या मॉर्निंग स्टार-50 नाम का यह ड्रोन 20 किमी की ऊँचाई से ऊपर उड़ता है जहाँ बिना बादलों के स्थिर वायु प्रवाह होता है।
      • उच्च-तुंगता, अधिक- स्थिरता (HALE) के साथ UAV लंबी अवधि तक हवा में रह सकती है।
      • यह विस्तारित अवधि इन ड्रोनों को क्रियाशील रहने हेतु सौर उपकरणों का अधिकतम उपयोग करने में मदद करता है।
    • इस ड्रोन को 'हाई एल्टीट्यूड प्लेटफॉर्म स्टेशन' या छद्म उपग्रह भी कहा जाता है।
  • महत्त्व:
    • यह बिना रुके महीनों, वर्षों तक काम कर सकता है।
    • यह उपग्रह जैसे कार्यों को करने में सक्षम है।
      • यदि उपग्रह सेवाएँ उपलब्ध नहीं हैं उदाहरण के लिये समय-संवेदी संचालन या युद्धकालीन व्यवधान के मामले में, तो निकट-अंतरिक्ष UAV परिचालन अंतराल को भरने के लिये कदम उठा सकते हैं।
      • मॉर्निंग स्टार-50 की अधिक- स्थिरता इसकी क्षमता को लंबी अवधि तक उपलब्ध कराने हेतु एक अतिरिक्त लाभ प्रदान करती है।
    • यह निगरानी मिशन चला सकता है जिसके लिये इसे महीनों तक परिचालन रहकर सीमाओं या महासागरों पर निगरानी रखने की आवश्यकता होती है।
    • इसका उपयोग वनाग्नि निगरानी, संचार और पर्यावरण प्रसार हेतु किया जा सकता है।

UPSC सिविल सेवा परीक्षा विगत वर्ष के प्रश्न:

Q. "चीन एशिया में संभावित सैन्य शक्ति स्थिति विकसित करने के लिये अपने आर्थिक संबंधों और सकारात्मक व्यापार अधिशेष का उपयोग उपकरण के रूप में कर रहा है"। इस कथन के आलोक में, भारत पर उसके पड़ोसी देश के रूप में इसके प्रभाव की चर्चा कीजिये। (2017)

स्रोत: द हिंदू


विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी

भारत और क्वांटम कंप्यूटिंग

प्रिलिम्स के लिये:

क्वांटम कंप्यूटिंग, किस्किट चैलेंज, क्वांटम कंप्यूटिंग प्रयोगशाला, क्वांटम प्रौद्योगिकियों और अनुप्रयोगों पर राष्ट्रीय मिशन, टेलीमैटिक्स के विकास के लिये केंद्र (CDOT), आई-हब क्वांटम टेक्नोलॉजी फाउंडेशन, उन्नत कंप्यूटिंग विकास केंद्र (CDAC) क्वांटम प्रौद्योगिकियों और अनुप्रयोगों पर राष्ट्रीय मिशन।

मेन्स के लिये:

क्वांटम कंप्यूटिंग का महत्त्व।

चर्चा में क्यों?

IBM के एक अध्ययन के अनुसार, भारत क्वांटम कंप्यूटिंग में बढ़ती रूचि देख रहा है, जिसमें छात्रों, विकासकर्त्ताओं और अकादमिक सक्रिय रूप से भाग ले रहे हैं। नतीजतन, देश क्वांटम कंप्यूटिंग के लिये प्रतिभा केंद्र के रूप में उभर रहा है।

क्वांटम कंप्यूटिंग

  • परिचय:
    • क्वांटम कंप्यूटिंग एक तेज़ी से उभरती हुई तकनीक है जो पारंपरिक कंप्यूटरों के लिये बहुत जटिल समस्याओं को हल करने हेतु क्वांटम यांत्रिकी के नियमों का उपयोग करती है।
      • क्वांटम यांत्रिकी भौतिकी की उपशाखा है जो क्वांटम के व्यवहार का वर्णन करता है जैसे- परमाणु, इलेक्ट्रॉन, फोटॉन, और आणविक एवं उप-आणविक क्षेत्र।
    • यह अवसरों से परिपूर्ण नई तकनीक है जो हमें विभिन्न संभावनाएँ प्रदान करके कल हमारी दुनिया को आकार देगी।
    • यह आज के पारंपरिक कंप्यूटिंग प्रणालियों की तुलना में सूचना को संसाधित करने का एक मौलिक रूप से अलग तरीका है।
  • विशेषताएँ:
    • पारंपरिक कंप्यूटर से अलग:
      • जबकि आज के पारंपरिक कंप्यूटर बाइनरी 0 और 1 अवस्थाओं के रूप में जानकारी संग्रहीत करते हैं, क्वांटम कंप्यूटर क्वांटम बिट्स का उपयोग करके गणना करने के लिये प्रकृति के मूलभूत नियमों पर आधारित होते हैं।
        • बिट के विपरीत जो कि 0 या 1 क्यूबिट अवस्थाओं के संयोजन में हो सकता है, इसके विपरीत क्वांटम बड़ी गणना की अनुमति देता है और उन्हें जटिल समस्याओं को हल करने की क्षमता देता है जो कि सबसे शक्तिशाली पारंपरिक सुपर कंप्यूटर भी सक्षम नहीं हैं।

