दृष्टि ज्यूडिशियरी का पहला फाउंडेशन बैच 11 मार्च से शुरू अभी रजिस्टर करें
ध्यान दें:

स्टेट पी.सी.एस.

  • 10 Jan 2022
  • 0 min read
  • Switch Date:  
मध्य प्रदेश Switch to English

नेशनल हैंडलूम एक्सपो 2021-22

चर्चा में क्यों? 

9 जनवरी, 2022 को भोपाल स्थित भोपाल हाट में नेशनल हैंडलूम एक्सपो 2021-22 का समापन विभिन्न प्रतियोगिताओं के विजेताओं को पुरस्कार वितरण के साथ हुआ। एक्सपो का आयोजन 26 दिसंबर, 2021 से 9 जनवरी, 2022 तक किया गया।

 प्रमुख बिंदु

  • संत रविदास खादी एवं ग्रामोद्योग बोर्ड की प्रबंध संचालक अनुभा श्रीवास्तव ने समारोह में विभिन्न प्रतियोगिताओं के विजेताओं को सम्मानित किया। इनमें स्कूली छात्र-छात्राओं, बुनकरों एवं परिधान डिजाइन से जुड़े हुए पाठ्यक्रमों के स्टूडेंट्स प्रमुख रूप से शामिल थे।
  • एक्सपो में रंगोली प्रतियोगिता में 19 प्रतिभागी शामिल हुए। इसमें प्रथम पुरस्कार आनंद विद्या स्कूल की छात्रा रिद्धिमा अग्रवाल को, द्वितीय पुरस्कार आदर्श उच्चतर माध्यमिक विद्यालय के छात्र मुकेश सिंह को और तृतीय पुरस्कार अंकुर हायर सेकेंडरी स्कूल की छात्रा महक साहू को दिया गया। विजेताओं को नगद राशि और सम्मान-पत्र दिये गए।
  • स्टॉल डिस्प्ले प्रतियोगिता का प्रथम पुरस्कार प्रीति मालवीय, ट्विंकल एवं खुशी मेहता के समूह ने जीता। द्वितीय पुरस्कार क्रांति, मेधा मालवीय, तनु चक्रवर्ती एवं दीपिका साहू को दिया गया। विजेताओं को नकद राशि और सम्मान-पत्र प्रदान किये गए। साथ ही विभिन्न राज्यों से आए बुनकरों एवं हस्तशिल्पियों को भी सम्मानित किया गया।
  • उल्लेखनीय है कि नेशनल हैंडलूम एक्सपो में 15 राज्यों/केंद्रशासित प्रदेशों की विभिन्न सांस्कृतिक छटा देखने को मिली। मध्य प्रदेश सहित हिमाचल प्रदेश, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, दिल्ली, जम्मू-कश्मीर, गुजरात, छत्तीसगढ़, ओडिशा, पश्चिम बंगाल, बिहार, कर्नाटक एवं दक्षिण भारत के बुनकरों ने भी अपने हुनर का प्रदर्शन किया।

मध्य प्रदेश Switch to English

इंटरनेशनल क्राफ्ट अवॉर्ड्स 2021

चर्चा में क्यों?

हाल ही में मध्य प्रदेश के शिल्पकार मुबारिक खत्री को उनकी उत्कृष्ट कारीगरी और उनके पारंपरिक शिल्प- बाघ प्रिंट में महत्त्वपूर्ण योगदान के लिये अंतर्राष्ट्रीय शिल्प पुरस्कार 2021 हेतु चुना गया है।

प्रमुख बिंदु

  • यह अंतर्राष्ट्रीय सम्मान खत्री को मास्टर आर्टिसन ऑफ द ईयर श्रेणी के तहत प्रदान किया जाएगा।
  • यह पुरस्कार शिल्प ग्राम संगठन द्वारा दिया जा रहा है। शिल्प ग्राम विश्व शिल्प परिषद की राष्ट्रीय इकाई है।
  • अंतर्राष्ट्रीय शिल्प पुरस्कार के लिये लगभग 40 देशों से नामांकन प्राप्त हुए, जिनमें मध्य प्रदेश के शिल्पकार मुबारिक खत्री का चयन हुआ। मुबारिक ने अपने पारंपरिक शिल्प के पुनरुद्धार पर काम किया।
  • मुबारिक खत्री को उनके आधुनिक नवाचारों और बाघ के शिल्प में योगदान के लिये वर्ष 2017 के राष्ट्रीय हस्तशिल्प पुरस्कार के लिये भी चुना गया था, जो आने वाले दिनों में भारत के राष्ट्रपति द्वारा उन्हें प्रदान किया जाएगा।
  • मुबारिक खत्री ने अपनी पारंपरिक कला को समर्पण के साथ संरक्षित किया है और सैकड़ों आदिवासी युवाओं को प्रशिक्षित कर उन्हें इस शिल्प के माध्यम से अपनी आजीविका कमाने के लिये योग्य बनाया है। शिल्पकार मुबारिक खत्री ने कई राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय प्रदर्शनियों में अपनी रचनाओं का प्रदर्शन भी किया है।

हरियाणा Switch to English

प्रदेश की आईटीआई से पास उद्यमियों को मिलेंगे उद्यमी अवार्ड

चर्चा में क्यों? 

