इंदौर शाखा: IAS और MPPSC फाउंडेशन बैच-शुरुआत क्रमशः 6 मई और 13 मई   अभी कॉल करें
ध्यान दें:

उत्तराखंड स्टेट पी.सी.एस.

  • 20 Feb 2024
  • 0 min read
  • Switch Date:  
उत्तराखंड Switch to English

उत्तराखंड में होम गार्ड के लिये ट्रांज़िट हॉस्टल

चर्चा में क्यों?

उत्तराखंड में होम गार्ड विभाग विशेष रूप से उधम सिंह नगर और अन्य प्रमुख ज़िलों में अपने होम गार्ड के लिये आवासीय सुविधा देने की तैयारी कर रहा है।

मुख्य बिंदु:

  • आठ ज़िलों में ट्रांज़िट हॉस्टल के निर्माण के लिये शासन से 13.50 करोड़ रुपए की मंज़ूरी भी मिल गई है।
  • चिह्नित ज़िले गढ़वाल और कुमाऊँ दोनों मंडलों में फैले हैं। हरिद्वार में सबसे अधिक 50 बीघा भूमि पर बनेगा ट्रांज़िट हॉस्टल।
  • विभागीय सूत्रों से पता चला कि ऊधमसिंह नगर ज़िला मुख्यालय, रुद्रपुर, नैनीताल और हरिद्वार समेत आठ ज़िलों के विभिन्न शहरों में छात्रावास निर्माण के लिये विस्तृत परियोजना रिपोर्ट (DPR) तैयार कर ली गई है।
    • अगले चरण के हिस्से के रूप में, शेष पाँच ज़िलों के लिये DPR तैयार कर सरकार को सौंपी जाएगी, जिससे पूरे राज्य में इस पहल का विस्तार सुनिश्चित होगा।

होम गार्ड

  • 6 दिसंबर, 1946 को नागरिक अव्यवस्थाओं और सांप्रदायिक दंगों की उथल-पुथल अवधि के दौरान, पूर्व प्रधानमंत्री मोरारजी देसाई के नेतृत्व में, पुलिस के सहायक के रूप में नागरिक स्वैच्छिक बल के रूप में पहली होम गार्ड यूनिट की कल्पना और स्थापना तत्कालीन बॉम्बे प्रेसीडेंसी में की गई थी।
  • वर्ष 1966 में भारत-चीन युद्ध के बाद इसे भारत में पुनर्गठित किया गया।


उत्तराखंड Switch to English

उत्तराखंड में 108 सड़कों का उन्नयन

चर्चा में क्यों?

हाल ही में केंद्र ने प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क योजना (PMGSY) के तहत उत्तराखंड में 108 सड़कों के उन्नयन को मंज़ूरी दे दी है।

मुख्य बिंदु:

  • PMGSY-III के तहत उत्तराखंड में 1,197.207 किलोमीटर की कुल लंबाई वाली 108 सड़कों को 967.73 करोड़ रुपए की अनुमानित लागत से उन्नत किया जाएगा।
  • कुल 967.73 करोड़ रुपए में से केंद्र 803.85 करोड़ रुपए देगा और शेष 163.88 करोड़ रुपए राज्य सरकार वहन करेगी।
  • यह मंज़ूरी इस तथ्य को स्वीकार करते हुए दी जा रही है कि पहाड़ी क्षेत्र प्रत्येक वर्ष प्राकृतिक आपदाओं से प्रभावित होते हैं और पहाड़ी लोगों को विभिन्न कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है।

प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क योजना (PMGSY)

  • इसे 25 दिसंबर, 2000 को असंबद्ध बस्तियों तक हर मौसम में अनुकूल सड़क के माध्यम से कनेक्टिविटी प्रदान करने के उद्देश्य से लॉन्च किया गया था।
  • PMGSY-III
    • चरण III को जुलाई 2019 के दौरान कैबिनेट द्वारा अनुमोदित किया गया था।
    • यह सुविधाओं को प्राथमिकता देता है, जैसे:
      • ग्रामीण कृषि बाज़ार (ग्रामीण)
        • GrAMs एक खुदरा कृषि बाज़ार हैं जो किसानों की उपज के अधिक कुशल लेन-देन को बढ़ावा देते हैं और सेवा प्रदान करते हैं।
      • उच्चतर माध्यमिक विद्यालय और
      • अस्पताल।
      • PMGSY-III योजना के तहत राज्यों में 1,25,000 किलोमीटर लंबी सड़क को समेकित करने का प्रस्ताव है। योजना की अवधि वर्ष 2019-20 से 2024-25 है।


 Switch to English
close
एसएमएस अलर्ट
Share Page
images-2
images-2