Qubit

  • महत्त्व:
    • क्वांटम कंप्यूटर सूचना में हेरफेर करने के लिये क्वांटम यांत्रिक परिघटना को शामिल कर सकते हैं और आणविक एवं रासायनिक अंतः क्रिया की प्रक्रियाओं, अनुकूलन समस्याओं का समाधान करने एवं कृत्रिम बुद्धि की शक्ति को बढ़ावा दे सकतें है।
    • ये नई वैज्ञानिक खोजों, जीवन रक्षक दवाओं और आपूर्ति शृंखलाओं में सुधार, लॉजिस्टिक और वित्तीय डेटा के मॉडलिंग के अवसर प्रदान कर सकते हैं।

क्वांटम कम्प्यूटिंग के लिये IBM इंडिया की पहल:

  • किस्किट (Qiskit) चैलेंज: किस्किट क्वांटम डेवलपर समुदाय के लिये IBM द्वारा निर्मित एक ओपन-सोर्स सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट किट है।
  • किस्किट इंडिया वीक ऑफ क्वांटम: IBM नियमित रूप से भारत-केंद्रित कार्यक्रमों का आयोजन करता है जैसे कि किस्किट इंडिया वीक ऑफ क्वांटम, जो महिलाओं को क्वांटम में अपनी यात्रा शुरू करने के लिये मनाया गया जिसमे लगभग 300 छात्रों ने भाग लिया था।
  • किस्किट पाठ्यपुस्तक: किस्किट पाठ्यपुस्तक तमिल, बंगाली और हिंदी में उपलब्ध है और अकेले वर्ष 2021 में भारत में छात्रों द्वारा 30,000 से अधिक बार इसका उपयोग किया गया था।
  • IBM क्वांटम एजुकेटर्स प्रोग्राम: IBM क्वांटम एजुकेटर्स प्रोग्राम के माध्यम से भारत में अग्रणी शिक्षण संस्थानों के साथ सहयोग कर रहा है।
    • इन संस्थानों के संकाय और छात्र शैक्षिक उद्देश्यों के लिये IBM क्लाउड पर IBM क्वांटम सिस्टम, क्वांटम लर्निंग रिसोर्सेज और क्वांटम टूल्स का उपयोग करने में सक्षम होंगे।

भारत सरकार द्वारा शुरू की गई प्रमुख पहलें:

  • क्वांटम प्रौद्योगिकियों और अनुप्रयोगों पर राष्ट्रीय मिशन: सरकार ने अपने वर्ष 2021 के बजट में क्वांटम कंप्यूटिंग, क्रिप्टोग्राफी, संचार और सामग्री विज्ञान में विकास को बढ़ावा देने के लिये क्वांटम प्रौद्योगिकियों और अनुप्रयोगों पर राष्ट्रीय मिशन की ओर 8000 करोड़ रुपए आवंटित किये।
  • क्वांटम कंप्यूटिंग प्रयोगशाला: दिसंबर 2021 में भारतीय सेना द्वारा मध्य प्रदेश के महू में एक सैन्य इंजीनियरिंग संस्थान में एक क्वांटम कंप्यूटिंग प्रयोगशाला और एक कृतिम बुद्धिमत्ता केंद्र स्थापित किया गया। इसे राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद सचिवालय (NSCS) का भी समर्थन प्राप्त है।
  • क्वांटम कम्युनिकेशन लैब: सेंटर फॉर डेवलपमेंट ऑफ टेलीमैटिक्स (CDOT) ने अकतूबर 2021 में एक क्वांटम कम्युनिकेशन लैब लॉन्च की। यह 100 कि.मी. से अधिक मानक ऑप्टिकल फाइबर का सहयोग कर सकता है।
  • सहयोग: उन्नत प्रौद्योगिकी के रक्षा संस्थान (DIAT) और 'सेंटर फॉर डेवलपमेंट ऑफ एडवांस्ड कंप्यूटिंग' (CDAC) क्वांटम कंप्यूटरों को सहयोग और विकसित करने के लिये सहमत हुए।
  • I-HUB क्वांटम टेक्नोलॉजी फाउंडेशन: विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग और IISER पुणे के लगभग 13 अनुसंधान समूहों द्वारा क्वांटम तकनीक के विकास को और बढ़ाने के लिये I-HUB क्वांटम टेक्नोलॉजी फाउंडेशन (I-HUB QTF) लॉन्च किया गया है।
  • स्टार्टअप: कई स्टार्ट-अप जैसे कुनु लैब्स, बंगलुरु; बोसॉनक्यू, भिलाई भी उभरे हैं और इसके परिणामस्वरूप वे इस क्षेत्र में पैठ बना रहे हैं।