8 जनवरी, 2022 को हरियाणा के कौशल विकास एवं औद्योगिक प्रशिक्षण मंत्री मूलचंद शर्मा ने बताया कि सरकार ने युवाओं को उद्यमिता से जोड़ने हेतु प्रदेश के सरकारी व निजी औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थानों से आईटीआई कोर्स पास करने के बाद उद्यमी बनने पर उन्हें सम्मानित करने का निर्णय लिया है।

प्रमुख बिंदु 

  • मूलचंद शर्मा ने बताया कि इसके लिये एक नई योजना को स्वीकृति प्रदान की गई है। इस योजना के तहत जिला स्तर पर तीन श्रेष्ठ उद्यमियों को उद्यमी अवार्ड तथा क्रमश: 10 हजार रुपए, 7 हजार 500 रुपए और 5 हजार रुपए का नकद पुरस्कार देकर सम्मानित किया जाएगा। यह पुरस्कार हर साल 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस के अवसर पर मुख्य अतिथि द्वारा प्रदान किये जाएंगे।
  • जिला स्तर के इन सभी 66 उद्यमी अवार्ड विजेताओं में से तीन उद्यमियों को आगामी 15 जुलाई को विश्व युवा कौशल दिवस के अवसर पर राज्यस्तरीय समारोह में मुख्यमंत्री द्वारा सम्मानित किया जाएगा।
  • पहले, दूसरे और तीसरे स्थान पर आने वाले उम्मीदवारों को क्रमश: 50 हजार रुपए, 40 हजार रुपए और 30 हजार रुपए के राज्य स्तरीय नकद पुरस्कार दिये जाएंगे।
  • इस योजना के तहत अवार्ड के लिये केवल उन्हीं उद्यमियों पर विचार किया जाएगा, जिन्होंने उसी ट्रेड या सेक्टर में अपना कारोबार अथवा उद्यम शुरू किया हो, जिससे उन्होंने आईटीआई पास की है
  • उम्मीदवार द्वारा आईटीआई पास करने के एक से 4 वर्ष के बीच अपना कारोबार हरियाणा के किसी स्थान पर या फिर चंडीगढ़ में शुरू किया जाना आवश्यक है। उसने जो कारोबार शुरू किया है, वह उसका पैतृक कारोबार नहीं होना चाहिये
  • उस कारोबार से, इस अवधि के दौरान एक वर्ष से अधिक के लिये उसकी मासिक आय निरंतर 20 हजार रुपए से अधिक होनी चाहिये। इसके अलावा, यदि उम्मीदवार ने अपना कारोबार किसी के साथ भागीदारी में शुरू किया है तो उसमें उसकी अग्रणी भूमिका होनी चाहिये और इस पहल के तहत उसे पहले सम्मानित न किया गया हो।
  • इस योजना का मकसद हरियाणा राज्य के आईटीआई संस्थानों से पास युवाओं को नौकरी तलाशने की अपेक्षा स्वरोजगार शुरू करने की ओर अग्रसर होने के लिये प्रोत्साहित करना है।

झारखंड Switch to English

महिला हेल्प डेस्क

चर्चा में क्यों? 

हाल ही में झारखंड पुलिस मुख्यालय ने राज्य में महिला हिंसा व उससे जुड़े मामलों में पुलिस के बेहतर तरीके से निपटने के लिये राज्य के अधिकांश शहरी थानों में महिला हेल्प डेस्क खोलने की योजना बनाई है।

प्रमुख बिंदु 

  • राजधानी के सभी थानों के साथ-साथ राज्य के 300 थानों में पहले चरण में महिला हेल्प डेस्क खोलने की योजना बनाई गई है। केंद्र सरकार के निर्भया फंड से इन महिला हेल्प डेस्क का निर्माण किया जाएगा।
  • राज्य के थानों में महिला हेल्प डेस्क सुचारु रूप से चलाने के लिये 300 टैबलेट की खरीद की जाएगी। फरवरी 2022 तक महिला हेल्प लाइन खोल दिये जाएंगे। 
  • उल्लेखनीय है कि राज्य के डीजीपी नीरज सिन्हा द्वारा महिला हेल्प लाइन खोलने के लिये 2 नवंबर, 2021 को राज्य सरकार के गृह, कारा एवं आपदा प्रबंधन विभाग को प्रस्ताव भेजा गया था।
  • राज्य सरकार के आदेश के बाद सीआईडी को इस दिशा में कार्रवाई का जिम्मा दिया गया है। राज्य के एडीजी सीआईडी प्रशांत सिंह ने लैपटॉप की खरीद के लिये एक तकनीकी समिति का गठन किया है।

छत्तीसगढ़ Switch to English

विवेकानंद तकनीकी विश्वविद्यालय में ऑडियो-वीडियो स्टूडियो का उद्घाटन

चर्चा में क्यों? 

