इंदौर शाखा: IAS और MPPSC फाउंडेशन बैच-शुरुआत क्रमशः 6 मई और 13 मई   अभी कॉल करें
ध्यान दें:

छत्तीसगढ स्टेट पी.सी.एस.

  • 06 Feb 2023
  • 0 min read
  • Switch Date:  
छत्तीसगढ़ Switch to English

‘निकलर एप’ द्वारा पढ़ाई कराने के लिये छत्तीसगढ़ के स्कूल शिक्षा विभाग को प्रतिष्ठित उत्कृष्टता पुरस्कार

चर्चा में क्यों?

5 फरवरी, 2022 को छत्तीसगढ़ जनसंपर्क विभाग द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार छत्तीसगढ़ में स्कूल शिक्षा के क्षेत्र में ‘निकलर एप’द्वारा पढ़ाई कराने के लिये सी.एस.आई. ने छत्तीगसढ़ के स्कूल शिक्षा विभाग को प्रतिष्ठित उत्कृष्टता पुरस्कार से नवाज़ा है। छत्तीसगढ़ को यह अवार्ड 25 मार्च को नई दिल्ली में आयोजित होने वाले ई-गवर्नेंस कार्यक्रम में प्रदान किया जाएगा। 

प्रमुख बिंदु

  • जानकारी के अनुसार छत्तीसगढ़ के स्कूल शिक्षा विभाग को परियोजना श्रेणी के तहत् 20वें सीएसआई एसआईजी ई-गवर्नेंस अवार्ड 2022 के लिये प्रस्तुत ‘इनोवेटिव असेसमेंट टूल-एनआईसीलर’ (पीआरजे 22008) का नामांकन उत्कृष्टता पुरस्कार के लिये चुना गया है।
  • मुख्यमंत्री भूपेश बघेल द्वारा 14 नवंबर, 2022 को लॉन्च किये गए सुघ्घर पढ़वैया कार्यक्रम में भी स्कूलों का आकलन निकलर एप के माध्यम से बहुत कम समय में किया जा सकेगा। इसके लिये भी शिक्षकों को तैयार किया जा रहा है।
  • निकलर एप का उपयोग शिक्षकों के कार्यों को आसान करने हेतु किया जाता है। छत्तीसगढ़ में स्कूल शिक्षा विभाग और एन आई सी ने भी शिक्षकों के आकलन संबंधी कार्य को आसान करने के लिये लंबी रिसर्च करते हुए निकलर एप का निर्माण किया है।
  • एप के उपयोग के लिये सबसे पहले गूगल प्ले स्टोर में जाकर निकलर एप को डाउनलोड करना होता है। स्कूल के यू-डाइस के आधार पर पोर्टल से विद्यार्थियों के लिये क्यू आर कोड वाले कार्ड डाउनलोड कर उसे एक पुठ्ठे में चिपकाना पड़ता है। प्रत्येक विद्यार्थी के लिये इस प्रकार से एक यूनिक कार्ड उनके नाम से देना होता है। इसे आपस में बदलना नहीं चाहिये। यह उस बच्चे के नाम से उसके पास पूरे सत्र में रहना चाहिये।
  • किसी टॉपिक को पढ़ाने के बाद प्रश्न पूछना हो तो निकलर एप में उस पाठ से संबंधित उपलब्ध प्रश्न निकालकर पूछ सकते हैं या फिर स्वयं अपने प्रश्न दे सकते हैं। पूछे जाने वाले प्रश्न के चार विकल्प होने चाहिये। बच्चों को सही विकल्प के आधार पर कैसे कार्ड को पकड़ना है यह सिखाना होगा।
  • निकलर एप का उपयोग कर बच्चों की उपस्थिति भी ली जा सकती है। इस एप के माध्यम से पूछे जाने वाले विभिन्न प्रश्नों के ऑडियो बनाकर भी प्रश्न पूछ सकते हैं। एप के उपयोग में कुछ भी दिक्कत आती है तो शिक्षकों के बीच से ही तकनीकी रूप से विशेषज्ञ शिक्षक वीडियो बनाकर सहायता करते हैं, जिससे कक्षा में इसको क्रियान्वित करना आसान हो गया है।
  • समग्र शिक्षा की ओर से इस एप के उपयोग हेतु निरंतर आवश्यक सहयोग प्रदान किया जा रहा है। इस वर्ष सभी स्कूलों को इंटरनेट के लिये बजट भी उपलब्ध करवाया गया है। शिक्षकों को निकलर एप के उपयोग के लिये प्रशिक्षित भी किया गया है।

छत्तीसगढ़ Switch to English

राजिम माघी पुन्नी मेला का भव्य शुभारंभ

चर्चा में क्यों?

5 फरवरी, 2022 को छत्तीसगढ़ का प्रयाग कहलाने वाले राजिम में माघी पुन्नी मेला का भव्य शुभारंभ मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के मुख्य आतिथ्य में हुआ। यह मेला 18 फरवरी (महाशिवरात्रि) तक जारी रहेगा।

प्रमुख बिंदु

  • माघ पूर्णिमा के अवसर पर राजिम के त्रिवेणी संगम तट पर श्रद्धालुओं ने माघी पुन्नी का पुण्य स्नान किया। स्नान करने हेतु पूरे देश सहित प्रदेश के कोने-कोने से लोग पहुँचे और गंगा घाट में डुबकी लगाकर पुण्य स्नान किया।
  • उल्लेखनीय है कि छत्तीसगढ़ का प्रयाग कहलाने वाले राजिम में चित्रोत्पला गंगा (महानदी), पैरी और सोंढूर नदियों के पवित्र त्रिवेणी संगम पर सदियों से यह माघी पुन्नी मेला लगता है, जो माघी पूर्णिमा से शुरू होकर महाशिवरात्रि तक चलता है। 
  • माघी पूर्णिमा के दिन को भगवान श्री राजीव लोचन के जन्म दिवस के रूप में मनाया जाता है। इसके उपलक्ष्य में सदियों से राजिम के इस पावन भूमि में मेला लगता आ रहा है।
  • 18 फरवरी (महाशिवरात्रि) तक चलने वाले इस मेले में प्रतिदिन सांस्कृतिक संध्या के तहत छत्तीसगढ़ के सुप्रसिद्ध कलाकार अपनी कला की प्रस्तुति देंगे।  

 Switch to English
close
एसएमएस अलर्ट
Share Page
images-2
images-2