आगे की राह:

  • तेज़ी से बढ़ते कृत्रिम बुद्धिमत्ता बाज़ार के समान, क्वांटम कंप्यूटिंग, एक अन्य तकनीक के रूप में, एक दौड़ में शामिल होने और नेतृत्व की स्थिति हासिल करने के लिये विश्व स्तर पर देशों और कंपनियों के मध्य एक लहर पैदा कर दी है।
  • इसलिये समय की आवश्यकता है कि पर्याप्त मात्रा में कम्प्यूटेशनल क्षमता का निर्माण, व्यावहारिक आकार और सस्ती लागत वाले क्वांटम कंप्यूटर के निर्माण और संचालन में कौशल विकसित करना, विभिन्न व्यावहारिक अनुप्रयोगों को साकार करने के लिए अनुसंधान जारी रखना और स्नातक में शैक्षिक पाठ्यक्रमों में सामग्री पेश करना और विश्वविद्यालय स्तर पर क्वांटम विज्ञान और इंजीनियरिंग को एक विषय के रूप में विकसित करने के लिये स्नातकोत्तर स्तर जो बड़ी संख्या में विज्ञान और प्रौद्योगिकी से कौशलयुक्त मानव संसाधन का विकास करेगा।

UPSC सिविल सेवा परीक्षा, विगत वर्षों के प्रश्न (PYQ):

प्रिलिम्स:

प्र. निम्नलिखित में से कौन-सा वह संदर्भ है जिसमें "क्विबिट" शब्द का उल्लेख किया गया है?

(a) क्लाउड सेवाएँ
(b) क्वांटम कम्प्यूटिंग
(c) दृश्य प्रकाश संचार तकनीक
(d) बेतार (वायरलेस) संचार तकनीक 

उत्तर: (b)

व्याख्या:

  • क्वांटम वर्चस्व:
    • क्वांटम कंप्यूटर 'क्विबिट्स' (या क्वांटम बिट्स) में गणना करते हैं। वे क्वांटम यांत्रिकी के गुणों का फायदा उठाते हैं, वह विज्ञान जो यह नियंत्रित करता है कि परमाणु पैमाने पर पदार्थ कैसे व्यवहार करता है।
  • अतः विकल्प (b) सही है।

Q. "चौथी औद्योगिक क्रांति (डिजिटल क्रांति) के उद्भव ने सरकार के अभिन्न अंग के रूप में ई-गवर्नेंस की शुरुआत की है"। चर्चा कीजिये। (मुख्य परीक्षा, 2020)

स्रोत: द हिंदू


भारतीय अर्थव्यवस्था

वैश्विक तेल कीमतों में गिरावट

प्रिलिम्स के लिये:

पेट्रोलियम निर्यातक देशों का संगठन प्लस (OPEC+), RBI, मुद्रास्फीति, राजकोषीय  

मेन्स के लिये:

तेल की कीमतों में गिरावट और भारत पर इसका प्रभाव।

चर्चा में क्यों?

हाल ही में पिछले दस दिनों में ब्रेंट क्रूड की कीमतों में भारी गिरावट आई है, अर्थात् कीमतें घटकर 90 डॉलर प्रति बैरल से नीचे आ गई हैं।

  • जबकि वे जुलाई, 2022 में करीब 110 डॉलर प्रति बैरल पर कारोबार कर रहे थे।

वैश्विक कच्चे तेल की कीमतों में गिरावट का कारण:

  • कच्चे तेल की कीमतों में लगभग 4% की तेज़ी से गिरावट आई है, यह पेट्रोलियम निर्यातक देशों के संगठन (OPEC+) द्वारा कीमतों को बढ़ाने के लिये अक्तूबर, 2022 से प्रति दिन 100,000 बैरल की आपूर्ति में कटौती की घोषणा के बावजूद गिरावट आई है।
  • हाल ही में कच्चे तेल की कीमतों में तेज़ गिरावट यूरोप में मंदी और चीन से मांग में गिरावट के कारण हुई है, जो कमज़ोर आर्थिक गतिविधि के दौरान नए कोविड लॉकडाउन उपायों में लाया गया है, जबकि पिछले कुछ महीनों में कीमतों में कमी आई है।
  • इस बात की चिंता है कि ये कारक कच्चे तेल की भविष्य की मांग को प्रभावित कर सकते हैं।
  • बाज़ार सहभागियों के अनुसार, OPEC का उत्पादन में कटौती का फैसला अपने आप में इस बात का संकेत है कि उसे मांग में गिरावट एवं कीमतों में और कमी की उम्मीद है।

