हिंदी साहित्य: पेन ड्राइव कोर्स
ध्यान दें:

मेन्स प्रैक्टिस प्रश्न

  • प्रश्न :

    नृत्य की ‘लास्य’ शैली अपनी प्रकृति में ‘ताण्डव’ से भिन्न है। इसकी विशेषताओं तथा शास्त्रीय नृत्य के विभिन्न प्रकारों पर इसके प्रभाव की चर्चा करें।

    18 Oct, 2018 सामान्य अध्ययन पेपर 1 संस्कृति

    उत्तर :

    भूमिका में :-

     भारतीय नाट्यशास्त्र के आधार पर लास्य व ताण्डव नृत्य के सामान्य परिचय के साथ उत्तर प्रारंभ करें।

    विषय-वस्तु में :- 

    लास्य और ताण्डव में अंतर को स्पष्ट करते हुए लास्य की विशेषताओं पर चर्चा कीजिये, जैसे :

    • लास्य दो प्रकार का होता है- जरिता और यौवक लास्य।
    • लास्य, ताण्डव के विपरीत कोमलता से अनुप्राणित होता है।
    • लास्य अधिक सुंदर और कभी-कभी कामुक भी होता है।

    ‘लास्य’ नृत्य का विभिन्न नृत्यों भरतनाट्यम, मोहिनीअट्टम, मणिपुरी पर प्रभाव का वर्णन करें, जैसे :

    • लास्य का सर्वाधिक प्रभाव भरतनाट्यम पर पड़ा है। भरतनाट्यम में उपस्थित लालित्यपूर्ण भाव-भंगिमाओं की अभिप्रेरणा ‘लास्य’ है।
    • केरल के मोहिनीअट्टम में भरतनाट्यम व कथकली, दोनों के अंश पाए जाते हैं। भरतनाट्यम का लास्य से प्रभावित लालित्य मोहिनीअट्टम का प्रमुख अंश है।
    • मणिपुरी के लावण्यमय भाव पर ‘लास्य’ का स्पष्ट प्रभाव है। हालाँकि इसमें ताण्डव के भाव भी विद्यमान रहते हैं।

    अंत में प्रश्नानुसार संक्षिप्त, संतुलित एवं सारगर्भित निष्कर्ष प्रस्तुत करें।

    नोट : निर्धारित शब्द-सीमा में उत्तर को विश्लेषित करके लिखें।

    To get PDF version, Please click on "Print PDF" button.

    Print PDF
एसएमएस अलर्ट
 

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

प्रोग्रेस सूची देखने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

आर्टिकल्स को बुकमार्क करने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close