प्रयागराज शाखा पर IAS GS फाउंडेशन का नया बैच 10 जून से शुरू :   संपर्क करें
ध्यान दें:

मेन्स प्रैक्टिस प्रश्न

  • प्रश्न :

    मौर्य साम्राज्य द्वारा किस प्रकार से भारतीय उपमहाद्वीप के बड़े भू-भाग पर प्रभुत्व स्थापित किया गया था? (150 शब्द)

    20 Mar, 2023 सामान्य अध्ययन पेपर 1 इतिहास

    उत्तर :

    हल करने का दृष्टिकोण

    • मौर्य साम्राज्य का संक्षिप्त परिचय देकर अपने उत्तर की शुरुआत कीजिये।
    • भारतीय उपमहाद्वीप के विशाल भाग में मौर्य वंश की स्थापना के कारणों की चर्चा कीजिये।
    • तदनुसार निष्कर्ष लिखिये।

    परिचय

    • मौर्य साम्राज्य का कार्यकाल भारतीय इतिहास में एक उल्लेखनीय अवधि थी, जहाँ गंगा बेसिन में एक छोटा राज्य अपने समय के सबसे महत्त्वपूर्ण साम्राज्यों में से एक बन गया। 321 ईसा पूर्व में अपनी स्थापना के बाद से, मौर्य साम्राज्य भारतीय उपमहाद्वीप के एक बड़े हिस्से पर हावी था, जो आधुनिक अफगानिस्तान से लेकर बांग्लादेश तक फैला हुआ था।
      • साम्राज्य की प्रभुत्व की स्थापना कई कारकों का परिणाम थी, जिसमें भू-राजनीति, सैन्य विजय, प्रशासनिक सुधार और धार्मिक सहिष्णुता तथा धर्मांतरण की नीतियाँ शामिल थीं।

    मुख्य भाग

    भारतीय उपमहाद्वीप के विशाल भाग में मौर्य साम्राज्य का प्रभुत्व स्थापित करने वाले कारक:

    • भौगोलिक कारक:
      • मौर्य साम्राज्य के दौरान भारतीय उपमहाद्वीप छोटे-छोटे राज्यों से मिलकर बना था, जिनमें से प्रत्येक सत्ता और प्रभाव के लिये होड़ कर रहा था।
        • इस राजनीतिक और सैन्य शून्यता ने मौर्य साम्राज्य को अपने क्षेत्र का तेजी से विस्तार करने का अवसर प्रदान किया।
          • साम्राज्य रणनीतिक रूप से कई व्यापार मार्गों के चौराहे पर स्थित था, जिससे इसे मूल्यवान संसाधनों तक पहुंच मिली और इसकी आर्थिक शक्ति में वृद्धि हुई।
    • सैन्य विजय:
      • मौर्य साम्राज्य की सैन्य शक्ति उसके प्रभुत्व की स्थापना में एक महत्त्वपूर्ण कारक थी।
        • साम्राज्य ने युद्ध के लिये हाथियों और रथों के उपयोग जैसी कई नवीन सैन्य युक्तियों का प्रयोग किया, जिससे उन्हें युद्ध में बढ़त मिली।
        • 321 ईसा पूर्व में चंद्रगुप्त मौर्य की नंद साम्राज्य पर विजय एक महत्त्वपूर्ण जीत थी जिसने मौर्य साम्राज्य के विस्तार की शुरुआत को चिह्नित किया।
    • अशोक की विजय और धर्म परिवर्तन की नीति:
      • तीसरे मौर्य सम्राट अशोक ने सैन्य विजय और रणनीतिक गठजोड़ के संयोजन के माध्यम से साम्राज्य के क्षेत्र का विस्तार किया।
        • उन्होंने धार्मिक सहिष्णुता की नीति भी अपनाई और सक्रिय रूप से बौद्ध धर्म को बढ़ावा दिया, जिससे उन्हें स्थानीय आबादी का समर्थन हासिल करने में मदद मिली।
          • अशोक के बौद्ध धर्म में रूपांतरण ने भारतीय उपमहाद्वीप में बौद्ध धर्म के प्रसार में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाई और यह आज भी इस क्षेत्र में एक महत्त्वपूर्ण धर्म है।
    • प्रशासनिक सुधार:
      • मौर्य साम्राज्य के प्रशासनिक सुधार इसके प्रभुत्व की स्थापना में एक और महत्त्वपूर्ण कारक थे। चंद्रगुप्त मौर्य ने एक केंद्रीकृत प्रशासनिक प्रणाली की शुरुआत की जिसने उन्हें एक विशाल क्षेत्र पर प्रभावी ढंग से शासन करने की अनुमति दी।
        • उन्होंने जासूसी की एक प्रणाली भी स्थापित की जिससे उन्हें अपनी शक्ति के लिये संभावित खतरों पर नज़र रखने में मदद मिली। अशोक ने साम्राज्य के विभिन्न पहलुओं के प्रबंधन के लिये जिम्मेदार अधिकारियों और नौकरशाहों का एक नेटवर्क स्थापित करके प्रशासनिक प्रणाली को और परिष्कृत किया।
    • कूटनीति:
      • मौर्य साम्राज्य ने अपनी सीमाओं को सुरक्षित करने और अपनी शक्ति बनाए रखने के लिये कूटनीति का इस्तेमाल किया। चंद्रगुप्त मौर्य ने पड़ोसी राज्यों के साथ गठजोड़ किया और शक्तिशाली क्षेत्रीय शासकों का समर्थन मांगा।
        • उसने व्यापारिक संबंध स्थापित करने और अंतर्राष्ट्रीय मान्यता प्राप्त करने के लिये दुनिया के अन्य हिस्सों में भी राजदूत भेजे।
    • सांस्कृतिक एकीकरण:
      • मौर्य साम्राज्य ने भारतीय उपमहाद्वीप की विविध संस्कृतियों और धर्मों को एकजुट करने में भी महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाई।
        • साम्राज्य ने बौद्ध धर्म के प्रसार का समर्थन किया, जो पूरे क्षेत्र में एक एकीकृत शक्ति बन गया और कला एवं साहित्य को संरक्षण दिया, जिससे एक साझा सांस्कृतिक पहचान बनाने में मदद मिली।
    • कौटिल्य का संरक्षण:
      • भारतीय उपमहाद्वीप पर मौर्य साम्राज्य के प्रभुत्व को स्थापित करने में कौटिल्य की सलाह एक और महत्त्वपूर्ण कारक थी।
        • कौटिल्य की सलाह ने चंद्रगुप्त को कई प्रशासनिक और आर्थिक सुधारों को लागू करने में मदद की जिससे उनकी शक्ति को मजबूत करने और भारतीय उपमहाद्वीप पर मौर्य साम्राज्य का प्रभुत्व स्थापित करने में मदद मिली।

    निष्कर्ष

    • भारतीय उपमहाद्वीप के एक बड़े हिस्से पर मौर्य साम्राज्य की प्रभुत्व की स्थापना कई कारकों का परिणाम थी।
      • मौर्य साम्राज्य की विरासत आज भी भारत में देखी जा सकती है, इसके कई प्रशासनिक, सांस्कृतिक और धार्मिक अभ्यास अभी भी उपयोग में हैं। मौर्य साम्राज्य भारतीय इतिहास में एक उल्लेखनीय अवधि थी और इस क्षेत्र पर इसके प्रभाव को कम नहीं आँका जा सकता।

    To get PDF version, Please click on "Print PDF" button.

    Print
close
एसएमएस अलर्ट
Share Page
images-2
images-2