9 जनवरी, 2022 को छत्तीसगढ़ की राज्यपाल अनुसुईया उइके ने स्वामी विवेकानंद तकनीकी विश्वविद्यालय, भिलाई के ऑडियो-वीडियो स्टूडियो का उद्घाटन किया। 

प्रमुख बिंदु 

  • राज्यपाल ने स्वामी विवेकानंद तकनीकी विश्वविद्यालय में अल्ट्रा हाई रिवॉल्यूशन यूएवी मैपिंग मशीन का मुआयना किया। उन्होंने इस मशीन को लोक निर्माण, ग्रामीण विकास, कृषि एवं जल संसाधन, लोक स्वास्थ्य तथा अन्य विभागों के लिये उपयोगी बताते हुए कहा कि मास्टर प्लान की डिजाइन के लिये ऐसी मशीनें बहुत ही उपयोगी सिद्ध होंगी। 
  • इस अवसर पर राज्यपाल को सीएसवीटीयू भिलाई के द्वारा गोद लिये गए 42 गाँवों पर रिपोर्ट प्रस्तुत की गई और एनएसएस द्वारा किये गए विभिन्न सामाजिक कार्यों का उल्लेख किया गया।

छत्तीसगढ़ Switch to English

छत्तीसगढ़ खेल विकास प्राधिकरण

चर्चा में क्यों? 

9 जनवरी, 2022 को छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि छत्तीसगढ़ खेल विकास प्राधिकरण के गठन का काम शीघ्र पूरा करके इसका कामकाज शुरू कर दिया जाएगा।

प्रमुख बिंदु 

  • मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने आकाशवाणी से प्रसारित रेडियो वार्ता लोकवाणी की 25वीं कड़ी में ‘युवा सपने और छत्तीसगढ़’ विषय पर प्रदेशवासियों से चर्चा करते हुए यह जानकारी दी।
  • मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य के युवा खिलाड़ियों को आवश्यक सुविधाएँ, प्रशिक्षण, उपकरण तथा अन्य खर्चों की व्यवस्था छत्तीसगढ़ शासन की तरफ से उपलब्ध कराने की दिशा में छत्तीसगढ़ खेल विकास प्राधिकरण का गठन किया जा रहा है। 
  • छत्तीसगढ़ के इतिहास में पहली बार खेल प्रशिक्षण की समग्र अधोसंरचना का निर्माण किया गया है, जिसके अंतर्गत 9 अकादमी स्थापित की जा चुकी हैं। फुटबॉल में बालिकाओं के लिये तथा कबड्डी, तीरंदाजी, एथलेटिक्स एवं हॉकी में बालक-बालिकाओं, दोनों के लिये इस तरह 9 अकादमियाँ शुरू हो चुकी हैं।
  • मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य में ‘राजीव युवा मितान क्लब’ गठित किया जएगा, ताकि युवा इस क्लब में शामिल होकर रचनात्मक कार्यों में अपना सहयोग कर सकें। 
  • इसके तहत प्रदेश के 13 हजार 269 नगरीय निकायों एवं ग्राम पंचायतों में राजीव युवा मितान क्लब गठित करने हेतु कार्ययोजना तैयार कर ली गई है। प्रत्येक क्लब में 15 से 40 वर्ष के बीच की आयु वाले 20 से लेकर 40 तक युवा शामिल होंगे।
  • ‘थिंक बी’ (टेक्नोलॉजी हब एंड इनोवेशन फॉर नॉलेज बस्तर) परियोजना के अंतर्गत बस्तर के युवाओं को नवाचार, स्वरोजगार और उद्यमिता के लिये प्रोत्साहित किया जा रहा है।
  • ‘बादल’ (बस्तर अकादमी ऑफ डांस, आर्ट, लिटरेचर एंड लैंग्वेज) संस्था के माध्यम से विभिन्न आदिवासी कलाओं, लोकगीत, नृत्यकला, शिल्पकला, संस्कृति, भाषा, साहित्य, खान-पान, वेशभूषा का संरक्षण तथा विकास किया जा रहा है।
  • मुख्यमंत्री ने कहा कि कोदो, कुटकी, रागी जैसी फसलों के लिये कांकेर जिले में तथा विभिन्न कृषि उत्पादों की प्रोसेसिंग हेतु दुर्ग जिले में प्रोसेसिंग यूनिट स्थापित की जा रही है। 200 से अधिक विकासखंडों में फूडपार्क की स्थापना हेतु भूमि आवंटन किया जा चुका है।

 Switch to English
close
एसएमएस अलर्ट
Share Page
images-2
images-2