हिंदी साहित्य: पेन ड्राइव कोर्स
ध्यान दें:

राजस्थान स्टेट पी.सी.एस.

  • 28 Nov 2022
  • 0 min read
  • Switch Date:  
राजस्थान Switch to English

मुख्यमंत्री ने सेई एवं साबरमती नदी पर जलाशयों के निर्माण के लिये 2,554 करोड़ रुपए की मंज़ूरी दी

चर्चा में क्यों?

27 नवंबर, 2022 को मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने उदयपुर की कोटड़ा तहसील में सेई नदी एवं साबरमती नदी पर जलाशयों के निर्माण के लिये 2554.23 करोड़ रुपए के वित्तीय प्रावधान को मंज़ूरी दी। मुख्यमंत्री के इस निर्णय से पाली एवं सिरोही ज़िलों में पेयजल आपूर्ति सुनिश्चित हो सकेगी।

प्रमुख बिंदु 

  • प्रस्ताव के अनुसार, सेई और साबरमती नदी पर बन रहे जलाशयों से पानी प्रेशराईज पाइप लाइन, ग्रेविटी पाइप लाइन एवं टनल के माध्यम से जवाई बांध में छोड़ा जाएगा।
  • जलाशयों का निर्माण पूर्ण होने पर पाली ज़िले के 9 कस्बे (पाली, रोहट, जैतारण, सुमेरपुर, बाली, देसूरी, सोजत, रायपुर, मारवाड़ जंक्शन), 560 गाँव एवं सिरोही ज़िले के शिवगंज कस्बे के साथ ही 178 गाँवों की पेयजल व्यवस्था भी सुदृढ़ होगी।
  • उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री ने वर्ष 2022-23 के बजट में पाली एवं सिरोही ज़िले में पेयजल आपूर्ति सुनिश्चित किये जाने के लिये उदयपुर की कोटड़ा तहसील में सेई और साबरमती नदी पर जलाशयों के निर्माण की घोषणा की थी।

राजस्थान Switch to English

आइईडी से निपटने में देश में तीसरे स्थान पर राजस्थान

चर्चा में क्यों?

26 नवंबर, 2022 को राजस्थान पुलिस की टीम ने राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड (एनएसजी) मानेसर में आयोजित राष्ट्रीय काउंटर आइईडी (इंप्रोवाइज्ड एक्सप्लोसिव डिवाइस) प्रतियोगिता में तीसरा स्थान प्राप्त किया।

प्रमुख बिंदु 

  • नई दिल्ली स्थित मुख्यमंत्री सुरक्षा प्रकोष्ठ के डिप्टी एसपी नरेंद्र सिंह की अगुवाई में राजस्थान पुलिस की टीम ने 21 से 26 नवंबर तक आयोजित हुई इस प्रतियोगिता में यह खिताब जीता।
  • एनएसजी के महानिदेशक ने डिप्टी एसपी नरेंद्र सिंह को ट्रॉफी प्रदान कर राजस्थान पुलिस दल को सम्मानित किया।
  • एनएसजी मानेसर में हर वर्ष आयोजित होने वाली इस प्रतियोगिता में देशभर से पुलिस और सुरक्षाबलों ने हिस्सा लिया, प्रतियोगिता में राजस्थान पुलिस के 16 जवानों ने डिप्टी एसपी नरेंद्र सिंह के नेतृत्व में बेहतरीन प्रदर्शन किया।
  • डिप्टी एसपी नरेंद्र सिंह ने बताया कि इस प्रतियोगिता में राज्यों की पुलिस और केंद्रीय सुरक्षा बलों की काउंटर आइईडी क्षमता को परखा जाता है।
  • नरेंद्र सिंह ने बताया कि इस प्रतियोगिता के दौरान अलग-अलग परिस्थितियों से निपटने के कौशल को परखा जाता है, जिसमें आइईडी मिलने से उत्पन्न हुई स्थितियों से विभिन्न टीमों ने अपने-अपने तरीके से निपट कर बेहतरीन प्रदर्शन किया, जिस आधार पर राजस्थान पुलिस की टीम ने तीसरा स्थान प्राप्त किया। 

राजस्थान Switch to English

हरि सिंह उत्कृष्ट कृत्रिम गर्भाधानकर्त्ता के रूप में सम्मानित

चर्चा में क्यों?

