18 जून को लखनऊ शाखा पर डॉ. विकास दिव्यकीर्ति के ओपन सेमिनार का आयोजन।
अधिक जानकारी के लिये संपर्क करें:

  संपर्क करें
ध्यान दें:

झारखंड स्टेट पी.सी.एस.

  • 21 May 2024
  • 0 min read
  • Switch Date:  
झारखंड Switch to English

झारखंड में ग्रीन बूथ

चर्चा में क्यों?

पर्यावरण संरक्षण का समर्थन करने और प्लास्टिक मुक्त समाज को बढ़ावा देने के लिये स्थापित ग्रीन बूथ झारखंड के कोडरमा ज़िले में मतदाताओं के लिये एक लोकप्रिय आकर्षण बन गए हैं।

मुख्य बिंदु:

  • ग्रीन पोलिंग बूथ कोडरमा लोकसभा क्षेत्र के अंतर्गत झुमरी तेलैया में एक वरिष्ठ नागरिक सुविधा केंद्र पर स्थित थे।
  • ग्रीन चुनाव ऐसी प्रथाएँ हैं जिनका उद्देश्य चुनावी प्रक्रियाओं के पर्यावरणीय प्रभाव को कम करना है। इनमें पुनर्चक्रित सामग्रियों का उपयोग करना, इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग को बढ़ावा देना और उम्मीदवारों को स्थायी अभियान प्रथाओं को अपनाने के लिये प्रोत्साहित करना जैसे उपाय शामिल हैं।
  • ग्रीन चुनाव का उद्देश्य निम्नलिखित के माध्यम से चुनावी प्रक्रियाओं के पर्यावरणीय प्रभाव को कम करना है:
    • पर्यावरण-अनुकूल अभियान सामग्री: पार्टियाँ और उम्मीदवार पुन: प्रयोज्य सामग्री, बायोडिग्रेडेबल बैनर तथा पुनर्नवीनीकरण कागज़ सहित पर्यावरण-अनुकूल विकल्पों का उपयोग कर सकते हैं।
    • ऊर्जा की खपत को कम करना: रैलियों के दौरान ऊर्जा-कुशल प्रकाश व्यवस्था, ध्वनि प्रणाली और परिवहन का विकल्प चुनने से कार्बन पदचिह्न को कम करने में सहायता मिल सकती है।
    • डिजिटल अभियानों को बढ़ावा देना: प्रचार हेतु डिजिटल प्लेटफॉर्मों (वेबसाइटों, सोशल मीडिया और ईमेल) का लाभ उठाने से कागज़ के उपयोग और ऊर्जा की खपत में कमी आती है।


 Switch to English
close
एसएमएस अलर्ट
Share Page
images-2
images-2