वैश्विक कच्चे तेल की कीमत का भारत पर पड़ने वाला प्रभाव :

  • वैश्विक तेल मूल्य में वृद्धि का प्रभाव:
    • भारत अपनी कच्चे तेल की आवश्यकता का लगभग 85% आयात करता है और मार्च 2022 में कीमतों में वृद्धि के कारण तेल आयात बिल दोगुना होकर 119 बिलियन अमेरीकी डॉलर हो गया।
    • आयात बिल में वृद्धि से न केवल मुद्रास्फीति और चालू खाता घाटा तथा राजकोषीय घाटे में वृद्धि होती है, बल्कि डॉलर के मुकाबले रुपया कमज़ोर होता है और शेयर बाज़ार को प्रभावित करती है।
    • कच्चे तेल की कीमत में वृद्धि का भारत पर भी अप्रत्यक्ष प्रभाव पड़ता है क्योंकि इससे खाद्य तेल की कीमतों, कोयले की कीमतों और उर्वरकों की कीमतों में भी वृद्धि होती है क्योंकि वे फीडस्टॉक के रूप में गैस का उपयोग करते हैं। सभी उर्वरक उत्पादन लागतों में गैस का योगदान 80% है।
    • इसलिये यदि कच्चे तेल की कीमतों में वृद्धि से आयात का बोझ बहुत बढ़ सकता है, तो इससे अर्थव्यवस्था में मांग में कमी आती है जो विकास को प्रभावित करती है।
    • यदि सरकार सब्सिडी प्रदान करने का विकल्प चुनती है तो इससे राजकोषीय घाटा भी बढ़ सकता है।
  • वैश्विक मूल्य में गिरावट का प्रभाव:
    • कच्चे तेल की कीमतों में कमी सभी हितधारकों सरकार, उपभोक्ताओं और यहाँ तक कि विभिन्न उद्योगों के लिये एक बड़ी राहत है।
    • यदि कच्चे तेल का कम कीमतों पर व्यापार जारी रहता है, तो परिणामस्वरुप निम्न मुद्रास्फीति स्तर, उच्च प्रयोज्य आय और उच्च आर्थिक विकास होगा।
    • यदि एक तरफ यह वैश्विक विकास में मंदी का प्रतिबिंब है जिसका असर भारत के विकास पर भी पड़ सकता है, तो दूसरी तरफ यह भारत के लिये एक बड़ी राहत भी है।
    • कच्चे तेल की कीमतों में कमी ने इक्विटी और ऋण बाज़ारों में सूचकांक वृद्धि में भी एक भूमिका निभाई है क्योंकि सभी क्षेत्रों की कंपनियाँ कच्चे तेल की कीमतों के प्रति संवेदनशील हैं।

UPSC सिविल सेवा परीक्षा विगत वर्ष प्रश्न :

प्रश्न: कभी-कभी समाचारों में पाया जाने वाला शब्द 'वेस्ट टेक्सास इंटरमीडिएट' निम्नलिखित में से किसे संदर्भित करता है:(2020)

(a) कच्चा तेल
(b) बहुमूल्य धातु
(c) दुर्लभ मृदा तत्त्व
(d) यूरेनियम

उत्तर: (a)

व्याख्या:

  • वेस्ट टेक्सास इंटरमीडिएट (WTI), जिसे टेक्सास लाइट स्वीट के रूप में भी जाना जाता है, कच्चे तेल का ग्रेड है जिसका उपयोग तेल मूल्य निर्धारण में बेंचमार्क के रूप में किया जाता है।
  • WTI को अपेक्षाकृत कम घनत्व के कारण हल्के कच्चे तेल के रूप में वर्णित किया जाता है, और इसकी कम सल्फर सामग्री के कारण मीठा होता है।
  • यह मुख्य रूप से टेक्सास, लुइसियाना और नॉर्थ डकोटा में अमेरिकी तेल क्षेत्रों से प्राप्त होता है।

अतः विकल्प (a) सही है।


प्रश्न. पेट्रोलियम रिफाइनरियाँ विशेष रूप से कई विकासशील देशों में आवश्यक रूप से कच्चे तेल उत्पादक क्षेत्रों के निकट स्थित नहीं हैं। इसके निहितार्थ स्पष्ट कीजिये। (मुख्य परीक्षा, 2017)

स्रोत: इंडियन एक्सप्रेस


एसएमएस अलर्ट
Share Page