26 नवंबर, 2022 को राष्ट्रीय दुग्ध दिवस के अवसर पर कर्नाटक के बेंगलूरु में आयोजित कार्यक्रम में भारत सरकार के पशुपालन राज्यमंत्री डॉ. संजीव बालियान ने राजस्थान के गंगानगर ज़िले के हरी सिंह गोदारा को कृत्रिम गर्भाधान कार्य में उत्कृष्ट प्रदर्शन के लिये द्वितीय पुरस्कार से नवाजा।

प्रमुख बिंदु 

  • पशुपालन राज्यमंत्री डॉ. संजीव बालियान ने तीन लाख रुपए के नगद पुरस्कार के साथ शॉल ओढ़ाकर तथा गाय- बछड़े की प्रतिमा के साथ कन्नड़ पगड़ी पहनाकर हरी सिंह गोदारा को सम्मानित किया।
  • गौरतलब है कि राष्ट्रीय दुग्ध दिवस को भारत सरकार के पशुपालन, डेयरी एवं मत्स्य विभाग द्वारा ‘राष्ट्रीय गोकुल मिशन’ योजनांतर्गत पशुपालन के क्षेत्र में उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले पशुपालक, कृत्रिम गर्भाधान कार्यकर्त्ता तथा दुग्ध उत्पादक सहकारी समितियों को ‘गोपाल रत्न पुरस्कार’से सम्मानित किया गया।
  • राजस्थान के गंगानगर ज़िले की सुरतगढ़ तहसील के संघर गाँव के हरी सिंह गोदारा ने वर्ष 2019 में गंगमूल डेयरी द्वारा संचालित साहिवाल वंशावली चयन परियोजना अंतर्गत कृत्रिम गर्भाधानकर्त्ता के रूप में अपनी सेवाएँ प्रारंभ की थीं।
  • हरि सिंह द्वारा अब तक 3000 साहिवाल गायों में किये गए कृत्रिम गर्भाधान से 1800 से अधिक बछड़े/बछड़ियों का जन्म हुआ है। 60 प्रतिशत से भी अधिक सफलता दर होने के कारण ही भारत सरकार द्वारा उत्कृष्ट कृत्रिम गर्भाधान कर्त्ता के रूप में हरी सिंह गोदारा को सम्मानित किया गया है। इस संवर्ग में प्रथम स्थान पर ओडिशा के गोपाल राणा तथा तृतीय स्थान पर आंध्र प्रदेश के मच्छेपल्ली रहे।
  • विदित है कि किसानों को ये अवार्ड प्रति वर्ष तीन समूहों [स्वदेशी मवेशी/भैंस की नस्लों को पालने वाले सर्वश्रेष्ठ डेयरी किसान, सर्वश्रेष्ठ कृत्रिम गर्भाधान तकनीशियन (एआईटी) पुरस्कार, सर्वश्रेष्ठ डेयरी सहकारी/दुग्ध उत्पादक कंपनी/डेयरी किसान उत्पादक संगठन पुरस्कार] में दिया जाता है।
  • प्रथम, द्वितीय और तृतीय स्थान के लिये यह पुरस्कार मिलता है। प्रथम पुरस्कार के तौर पर 5 लाख रुपए की धनराशि, वहीं, द्वितीय स्थान पाने वाले को तीन लाख रुपए की धनराशि तथा तृतीय स्थान वाले को दो लाख रुपए की धनराशि प्रदान की जाती है।    

 Switch to English
एसएमएस अलर्ट
Share Page